Esophageal Stricture : एसोफेगल स्ट्रिक्चर क्या है?

Medically reviewed by | By

Update Date मई 28, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

परिचय

एसोफेगल स्ट्रिक्चर क्या है?

एसोफेगल स्ट्रिक्चर एक ऐसी समस्या है जिसमें एसोफेगस संकरा या टाइट हो जाता है जिसके कारण निगलने में कठिनाई होती है। दरअसल एसोफेगस एक ट्यूब होता है जो भोजन और तरल पदार्थ को मुंह से पेट तक लाने का कार्य करता है। एसोफेगल स्ट्रिक्चर तब होता है जब पेट में एसिड या अन्य खराब पदार्थ समय के साथ एसोफेगस की परत को डैमेज कर देती हैं। इससे सूजन होने के साथ ही ऊतक नष्ट होने लगते हैं और एसोफेगस सिकुड़ जाता है।

हालांकि एसोफेगल स्ट्रिक्चर कैंसर का लक्षण नहीं है लेकिन इससे गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। एसोफेगस सिकुड़ने से किसी भी तरह का फूड निगलने में परेशानी होती है और यहां तक कि गला भी जाम हो सकता है। सिर्फ यही नहीं एसोफेगस पूरी तरह काम करना बंद कर सकता है। अगर समस्या की जद बढ़ जाती है तो आपके लिए गंभीर स्थिति बन सकती है । इसलिए इसका समय रहते इलाज जरूरी है। इसके भी कुछ लक्षण होते हैं ,जिसे ध्यान देने पर आप इसकी शुरूआती स्थिति को समझ सकते हैं।

कितना सामान्य है एसोफेगल स्ट्रिक्चर होना?

एसोफेगल स्ट्रिक्चर एक रेयर डिसॉर्डर है। ये महिला और पुरुष दोनों में सामान प्रभाव डालता है। पूरी दुनिया में हजारों लोग एसोफेगल स्ट्रिक्चर से पीड़ित हैं। बच्चों और वयस्कों में यह बीमारी बहुत आम है। ज्यादा जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

यह भी पढ़ें : जानें कैसे खतरनाक है अंडरएक्टिव थायरॉइड में प्रेग्नेंसी

लक्षण

एसोफेगल स्ट्रिक्चर के क्या लक्षण है?

एसोफेगल स्ट्रिक्चर शरीर के कई सिस्टम को प्रभावित करता है। एसोफेगल स्ट्रिक्चर से पीड़ित व्यक्ति में प्रायः गले में भारीपन महसूस होता है और भोजन एवं तरल पदार्थ निगलने में परेशानी होती है। जिसके कारण ये लक्षण सामने आने लगते हैं :

कभी-कभी कुछ लोगों में इसमें से कोई भी लक्षण सामने नहीं आते हैं और अचानक से गला जाम होने के साथ ही कुपोषण और डिहाइड्रेशन की समस्या हो जाती है।

मुझे डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

ऊपर बताएं गए लक्षणों में किसी भी लक्षण के सामने आने के बाद आप डॉक्टर से मिलें। हर किसी के शरीर पर एसोफेगल स्ट्रिक्चर अलग प्रभाव डाल सकता है। इसलिए किसी भी परिस्थिति के लिए आप डॉक्टर से बात कर लें।

यह भी पढ़ें : क्या ऑटिज्म का इलाज संभव है?

कारण

एसोफेगल स्ट्रिक्चर होने के कारण क्या है?

