Parkinson Disease: पार्किंसंस रोग क्या है? जानिए इसके कारण, लक्षण और उपचार

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट July 2, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

लक्षण

पार्किंसंस रोग (Parkinson Disease) के लक्षण क्या है?

पार्किंसंस रोग के लक्षण हर व्यक्ति में अलग हो सकते हैं। शुरुआत में इसके लक्षण पर कोई खास ध्यान नहीं देता है। ज्यादातर इसके लक्षण शरीर के एक हिस्से पर नजर आने शुरू होते हैं। वक्त के साथ स्थिति खराब हो जाती है, शुरुआत में इस रोग के संकेत और लक्षण निम्न हो सकते हैं:

सूंघने की क्षमता में कमी (decreased ability to smell)

आमतौर पर लोगों को किसी भी चीज की गंध आसानी से आ जाती है, लेकिन पार्किंसंस रोग (Parkinson Disease) होने पर सूंघने की क्षमता में कमी हो जाती है। कुछ लोगों को गंध का ज्ञान नहीं हो पाता है।

कब्ज (constipation)

वैसे तो कब्ज कुछ लोगों में आम ही होता है, लेकिन पार्किंसंस रोग से पीड़ित व्यक्ति को कब्ज की समस्या परेशान करती रहती है।

आवाज बदल जाती है (voice changes)

इस रोग के कारण आवाज में परिवर्तन हो जाता है। आवाज का पिच कम से ज्यादा हो सकता है। कई बार स्वर के कम या फिर ज्यादा होने की वजह से सामने वाले व्यक्ति को बात समझने में दिक्कत हो सकती है।

छोटी, तंग लिखावट (small, cramped handwriting)

पार्किंसंस रोग के कारण हाथों में कंपकपी का एहसास होता है जिससे लिखावट में भी फर्क नजर आ सकता है। ऐसे लोगों को लिखने में दिक्कत आ सकती है।

कंपकंपी (tremor)

पार्किंसंस रोग के दौरान रोगी को कंपकंपी का एहसास हो सकता है। कंपकंपी आमतौर पर हाथों से शुरू होती है।

धीमी चाल (slow movement)

पार्किंसंस रोग के कारण शरीर में कई तरह के परिवर्तन होते हैं, जो पेशेंट के चलने की गति को भी प्रभावित कर सकते हैं। पीड़ित व्यक्ति को पैर घसीट कर भी चलना पड़ सकता है।

हाथ, पैर और धड़ की कठोरता (stiffness of arms, legs, and trunk)

हाथ, पैर और गले में अकड़न का एहसास हो सकता है। इसी कारण से दिनचर्या के अन्य काम को करने में भी दिक्कत महसूस हो सकती है। रोग से ग्रसित व्यक्ति को चलने के साथ ही बैलेंस बनाने में भी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। साथ ही शरीर थोड़ा झुका हुआ सा महसूस हो सकता है।

पार्किंसंस रोग के चार मुख्य लक्षण होते हैं:

  • हाथ, पैर, जबड़े या सिर में कंपन (Tremor in hands, arms, legs, jaw or head)
  • अंगों और धड़ की कठोरता (Stiffness of the limbs and trunk)
  • चाल धीरे होना (Slowness of movement)
  • संतुलन बिगड़ना (Impaired balance)

कुछ लोगों में डिप्रेशन या भवानात्मक बदलाव देखने को मिल सकते हैं। निगलने में दिक्कत, ठीक से बोल न पाना, यूरिन संबंधित परेशानियां, कब्ज, त्वचा रोग और नींद टूटना आदि भी इसके लक्षण हैं।

इस रोग की शुरुआत आमतौर से हाथ या उंगलियों की कंपन से होती है। हो सकता है आप जब आराम कर रहे हो तब आपके हाथों में कंपकपी हो जाए। वक्त के साथ इस रोग से ग्रसित लोगों के काम करने की क्षमता प्रभावित होने लगती है। इन लोगों को सरल सा काम करने में भी बहुत मेहनत करनी होती है। चलने की गति धीमी हो जाती है। यहां तक कि खड़े होने में भी कठिनाई महसूस होती है। लोग पैरों को घसीट कर चलने लगते हैं। कुछ लोगों के शरीर के किसी हिस्से की मांसपेशियों में अकड़न होने लगती है। इस बीमारी में शरीर झुक जाता है।

