Cauliflower : फूल गोभी क्या है?

Medically reviewed by | By

Update Date मई 27, 2020
Share now

परिचय

फूल गोभी (Cauliflower) क्या है?

फूल गोभी पौष्टिक गुणों से भरपूर एक सब्जी है, वैसे तो भारत में सफेद फूल गोभी का अधिक इस्तेमाल किया जाता है लेकिन, इसमें भी आपको कई प्रकार देखने को मिलेंगे। यह ब्रेसिक्का परिवार की सदस्य है जिसमें, ब्रोकली और पत्तागोभी भी शामिल हैं। सबसे पहले इसकी खेती एशिया में की गई थी। ये सफेद, बैंगनी और ऑरेंज रंग में आती है। इनमें सबसे ज्यादा पौष्टिक ऑरेंज फूल गोभी को माना जाता है क्योंकि, सफेद की तुलना में ऑरेंज फूलगोभी में विटामिन ए की मात्रा अधिक पाई जाती है।

फूल गोभी में फाइबर, विटामिन-बी, विटामिन-सी, फोलेट, विटामिन-के का अच्छा स्त्रोत है। इसमें मैग्नीशियम, कैल्शियम, फास्फोरस, पोटेशियम और मैंग्नीज जैसे खनिज भी उपलब्ध होते हैं। प्रोटीन से भरपूर फूल गोभी में वसा कम मात्रा में होती है। सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) के अनुसार पावर हाउस फलों और सब्जियों की लिस्ट में फूल गोभी 24वें स्थान पर है।

फूल गोभी (Cauliflower) का उपयोग किस लिए किया जाता है?

कैंसर के उपचार में लाभकारी है :

फूल गोभी में एंटी-ऑक्सीडेंट्स और फाइटो न्यूट्रिएंट्स होते हैं जो कैंसर से कवच प्रदान करते हैं। कई अनुसंधान में पता चला है कि इसमें ग्लूकोसाइनोलेट्स शामिल होते हैं, जो कैंसर की कोशिकाओं के विकास में बाधा डालते हैं। इसका सेवन यूट्रस में कैंसर, फेफड़ों में कैंसर, ब्रेस्ट कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर आदि के जोखिम को कम करने में सहायता करता है। इसके अलावा, यह स्वस्थ्य ह्दय के लिए लाभदायक है।

स्वस्थ्य ह्दय के लिए फायदेमंद :

फूल गोभी के सेवन से ब्लड सर्क्यूलेशन में सुधार होता है। इसमें मौजूद ग्लूकोराफेनिन रक्त वाहिकाओं को बनाए रखने का काम करता है। इसलिए हार्ट के पेशेंट को इसका सेवन करना चाहिए लेकिन, ध्यान रखें इसके ज्यादा सेवन से एसिडिटी की परेशानी हो सकती है। 

हॉर्मोन को करे संतुलित :

फूल गोभी में पाए जाने वाले फाइटोएस्ट्रोजन हॉर्मोन को संतुलित रखने में मददगार हैं। इससे असंतुलित हॉर्मोन के कारण होने वाली बीमारियों से बचा जा सकता है। शरीर में अगर हॉर्मोन लेवल सही रहेगा तो कई बीमारियों और परेशानियों से बचा जा सकता है। 

डायबिटीज के पेशेंट्स के लिए भी है अच्छी :

डायबिटीज टाइप 2 के पेशेंट्स के लिए गैर स्टार्च वाली सब्जियां बेहतर होती हैं। फूल गोभी स्टार्च रहित होती है। अमेरिकन डायबिटीज एसोसिएशन के मुताबिक शुगर लेवल को नियंत्रित करने के लिए प्रतिदिन स्टार्च रहित सब्जियों का सेवन करना चाहिए। इसलिए अगर आप डायबिटीज के मरीज हैं तो आप इसका सेवन कर सकते हैं। इसके सेवन से शुगर लेवल बढ़ने का खतरा नहीं रहेगा। 

हड्डियों का विकास :

इसमें अच्छी मात्रा में विटामिन-सी पाया जाता है। ये शरीर में कोलेजन के उत्पादन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। ये सूजन को कम करने के साथ जोड़ों और हड्डियों में होने वाली समस्याओं के लिए भी प्रभावकारी है। इसलिए बच्चों, वयस्कों और बुजुर्गों सभी के लिए फायदेमंद है। 

अल्जाइमर :

कॉलीफ्लॉवर में सल्फोराफेन और इंडोल्स होता है जो न्यूरो संबंधित परेशानी के उपचार में मदद करता है। अल्जाइमर की बीमारी ज्यादातर बढ़ती उम्र में होती है। 

आंखों के लिए :

फूल गोभी विटामिन सी का एक अच्छा स्त्रोत है। वैज्ञानिक शोध के अनुसार, इसका सेवन मोतियाबिंद के जोखिम को भी कम करता है। 

प्रेग्नेंसी में सहायक :

फोलेट से भरपूर होने के कारण फूल गोभी को गर्भावस्था में खाना अच्छा होता है। शिशु के स्वस्थ तंत्रिता के विकास के लिए फोलेट महत्वपूर्ण माना जाता है।

वजन कम करने में लाभदायक :

कई अध्ययनों में भी इस तथ्य का समर्थन किया गया है कि फूल गोभी वजन कम करने के लिए वरदान समान है। इसमें मौजूद सल्फोराफेन एलडीएल के स्तर को कम करने में सहायता करता है।

कैसे काम करती है फूल गोभी (Cauliflower) ?

इसमें ऐसे रसायन होते हैं जो हमारे शरीर को भोजन या पर्यावरण से होने वाले कैंसर को पनपने नहीं देते हैं। इसमें अधिक मात्रा में एंटी-ऑक्सीडेंट्स होते हैं, जो बीमारियों से कोसों दूर रखने में मदद करते हैं।

यह भी पढ़ें : कैफीन क्या है?

उपयोग

कितना सुरक्षित है फूल गोभी (Cauliflower) का उपयोग ?

फूल गोभी का सीमित मात्रा में सेवन करना सेफ होता है। इसको अधिक मात्रा में लेना हानिकारक साबित हो सकता है। जो लोग खून को पतला करने की दवाइयों का सेवन कर रहे हैं, उन्हें अचानक से अधिक मात्रा में गोभी का सेवन करना शुरू नहीं कर देना चाहिए। इससे उनके शरीर में विटामिन-के बढ़ जाएगा और उन्हें फायदा पहुंचने की जगह नुकसान हो सकता है।

अगर आप डायट का ख्याल रखते हुए फाइबर युक्त खाने का सेवन कर रहे हैं तो अपनी ओवरऑल डायट का ख्याल रखें। इसमें फाइबर उच्च मात्रा में होता है जो पेट में सूजन और पेट फूलने की शिकायत पैदा कर सकते है।

इसमें कई ऐसे कार्बोहाइड्रेट होते हैं जो पाचन तंत्र में पूरी तरह टूट नहीं पाते हैं, जो कई बार स्वास्थय के लिए हानिकारक साबित होते हैं।

इसमें प्यूरीन होता है, जिस वजह से इसके अत्यधिक सेवन से यूरिक एसिड का निर्माण हो सकता है। यूरिक एसिड के बढ़ने से बाद में दूसरी बीमारियां घेर सकती हैं।

यह भी पढ़ें : पपीता क्या है?

साइड इफेक्ट्स

फूल गोभी (Cauliflower) से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

इसके सेवन से निम्नलिखित साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं। जैसे-

  • अगर इसका सेवन ज्यादा किया जाये तो गैस (एसिडिटी) की समस्या शुरू हो सकती है।  
  • इसके ज्यादा सेवन से यूरिक एसिड बढ़ने की संभावना ज्यादा होती है।
  • कुछ लोगों को इसके सेवन से एलर्जी भी हो सकती है।
  • इसके ज्यादा सेवन से पथरी (स्टोन) होने का खतरा हो सकता है।

जरूरी नहीं हर किसी में ये ही साइड इफेक्ट्स दिखाई दें। अगर आपको इससे अलग भी कोई साइड इफेक्ट दिखते हैं तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

यह भी पढ़ें : बलूत क्या है?

डोजेज

फूल गोभी (Cauliflower) को लेने की सही खुराक क्या है?

दरअसल इसका सेवन सब्जी के रूप में किया जाता है। इसलिए इसे अपने आहार में संतुलित मात्रा में लेने से फायदा मिल सकता है। हालांकि इसके खुराक को लेकर कोई सही जानकारी चाहते हैं तो अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से संपर्क करें।

उपलब्ध

किन रूपों में उपलब्ध है?

यह निम्नलिखित रूपों में उपलब्ध है। जैसे-

  • गोभी
  • एक्सट्रेक्ट कैप्सूल्स

अगर आप फूल गोभी और इसके फायदे से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

और पढ़ें :

इलायची क्या है?

विटामिन-ई की कमी को न करें नजरअंदाज, डायट में शामिल करें ये चीजें

Vitamin B12: विटामिन बी-12 क्या है?

गर्भधारण से पहले डायबिटीज होने पर क्या करें?

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

सनस्क्रीन लोशन क्यों है जरूरी?

जानिए सनस्क्रीन लोशन से जुड़ी जानकारी in hindi. सनस्क्रीन लोशन इस्तेमाल से पहले किन तीन बातों का रखें ख्याल?इसके फायदे क्या-क्या हैं?

Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
Written by Bhawana Awasthi

प्रेग्नेंसी में सूखा नारियल खाने के फायदे

जानिए प्रेग्नेंसी में सूखा नारियल खाने के फायदे, प्रेग्नेंसी में सूखा नारियल कब खाएं, गर्भावस्था में नारियल खाने के फायदे और नुकसान

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Ankita Mishra

Pompe Disease: जानें पोम्पे रोग क्या है?

जानें पोम्पे रोग क्या हैं in hindi, पोम्पे रोग के लक्षण क्या हैं और किन कारणों से होता है, pompe-disease ke lakshno के दिखने पर क्या करें उपचार?

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by shalu

कोरोना के डर से बच्चों को कैसे रखें स्ट्रेस फ्री?

जानिए क्या हैं कोरोना के डर से बच्चों को टेंशन फ्री करने के उपाय? किन-किन टिप्स को फॉलो करना है जरूरी? लॉकडाउन के दौरान बच्चे को कैसे रखें इंगेज?

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Nidhi Sinha