home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Anaphylactic shock: अनफिलक्टिक शॉक क्या है?

परिचय |लक्षण| कारण|निदान |उपचार |रोकथाम
Anaphylactic shock: अनफिलक्टिक शॉक क्या है?

परिचय

अनफिलक्टिक शॉक (Anaphylactic shock) क्या है?

अनफिलक्टिक शॉक एक दुर्लभ लेकिन गंभीर एलर्जिक रिएक्शन (Allergic reaction) हैं। अगर सही तरीके से इसका इलाज न किया जाए तो यह जान के लिए खतरा हो सकता है। अनफिलक्टिक शॉक अधिकतर भोजन, जीव-जंतुओं के काटने या किंहीं दवाइयों से हो सकता है। अधिकतर मामलों में, यह एलर्जी कम से लेकर अधिकतम तक हो सकती है जैसे आंखों में पानी आना, रैशेस या नाक का बहना आदि। लेकिन कई बार एलर्जेन से संपर्क में आने के गंभीर परिणाम भी हो सकते हैं। अनफिलक्टिक शॉक (Anaphylactic shock) और अनफिलैक्सिस (Anaphylaxis) दोनों एक ही समान हैं जिनमें गंभीर एलर्जी हो सकती है। शॉक तब होता है, जब रक्तचाप (Blood pressure) इतना कम हो जाता है कि रोगी की कोशिकाओं (और अंगों) को पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिलती। एनाफिलेक्टिक शॉक एक सदमा है जो एनाफिलेक्सिस के कारण होता है।

लक्षण

अनफिलक्टिक शॉक के लक्षण क्या हैं? (Symptoms of Anaphylactic shock)

अनफिलक्टिक शॉक के होने पर आप को आमतौर पर पंद्रह मिनटों के अंदर ही लक्षण दिखाई देंगे। यह लक्षण कम हो सकते हैं जैसे नाक का बहना या बेचैनी लेकिन समय के साथ यह बहुत भयानक भी हो सकते हैं। कुछ लक्षण इस प्रकार हैं:

  • गले में कसाव और सांस लेने में समस्या
  • हीव्स
  • उल्टी होना
  • चक्कर आना
  • बेहोशी
  • दिल की धड़कन का बढ़ना
  • पेट दर्द
  • डायरिया
  • निगलने में समस्या
  • खुजली, त्वचा में लालिमा
  • बोलने में परेशानी
  • चेहरे, आंखों या जीभ में सूजन
  • लौ ब्लड प्रेशर (Low blood pressure)

गंभीर मामलों में रोगी बेहोश हो सकता है, उनकी सांस बंद हो सकती है या कुछ मिनटों में ही वो होश खो बैठते हैं।

और पढ़ें : Traveler& diarrhea : ट्रैवेलर्स डायरिया क्या है? जानिए इसके कारण लक्षण और उपाय

कारण

अनफिलक्टिक शॉक के कारण क्या हैं? (Cause of Anaphylactic shock)

अनफिलक्टिक शॉक के सामन्य (Common cause of Anaphylactic shock) कारण इस प्रकार हैं:

  • भोजन जैसे नट्स या शेलफिश
  • Latex , जो डिस्पोजेबल ग्लव्स, सीरिंज या एडहेसिव टेप आदि में पाया जाता है।
  • दवाईयां : जैसे पेनिसिलिन और एस्पिरिन को खाने से अनफिलक्टिक जैसा रिएक्शन होता है।
  • कीट डंक : मधुमक्खी या अन्य किसी कीट के डंक वाले जहर जैसे पदार्थ के संपर्क में आने के बाद, व्यक्ति की प्रतिरक्षा प्रणाली इसके प्रति संवेदनशील हो जाती है। जब व्यक्ति फिर से उस एलर्जेन के संपर्क में आता है, तो एक एलर्जी प्रतिक्रिया हो सकती है। इसके बाद आपको एनाफिलेक्सिस एक्सपोजर जल्दी हो सकता है। यह एक गंभीर स्थिति है।

और पढ़ें : आयरन डेफिशिएंसी एनीमिया मेडिसिन : जब हो एनीमिया की तकलीफ, तो ले सकते हैं इनकी मदद!

निदान

अनफिलक्टिक शॉक के निदान क्या हैं? (Diagnosis of Anaphylactic shock)

आपके डॉक्टर आप से पहले के एलर्जिक रिएक्शन के बारे में प्रश्न पूछेंगे । इसके साथ ही वो आपसे यह भी पूछेंगे कि आपको किन-किन चीज़ों से रिएक्शन हो सकता है, जैसे:

  • विशेष खाद्य पदार्थ
  • दवाईयां
  • Latex
  • कीट का डंक

निदान की पुष्टि करने में मदद करने के लिए:

  • आपको एक निश्चित एंजाइम (ट्रिप्टेस) को जांचने के लिए रक्त परीक्षण किया जा सकता है।
  • एलर्जी का टेस्ट करने के लिए आपका स्किन टेस्ट (Skin test) या ब्लड टेस्ट (Blood test) कराया जाता है। कई स्थितियों में एनाफिलेक्सिस के समान लक्षण होते हैं।

और पढ़ें : बच्चों में फूड एलर्जी का कारण कहीं उनका पसंदीदा पीनट बटर तो नहीं

उपचार

अनफिलक्टिक शॉक (Anaphylactic shock) का उपचार क्या हैं?

अनफिलक्टिक शॉक (Anaphylactic shock) के दौरान अगर रोगी का सांस लेना या आपका दिल धड़कना बंद हो जाए तो उसे CPR दिया जाता है, इस स्थिति में रोगी को यह दवाईयां दी जा सकती है, जैसे:

  • शरीर की एलर्जी की प्रतिक्रिया को कम करने के लिए, एपिनेफ्रीन (एड्रेनालाईन)
  • सांस लेने में रोगी की मदद करने के लिए, ऑक्सीजन
  • एंटीहिस्टामाइन और कोर्टिसोन आपके वायु मार्ग की सूजन को कम करने और सांस लेने में सुधार करने के लिए,इंट्रावेनस (IV)
  • सांस लेने के लक्षणों को राहत देने के लिए एक बीटा-एगोनिस्ट (जैसे अल्ब्युटेरोल)

अनफिलैक्सिस एक आपातकालीन स्थिति है जिसमे तुरंत मेडिकल अटेंशन की आवश्यकता है। रोगी के एयरवे, सांस और ब्लड सर्कुलेशन को चेक करें। इस रोग के चेतावनी के संकेत हैं गले की सूजन, बहुत कर्कश या फुसफुसाती आवाज आदि। यदि आवश्यक हो, तो रेस्क्यू ब्रीथिंग और सीपीआर शुरू करें।

इन बातों का भी ध्यान रखें:

  • तबियत बिगड़ने पर तुरंत डॉक्टर को से सलाह लें और डॉक्टर के पास रोगी को ले जाएं।
  • शांत रहें और रोगी को भी शांत करें।
  • अगर आपको मधुमक्खी के काटने से एलर्जिक रिएक्शन है तो किसी फर्म (जैसे एक नाख़ून या प्लास्टिक क्रेडिट कार्ड) के साथ त्वचा से डंक को हटा दें। चिमटी का उपयोग न करें।
  • अगर आपके पास एलर्जी की आपातकालीन दवाई है, तो व्यक्ति को इसे लेने या इंजेक्शन लगाने में मदद करें।
    अगर व्यक्ति को सांस लेने में कठिनाई हो रही हो तो मुंह से दवा न दें।
  • रोगी को सीधा लिटाएं और उसके पैरों को लगभग 12 इंच (30 सेंटीमीटर) ऊपर उठाएं, और व्यक्ति को कोट या कंबल से ढक दें। सिर, गर्दन, पीठ, या पैर की चोट होने की स्थिति में, या अगर यह स्थिति रोगी के लिए असुविधाजनक हो, तो व्यक्ति को इस स्थिति में न रखें।

और पढ़ें : प्रेग्नेंट लेडीज गर्भावस्था में पीठ दर्द होने पर इन घरेलू नुस्खों से मिलेगा आराम

रोकथाम

अनफिलक्टिक शॉक (Anaphylactic shock) का रोकथाम क्या हैं?

अनफिलक्टिक शॉक (Anaphylactic shock) के रोकथाम के लिए निम्नलिखित बातों का ध्यान रखें। जैसे:

  • अनफिलैक्सिस की रोकथाम का सबसे अच्छा तरीका है उन चीज़ों को नजरअंदाज करना जिनसे यह समस्या हो सकती है।
  • अगर आपको किन्ही खास दवाओं या अन्य पदार्थों से एलर्जी है तो मेडिकल अलर्ट ब्रेसलेट या अन्य चीज़ें पहनें।
  • इमरजेंसी किट को डॉक्टर द्वारा बताई गयी दवाईयों के साथ हमेशा अपने साथ रखें। आपके डॉक्टर आपको इस बारे में सही सलाह दे सकते हैं। अगर आपके पास एक एपिनेफ्रीन ऑटिंजर है, तो समाप्ति तिथि की जांच करें और समाप्त होने से पहले नयी दवाई को खरीद कर फिर से अपने पास रख लें।
  • अपने सभी डॉक्टरों को आपको किन-किन दवाइयों से एलर्जी होती है यह अवश्य बताएं।
  • डॉक्टर को समय-समय पर बताते रहें कि दवाईयां आप के शरीर पर किस तरह से रियेक्ट कर रही हैं।
  • अगर आपको जीव ने काटा है तो आपको सावधान रहना चाहिए। लंबी आस्तीन वाले कपडे पहने, घास पर नंगे पांव न चलें, चमकीले कपडे न पहने और परफ्यूम या खुशबु वाली चीज़ें न लगाएं।
  • अगर आपको खाने की किसी भी चीज़ से एलर्जी है, तो किसी भी चीज़ को खरीदने या खाने से पहले उसके लेवल को अवश्य पढ़ें। अगर आप घर से बाहर कुछ खाते हैं तो जान लें कि वो चीज बन कैसे रही है और उसमे वो चीज़ तो नहीं है जिससे आपको एलर्जी है।

बेहतर जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

अगर आप अनफिलक्टिक शॉक (Anaphylactic shock) या अनफिलैक्सिस (Anaphylaxis) से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं, तो आप हमें कमेंट बॉक्स में लिखकर पूछ सकते हैं। हमारे हेल्थ एक्सपर्ट आपके सवालों के जवाब देने की कोशिश करेंगे। हालांकि अगर आप अनफिलक्टिक शॉक (Anaphylactic shock) या अनफिलैक्सिस (Anaphylaxis) से पीड़ित हैं, तो डॉक्टर से कंसल्टेशन करें, क्योंकि ऐसी स्थिति में डॉक्टर आपके हेल्थ कंडिशन को ध्यान में रखकर अनफिलक्टिक शॉक (Anaphylactic shock) या अनफिलैक्सिस (Anaphylaxis) ट्रीटमेंट शुरू करेंगे।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Anu sharma द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 18/06/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x