पार्किंसन रोग में कई लोगों की आवाज में परिवर्तन आ जाता है तो किसी की लिखावट बदल जाती है। लिखावट छोटी हो सकती है और लिखने में तकलीफ हो सकती है।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।
डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

यदि आपको पार्किंसन रोग से जुड़ा कोई लक्षण नजर आता है तो बिना देरी करें डॉक्टर से कंसल्ट करें।

और पढ़ें : पार्किंसंस रोग के लिए फायदेमंद है डीप ब्रेन स्टिमुलेशन (DBS)

कारण

पार्किंसंस रोग (Parkinson Disease) किन कारणों से होता है?

पार्किंसंस रोग में मस्तिष्क में कुछ तंत्रिका कोशिकाएं धीरे-धीरे टूट जाती हैं या मर जाती हैं। कई लक्षण न्यूरॉन्स के नुकसान के कारण होते हैं जो आपके मस्तिष्क में डोपामीन नामक एक रासायन का उत्पादन करते हैं। जब डोपामीन का उत्पादन बंद हो जाता है और शरीर में उसका स्तर गिरने लगता है तो यह सामान्य मस्तिष्क गतिविधि का कारण बनता है। इस स्थिति में दिमाग शरीर के अलग-अलग अंगों पर नियंत्रण रख पाने में असक्षम होता है, जिससे पार्किंसंस रोग के लक्षण नजर आते हैं।

पार्किंसंस रोग के कारण अज्ञात हैं, लेकिन निम्न कारक इसके लिए जिम्मेदार हो सकते हैं:

आपके जीन (genes): शोधकर्ताओं ने एक विशिष्ट आनुवंशिक उत्परिवर्तन की पहचान की है जो इस रोग का कारण बन सकता है।
पर्यावरण ट्रिगर (Environmental triggers): कुछ टॉक्सिन्स या पर्यावरणीय कारकों के संपर्क में आने से पार्किंसंस रोग का खतरा बढ़ सकता है।

 और पढ़ें: Floppy Eyelid Syndrome: फ्लॉपी आइलिड सिंड्रोम क्या है?

रिस्क फैक्टर्स को समझें

पार्किंसंस रोग (Parkinson Disease) के क्या जोखिम हैं?

इस बीमारी के जोखिम कारक निम्नलिखित हैं:

बढ़ती उम्र: बहुत कम होता है कि यह रोग युवाओं में देखा जाए। आमतौर पर यह बढ़ती उम्र में देखने को मिलता है। समय के साथ इसका जोखिम बढ़ता जाता है। सामान्य तौर पर यब बीमारी 60 या उससे अधिक उम्र में देखने को मिलती है।
पुरुषों को होता है ज्यादा रिस्क: महिलाओं की तुलना में यह रोग पुरुषों में ज्यादा देखने को मिलता है। कई शोध इस बात का समर्थन करते हैं, जिसमें अमेरिकी जर्नल एपिडेमियोलॉजी में बड़े अध्ययन शामिल हैं।
आनुवंशिकता: यदि आपके परिवार में किसी को यह रोग है तो आपको भी इसके होने की संभावना बढ़ जाती है।
विषाक्त पदार्थ के संपर्क में आने से: वनस्पतिनाशकों और कीटनाशकों के बार बार संपर्क में आने से भी इस रोग के होने की संभावना अधिक होती है।

और पढ़ें: Brain Aneurysm : ब्रेन एन्यूरिज्म (मस्तिष्क धमनी विस्फार) क्या है?

निदान और उपचार

पार्किंसंस रोग (Parkinson Disease) का निदान कैसे किया जाता है?

इस रोग के परीक्षण के लिए वर्तमान में कोई जांच नहीं है। इसके लिए आपको न्यूरोलॉजिस्ट को दिखाने की जरूरत होगी। डॉक्टर आपकी मेडिकल हिस्ट्री, लक्षणों के आधार पर इस रोगा का निदान करेंगे। आपके चिकित्सक इसके साथ हो रही अन्य परेशानियों को दूर करने के लिए परीक्षण कराने का सुझाव दे सकते हैं।

पार्किंसंस रोग (Parkinson Disease) का उपचार क्या है?

इस रोग को पूरी तरह ठीक नहीं किया जा सकता, लेकिन दवाओं के जरिए इसके लक्षणों को कंट्रोल किया जा सकता है। गंभीर मामलों में डॉक्टर सर्जरी रिकमेंड कर सकते हैं। डॉक्टर आपको ऐसी दवाएं लिख सकते है जो मस्तिष्क में डोपामीन की अपूर्ति को पूरा करती है।

और पढ़ें: Keloid: केलॉइड क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

पार्किंसंस रोग (Parkinson Disease) में डायट का रखें विशेष ख्याल

पार्किंसंस रोग से पीड़ित व्यक्तियों को अपने खानपान का विशेष ख्याल रखना चाहिए। उन्हें खाने में एंटीऑक्सीडेंट फूड लेने चाहिए। एंटीऑक्सीडेंट फूड ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस के साथ ही दिमाग को डैमेज होने से बचाते हैं।

खाने में ओमेगा 3 एस फूड को शामिल करना चाहिए। ऐसे फूड हार्ट के साथ ही ब्रेन के लिए भी हेल्दी होते हैं।

खाने में लाइम ग्रीन बींस (lime green beans) को शामिल करें।

पार्किंसंस रोग से पीड़ित व्यक्ति को खाने में डेयरी प्रोडक्ट को नहीं लेना चाहिए। साथ ही सैचुरेचेड फैट को भी अवॉयड करना चाहिए।

अगर खानपान पर विशेषतौर पर ध्यान दिया जाए तो पार्किंसंस रोग के बढ़ने की गति को रोकने में हेल्प मिलती है।

उपरोक्त दी गई जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Hydronephrosis: हाइड्रोनफ्रोसिस क्या है?

हाइड्रोनफ्रोसिस क्या है? हाइड्रोनफ्रोसिस के कारण? Hydronephrosis in hindi हाइड्रोनफ्रोसिस मूत्र पथ में आंशिक रुकावट के कारण होता है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया shalu

Saturday Night Palsy : सैटरडे नाइट पाल्सी क्या है?

जानिए सैटरडे नाइट पाल्सी क्या है in hindi, सैटरडे नाइट पाल्सी के कारण, जोखिम और उपचार क्या है, Saturday Night Palsy को ठीक करने के लिए आप इस तरह के घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anoop Singh

न्यूरोलॉजिकल डिसीज क्या होती हैं? जानिए क्या हैं इसके लक्षण

न्यूरोलॉजिकल डिसीज ब्रेन, स्पाइनल कॉर्ड और नर्व सेल्स के प्रभावित होने के कारण होती है। न्यूरोलॉजिकल डिसीज होने पर व्यक्ति खुद का ध्यान केंद्रित कर पाने असमर्थ महसूस करता है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi

पार्किंसंस रोग के लिए फायदेमंद है डीप ब्रेन स्टिमुलेशन (DBS)

जानिए DBS यानी डीप ब्रेन स्टिमुलेशन क्या है in Hindi, डीप ब्रेन स्टिमुलेशन के लक्षणों को दूर करने के लिए किया जाता है, Deep brain stimulation के दौरान ध्यान रखें इन बातों का

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma

Recommended for you

टीबी डायट पल्ना

टीबी डायट प्लान : क्या खाएं और क्या नहीं?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
प्रकाशित हुआ September 18, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
सिनडोपा प्लस टैबलेट

Syndopa Plus Tablet : सिनडोपा प्लस टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ July 24, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
हृदय रोग डायट प्लान-Diet plan for heart disease

हृदय रोग के लिए डायट प्लान क्या है, जानें किन नियमों का करना चाहिए पालन?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ July 14, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
बेबी हार्ट मर्मर

बेबी हार्ट मर्मर के क्या लक्षण होते हैं? कैसे करें देखभाल

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ May 19, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें