कोविड-19 और सीजर्स या दौरे पड़ने का क्या है संबंध, जानिए यहां

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट नवम्बर 11, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

कोरोना वायरस न सिर्फ रेस्पिरेट्री सिस्टम पर वार करता है बल्कि शरीर के अन्य सिस्टम का काम बिगाड़ने में भी प्रमुख भूमिका निभा रहा है। कोरोना वायरस के नए लक्षणों में डायरिया की समस्या, निमोनिया के लक्षण, एक्यूट रेस्पिरेट्री डिस्ट्रेस सिंड्रोम, ऑर्गन फेलियर, कार्डियक इंजुरी आदि नए लक्षण के साथ ही अन्य लक्षण भी देखने को मिले हैं। आपको जानकर हैरानी हो सकती है कि कोरोना वायरस दिमाग संबंधि बीमारियों से भी जुड़ा हुआ है।

जांच के दौरान कोविड-19 और सीजर्स का संबंध होने की बात सामने आई है। कुछ व्यक्तियों में दौरे की समस्या कोरोना के कारण बढ़ने की बात मानी गई है। कोरोना से संक्रमित व्यक्तियों में सीजर्स की बीमारी को ट्रिगर करने के संकेत मिले हैं। कोरोना वायर ऐसे व्यक्तियों के लिए ज्यादा खतरनाक है, जिन्हें पहले से ही कोई बीमारी हो। मिर्गी की समस्या भी उन्हीं बीमारियों में से एक है। ब्रेन में अचानक परिवर्तन के कारण मिर्गी के दौरे या फिर सीजर्स की समस्या हो जाती है। इस आर्टिकल के माध्यम से जानिए कि आखिर क्या है कोविड-19 और सीजर्स का संबंध।

और पढ़ें : अगर भविष्य में बचना है लंग डिजीज से, तो बचाव के लिए जरूरी है एक्स्पर्ट की इन बातों का ध्यान रखना

कोविड-19 और सीजर्स का संबंध क्या है ?

कोविड-19 और सीजर्स के संबंध के बारे में डॉक्टर्स को फ्लोरिडा के एक 74 साल के पेशेंट के माध्यम से जानकारी मिली। पेशेंट को कफ और फीवर की समस्या थी। हॉस्पिटल में जांच के बाद पेशेंट को निमोनिया की शिकायत बताई गई। इसके बाद उसका ट्रीटमेंट करके उसे घर भेज दिया गया। अगले दिन पेशेंट के घरवाले पेशेंट लेकर फिर से अस्पताल पहुंचे और फीवर बढ़ने के बारे में जानकारी दी। पेशेंट को सांस लेने में दिक्कत हो रही थी। साथ ही पेशेंट डॉक्टर को ठीक से अपना नाम भी नहीं बता पा रहा था। साथ ही वो बोलने में भी असमर्थ था। व्यक्ति को पार्किंग्सन रोग और लंग डिजीज भी थी। पेशेंट को अचानक से हाथ और पैरों में झटके महसूस होने लगे। डॉक्टर को पेशेंट की हालत देखकर लगा कि उसे कोविड-19 है।

टेस्ट के बाद पता चला की पेशेंट सच में कोरोना पॉजिटिव था। दूसरे दिन भी डॉक्टर के पास ऐसा ही एक 50 साल की महिला का केस आया जो कि कोरोना पॉजिटिव थी। महिला को सिरदर्द की समस्या थी और साथ ही उसे अपना नाम बताने में दिक्कत हो रही थी। ऐसा मस्तिष्क में वायरल इंफ्लामेशन के कारण हुआ था। न्यूरोलॉजिस्ट डॉ. एलिसा फोरी के अनुसार ये एक ब्रेन वायरल इंफ्लामेशन है जो लोगों में ऐसे लक्षण उत्पन्न कर रहा है।

दुनिया के विभिन्न हिस्सों में कुछ पेशेंट को स्ट्रोक, सीजर्स इंसेफेलाइटिस जैसे लक्षण देखने को मिले। यानी कोविड-19 और सीजर्स का संबंध साफ तौर पर देखने को मिला। कुछ पेशेंट के हाथ-पैरों में झुनझुनाहट के साथ ही ब्लड क्लॉटिंग भी देखने को मिले।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

और पढ़ें : कोविड-19 रिकवरी और हार्ट डिजीज का क्या है संबंध, जानिए एक्सपर्ट की राय

कोविड-19 और सीजर्स का संबंध :  ऑक्सीजन लेवल कम होने से पड़ता है इफेक्ट

कोविड-19 और सीजर्स का संबंध अभी भी पूरी तरह से साफ नहीं हो पाया है लेकिन शोध में कई बातें सामने आई हैं।  चाउ यूनिवर्सिटी ऑफ पिट्सबर्ग स्कूल ऑफ मेडिसिन में कोरोना वायरस के कारण न्यूरोलॉजिकल लक्षणों के संबंध में अध्ययन अभी भी जारी है। डॉ. शेरी एच वाई ने कहा कि न्यूरोलॉजिकल लक्षणों के बारे में अभी भी बहुत जानकारी नहीं है लेकिन पेशेंट की संख्या बढ़ने के साथ ही हमारे पास ऐसी घटनाएं सामने आ रही हैं। ये बात को सामने आई है कि कोरोना वायरस के कारण मनुष्य के न्यूरोलॉजिकल सिस्टम में बदलाव हो रहा है लेकिन अभी भी इस बात की जानकारी नहीं मिली है कि ये किस हद तक सीजर्स के पेशेंट को प्रभावित कर रहा है या फिर व्यक्ति में सीजर्स के लक्षणों को उकसाने का काम कर रहा है।डॉ। स्टीवंस ने कहा क कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण सांस लेने में तकलीफ होती है। इस कारण से ब्लड में ऑक्सीजन का लेवल लो हो सकता है और साथ ही कार्बन डाई ऑक्साइड का लेवल भी बढ़ जाता है। इस कारण से ब्रेन के फंक्शन में प्रभाव देखने को मिल सकता है। साथ ही भ्रम की स्थिति भी पैदा हो सकती है। ऑक्सीजन का लेवल शरीर में कम होने पर चक्कर भी आ सकता है।

और पढ़ें : कोरोना संक्रमण से ठीक होने के बाद ऐसे बढ़ाएं इम्यूनिटी, स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताए कुछ आसान उपाय

सीजर्स यानी दौरे की समस्या क्यों उत्पन्न होती है ?

सीजर्स यानी दौरे पड़ने के दौरान व्यक्ति की सोचने या समझने की क्षमता प्रभावित होती है। व्यक्ति अलग तरह से व्यवहार करने लगता है। साथ ही उसे हाथ या पैर में झटके का एहसास भी हो सकता है। सीजर्स की समस्या ब्रेन में चोट या फिर ब्रेन फंक्शन सही से न हो पाने के कारण हो सकता है।ऐसे में व्यक्ति को अचानक से डर लगने लगता है या फिर व्यक्ति अपनी बात को सही तरह से नहीं कह पाता है। शरीर में अकड़न या फिर मुंह से झाग निकलने की समस्या भी हो सकती है। बोलने पर आवाज भी बदल सकती है। ऐसा ब्रेन में इलेक्ट्रिकल डिस्टर्बेंस के कारण होता है। ये जरूरी नहीं है कि दौरे के कारण मिर्गी की समस्या हो, लेकिन कुछ केसेज में दौरे के कारण मिर्गी की परेशानी भी शुरू हो सकती है। आप इस बारे में अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से भी जानकारी ले सकते हैं।

और पढ़ें : क्या पेंटोप्रोजोल, ओमेप्रोजोल, रैबेप्रोजोल आदि एंटासिड्स से बढ़ सकता है कोविड-19 होने का रिस्क?

कोरोना महामारी की अभी तक वैक्सीन नहीं आई है। दुनिया भर में लोग खुद को सुरक्षित रखने के लिए सतर्कता और सावधानी अपना रहे हैं। ऐसे में जो लोग किसी बीमारी से पीड़ित हैं, उन्हें अधिक सतर्कता अपनी चाहिए। अगर किसी भी तरह के लक्षण नजर आएं तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। मिर्गी के इलाज में दवाओं का सेवन और लाइफस्टाइल में सुधार शामिल है। अगर कुछ बातों का ख्याल रखा जाए तो बीमारी पर नियंत्रण रखा जा सकता है। आप इस बारे में अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं। आप स्वास्थ्य संबंधि अधिक जानकारी के लिए हैलो स्वास्थ्य की वेबसाइट विजिट कर सकते हैं। अगर आपके मन में कोई प्रश्न है तो हैलो स्वास्थ्य के फेसबुक पेज में आप कमेंट बॉक्स में प्रश्न पूछ सकते हैं।

powered by Typeform

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

वर्ल्ड टूरिज्म डे: कोविड-19 के बाद कितना बदल जाएगा यात्रा करना?

कोविड-19 के बाद ट्रैवल करना पहले जितना मजेदार नहीं रहेगा क्योंकि एक तो आपको संक्रमण से बचाव की चिंता लगी रहेगी दूसरी तरफ कई नियमों का पालन भी करना होगा।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
कोविड-19, कोरोना वायरस सितम्बर 8, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

फिर से खुल रहे हैं स्कूल! जानें COVID-19 के दौरान स्कूल जाने के सेफ्टी टिप्स

COVID-19 के दौरान स्कूल लौटने के लिए सेफ्टी टिप्स in Hindi, school reopen guidelines covid-19 safety tips in Hindi, सेफ्टी टिप्स की गाइडलाइन।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
कोविड 19 व्यवस्थापन, कोरोना वायरस सितम्बर 8, 2020 . 9 मिनट में पढ़ें

वर्ल्ड पेशेंट सेफ्टी डे: पेशेंट और हेल्थ वर्कर्स की सेफ्टी कैसे है एक दूसरे पर निर्भर?

जानिए विश्व मरीज सुरक्षा दिवस में कोविड-19 के समय कैसे मरीज और स्वास्थ्य कर्मियों की सुरक्षा एक दूसरे से संबंधित है? पेशेंट और हेल्थ वर्कर्स की सेफ्टी ।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन सितम्बर 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

गणेश चतुर्थी 2020 : गणेश चतुर्थी को लेकर सरकार ने जारी किए ये गाइडलाइन, जानें क्या नहीं करना होगा

गणेश चतुर्थी और कोरोना वायरस को लेकर राज्य सरकार ने दिशानिर्देश जारी किए हैं। महाराष्ट्र सरकार ने सभी 'मंडलों' के लिए गणेशोत्सव मनाने के लिए नगर पालिका या लोकल अथॉरिटी से परमिशन लेना अनिवार्य कर दिया है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
स्वास्थ्य बुलेटिन, त्योहार अगस्त 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

दिवाली में अरोमा कैंडल, aroma candle

इस दिवाली घर में जलाएं अरोमा कैंडल्स, जगमगाहट के साथ आपको मिलेंगे इसके हेल्थ बेनिफिट्स भी

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ नवम्बर 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
हाथों की सफाई, hand wash

हाथों की स्वच्छता क्यों है जरूरी, जानिए एक्सपर्ट की राय

के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ अक्टूबर 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
कोविड के बाद फेफड़ों का स्वास्थ्य -corona and lung world lungs day

क्या कोरोना होने के बाद आपके फेफड़ों की सेहत पहले जितनी बेहतर हो सकती है?

के द्वारा लिखा गया Ankita mishra
प्रकाशित हुआ सितम्बर 22, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
PPI medicines - पीपीआई से कोरोना

क्या पेंटोप्रोजोल, ओमेप्रोजोल, रैबेप्रोजोल आदि एंटासिड्स से बढ़ सकता है कोविड-19 होने का रिस्क?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ सितम्बर 11, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें