Stone Root: स्टोन रूट क्या है?

Medically reviewed by | By

Update Date जनवरी 8, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
Share now

परिचय

स्टोन रूट (Stone Root) क्या है?

स्टोन रूट एक औषधि है। इसकी खुशबू मजबूत और अप्रिय है, जो लोगों को भारी किस्म की लगती है। स्टोन रूट की जड़ों और जमीन से नीचे वाले तने का इस्तेमाल दवा बनाने में होता है। इसे रिचवीड भी कहा जाता है, जो मिंट प्रजाति से आता है। यह आमतौर पर उत्तरी अमेरिका जैसी जगहों पर पाया जाता है। मूल रूप से यह यूएस के पूर्वी भाग में पाई जाती है। यह कोलिंसोनिया कैनाडेंसिस (Collinsonia Canadensis) के सबसे आम हिस्से के रूप में इस्तेमाल की जाने वाला जंगली पौधा होता है।

यह भी पढ़ेंः हवाई यात्रा में कान दर्द क्यों होता है, जानें कैसे बचें?

स्टोन रूट (Stone Root) का इस्तेमाल किस लिए होता है?

इस पौधे से एक विशेष प्रकार की दुर्गंध आती रहती है। औषधि के तौर पर इस पौधे के तने और जड़ का इस्तेमाल किया जाता है। पथरी की समस्या, मूत्राशय में दर्द या सूजन, किडनी स्टोन और यूरिक एसिड जैसे मूत्र पथ की विभिन्न समस्याओं के उपचार में यह लाभकारी होता है। इसके अलावा कुछ लोग अपच सहित पेट और आंतों से जुड़ी विभिन्न समस्याओं के लिए भी इसकी जड़ का उपयोग करते हैं। साथ ही, यह सिर दर्द के उपचार के लिए भी इस्तेमास की जा सकती है।

खून की नसों को मजबूत बनाने के लिएः बवासीर के कारण नसों की केशिकाएं कमजोर हो सकती है। ऐसे में स्टोन रूट के इस्तेमाल से नसों को रिपेयर किया जा सकता है। यह टूटी हुई रक्त वाहिकाओं को जोड़ने का काम करता है, यही कारण है कि इसे कभी-कभी वैरिकास वेन्स के लिए एक उपाय के रूप में उपयोग किया जाता है। साथ ही, यह हृदय और हृदय प्रणाली की रक्त वाहिकाओं के कार्य भी सुचारू रूप से करने में मदद प्रदान करता है। हालांकि, किसी भी स्वास्थ्य स्थिति में इसका इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर से जरूर संपर्क करेंः

इस रूट का इस्तेमाल निम्नलिखित समस्याओं में होता है:

स्टोन रूट (Stone Root) कैसे कार्य करता है?

इस रूट के कार्य करने के संबंध में पर्याप्त जानकारी उपलब्ध नहीं है। इसकी अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर या हर्बलिस्ट से सलाह लें।

यह भी पढ़ेंः Iron Test : आयरन टेस्ट क्या है?

सावधानियां और चेतावनी

स्टोन रूट (Stone Root) का इस्तेमाल करने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

निम्नलिखित परिस्थितियों में इसका इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर या हर्बालिस्ट से सलाह लें:

  • यदि आप प्रेग्नेंट या ब्रेस्टफीडिंग करा रही हैं। दोनों ही स्थितियों में सिर्फ डॉक्टर की सलाह पर ही दवा खानी चाहिए।
  • यदि आप अन्य दवाइयां ले रही हैं। इसमें डॉक्टर की लिखी हुई और गैर लिखी हुई दवाइयां शामिल हैं, जो मार्केट में बिना डॉक्टर के प्रिस्क्रिप्शन के खरीद के लिए उपलब्ध हैं।
  • यदि आपको स्टोन रूट के किसी पदार्थ या अन्य दवा या औषधि से एलर्जी है।
  • यदि आपको कोई बीमारी, डिसऑर्डर या कोई अन्य मेडिकल कंडिशन है।
  • यदि आपको फूड, डाई, प्रिजर्वेटिव्स या जानवरों से अन्य प्रकार की एलर्जी है।

अन्य दवाइयों के मुकाबले औषधियों के संबंध में रेग्युलेटरी नियम अधिक सख्त नही हैं। इनकी सुरक्षा का आंकलन करने के लिए अतिरिक्त अध्ययनों की आवश्यकता है। स्टोन रूट का इस्तेमाल करने से पहले इसके खतरों की तुलना इसके फायदों से जरूर की जानी चाहिए। इसकी अधिक जानकारी के लिए अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से सलाह लें।

यह भी पढ़ें: पेट से लेकर हड्डियों तक के लिए बेहद फायदेमंद है हॉग प्लम (Hog Plum)

स्टोन रूट (Stone Root) कितना सुरक्षित है?

स्टोन रूट का सेवन करना सुरक्षित माना जाता है।

विशेष सावधानियां और चेतावनी

प्रेग्नेंसी और ब्रेस्टफीडिंग: प्रेग्नेंसी और ब्रेस्टफीडिंग में स्टोन रूट का सेवन करना सुरक्षित है या नहीं, इस संबंध में पर्याप्त जानकारी उपलब्ध नही है। सुरक्षा की दृष्टि से इसका सेवन करने से बचें।

साइड इफेक्ट्स

स्टोन रूट (Stone Root) से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

स्टोन रूट का अधिक मात्रा में सेवन करने से चक्कर आना, उबकाई, यूरिन पास करने में दर्द और पेट में जलन जैसे कुछ साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं। हालांकि, हर व्यक्ति को यह साइड इफेक्ट्स नहीं होते हैं। उपरोक्त दुष्प्रभाव के अलावा भी स्टोन रूट के कुछ साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं, जिन्हें ऊपर सूचीबद्ध नहीं किया गया है। यदि आप इसके साइड इफेक्ट्स को लेकर चिंतित हैं, तो अपने डॉक्टर या हर्बलिस्ट से सलाह लें।

रिएक्शन

यह भी पढ़ें: Fenugreek : मेथी क्या है?

स्टोन रूट (Stone Root) से मुझे क्या रिएक्शन हो सकते हैं?

स्टोन रूट आपकी मौजूदा दवाइयों के साथ रिएक्शन कर सकता है या दवा का कार्य करने का तरीका परिवर्तित हो सकता है। इसका इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर या हर्बालिस्ट से संपर्क करें।

निम्नलिखित प्रोडक्ट्स स्टोन रूट के साथ रिएक्शन कर सकते हैं:

लीथियम: स्टोन रूट का वॉटर पिल या ‘डाइयूरेटिक दवा‘ के जैसा प्रभाव पड़ सकता है। ऐसे में बॉडी की लीथियम से छुटकारा पाने की क्षमता कम हो सकती है। इससे बॉडी में लीथियम की मात्रा बढ़ सकती है, जिसके परिणाम स्वरूप गंभीर साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं। यदि आप लीथियम का सेवन कर रहे हैं, तो स्टोन रूट का इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह अवश्य लें। आपके लीथियम के डोज में बदलाव करने की आवश्यकता पड़ सकती है।

वॉटर पिल्स (डाइयूरेटिक दवाइयां): स्टोन रूट का डाइयूरेटिक दवाइयों की तरह प्रभाव पड़ता है। इससे बॉडी में पानी के साथ पोटैशियम को बाहर निकालने की प्रक्रिया तेज हो सकती है। ऐसे में ड्यूरेटिक दवाइयों के साथ स्टोन रूट का सेवन करने से बॉडी में पोटैशियम का स्तर और भी नीचे गिर सकता है।

निम्नलिखित कुछ डाइयूरेटिक दवाइयां हैं:

  • क्लोरोथिजाइड (ड्यूरिल) Chlorothiazide (Diuril)
  • क्लोरथालिडोन (थालिटोन) Chlorthalidone (Thalitone)
  • फ्यूरोसेमाइड (लेसिक्स) Furosemide (Lasix)
  • हाइड्रोक्लोरथिजाइड (एचसीटीजेड, हाइड्रोड्यूरिल, माइक्रोजाइड)
  • अन्य दवाइयां

डोसेज

यह भी पढ़ें: Maitake Mushroom: मेटेक मशरूम क्या है?

उपरोक्त जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं हो सकती। इसका इस्तेमाल करने से पहले हमेशा अपने डॉक्टर या हर्बालिस्ट से सलाह लें।

स्टोन रूट (Stone Root) का सामान्य डोज क्या है?

हर मरीज के मामले में स्टोन रूट का डोज अलग हो सकता है। जो डोज आप ले रहे हैं वो आपकी उम्र, हेल्थ और दूसरे अन्य कारकों पर निर्भर करता है। औषधियां हमेशा ही सुरक्षित नही होती हैं। स्टोन रूट के उपयुक्त डोज के लिए अपने हर्बालिस्ट या डॉक्टर से सलाह लें।

स्टोन रूट (Stone Root) किन रूपों में आता है?

स्टोन रूट निम्नलिखित रूपों में आता है:

  • कैप्सूल
  • पाउडर
  • एल्कोहॉल फ्री लिक्विड एक्सट्रैक्ट

हैलो हेल्थ किसी भी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान या इलाज मुहैया नहीं कराता।

और पढ़ें:-

कान का मैल निकालना चाहते हैं तो अपनाएं ये घरेलू उपाय

हैंगओवर के कारण होती हैं उल्टियां और सिर दर्द? जानिए इसके घरेलू उपाय

Thyroid Nodules : थायरॉइड नोड्यूल क्या है?

क्या है टीबी का स्किन टेस्ट (TB Skin Test)?

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    बॉडी में थें 8 ट्यूमर, फिर भी ब्लड कैंसर से नहीं मानी हार!

    ब्लड कैंसर से लड़कर एक स्वस्थ जीवन जीने वाले संजय गीता के संघर्ष की कहानी। बॉडी में कैंसर का पता चलना, उनके लिए किसी भयानक पल से कम नहीं था।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Sunil Kumar
    हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z फ़रवरी 28, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

    Esophageal varices: एसोफैगल वैरिस क्या है?

    जानिए एसोफैगल वैरिस क्या है in hindi. एसोफैगल वैरिस की समस्या क्यों होती है? Esophageal varices का इलाज कैसे किया जाता है?

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Nidhi Sinha
    हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z फ़रवरी 8, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

    Aceclofenac+Paracetamol+Rabeprazole : ऐसिक्लोफेनैक +पैरासिटामोल+रेबेप्राजोल क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

    जानिए ऐसिक्लोफेनैक +पैरासिटामोल+रेबेप्राजोल की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, सेररटीओपेप्टिड्स उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Aceclofenac+Paracetamol+Rabeprazole डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Anoop Singh
    दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल फ़रवरी 4, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

    Budd-Chiari syndrome : बड चैरी सिंड्रोम क्या है?

    जानिए बड चैरी सिंड्रोम क्या है in hindi, बड चैरी सिंड्रोम के कारण, जोखिम और उपचार क्या है, Budd Chiari syndrome को ठीक करने के लिए आप इस तरह के घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

    Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
    Written by Anoop Singh
    हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z फ़रवरी 2, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें