एलजीबीटीक्यू कम्युनिटी चैलेंजेस क्या हैं और कैसे उबरा जाए इन समस्याओं से?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अगस्त 28, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

लेस्बियन, गे, बायसेक्शुल, ट्रांसजेंडर या क्वीर (LGBTQ) समुदाय के बारे में बात करना हमारे समाज में आज भी सामान्य नहीं माना जाता है। जैसे ही इस विषय के बारे में बात होती है, लोग झिझकने लगते हैं। भले ही कानूनी रूप से एलजीबीटीक्यू समुदाय को हरी झंडी मिल गई हो, लेकिन फिर भी लेस्बियन, गे, बायसेक्शुअल, ट्रांसजेंडर के लिए समाज में रहना और अपना घर बसाना मुश्किलों से भरा है। अपनी सेक्शुअल आइडेंटिटी की जानकारी देना किसी के लिए मुसीबत बन सकता है। ये मुसीबत घर से शुरू होती है जो कि स्कूल, कॉलेज और ऑफिस तक पहुंच जाती है। ऐसे में व्यक्ति की मेंटल हेल्थ पर बुरा प्रभाव तो पड़ता ही है और साथ ही उन्हें अपने अधिकारों के लिए भी संघर्ष करना पड़ता है। आज इस आर्टिकल के माध्यम से जानिए कि एलजीबीटीक्यू समुदाय से जुड़े लोगों को किन परिस्थितियों का सामना करना पड़ता है और एलजीबीटीक्यू कम्युनिटी के चैलेंजेस क्या हैं।

और पढ़ें : LGBT कम्युनिटी में 60 प्रतिशत लोग होते हैं डिप्रेशन का शिकार, जानें क्या है इसकी वजह?

एलजीबीटीक्यू कम्युनिटी चैलेंजेस: मेंटल हेल्थ पर असर

किसी लड़की ने अच्छे संस्थान से होटल मैनेजमेंट का कोर्स किया है और फिर उसे फाइव स्टार होटल में अच्छी नौकरी भी मिल जाती है, लेकिन अपनी सेक्शुअल आइडेंटिटी बताने के कारण उसके साथ गलत व्यवहार शुरू हो जाता है। ऐसे मामलों में नौकरी से हाथ भी धोना पड़ सकता है। LGBTQ कम्युनिटी से जुड़े लोग वाकई एक अच्छी जिंदगी जीना चाहते हैं, जैसे कि अन्य लोग जीते हैं, लेकिन समाज में अब तक इस बात को स्वीकार नहीं किया गया है। अगर कोई लेस्बियन घर में इस बात को स्वीकार कर ले कि वो लेस्बियन है तो घर वाले  “घर की इज्जत का क्या होगा” का ताना देकर चुप कराने की कोशिश करते हैं, जबकि कॉलेज या वर्कप्लेस में सेक्शुअल आइडेंटिटी बताने पर लोग दूर भागना शुरू कर देते हैं। एलजीबीटीक्यू कम्युनिटी चैलेंजेस में सेक्शुअल आइडेंटिटी को उजागर करना सबसे बड़ा चैलेंज है। ये परिस्थिति व्यक्ति को मानसिक रूप से अस्वस्थ भी कर सकती है।

एक वेबिनार के जरिए LGBTQ कम्युनिटी के बारे में बात करते हुए LGBT टास्कफोर्स के चेयरमैन आईपीएस डॉ. अजीत भीड़े कहते हैं कि, ”LGBTQ कम्युनिटी के लोगों को घर के सदस्यों को मन की बात बताने से पहले खुद को प्रिपेयर करना बहुत जरूरी है। घर में इस बात का खुलासा करने पर परिवार वाले घराने की इज्जत का ताना दे सकते हैं। हो सकता है कि इस बात पर हिंसा भी हो या फिर आपका कोई निराश हो जाए।”

वे आगे कहते हैं कि, ”मुझसे एक लड़की के पिता ने अपनी परेशानी शेयर की और बताया कि मेरी लड़की की सेक्शुअल आइडेंटिटी के कारण मैं परेशान हूं। अब क्या किया जा सकता है ? मेरी लड़की को अन्य लड़की से प्यार हो गया है। ऐसे केसेज में लोग घर की इज्जत के लिए ये सही नहीं है, जैसी बातों पर ज्यादा जोर देते हैं। ऐसे में जबरदस्ती शादी के बंधन में बांध दिया जाना समस्या का हल नहीं होता है।”

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

एलजीबीटीक्यू कम्युनिटी की चुनौतियों से निपटने में क्या है मनोचिकित्सक का रोल?

