home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

क्या आप जानते हैं पुदीने के फायदे?

क्या आप जानते हैं पुदीने के फायदे?

पुदीना जिसे इंग्लिश में मिंट कहते हैं। पुदीने अपने कूल और मिंट स्वाद के लिए बहुत मशहूर हैं। भारतीय घरों में पुदीने का इस्तेमाल ज्यादातर चटनी बनाने के लिए किया जाता है। पुदीने की पत्ती औषधीय गुणों से भरपूर हैं इसलिए पुदीने के फायदे भी हैं। क्यों है पुदीना सेहत के लिए फायदेमंद? किस शारीरिक परेशानी में पुदीने के फायदे हो सकते हैं? पुदीने के फायदे और क्या है इसके सेवन की विधि जानते हैं।

ये भी पढ़े Amebiasis: अमीबियासिस क्या है?

पुदीने के फायदे समझने के पहले जानते हैं क्यों इसे औषधि के श्रेणी में रखा जाता है?

पुदीने में पोटैशियम, मैग्नेशियम, कैल्शियम, फॉस्फोरस, विटामिन-सी, आयरन और विटामिन-ए की मौजूदगी शरीर के लिए लाभकारी बनाता है। पुदीना दवाओं के अलावा खाद्य पदार्थों, मिठाई, सलाद, चाय और एल्कोहॉल में प्रयोग किया जाता है। इन सभी खनिज तत्व के कारण ही पुदीने के फायदे शरीर को होते हैं।

क्या हैं पुदीने के फायदे?

  1. पुदीने में मौजूद मेंथोल माइग्रेन के सिरदर्द को कम करने में मदद कर सकती है। यह संवेदनशीलता, मतली और जी मचलने के लक्षणों को भी कम कर सकता है। कुछ स्टडीज के जरिए साबित हुआ है कि माथे पर पुदीने का तेल लगाने से टेंशन और सिरदर्द में भी आराम मिल सकता है।इसलिए सिरदर्द की परेशानी हो या माइग्रेन होने पर पुदीने के फायदे हो सकते हैं।
  2. पुदीने की पत्ती पेट की मरोड़, पेचिश और खट्टी डकारों में पुदीने के फायदे हो सकते हैं। इसके साथ ही पेट खराब होने पर थोड़े-से पुदीने को पानी में पीसकर उसमें भुना हुआ जीरा, नींबू तथा नमक मिलाकर पीना चाहिए। इससे मोशन की समस्या ठीक हो सकती और पेट भी साफ रहता है।
  3. अगर घर या कोई जान पहचान में कैंसर पेशेंट है और कीमोथेरिपी हुई है तो इसके बाद होने वाले मतली चक्कर से भी राहत दिलाती हैं। पुदीने के फायदे होने में थोड़ा वक्त लग सकता है लेकिन, ये लाभकारी हो सकते हैं।
  4. पुदीने के फायदे मुंह से आने वाली बैड स्मेल को दूर करने के लिए हो सकते हैं। मुंह की बदबू को दूर करने के लिए पुदीना वर्षों से सुझाया जाता आ रहा है। बदबू को दूर करने के लिए पुदीने की कुछ पत्तियों को चबा लें और पानी से कुल्ला कर लें। ऐसा करने से मुंह से आने वाली बदबू धीरे-धीरे खत्म हो जाती है।
  5. पुदीने में मौजूद एंटीमाइक्रोबियल गुण सर्दी-जुकाम और साइनस से लड़ने की क्षमता बढ़ाने में सहायक है। मेंथोल की वजह से आप को महसूस होगा की आप आसानी से सांस ले पा रहे हैं। पुदीने के फायदे काफी चमत्कारी हैं।
  6. अगर आपको दिन में नींद आती है और आप जागना चाहते हैं तो पुदीना का तेल इस्तेमाल करें। हालांकि एक्सपर्ट्स को यह अभी ठीक तरह नहीं पता चल पाया है कि पुदीने के तेल कि खुशबू से आपके शरीर में क्या होता है लेकिन, यह काम के समय आप की नींद भगाने में मददगार होता है। कई लोग तो पुदीने के फायदे वो भी नींद भगाने को सही मानते हैं।
  7. कुछ महिलाओं में पुदीने के इस्तेमाल से पीरियड्स के दौरान दर्द और खिंचाव कम हो जाता है। अक्सर महिलाऐं क्रैम्प्स से राहत के लिए पुदीने का इस्तेमाल करती हैं।
  8. वैज्ञानिकों ने पुदीने के तेल को कुछ बैक्टीरिया जैसे इ-कोली, लिस्टिरिया, और साल्मोनेला पर टेस्ट किया। उन्होंने पाया कि वह बढ़ना बंद हो गए। यह स्टेफिलोकोकस ऑरियस (Staphylococcus aureus) नाम के बैक्टीरिया को भी खत्म करने की क्षमता रखता है, जो त्वचा के इन्फेक्शंस, मैनिंजाइटिस और निमोनिया जैसी बीमारी को जन्म दे सकता है।
  9. कुछ स्टडीज द्वारा पता चलता है कि पुदीना भूक को कम कर देता है, जिसके कारण आप कम खाएंगे और आपका वजन भी नहीं बढ़ेगा।
  10. हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार मस्तिष्क को भी पुदीने के फायदे हो सकते हैं। मनुष्य के मस्तिष्क को भी लाभ मिल सकता है। नियमित रूप से पुदीने के हरी पत्तियों या सूखे पत्तियों के सेवन से याददाश्त तेज हो सटी है।
  11. मिंट में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट और एंटीइन्फ्लामेट्री एजेंट के कारण इसे रोस्मेर्निक एसिड (Rosmarinic acid) के नाम से भी जानते हैं। हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार पुदीने के फायदे अस्थमा के पेशेंट को भी मिलता है। अगर किसी व्यक्ति में अस्थमा के लक्षण नजर आते हैं, तो पुदीने का सेवन करना चाहिए।
पुदीने के फायदे पुदीने की चाय पीने से भी हो सकती है।

पुदीने की चाय बनाने के लिए मिंट टी बैग आपको आसानी से सुपर मार्केट से मिल जाएगी। कई स्टोर्स में ड्राई पीपरमेंट भी मिल जाती है। मिंट टी बनाना बेहद आसान है। इसके लिए एक गर्म पानी में मिंट टी बैग डिप करें और तीन से छे मिनट के बाद इसे निकाल दें। इसे इस तरह भी पी जा सकती है लेकिन, अगर चाय के टेस्ट को और बढ़ाना चाहते हैं, तो इसमें नींबू की कुछ बूंदें और थोड़ी सी चीनी मिला सकते हैं। हालांकि किसी भी हर्बल टी के ज्यादा सेवन से नुकसान पहुंचता है। उसी तरह मिंट टी के भी साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं।

मिंट टी के सेवन से निन्मलिखित परेशानी हो सकती है। जैसे-

  • पुदीने की चाय के सेवन से उल्टी आने परेशानी हो सकती है
  • अत्यधिक मिंट या मिंट टी के सेवन से स्पर्म की क्वॉलिटी पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है
  • पीपरमेंट ऑयल के कारण किसी-किसी व्यक्ति में रैश की परेशानी हो सकती है

मिंट टी के अलवाला अन्य हर्बल टी का भी सेवन किया जा सकता है लेकिन, इसके भी नकारात्मक प्रभाव भी शरीर पर पड़ सकते हैं।

ग्रीन टी

ग्रीन टी में कैफीन की मात्रा अत्यधिक होती है, जिस कारण फोलेट (फोलिक एसिड) की मात्रा शरीर में कम होने लगती है। इसका सीधा असर गर्भ में पल रहे शिशु पर पड़ता है और इससे शिशु के विकास पर असर पड़ता है

ऐनिस टी (सौंफ की चाय)

एक्सपर्ट के अनुसार ऐनिस टी (Anise tea) के फायदे तो होते हैं लेकिन, गर्भावस्था के दौरान इसका ज्यादा सेवन नुकसानदायक होता है। स्तनपान करवाने वाली महिलाओं को भी इसका सेवन नहीं करना चाहिए। क्योंकि इसके सेवन से एलर्जी का खतरा बढ़ जाता है।

एलोवेरा टी

एलोवेरा के तो कई फायदे होते हैं लेकिन, इसके नुकसान भी हैं। दरअसल, इसमें मौजूद लैक्सेटिव स्किन से जुड़ी समस्या शुरू हो सकती है यही नहीं डिलिवरी के दौरान भी परेशानी हो सकती है।

हिबिस्कस टी

हिबिस्कस टी (Hibiscus tea) से होने वाले फायदे को तो आप जानते होंगे लेकिन, प्रेग्नेंसी के दौरान प्रेग्नेंसी में हो सकता है हर्बल टी से नुकसान? टी से नुकसान पहुंच सकता है। इससे हॉर्मोन लेवल में उतार-चढ़ाव आता है, जो गर्भावस्था के लिए ठीक नहीं है।

कावा टी

गर्भावस्था में कावा टी (Kava tea) के सेवन से यूट्रस को नुकसान पहुंचता है। एक्सपर्ट्स के अनुसार कावा टी ब्रेस्ट फीडिंग के दौरान में भी नहीं पीना चाहिए।

अगर आप पुदीने के फायदे से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

नोट : नए संशोधन की डॉ. प्रणाली पाटील द्वारा समीक्षा

और पढ़ें :

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Is mint good for you?/https://www.medicalnewstoday.com/articles/275944.php/Accessed on 17/12/2019

MENTHA (MINT)/http://eagri.org/eagri50/AGRO301/pdf/lec18.pdf/Accessed on 17/12/2019

Federal Benefits/https://www.usmint.gov/about/careers/federal-benefits/Accessed on 17/12/2019

A review of the bioactivity and potential health benefits of peppermint tea (Mentha piperita L.)./https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/16767798/Accessed on 17/12/2019

 

लेखक की तस्वीर
Dr. Radhika apte के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Mubasshera Usmani द्वारा लिखित
अपडेटेड 11/07/2019
x