Heartburn: हार्टबर्न (सीने में जलन) क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

द्वारा

अपडेट डेट जुलाई 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

परिचय

हार्टबर्न (Heartburn) क्या है?

हर्टबर्न में छाती में जलन व दर्द होता है, जो अक्सर शाम को खाना खाने के बाद या सोते समय बदतर हो जाता है। कभी-कभी हार्टबर्न की शिकायत होना आम है व किसी खतरे की घंटी नहीं है। जीवनशैली में कुछ बदलाव और ओवर-द-काउंटर दवाओं का सेवन कर इससे राहत पाई जा सकती है। अगर यह स्थिति लगातार लंबे समय तक बनी रहती है तो यह किसी गंभीर बीमारी का इशारा हो सकता है।

प्रेग्नेंसी के समय में हार्टबर्न की शिकायत होना बहुत आम है। बहुत सारे लोगों में खाना खाने के बाद इसकी शिकायत होती है, लेकिन यह सोते समय भी हो सकती है। कुछ लोगों में किसी खाद्य पदार्थ को खाने या कुछ पेय पदार्थ को पीने के बाद यह परेशानी हो सकती है।

और पढ़ें: अप्लास्टिक एनीमिया क्या है और यह कितना खतरनाक होता है?

लक्षण

हार्टबर्न (Heartburn) के लक्षण क्या हैं?

हार्टबर्न के लक्षणों में निम्नलिखित शामिल हैं:

  • खाना खाने के बाद या रात के समय सीने में जलन या दर्द होना (burning pain in the chest)
  • गंभीर दर्द जो लेटने और झुकने पर बिगड़ जाए (Pain that worsens when lying down or bending over)
  • पुरानी खांसी (chronic cough)
  • पेट में दर्द और ऊपरी एब्डोमेन में जलन होना (stomach pain or burning in the upper abdomen)
  • खाना निगलने में दिक्कत होना (difficulty swallowing)
  • मुंह में कड़वा या अम्लीय स्वाद होना (Bitter or acidic taste in the mouth)
    लगातार गले में खराश रहना (persistent sore throat)

मुझे डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

  • यदि आपको सीने में दर्द और सांस लेने में तकलीफ हो रही है तो आपको बिना देरी करे तुरंत चिकित्सकीय सहायता लेनी चाहिइ।
  • यदि आप सप्ताह में दो बार से अधिक बार सीने की जलन के लिए दवा ले रहे हैं तो एक बार डॉक्टर से जरूर मिलें।
  • यदि आपको खाने को निगलने में परेशानी हो रही है।
  • भूख कम लगना या खाने में कठिनाई के कारण आपका वजन कम हो रहा है
  • आपको लगातार जी मिचलाना और उल्टी की शिकायत हो रही है तो ऐसे में भी आपको डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए।
  • डॉक्टर को दिखाने के बाद भी अगर आपको दवाओं से राहत न मिले तो इस बारे में डॉक्टर को जरूर बताएं। अगर आपको दवा से एलर्जी को गई है तो इस बारे में भी डॉक्टर को बताएं।

और पढ़ें :  ड्राई माउथ सिंड्रोम या जेरोस्टोमिया (Xerostomia ) क्या है?

कारण

हार्टबर्न (Heartburn) के क्या कारण हैं?

हार्टबर्न की शिकायत तब होती है जब पेट में मौजूद एसिड वापस भोजन नली (Esophagus) में आ जाता है। आमतौर पर जब आप कुछ निगलते हैं आपके अन्नप्रणाली (इसोफेगस) के नीचे के चारों तरफ की मांसपेशियां भोजन और तरल पदार्थ को आपको पेट के नीचे ले जाती हैं। इसके बाद ये मांसपेशियां वापस से कस जाती हैं।

यदि आपका लोअर इसोफेगल स्पिंकटर (lower esophageal sphincter) कमजोर होता है या ठीक तरह से काम नहीं करता है तो पेट का एसिड वापस इसोफेगस में चला जाता है जिस वजह से हार्टबर्न की शिकायत होती है। लेटते और झुकते समय एसिड का वापस आना गंभीर हो सकता है।

और पढ़ें : मैटरनल सेप्सिस क्या है? : Maternal sepsis in Hindi

खाने पीने की इन चीजों के कारण भी हार्टबर्न की शिकायत हो सकती है:

  • एल्कोहॉल: एल्कोहॉल लोअर इसोफेगल स्पिंकटर (lower esophageal sphincter) के कार्य को प्रभावित कर सकता है।
  • फैटी फूड, स्पाइसी फूड, फ्राइड फूड और कुछ एसिडिक फूड जैसे ओरेंज, ग्रेपफ्रूट, टमाटर आदि से हार्टबर्न की परेशानी हो सकती है।
  • कॉफी, ओरेंज और दूसरे एसिडिक जूस: ये कुछ ऐसी ड्रिंक्स हैं जो हार्टबर्न को बदतर या ट्रिगर कर सकता है।
  • कुछ लोगों में लहसुन, प्याज, चॉकलेट और पुदीना से भी हार्टबर्न की समस्या हो सकती है।

हर किसी में अलग-अलग खाने पीने की चीजे अलग तरह से प्रतिक्रिया करता है। किन चीजों को खाने के बाद आपकी हालत बिगड़ती है उसको ट्रेक करें और एक लिस्ट बनाएं। इस लिस्ट में आप जिन-जिन चीजों का सेवन करते हैं वो लिखें। आप जब कुछ खाते हैं और उसके बाद आपकी हालत खराब होती हैं तो उसे सर्कल कर लें। ऐसा करने से कुछ समय के बाद आप खुद समझने लगेंगे कि किन चीजों का सेवन करने से आपको यह परेशानी होती है।

यदि आपको हार्टबर्न की शिकायत अक्सर रहती है तो इसे गैस्ट्रोइसोफेगल रिफ्लक्स रोग (GERD) कहा जाता है। इसके लिए आपको डॉक्टर को दिखाने की जरूरत होती है। हार्टबर्न के इलाज के लिए डॉक्टर आपको दवा रिकमेंड कर सकते हैं। कुछ मामलों में सर्जरी भी करनी पड़ सकती है। यह रोग इसोफेगस को डैमेज भी कर सकता है। इसमें इसोफेगस में कुछ परिवर्तन होते हैं जिससे बैरेट इसोफेगस (Barrett’s esophagus) होने की संभावना रहती है।

और पढ़ें : गैस दर्द का क्या है कारण? क्विज से जानें गैस को दूर करने के टिप्स

निदान और उपचार

दी गई जानकारी किसी भी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

हार्टबर्न (Heartburn)  का निदान कैसे किया जाता है?

आपका डॉक्टर लक्षणों को देखने के बाद आपको निम्नलिखित टेस्ट कराने की सलाह दे सकता है:

  • अपर डायजेस्टिव सिस्टम का एक्स-रे (X-Ray of Upper Digestive System)
  • एंडोस्कोपी (Endoscopy)
  • एंब्यूलेट्री एसिड टेस्ट (Ambulatory acid test)
  • इसोफेगल इमपीडेंस टेस्ट (Esophageal impedance test)
  • हार्टबर्न की जांच करने के लिए ही बर्नस्टेन टेस्ट किया जाता है।

हार्टबर्न (Heartburn) का  इलाज कैसे किया जाता है?

हार्टबर्न के लक्षण से राहत के लिए आपका डॉक्टर आपके खानपान की आदतों में कुछ बदलाव कर सकते हैं। हार्टबर्न से छुटकारे के लिए कुछ दवाओं के सेवन के साथ ही आपको कुछ निम्नलिखित ओवर द काउंटर दवाएं भी रिकमेंड कर सकता है:

  • एंटासिड्स (antacids)
  • एच2 रेसेप्टर ब्लॉकर्स (H2 receptor blockers)
  • प्रोटोन पंप इन्हीबेटर्स (proton pump inhibitors)

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

और पढ़ें : Smoke Exposure: स्मोक एक्सपोजर क्या है?

घरेलू उपचार

जीवनशैली में बदलाव और घरेलू उपचार की मदद से हार्टबर्न (Heartburn) से कैसे निपटा जा सकता है?

आप अपने लाइफस्टाइल और खानपान की आदतों में थोड़े से बदलाव करके हार्टबर्न की शिकायत से राहत पा सकते हैं। निम्नलिखित बातों से हार्टबर्न की समस्या से निजात पाया जा सकता है:

यदि आपको अक्सर सोते वक्त रात के समय में हार्टबर्न की शिकायत रहती है, तो आप अपने शरीर को कमर से ऊपर उठाने के लिए अपने गद्दे और बेड बॉक्स के बीच में अतिरिक्त तकियों के साथ जगह तैयार करें। ऐसा करने से आपको राहत महसूस होगी।

अगर आपको अपनी समस्या को लेकर कोई सवाल हैं, तो अपने डॉक्टर से सलाह जरूर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

लौंग से केले तक, ये 10 चीजें हाइपर एसिडिटी (Hyperacidity) में दे सकती हैं राहत

हाइपर एसिडिटी (Hyperacidity) क्या है, क्यों होती है, क्या खाएं, हाइपर एसिडिटी का इलाज क्या है। जानें राहत पानें के उपाय।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Bhardwaj
के द्वारा लिखा गया Shivani Verma
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन जुलाई 8, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

जलने के घरेलू उपचार

क्या आप भी टूथपेस्ट को जलने के घरेलू उपचार के रूप में यूज करते हैं? जानें इससे जुड़े मिथ और फैक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ अप्रैल 23, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
Nexpro- नेक्सप्रो

Nexpro: नेक्सप्रो क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mona narang
प्रकाशित हुआ फ़रवरी 11, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
बर्नस्टेन टेस्ट-Bernstein Test

Bernstein Test: बर्नस्टेन टेस्ट क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anoop Singh
प्रकाशित हुआ अक्टूबर 16, 2019 . 5 मिनट में पढ़ें
प्रेग्नेंसी में एसिडिक फूड

प्रेग्नेंसी में एसिडिक फूड क्यों नहीं खाना चाहिए?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Mayank Khandelwal
के द्वारा लिखा गया Sunil Kumar
प्रकाशित हुआ अगस्त 23, 2019 . 5 मिनट में पढ़ें