LGBTQ समुदाय से जुड़े लोगों को अवसाद यानी डिप्रेशन की समस्या आसानी से हो सकती है। इसका मुख्य कारण है कि LGBTQ वर्ग के लोगों से किया जाने वाला भेदभाव। घर के माहौल के साथ ही उन्हें बाहर के माहौल में भी हीन दृष्टि से देखा जाता है। इन्हीं कारणों की वजह से डिप्रेशन LGBTQ कम्युनिटी के चैलेंजेस में शामिल है। अगर कोई व्यक्ति खुद को अकेला महसूस कर रहा है या फिर अधिक स्ट्रेस महसूस कर रहा है तो उसे मनोचिकित्सक से मिलना चाहिए। मनोचिकित्सक के सामने अपनी बात रखने से समस्या का हल भी निकाला जा सकता है। साइकोथेरिपी के जरिए स्ट्रेस कम होता है।

ऐसे में व्यक्ति का पॉजिटिव रिलेशनशिप भी बहुत जरूरी है। साथ ही आइसोलेशन भी अवॉयड करना चाहिए। LGBT कम्युनिटी से जुड़े लोग अपने चारों ओर नकारात्मक माहौल से जूझ रहे होते हैं, ऐसे में साइकेट्रिस्ट की सकारात्मक सोच व्यक्ति को सही दिशा प्रदान कर सकती है।

मुंबई के पी डी हिंदुजा नेशनल और हिंदुजा हेल्थकेयर के कंसल्टेंट साइकेट्रिस्ट डॉ. केरसी चावड़ा ने LGBT कम्युनिटी के सदस्यों के अकेलेपन को लेकर कहा कि, ”करीब 31 प्रतिशत एलजीबीटीक्यू एल्डर को क्लीनिकल डिप्रेशन की समस्या होती है, जबकि ओल्डर एडल्ट्स को कई बार और 71 प्रतिशत ट्रांसजेंडर को आत्महत्या करने का ख्याल आता है। ऐसा सोशल आइसोलेशन, अकेलापन, अपनों का सपोर्ट न मिल पाने कारण या समाज के भेदभाव के कारण होता है। LGBTQ कम्युनिटी के करीब 53 प्रतिशत लोगों को लगता है कि वो अकेले हैं। सही समय पर इलाज न मिल पाने के कारण परेशानी अधिक बढ़ जाती है। अगर समय पर साइकेट्रिस्ट से कंसल्ट किया जाए तो कई समस्याओं से बचा जा सकता है।”

और पढ़ें : खुद से बात करना नॉर्मल है या डिसऑर्डर

एलजीबीटीक्यू कम्युनिटी चैलेंजेस: आसपास के माहौल से उभरने के लिए क्या करें?

LGBTQ समुदाय के लोगों को अपने आसपास के माहौल से उभरने के लिए कुछ जरूरी प्रयास करने की जरूरत है। अगर घर में कोई आपका विरोध कर रहा हो तो उन्हें कुछ समय दें। हो सकता है कि कुछ समय बाद वे आपकी बातों को समझें। उनसे कुछ समय बाद बात करें और साथ ही उनकी बातों को भी ध्यान से सुनें। कई बार परिस्थितियां समय के साथ बदल जाती हैं। अगर पॉजिटिव थिकिंग के साथ ही काउंसलर या साइकेट्रिस्ट की हेल्प ली जाए तो समस्या का समाधान भी निकल सकता है।

अगर आपके साथ कोई भी बुरा व्यवहार कर रहा है तो अपने नजदीकी पुलिस से तुरंत संपर्क करें। साथ ही आप ग्रुप या कम्युनिटी के लोगों की मदद भी ले सकते हैं। आसपास के माहौल को बेहतर बनाने के लिए उन लोगों से मिलना बंद कर दें जो आपको प्रोत्साहित न करते हो और साथ ही नकारात्मक विचारों से भरे हो। आप अपने पसंदीदा लेखक की बुक को पढ़ कर मोटिवेट हो सकते हैं। अपने अच्छे दोस्त या भाई बहन से रोजाना अपने मन की बातें शेयर करना न भूलें। आपको ये याद रखना चाहिए कि कुछ बातों को अपनाने में अधिक समय लग सकता है। एलजीबीटीक्यू कम्युनिटी चैलेंजेस से निपटने में सकारात्मक विचार मदद कर सकते हैं।

एलजीबीटीक्यू कम्युनिटी चैलेंजेस: अकेलेपन और स्ट्रेस से बाहर निकलने का क्या हो सकता है तरीका?

आइसोलेशन से रहें दूर

अकेलेपन और स्ट्रेस से बचने के लिए आइसोलेशन से बचना बहुत जरूरी है। अगर व्यक्ति अपने आप को किसी ऐसे के साथ व्यस्त रखें, जो उसका करीबी हो और उसकी बातों को समझता हो तो ऐसा करने से स्ट्रेस की समस्या या फिर डिप्रेशन से निपटने में हेल्प मिलेगी।

जरूरत पड़ने पर मेडिकेशन

अगर व्यक्ति बहुत ही हताश और आक्रामक है, उसे आत्महत्या के विचार आ रहे हैं या फिर पैनिक अटैक हो रहें हैं तो ऐसी सिचुएशन में मेडिकेशन की जरूरत होती है।

और पढ़ें : बायसेक्सुअल के बारे में जाने हर जरूरी बात, यह कैसे हैं गे और लेस्बियन से अलग

अच्छे दोस्त बनाएं

अक्सर सेक्शुअल आइडेंटिटी के बारे में घर में बताने से घर वाले दूरी बना लेते हैं या फिर दवाब डालते हैं कि ऐसी बातें किसी और को बताने की जरूरत नहीं है। ऐसी स्थिति में एक बात ध्यान रखनी चाहिए कि खुद को निगेटिविटी से दूर रखा जाए और अच्छे और सच्चे दोस्तों से संपर्क रखा जाए। अपनी मन की बातों को उस व्यक्ति से जरूर शेयर करना चाहिए, जो आपके मन की बात समझता हो। ऐसा करने से स्ट्रेस का लेवल कम होगा।

हिंसा नहीं है समस्या का हल

समाज में एलजीबीटीक्यू कम्युनिटी के साथ हिंसा की घटनाएं आए दिन सामने आती हैं। ऐसा जरूरी नहीं है कि ऐसी घटनाएं बाहर ही हो। कई बार घर के सदस्य अपनी बात मनवाने के लिए सेक्शुअल आइडेंटिटी बताने वाले व्यक्ति के साथ हिंसा भी कर सकते हैं। अगर किसी व्यक्ति के साथ ऐसा होता है तो उसे मदद के लिए गुहार लगानी चाहिए। हिंसा को सहना गलत है और ये समस्या को अधिक बढ़ा सकता है।

और पढ़ें :मन को शांत करने के उपाय : ध्यान या जाप से दूर करें तनाव

उम्मीद करते हैं कि आपको ये आर्टिकल पसंद आया होगा। आर्टिकल में एलजीबीटीक्यू कम्युनिटी चैलेंजेस के बारे में जानकारी दी गई है। अगर आपको इस बारे में अधिक जानकारी चाहिए तो हैलो स्वास्थ्य की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं। स्वास्थ्य संबंधी अन्य जानकारी से अपडेट रहने के लिए आप हैलो स्वास्थ्य के फेसबुक पेज को लाइक कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

लाफ्टर थेरेपी : हंसो, हंसाओं और डिप्रेशन को दूर भगाओं

लाफ्टर थेरेपी क्या है? लाफ्टर थेरेपी एक प्रकार की चिकित्सा है जो दर्द और तनाव को दूर करने के लिए ह्यूमर का उपयोग करती है। इसका उपयोग मेंटल स्ट्रेस (mental stress) के साथ-साथ कैंसर जैसी गंभीर बीमारी...

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन सितम्बर 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

पेट्स पालना नहीं है कोई सिरदर्दी, बल्कि स्ट्रेस को दूर करने की है एक बढ़िया रेमेडी

पेट थेरेपी क्या है? इसके मानसिक स्वास्थ्य लाभ क्या है, यह कैसे काम करती है? एनिमल थेरेपी (animal therapy) में सबसे ज्यादा कुत्तों और बिल्लियों का उपयोग किया जाता है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन सितम्बर 7, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

रिटायरमेंट के बाद बिगड़ सकती है मेंटल हेल्थ, ऐसे रखें बुजुर्गों का ख्याल

रिटायरमेंट के बाद मेंटल हेल्थ पर क्या प्रभाव पड़ता है? 60 के पार होने पर बुजुर्गों में डायबिटीज, ऑस्टियोअर्थराइटिस, हाई ब्लड प्रेशर, दिल की बीमारी के साथ-साथ न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर की संभावना भी बढ़ जाती हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
मेंटल हेल्थ, सीनियर हेल्थ, स्वस्थ जीवन सितम्बर 4, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

‘नथिंग मैटर्स, आई वॉन्ट टू डाय’ जैसे स्टेटमेंट्स टीनएजर्स में खुदकुशी की ओर करते हैं इशारा, हो जाए अलर्ट

टीनएजर्स में खुदकुशी के विचार के कारण क्या हैं? 15 से 24 साल की उम्र के टीनएजर्स में मौत का तीसरा सबसे बड़ा कारण खुदकुशी है। टीनएजर्स में खुदकुशी के विचार..

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन सितम्बर 2, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

ऑनलाइन स्कूलिंग के फायदे, Online Schooling benifits

ऑनलाइन स्कूलिंग से बच्चों की मेंटल हेल्थ पर पड़ता है पॉजिटिव इफेक्ट, जानिए कैसे

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ नवम्बर 4, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
दिवाली में अरोमा कैंडल, aroma candle

इस दिवाली घर में जलाएं अरोमा कैंडल्स, जगमगाहट के साथ आपको मिलेंगे इसके हेल्थ बेनिफिट्स भी

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ नवम्बर 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
डिस्थीमिया-Dysthymia (परसिस्टेंट डिप्रेसिव डिसऑर्डर)

क्रोनिक डिप्रेशन ‘डिस्थीमिया’ से क्या है बचाव?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ अक्टूबर 10, 2020 . 9 मिनट में पढ़ें
समलैंगिक की सामाजिक लड़ाई

कुशाल का पत्र, जो समलैंगिक की सामाजिक लड़ाई के खिलाफ आपको देगा नई सीख

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ अक्टूबर 1, 2020 . 8 मिनट में पढ़ें