एसोफेगल स्ट्रिक्चर आमतौर पर ऊतकों पर चोट लगने के कारण होती है। जिसके कारण एसोफेगस डैमेज हो जाता है। इसके अलावा इस समस्या का मुख्य कारण गैस्ट्रोएसोफेगल रिफ्लक्स डिजीज है जिसे एसिड रिफ्लक्स भी कहते हैं। यह तब होता है जब लोअर एसोफेगल स्फिंक्टर सही तरीके से बंद या टाइट नहीं होता है।

साथ ही इयोसिनोफिलिक एसोफेजाइटिस, एंडोस्कोप के कारण चोट लगने, लंबे समय तक नासोगैस्ट्रिक ट्यूब का इस्तेमाल करने के कारण भी एसोफेगल स्ट्रिक्चर हो सकता है। सीने और गर्दन की रेडिएशन थेरिपी, गलती से अम्लयुक्त पदार्थ जैसे बैटरी या क्लिनर निगलने के कारण भी यह समस्या प्रभावित कर सकती है।

यह भी पढ़ें : Stomach Tumor: पेट में ट्यूमर होना कितना खतरनाक है? जानें इसके लक्षण

जोखिम

एसोफेगल स्ट्रिक्चर के साथ मुझे क्या समस्याएं हो सकती हैं?

एसोफेगल स्ट्रिंक्टर से पीड़ित व्यक्ति को कई तरह की समस्याएं हो सकती हैं। एसोफेगस में सॉलिड फूड्स फंस सकता है जिसके कारण गला जाम होने के साथ ही सांस लेने में कठिनाई हो सकती है। इसके अलावा पल्मोनरी एस्पिरेशन का भी जोखिम रहता है जिससे व्यक्ति को उल्टी हो सकती है या तरल पदार्थ फेफड़े में जा सकता है। अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

यह भी पढ़ें : पेट का कैंसर क्या है ? इसके कारण और ट्रीटमेंट

उपचार

यहां प्रदान की गई जानकारी को किसी भी मेडिकल सलाह के रूप ना समझें। अधिक जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

एसोफेगल स्ट्रिक्चर का निदान कैसे किया जाता है?

एसोफेगल स्ट्रिक्चर का पता लगाने के लिए डॉक्टर शरीर की जांच करते हैं और मरीज का पारिवारिक इतिहास भी देखते हैं। इस बीमारी को जानने के लिए कुछ टेस्ट कराए जाते हैं :

  • बेरियम शैलो टेस्ट- मरीज को बेरियम लिक्विड पिलाकर एसोफेगस का एक्सरे किया जाता है। जब मरीज के एसोफेगस की परत पर बेरियम जम जाता है तब गले का निरीक्षण करना आसान होता है।
  • जीआई एंडोस्कोपी- डॉक्टर मरीज के मुंह के माध्यम से एसोफेगस में एंडोस्कोप डालते हैं और एसोफेगस एवं ऊपरी इंटेस्टाइनल ट्रैक्ट का निरीक्षण करते हैं।

कुछ मरीजों में एसोफेगल पीएच मॉनिटरिंग के माध्यम से भी इस बीमारी का निदान किया जाता है। इसमें मरीज के एसोफेगस में जाने वाले पेट के एसिड की जांच की जाती है। इसके लिए एसोफेगस में एक ट्यूब 24 घंटे के लिए छोड़ दिया जाता है जिससे बीमारी का पता लगाने में आसानी होती है।

एसोफेगल स्ट्रिक्चर का इलाज कैसे होता है?

एसोफेगल स्ट्रिक्चर को इलाज से ठीक किया जा सकता है। कुछ थेरिपी और दवाओं से व्यक्ति में एसोफेगल स्ट्रिक्चर के असर को कम किया जाता है। एसोफेगल स्ट्रिक्चर के लिए कई तरह की मेडिकेशन की जाती है :

  1. एसोफेगल स्ट्रिक्चर के इलाज के लिए डॉक्टर प्रोटॉन पंप इनहिबिटर (पीपीआई) दवाएं देते हैं जिससे इस बीमारी का असर कम होता है। 
  2. एसोफेगस में इंफेक्शन के कारण यह बीमारी होने पर डॉक्टर एंटीबायोटिक और कॉर्टिकोस्टेरॉइड दवाओं का सेवन करने की सलाह देते हैं।
  3. ज्यादातर मामलों में एसोफेगल को फैलाकर या स्ट्रेच करके बीमारी के लक्षणों को कम किया जाता है। इसके लिए एसोफेगस, पेट और छोटी आंत में एंडोस्कोप डाला जाता है और स्ट्रिक्चर्ड एरिया को फैलाया जाता है।

इसके अलावा गंभीर मामलों में एसोफेगल स्ट्रिक्चर के इलाज के लिए सर्जरी भी की जाती है। साथ ही स्टेंट का भी सहारा लिया जाता है। स्टेंट एक ट्यूब है जिसे संकरे एसोफेगस में डालकर उसे स्ट्रेच किया जाता है जिससे निगलने और खाने पीने में आसानी होती है।

यह भी पढ़ें : घर पर ब्लड प्रेशर चेक करने के तरीके 

घरेलू उपचार

जीवनशैली में होने वाले बदलाव क्या हैं, जो मुझे एसोफेगल स्ट्रिक्चर को ठीक करने में मदद कर सकते हैं?

अगर आपको एसोफेगल स्ट्रिक्चर है तो आपके डॉक्टर वह मसालेदार, तैलीय और फैटी फूड्स के साथ ही चॉकलेट, एल्कोहल, तंबाकू और कैफीन से पूरी तरह परहेज करने की सलाह देंगे। इसके साथ ही ढीले कपड़े पहनने से पेट पर कम दबाव पड़ता है। सिर्फ यही नहीं दिन में कई बार थोड़ा-थोड़ा भोजन करना चाहिए और खाने के लगभग तीन घंटे बाद सोना चाहिए। इसके साथ ही वजन कम करने से भी यह समस्या काफी हद तक दूर हो सकती है।

इस संबंध में आप अपने डॉक्टर से संपर्क करें। क्योंकि आपके स्वास्थ्य की स्थिति देख कर ही डॉक्टर आपको उपचार बता सकते हैं।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है, अधिक जानकारी के लिए आप डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

इन पेट कम करने के उपाय करें ट्राई और पायें स्लिम लुक

जानें पेट करने के उपाय जो बहुत ही सिंपल हैं और कुछ ही समय में आसानी से पा जायेंगे स्लिम ट्रीम लुक। Tips to loose Belly fat in Hindi.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by shalu
हेल्थ सेंटर्स, मोटापा मई 8, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

Labyrinthitis : लेबिरिन्थाइटिस क्या है?

जानिए लेबिरिन्थाइटिस क्या है in hindi, लेबिरिन्थाइटिस के कारण, जोखिम और उपचार क्या है, Labyrinthitis को ठीक करने के लिए आप इस तरह के घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Anoop Singh
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z अप्रैल 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Pseudogout: स्यूडोगाउट क्या है?

जानिए स्यूडोगाउट क्या है in hindi, स्यूडोगाउट के कारण, जोखिम और उपचार क्या है, Pseudogout को ठीक करने के लिए आप इस तरह के घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Anoop Singh
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z अप्रैल 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Nipple Stimulation: निप्पल की उत्तेजना क्या है?

निप्पल की उत्तेजना क्या है in hindi, क्या लेबर पेन के लिए निप्पल उत्तेजना करना उचित है, Nipple Stimulation कैसे करें, जानिए निप्पल उत्तेजना करने की विधि।

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by sudhir Ginnore
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z अप्रैल 18, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

D Cold Total, डी कोल्ड टोटल

D Cold Total: डी कोल्ड टोटल क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Bhawana Awasthi
Published on जून 30, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
रीठा - Reetha

रीठा के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Reetha (Indian Soapberry)

Written by Surender Aggarwal
Published on जून 5, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
फालसा - Phalsa

फालसा के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Phalsa (Grewia Asiatica)

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Surender Aggarwal
Published on जून 5, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
प्रेग्नेंसी में चाय या कॉफी का सेवन करना चाहिए या नहीं

प्रेगनेंसी में कॉफी पीना फायदेमंद या नुकसानदेह?

Written by Shivam Rohatgi
Published on मई 19, 2020 . 3 मिनट में पढ़ें