जल्दी प्रेग्नेंट होने के टिप्स: आज से ही शुरू कर दें इन्हें अपनाना

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट नवम्बर 24, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

क्या आप जल्दी प्रेग्नेंट होने के टिप्स जानना चाहती हैं तो पहले यह जान लें कि प्रेग्नेंट होना एक जटिल प्रक्रिया है। जो कई चरणों मे होती है। इसके लिए सबसे पहले पुरुष के स्पर्म और महिला के एग के संपर्क में आते हैं। शुक्राणु जिसे स्पर्म कहते हैं कुछ सूक्ष्म कोशिकाएं हैं जो टेस्टिकल्स में बनती हैं। यह सेक्स के बाद इजैक्युलेशन के दौरान पुरुष के प्रजनन अंग से बाहर आते हैं। इजैक्युलेशन से करोड़ों स्पर्म महिला की वजायना में प्रवेश करते हैं, लेकिन प्रेग्नेंट होने के लिए एक ही स्पर्म का एग के संपर्क में आना जरूरी होता है। इस आर्टिकल में हम आपको जल्दी प्रेग्नेंट होने के टिप्स बता रहे हैं। इनमें सेक्स पुजिशन से लेकर ऑव्युलेशन को भी समझाया जा रहा है।

प्रेग्नेंट होने में सेक्स के बाद लगते हैं 2-3 सप्ताह

प्रेग्नेंट होने के लिए शुक्राणु को एक अंडे के साथ मिलने की आवश्यकता होती है। गर्भावस्था की प्रक्रिया तब शुरू होती है जब एक निषेचित अंडा गर्भाशय के अस्तर में प्रवेश करता है। गर्भधारण के लिए सेक्स करने के बाद 2-3 सप्ताह तक का समय लगता है।

इंटरकोर्स कर चुके हैं? ध्यान रखें ये बात

आपने सुना होगा कि इंटरकोर्स के बाद तुरंत बाथरूम जाने से प्रेग्नेंसी की संभावना कम हो जाती है। इंटरकोर्स के बाद कुछ देर यानी 10 से 15 मिनट तक बेड पर लेटे रहे। इस बात का कोई प्रमाण नहीं है, लेकिन आप इसे अपना सकते हैं।  अगर आप सेक्स के बाद 10 से 15 मिनट तक इंतजार करती हैं तो स्पर्म के सर्विक्स तक पहुंचने की संभावना बढ़ सकती है।

और पढ़ें: प्रेग्नेंट होने के लिए सेक्स के अलावा इन बातों का भी रखें ध्यान

जल्दी प्रेग्नेंट होने के टिप्स में सबसे पहला टिप्स ऑव्युलेशन को समझें (Easy tips to get pregnant)

जल्दी प्रेग्नेंट होने के टिप्स में सबसे पहला टिप्स ऑव्युलेशन की प्रक्रिया को समझना है। क्योंकि इससे गर्भधारण की संभावनाएं बढ़ जाती हैं। ऑव्युलेशन के पांच दिन पहले और बाद में नियमित रूप से सेक्स करना गर्भधारण करने की बाधाओं में भी सुधार कर सकता है।

क्या होता है ऑव्युलेशन (What is ovulation?)

ऑव्युलेशन वह प्रक्रिया है जिसमें अंडाशय से एक परिपक्व अंडा निकलता है। उसके बाद पांच-छह दिन महत्वपूर्ण होते हैं क्योंकि अंडा निकलने के बाद लगभग 12 से 24 घंटे तक निषेचित होने में सक्षम होता है। इसके अलावा शुक्राणु सही परिस्थितियों में संभोग के पांच दिन बाद तक महिलाओं के गर्भाशय में रह सकते हैं। गर्भवती होने की आपकी संभावना सबसे अधिक तब होती है जब ऑव्युलेशन के दौरान जीवित शुक्राणु फैलोपियन ट्यूब में मौजूद होते हैं।

औसत 28 दिन के मेंस्ट्रुअल साईकल में आमतौर पर अगले पीरियड की शुरुआत से 14 दिन पहले ऑव्युलेशन होता है, लेकिन ज्यादातर महिलाओं में मासिक धर्म मध्य बिंदु के पहले या बाद के चार दिनों में ऑव्युलेशन होता है। यदि आपका मासिक धर्म 28 दिनों का नहीं है, तो आप मेंस्ट्रुअल साईकल को कैलेंडर रखकर अपने चक्र की लंबाई और मध्य बिंदु निर्धारित कर सकती हैं।

powered by Typeform

और पढ़ें: फैलोपियन ट्यूब ब्लॉक होने के कारण, लक्षण और उपाय

जल्दी प्रेग्नेंट होने के टिप्स- सेक्स के लिए सही समय का चुनाव जरूरी

महिला और पुरुषों को लगता है कि ऑव्युलेशन के समय में रोजाना सेक्स करना प्रेग्नेंसी के अवसर बढ़ा देता है। ऐसा बिलकुल नहीं है क्योंकि सेक्स के बाद स्पर्म करीब 5 दिनों तक फर्टिलाइजेशन के लिए एक्टिव रहते हैं। कपल्स को ऑव्युलेशन के 4-5 दिन पहले और दूसरे दिन सेक्स करने की सलाह दी जाती है। इस बात को भी मन से निकाल दें कि ज्यादा सेक्स करने से स्पर्म की गुणवत्ता में कमी आती है। अगर आपको इससे संबंधित कुछ भी सवाल पूछने हो तो बेहतर होगा कि एक बार डॉक्टर से संपर्क करें।

आप बेहतर फर्टिलाइज होने के लिए सेक्स करने के सही समय के बारे में जान लें। अगर आप ऑव्युलेशन यानी जिस दिन महिला के अंडाशय से अंडा रिलीज होता है इसके आसपास यौन संबंध बनाते हैं, तो महिला के गर्भवती होने की संभावना अधिक होती है। गर्भवती होने के लिए अंडे को इस दौरान एक शुक्राणु द्वारा निषेचित किया जाना चाहिए। शुक्राणु एक महिला के शरीर के अंदर लगभग 5 दिन तक रह सकता है, इसलिए यदि आपने ऑव्युलेशन से पहले कुछ दिनों में सेक्स किया है, तो शुक्राणु अंडे के रिलीज होने के लिए इंतजार कर सकता है। इसे ‘फर्टाइल विंडो’ कहा जाता है। जल्दी प्रेग्नेंट होने के टिप्स में यह टिप महत्वपूर्ण है इसका ध्यान रखा जाना चाहिए। 

गर्भावस्था के शुरुआती लक्षण क्या हैं? (Early Signs of Pregnancy)

बहुत सी महिलाएं गर्भावस्था के पहले इन लक्षणों को नोटिस करती हैं। जानते हैं इनके बारे में

  • पीरियड्स का मिस होना
  • सूजे हुए ब्रेस्ट या स्तन में स्टिमुलेशन
  • मतली या उल्टी
  • थकान महसूस करना
  • चेहरे पर सूजन
  • कब्ज
  • सामान्य से अधिक बार यूरिन पास होना।

और पढ़ें: पीरियड्स में देर होने के बहुत से हैं कारण, जानें

जल्दी प्रेग्नेंट होने के टिप्स में सेक्स-पुजिशन बहुत मैटर करती हैं। जानते हैं उन सेक्स पुजिशन के बारे में जो गर्भधारण में मदद करती हैं।

आप जल्दी प्रेग्नेंट होने के टिप्स में इन सेक्स पुजिशन को अपना सकती हैं।

जल्दी प्रेग्नेंट होने के टिप्स- मिशनरी पुजिशन को अपनाएं 

इसमें महिला नीचे रहती है और पुरुष ऊपर। इसलिए मिशनरी पूजिशन को ‘मैन ऑन टॉप’ पुजिशन कहा जाता है। यह प्रेग्नेंसी चाहने वाले कपल्स के लिए बेस्ट है। क्योंकि इस पुजिशन में पेनिट्रेशन योनि के अंदर तक होता है। जिससे स्पर्म स्खलन के दौरान सर्विक्स एरिया के पास रिलीज होते हैं।

जल्दी प्रेग्नेंट होने के टिप्स- सेक्स करते वक्त हिप्स को ऊंचा रखें

यदि आप संबंध बनाते समय कमर के नीचे तकिया रखती हैं, तो यह अच्छा माना जाता है क्योंकि इससे हिप्स को ऊपर करने में आसानी होती है जो गर्भधारण में मदद करता है। जब हिप्स ऊंचा हो तो महिलाओं के सर्विक्स एरिया में स्पर्म आसानी से पहुंच जाते हैं। जल्दी प्रेग्नेंट होने के टिप्स में यह टिप्स आपके काम आ सकती है। 

और पढ़ें: डिलिवरी के बाद क्यों होती है कब्ज की समस्या? जानिए इसका इलाज

जल्दी प्रेग्नेंट होने के टिप्स- गर्भधारण में डॉगी पुजिशन कर सकती है मदद (Doggy Style Position)

जल्दी प्रेग्नेंट होने के टिप्स जानना चाहते हैं तो यह टिप्स भी बहुत काम आ सकती है। इस पुजिशन में पुरुष महिला के साथ पीछे से इंटरकोर्स करता है। यानी इस दौरान रियर साइड पेनिट्रेशन होता है। इसलिए इसे रियर एंट्री पुजिशन कहते हैं। इस पुजिशन में भी स्पर्म, सर्विक्स क्षेत्र के पास ही रिसीव होता है। इससे गर्भधारण की चांसेस बढ़ जाते हैं।

जल्दी प्रेग्नेंट होने के टिप्स- साइड बाइ साइड पुजिशन भी कर सकती हैं ट्राई

इस पुजिशन में महिला और पुरुष एक-दूसरे के साइड में लेटकर शारीरिक संबंध बनाते हैं। साइड इंटरकोर्स भी महिलाओं को प्रेग्नेंसी में मदद करता है। क्योंकि स्पर्म सही तरीके से गर्भाशय में जा पाता है। जल्दी प्रेग्नेंट होने के टिप्स में सेक्स पुजिशन महत्वपूर्ण हैं।  

और पढ़ें: ऑव्युलेशन के दौरान दर्द क्यों होता है? इसके उपचार क्या हैं?

जल्दी प्रेग्नेंट होने के टिप्स- ऑर्गैज्म तक पहुंचना है जरूरी

अगर आप यह सोचती हैं कि जल्दी प्रेग्नेंट होने के टिप्स में सेक्स पुजिशन को जानना है काफी है तो गांठ बांध लें कि प्रेग्नेंट होना है तो इंटरकोर्स के दौरान ऑर्गैजम होना बेहद जरूरी है। स्टडीज की मानें तो ऑर्गेज्म के दौरान महिलाओं के वजायना और यूट्रस में कुछ ऐसे कॉन्ट्रैक्शन होते हैं जिससे स्पर्म सर्विक्स एरिया की तरफ पुश होते हैं।

गर्भधारण के लिए खास टिप्स

हेल्दी डायट है जरूरी

सेक्स के बाद प्रेग्नेंट हो जाएंगी, ये हर बार जरूरी नहीं होता है। कुछ फैक्टर हैं, जिनके कारण सेक्स के बाद प्रेग्नेंसी की संभावना बढ़ जाती है। हेल्दी और बैलेंस फूड  डायट में शामिल करना आपके लिए जरूरी है। फ्रूट्स, वेजीटेबल्स, प्रोटीन, बींस, नट्स, वोल ग्रेन, लीन मीट और डेयरी प्रोडक्ट्स को अपने खाने में शामिल करें। आपको रोजाना 1000 एमजी कैल्शियम लेना चाहिए। साथ ही जिंक, विटामिन बी6, विटामिन सी और विटामिन ई फर्टिलिटी बढ़ाने का काम करते हैं।

अपने पार्टनर को भी दें राय

अगर आप कंसीव करना चाहती हैं तो आपको पार्टनर से भी खानपान को लेकर डिस्कस करना होगा। पार्टनर को कहें कि वो खाने में जिंक, विटामिन सी, विटामिन ई और ओमेगा 3s को शामिल करें। ये स्पर्म का प्रोडक्शन को बढ़ाने का काम करता है।

powered by Typeform

हर महीने रहते हैं प्रेग्नेंसी के 25% चांस

पौष्टिक आहार, रोजाना व्यायाम, हेल्दी बीएमआई और सही समय पर सेक्स आपके हर महीने गर्भवती होने के चांसेस बढ़ा देता है। किसी भी महिला के हर महीने प्रेग्नेंट होने के 25 प्रतिशत चांजेस होते हैं। अगर आपको 12 महीने के बाद भी प्रेग्नेंट होने में दिक्कत हो रही है तो आपको अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। किसी समस्या की वजह से भी महिलाएं कंसीव नहीं कर पाती हैं। समस्या पुरुष या महिला किसी में भी हो सकती है।

स्मोकिंग और शराब का सेवन सभी के लिए भी हानिकारक होता है। अगर आप कंसीव करने का सोच रहे हैं तो आपको इन सब से दूरी बना लेनी चाहिए। स्मोकिंग शरीर में ईस्ट्रोजन लेवल और ऑव्युलेशन को बिगाड़ देती है। खानपान में अनहेल्दी चीजें आपके स्वास्थ्य के साथ ही फर्टिलिटी को भी नुकसान पहुंचाने का काम करती है।

करीब 85 प्रतिशत कपल्स बिना किसी समस्या के एक साल के भीतर कंसीव कर लेते हैं। अगर आप एक साल में कंसीव नहीं कर पाई हैं तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें। डॉक्टर जांच के बाद आपको उचित राय देंगे।

और पढे़ें : गर्भावस्था के आठवें महीने में की जा सकती हैं ये एक्सरसाइज

जल्दी गर्भधारण करने के लिए सेक्स हेतु सही समय की जानकारी रखें और यहां बताई गई सेक्स पुजिशन को ट्राई करें। हम उम्मीद करते हैं कि जल्दी प्रेग्नेंट होने के टिप्स पर आधारित आर्टिकल आपको पसंद आया होगा। जल्दी प्रेग्नेंट होने के लिए ऑव्युलेशन को समझना, प्रेग्नेंट होने की प्रॉसेस और सेक्स पुजिशन को समझना जरूरी है। अगर आप जल्दी प्रेग्नेंट होने के टिप्स के बारे में अधिक जानकारी चाहते हैं तो डॉक्टर से संपर्क करें। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी प्रकार की चिकित्सा सलाह, उपचार और निदान प्रदान नहीं करता। 

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

क्या प्रेग्नेंसी के दौरान STD के टेस्ट और इलाज कराना सही है?

प्रेग्नेंसी के दौरान STD के टेस्ट in hindi, प्रेग्नेंसी में किए जाने वाले एसटीडी के टेस्ट, क्या प्रेग्नेंसी के दौरान STD के टेस्ट और इलाज कराना सही है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया sudhir Ginnore
डिलिवरी केयर, प्रेग्नेंसी जनवरी 25, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

प्रेग्नेंसी में ट्रैवल करते वक्त इन बातों को न करें इग्नोर

प्रेग्नेंसी में ट्रैवल करते वक्त किन बातों का ध्यान रखना चाहिए in hindi. प्रेग्नेंसी में ट्रैवल करते समय जरूरी सेफ्टी टिप्स जरूर फॉलो करें। travelling tips during pregnancy

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nikhil Kumar
प्रेग्नेंसी स्टेजेस, प्रेग्नेंसी जनवरी 21, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

लेबर पेन कम करने के उपाय जानना चाहती हैं तो पढ़ें ये आर्टिकल

लेबर पेन कम करने के उपाय in hindi. कई बार महिलाओं को लेबर के दौरान असहनीय दर्द होता है। जिसके कारण वे बुरी तरह पेरशान हो जाती हैं। यहां हम लेबर पेन कम करने के उपाय बता रहे हैं जो फायदेमंद साबित होंगे।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Nikhil Kumar
डिलिवरी केयर, प्रेग्नेंसी जनवरी 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

प्रेग्नेंसी के दौरान अनिद्रा (इंसोम्निया) से राहत दिला सकते हैं ये उपाय

प्रेग्नेंसी के दौरान इंसोम्निया in hindi. प्रेग्नेंसी के दौरान इंसोम्निया होने पर कुछ घरेलू उपाय अपनाकर राहत प्राप्त की जा सकती हैं। जानते हैं उन उपायों के बारे में साथ ही प्रेग्नेंसी के दौरान इंसोम्निया के लक्षण भी। insomnia during pregnancy

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nikhil Kumar

Recommended for you

फ्लूइड बॉन्डिंग

सेक्स के वक्त आप भी करते हैं फ्लूइड बॉन्डिंग? तो जान लें ये बातें

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ मई 2, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
गर्भावस्था में मलेरिया-malaria in pregnancy

गर्भावस्था में मलेरिया होने पर कैसे रखें अपना ध्यान? जानें इसके लक्षण

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mona narang
प्रकाशित हुआ अप्रैल 21, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
एथिनिल एस्ट्राडियोल- Ethinyl Estradiol

Ethinyl Estradiol: एथिनिल एस्ट्राडियोल क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anoop Singh
प्रकाशित हुआ फ़रवरी 18, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
गर्भधारण से पहले हेल्दी- healthy before conceiving

गर्भधारण से पहले हेल्दी रहने के लिए क्या करें?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ फ़रवरी 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें