Turpentine Oil: टर्पिनटाइन ऑयल क्या है?

Medically reviewed by | By

Update Date जनवरी 22, 2020
Share now

परिचय

टर्पिनटाइन ऑयल (Turpentine Oil) क्या है?

टर्पिनटाइन ऑयल लंबे पत्तेवाले चीड़ के पेड़ों से प्राप्त होने वाले रेजिन से प्राप्त किया जाता है। चीड़ के पेड़ों के लंबे धड़ों को छीलने पर निकलने वाले स्त्राव को रेजिन कहते हैं। इस रेजिन में ही तारपीन होता है। तारपीन को अलग तरीकों से निकाला जाता है। पेड़ को छीलने से जो तेल निकलता है उसे गोंद तारपीन कहा जाता है। काठ के विलायक निष्कर्षण से जो तेल प्राप्त होता है उसे काठ तारपीन कहते हैं। इन अलग-अलग तरीकों से प्राप्त तेलों में कोई खास अंतर नहीं है और इनके इस्तेमाल भी एक से ही हैं। इसे तारपीन का तेल भी कहा जाता है।

टर्पिनटाइन ऑयल (Turpentine Oil) का उपयोग किस लिए किया जाता है?

औषधीय गुणों से भरपूर टर्पिनटाइन ऑयल कई बीमारियों के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जाता है। टर्पिनटाइन ऑयल का प्रयोग जोड़ों के दर्द, दांतों में दर्द, मांसपेशियों में दर्द और तंत्रिका के दर्द के लिए किया जाता है। इसका इस्तेमाल शरीर के विभिन्न अंगों के दर्द को दूर करने के लिए किया जाता है, इसलिए इसे दर्द निवारक तेल भी कहा जाता है। कुछ लोग फेफड़ों के रोगों के साथ-साथ छाती में जमाव को कम करने के लिए इस तेल को भाप की तरह भी लेते हैं।

कैसे काम करता है टर्पिनटाइन ऑयल (Turpentine Oil)?

तारपीन का तेल किस तरीके से काम करता है, इसके बारे में पर्याप्त अध्ययन नहीं है। हालांकि अगर इसे भाप के जरिए लिया जाए तो इससे सांस लेने में आसानी होती है। त्वचा पर इसका इस्तेमाल करने से स्किन पर लालिमा हो सकती है, लेकिन ये दर्द को दूर करने में मदद करता है। तारपीन का तेल इस्तेमाल करने से पहले इसकी अधिक जानकारी के लिए अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से संपर्क करें।

यह भी पढ़ें: गुलदाउदी क्या है?

उपयोग

कितना सुरक्षित है टर्पिनटाइन ऑयल (Turpentine Oil) का उपयोग ?

तारपीन के तेल को कोई एडल्ट अपनी स्किन पर या फिर ठीक तरीके से स्टीम के जरिए लेता है तो ये सुरक्षित है, लेकिन मुंह के जरिए इसे लाना या फिर स्किन के ज्यादा हिस्से पर इसका प्रयोग करना हानिकारक हो सकता है। इसे कभी भी बच्चों को मुंह के जरिए देने की गलती न करें। तारपीन के तेल में केमिकल होते हैं, जिसे पीने के बाद बच्चे की जान भी जा सकती है। हालांकि इस बारे में कोई जानकारी नहीं है कि बच्चों की त्वचा पर इसे इस्तेमाल करना सेफ है या नहीं, लेकिन बच्चों के लिए इसका प्रयोग करने से बचें।

निम्नलिखित परिस्थितियों में इसका इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर या हर्बलिस्ट से सलाह लें:

  • स्तनपान कराने वाली और गर्भवती महिलाओं को इसका इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। इसको पीने से मिसकैरेज हो सकता है। साथ ही स्टीम लेने और स्किन पर भी इसका प्रयोग न करें।
  • यदि आप अन्य दवाइयां ले रही हैं। इसमें डॉक्टर की लिखी हुई और गैर लिखी हुई दवाइयां शामिल हैं, जो मार्केट में बिना डॉक्टर के प्रिस्क्रिप्शन के खरीद के लिए उपलब्ध हैं।
  • यदि आपको टर्पिनटाइन ऑयल के किसी पदार्थ या अन्य दवा या औषधि से एलर्जी है।
  • यदि आपको फूड, डाई, प्रिजर्वेटिव्स या जानवरों से अन्य प्रकार की एलर्जी है।
  • अगर आप किसी और बीमारी से ग्रसित हैं तो भी इसका प्रयोग न करें।

ये लोग बनाकर रखें दूरी

  • फेफड़ों संबंधित परेशानियां जैसे अस्थमा और काली खांसी से ग्रसित लोगों को इसे नहीं लेना चाहिए। इसे लेने से परेशानी पहले से गंभीर हो सकती है।
  • बच्चों को इससे दूरी बनाकर रखें। बच्चों के लिए यह बिल्कुल सुरक्षित नहीं है।
  • प्रेग्नेंट और ब्रेस्टफीडिंग कराने वाली महिलाओं को भी इससे कोसों दूरी बनाकर रखनी चाहिए।

यह भी पढ़ें: कोकोआ क्या है?

साइड इफेक्ट्स

टर्पिनटाइन ऑयल (Turpentine Oil) से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

स्किन पर इस्तेमाल करने से आपको जलन हो सकती है। स्टीम के जरिए इसे लेने से खासकर अस्थमा और काली खांसी वाले मरीजों के वायुमार्ग में ऐंठन पैदा हो सकती है। अगर किसी को फेफड़ों की समस्या है तो वो इसको स्टीम में न लें। इससे उनकी हालत और भी खराब हो सकती है। ज्यादा मात्रा में तारपीन का तेल पीने से कई घातक दुष्‍परिणाम हो सकते हैं जैसे तेज सिरदर्द, नींद न आना, खांसी, फेफड़ों में रक्तस्राव, उल्टी, गुर्दे की क्षति, मस्तिष्क क्षति और कोमा।

हालांकि हर किसी को ये साइड इफेक्ट हो ऐसा जरुरी नहीं है, कुछ ऐसे भी साइड इफेक्ट हो सकते हैं, जो ऊपर बताए नहीं गए हैं। अगर आपको इनमें से कोई भी साइड इफेक्ट महसूस हो या आप इनके बारे में और जानना चाहते हैं तो नजदीकी डॉक्टर से संपर्क करें। यदि इसे लेने के बाद आपकी तबीयत ज्यादा खराब हो जाती है तो तुरंत अपने नजदीकी चिकित्सक केंद्र पर जाएं।

यह भी पढ़ें: चिया बीज क्या है?

डोसेज

टर्पिनटाइन ऑयल (Turpentine Oil) को लेने की सही खुराक क्या है ?

हर मरीज के लिए तारपीन के तेल की खुराक अलग होती है। ये मरीज की उम्र, स्वास्थ्य और कई अन्य स्थितियों पर निर्भर करती है। इसे कितनी मात्रा में लिया जाए इसे लेकर कोई पर्याप्त वैज्ञानिक जानकारी नहीं है। अपने दिमाग में ये बात हमेशा रखें कि हर्बल सप्लीमेंट हमेशा सुरक्षित नहीं होते हैं। इसलिए इसको लेने से पहले अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से एक बार जरूर परामर्श करें। कभी भी इसकी खुराक खुद से निर्धारित करने की गलती न करें। आपके द्वारा की गई छोटी सी लापरवाही हानिकारक साबित हो सकती है।

यह भी पढ़ें: कॉटन क्या है?

उपलब्ध

किन रूपों में उपलब्ध है टर्पिनटाइन ऑयल (Turpentine Oil)?

टर्पिनटाइन ऑयल निम्नलिखित रूपों में उपलब्ध है:

  • टर्पिनटाइन लिक्विड ऑयल (Turpentine Liquid Oil)

हैलो हेल्थ किसी भी प्रकार की मेडिकल सलाह, निदान या सारवार नहीं देता है न ही इसके लिए जिम्मेदार है।

हम आशा करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। हैलो हेल्थ के इस आर्टिकल में इस हर्बल से जुड़ी ज्यादातर जानकारियां देने की कोशिश की है, जो आपके काफी काम आ सकती हैं। अगर आपको ऊपर बताई गई कोई सी भी शारीरिक समस्या है तो इस हर्ब का इस्तेमाल आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। बस इस बात का ध्यान रखें कि हर हर्ब सुरक्षित नहीं होती। इसका इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर या हर्बलिस्ट से कंसल्ट करें तभी इसका इस्तेमाल करें। टर्पिनटाइन ऑयल से जुड़ी यदि आप अन्य जानकारी चाहते हैं तो आप हमसे कमेंट कर पूछ सकते हैं।

और पढ़ें:

Cranberries : क्रैनबेरी क्या है?

Capsicum: शिमला मिर्च क्या है?

Aloe Vera : एलोवेरा क्या है?

Black Pepper : काली मिर्च क्या है? जानिए इसके फायदे और साइड इफेक्ट

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    Iceland moss: आइसलैंड मॉस क्या है?

    आइसलैंड मॉस क्या है? इसका इस्तेमाल किस लिए किया जाता है? किन लोगों को इसके इस्तेमाल से परहेज करना चाहिए? जानिए इससे होने वाले साइड इफेक्ट्स के बारे में...

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Mona Narang

    Wild Thyme: वाइल्ड थाइम क्या है?

    वाइल्ड थाइम (Wild Thyme) क्या है? वाइल्ड थाइम का उपयोग किन परेशानियों के लिए किया जाता है? वाइल्ड थाइम से क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Mona Narang

    Tormentil: टॉरमेंटिल क्या है?

    जानिए टॉरमेंटिल की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, टॉरमेंटिल उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Tormentil डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Mona Narang

    Khella: खेला क्या है?

    जानिए खेला की जानकारी, खेला के फायदे, लाभ, खेला के उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Khella डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Mona Narang