Povidone Iodine: पोविडोन आयोडीन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

Medically reviewed by | By

Update Date जून 23, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

जानिए मूल बातें

घर में  काम करते समय या खेलते कूदते समय त्वचा पर खरोंच लग जाना या हल्के फुल्की चोट लग जाना एक आम बात है। ऐसे में फर्स्ट एड ट्रीटमेंट के रूप में एंटीसेप्टिक क्रीम का इस्तेमाल करना चाहिए क्योंकि घाव को वैसे ही खुला छोड़ देने पर बैक्टीरियल इंफेक्शन का खतरा बढ़ जाता है और आगे चलकर घाव गंभीर हो जाता है।

इस आर्टिकल में हम आपको पोविडोन आयोडीन क्रीम के बारे में बताने जा रहे हैं जो कि एक एंटीसेप्टिक क्रीम है। बैक्टीरियल इंफेक्शन की प्रचलित दवा बीटाडीन में भी इसी फार्मूला का प्रयोग किया जाता है।

पोविडोन आयोडीन का उपयोग किसलिए किया जाता है?

पोविडोन आयोडीन क्रीम का इस्तेमाल बैक्टीरियल इंफेक्शन के इलाज और बचाव के लिए किया जाता है। छोटी मोटी खरोंच या घाव के अलावा इसका इस्तेमाल सर्जरी के पहले और बाद में त्वचा को संक्रमण मुक्त रखने में किया जाता है। सर्जरी के दौरान इस बात का विशेष ध्यान रखा जाता है कि मरीज को किसी भी तरह का बैक्टीरियल इंफेक्शन ना हो। 

मैं पोविडोन आयोडीन को कैसे इस्तेमाल करूं?

डॉक्टर की सलाह से ही पोविडोन आयोडीन (क्रीम या मलहम) का इस्तेमाल करें। दी गयी जानकारी को अच्छे से पढ़ें। 

  • जैसे डॉक्टर द्वारा बताया गया है उसी तरह से इसका उपयोग करने और अंदर लिखी जानकारी को भी पढ़ें। 
  • उपयोग के बाद और पहले हाथों को अच्छे से धोएं। 
  • पोविडोन आयोडीन (लगाने वाला उत्पाद) को खाने के रूप में न लें। त्वचा पर ही इसका इस्तेमाल करें। इसे मुंह और आंखों से दूर रखें (जलने की समस्या हो सकती है)।

मैं पोविडोन आयोडीन को कैसे स्टोर करूं?  

पोविडोन आयोडीन को अच्छा होगा अगर आप घर के तापमान में ही रखें और सीधी रोशनी व नमी से दूर रखें। दवा को खराब होने से बचाने के लिए, आपको पोविडोन आयोडीन को बाथरूम या फ्रीजर में नहीं रखना चाहिए। पोविडोन आयोडीन के अलग-अलग ब्रांड हो सकते हैंं जिनको स्टोर करने की जरूरतें अलग हो सकती हैं। इसलिए आवश्यक है कि आप उसे खरीदने से पहले उत्पाद पर लिखी संग्रह करने की जानकारियों को ध्यानपूर्वक पढ़ लें या फिर फार्मासिस्ट से इसकी जानकारी ले लें। सुरक्षा के लिए, आपको सभी दवाइयां बच्चों और जानवरों से अलग रखनी चाहिए।

आपको पोविडोन आयोडीन टॉयलेट या किसी सीवर में नहीं डालनी चाहिए तब तक जब तक डॉक्टर आपको सलाह न दे। आवश्यक है कि आप पूरी तरह से दवाई को खत्म कर दें अगर वो एक्सपायर हो गयी है या किसी काम के लायक नहीं रही है। इसे सुरक्षित व सही तरह से खत्म करने के लिए एक बार अपने फार्मासिस्ट से बात जरूर करें।

और पढ़ें : Metoprolol : मेटोप्रोलोल क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

सावधानियां एवं चेतावनी

पोविडोन आयोडीन का उपयोग करने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

  • अगर आप पोविडोन आयोडीन ऑइंटमेंट का उपयोग कर रहे हैं तो इस बारे में अपने डॉक्टर से बात करें। अगर लक्षण बिगड़ जाते हैं या आखरी 7 दिन तक रहते हैं तो डॉक्टर से इस बारे में बात करें।
  •  अगर आप इसे खाने के रूप में लेते हैं तो ये आपको नुकसान पहुंच सकता है। 
  • अगर आप पहले से ही किसी गंभीर त्वचा रोग जैसे कि सोरायसिस आदि से पीड़ित हैं तो इस दवा को लगाने से पहले अपने डॉक्टर से इस बारे में बात करें।

और पढ़ें : सीफोटेक्सीम क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

क्या प्रेग्नेंसी या ब्रेस्टफीडिंग से दौरान पोविडोन आयोडीन का इस्तेमाल सुरक्षित है?

  • अगर आप प्रेग्नेंट हैं या प्रेग्नेंट होने का प्लान कर रही हैं तो डॉक्टर से बात करें। प्रेग्नेंट होने के दौरान आपको इसके नुकसान और फायदों के बारे में पता होना चाहिए। 
  • अगर आप ब्रेस्टफीडिंग करवा रही हैं और त्वचा पर हुए किसी घाव के इलाज के लिए पोविडोन आयोडीन का इस्तेमाल करना चाहती हैं तो बेहतर होगा कि पहले इस बारे में डॉक्टर से राय लें।

और पढ़ें : नॉरफ्लोक्स टीजेड क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स, खुराक और सावधानियां

जानिए इसके साइड इफेक्ट

पोविडोन आयोडीन ऑइंटमेंट के साइड इफेक्ट : 

आमतौर पर पोविडोन आयोडीन ऑइंटमेंट के बहुत ही कम इसके साइड इफेक्ट्स देखने को मिलते हैं।  हालांकि, कुछ लोगों को इस दवा के उपयोग के दौरान कुछ खतरनाक साइड इफेक्ट्स देखने को मिल सकते हैं। अगर इसे लगाने पर आपको किसी भी तरह के लक्षण दिखाई देते हैं तो डॉक्टर या फार्मासिस्ट को जरूर दिखाएं। जैसे ;

  • अगर आपको एलर्जिक रिएक्शन से जुड़े किसी भी तरह के लक्षण दिखाई देते हैं तो आपात्कालीन चिकित्सीय जांच करवाएं : हीव्स, सांस लेने में दिक्कत, चेहरे, होंठ, जीभ, या गले में सूजन।
  • अगर इस दवा को लगाने के बाद घाव में खुजली बढ़ जाती है या घाव में तेज जलन होने लगती है और कुछ देर बाद भी जलन खत्म नहीं होती है तो नजदीकी डॉक्टर से संपर्क करें।

और पढ़ें : Pancreatin : पैंक्रियेटिन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

इन जरुरी बातों को जानें

क्या भोजन या एल्कोहॉल के साथ पोविडोन आयोडीन का इस्तेमाल किया जा सकता है?

पोविडोन आयोडीन दवा के उपयोग पर भोजन या शराब से क्या प्रभाव पड़ता है इसकी पूरी जानकारी उपलब्ध नहीं है। इसलिए बेहतर होगा कि आप नजदीकी डॉक्टर के पास जाकर इस बारे में बात करें। कोशिश करें कि घाव होने पर या चोट लगने के दौरान एल्कोहॉल का सेवन ना करें। 

पोविडोन आयोडीन के उपयोग से स्वास्थ्य पर किस तरह का प्रभाव पड़ सकता है?

पोविडोन आयोडीन आपकी स्वास्थ्य स्थिति पर गलत प्रभाव डाल सकती है। यह प्रभाव आपकी स्वास्थ्य स्थिति को बिगाड़ सकता है या फिर दवाई के कार्य करने के तरीके को कम कर सकता है। जरूरी है कि आप अपनी स्वास्थ्य स्थिति को डॉक्टर और फार्मासिस्ट को बताएं। अगर आप पहले से ही लिवर या किडनी से जुड़ी किसी तरह की गंभीर बीमारी से पीडित हैं या आपको कोई क्रोनिक रोग है तो इस दवा के उपयोग से पहले डॉक्टर से संपर्क करें।

और पढ़ें : एम्पीसिलिन और सलबैक्टम क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

डॉक्टर की सलाह

पोविडोन आयोडीन की खुराक :

इसका उपयोग डॉक्टर से बताए गए निर्देशों के अनुसार सीमित मात्रा में करना चाहिए। घाव पर पोविडोन आयोडीन की पतली लेयर ही लगाएं।

पोविडोन आयोडीन कैसे उपलब्ध है?

यह क्रीम या ऑइंटमेंट के रूप में उपलब्ध है।

इमरजेंसी या ओवरडोज होने की स्थिति में क्या करना चाहिए?

इमरजेंसी या ओवरडोज होने की स्थिति में अपने स्थानीय आपातकालीन सेवाओं को कॉल करें या अपने नजदीकी इमरजेंसी वॉर्ड में जाएं। इस बात का विशेष ध्यान रखें कि यह लगाने वाली क्रीम है इसलिए किसी भी अवस्था में इसे खाएं नहीं। बच्चों की पहुंच से इसे दूर रखें और गलती से भी इसे आंखों में जाने से बचाएं। 

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है, अधिक जानकारी के लिए आप डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Cifran CTH : सिफ्रान सीटीएच क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

सिफ्रान सीटीएच की जानकारी in hindi, सिफ्रान सीटीएच के साइड इफेक्ट क्या है, सिप्रोफ्लॉक्सासिन और टिनिडाजोल दवा किस काम में आती है, रिएक्शन, उपयोग, Cifran CTH.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shayali Rekha
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 15, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

साल ट्री के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Sal Tree

जानिए साल ट्री (Sal Tree) की जानकारी in hindi, फायदे, साल ट्री उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कितना लें, Sal Tree डोज, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां।

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Ankita Mishra
जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 1, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Antibiotic Resistance: एंटीबायोटिक रेजिस्टेंस क्या है?

एंटीबायोटिक रेजिस्टेंस उस स्थिति को कहते हैं जब कोई व्यक्ति एंटीबायोटिक के प्रति रेजिस्टेंट हो जाता है। यानी उसकी बॉडी पर एंटीबायोटिक्स का असर नहीं होता है। जानिए ये स्थिति कब बेहद खतरनाक हो जाती है।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Manjari Khare
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z मई 26, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Tick Bite: टिक बाइट क्या है?

जानिए टिक बाइट क्या है in hindi, टिक बाइट के कारण और लक्षण क्या है, tick bite को ठीक करने के लिए क्या उपचार है जानिए यहां।

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Kanchan Singh
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z अप्रैल 30, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

बीटाडीन क्रीम

Betadine Cream: बीटाडीन क्रीम क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh
Published on जून 26, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
बैंडी सिरप

Bandy Syrup: बैंडी सिरप क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh
Published on जून 25, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
बेटनोवेट जीएम

Betnovate GM: बेटनोवेट जीएम क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh
Published on जून 18, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
बेनोसाइड फोर्ट

Banocide Forte: बेनोसाइड फोर्ट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Satish Singh
Published on जून 17, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें