home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Lisinopril: लिसिनोप्रिल क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

इस्तेमाल|सावधानियां और चेतावनी|साइड इफेक्ट्स|रिएक्शन|डोसेज
Lisinopril: लिसिनोप्रिल क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

इस्तेमाल

लिसिनोप्रिल का इस्तेमाल किसके लिए किया जाता है? (Uses of Lisinopril)

लिसिनोप्रिल का इस्तेमाल हाई ब्लड प्रेशर के इलाज के लिए किया जाता है। ये स्ट्रोक, हार्ट अटैक, किडनी रोग आदि से बचाता है। इसके अलावा ये दवा हार्ट फेल और उसके बाद रिकवर के लिए भी उपयोग की जाती है।

लिसिनोप्रिल एसीई इनहिबिटर के नाम से जाने वाली दवाओं के एक वर्ग के अंतर्गत आती है। ये ब्लड वैसल्स को रिलेक्स करने का काम करती है जिससे रक्त अधिक आसानी से बह सकता है।

कार्डियोवैस्कुलर डिजीज के बारे में जानने के लिए देखिए ये 3डी मॉडल

लिसिनोप्रिल का इस्तेमाल कैसे करना चाहिए? (How to take Lisinopril)

  • इस दवा को ठीक उस तरह लें जैसे आपके डॉक्टर ने इसे आपके लिए निर्धारित किया है। आमतौर पर इसे दिन में एक बार लिया जाता है।
  • अगर आप इस दवा का सस्पेंशन इस्तेमाल कर रहे हैं तो दवा को लेने से पहले एक बार बोटल को शेक जरूर करें। दवा को ध्यानपूर्वक माप कर लें। इसे चम्मच से न लेकर मापने वाले उपकरण से लें।
  • दवा की डोज आपकी मेडिकल कंडिशन और ट्रीटमेंट पर निर्भर करती है। बच्चों में इसकी डोज उनके वजन के अनुसार निर्धारित की जाती है।
  • दवा से होने वाले साइड इफेक्ट्स से बचने के लिए आपका डॉक्टर कम डोज के साथ शुरुआत कर सकता है और धीर-धीरे डोज को बढ़ा सकता है। डॉक्टर द्वारा दिए गए निर्देशों को ध्यानपूर्वक फॉलो करें।
  • दवा के अच्छे परिणामों के लिए दवा को नियमित रूप से लें। रोजाना एक ही समय पर इसका सेवन करें। यदि दवा को लेने के बाद आप ठीक महसूस नहीं कर रहे हैं तो हो रही परेशानी को डॉक्टर संग साझा करें।

और पढ़ें: Flurbiprofen: फ्लरबीप्रोफेन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

मुझे लिसिनोप्रिल को कैसे स्टोर करना चाहिए? (How to store Lisinopril)

लिसिनोप्रिल को स्टोर करने का सबसे बेहतर तरीका है कि इसे कमरे के तापमान में रखें। इसे सीधे धूप और नमी से दूर रखें। दवा को फ्रीजर या बाथरूम में स्टोर न करें। बाजार में ये दवा अलग-अलग ब्रांड में मौजूद हो सकती है और सभी के स्टोर करने के नियम अलग हो सकते हैं। इसके लिए सबसे पहले दवा के लेबल पर लिखे जरूरी निर्देशों को पढ़ें। अगर किसी बात को लेकर कोई कंफ्यूजन है तो डॉक्टर या फार्मिस्ट से कंसल्ट करें।

सुरक्षा के लिए दवा को बच्चों और जानवरों की पहुंच से दूर रखो। दवा का इस्तेमाल न करने पर या उसके एक्सपायर होने पर, डॉक्टर के निर्देश के बिना इसे न तो टॉयलेट में फ्लश करें और न ही नाली में फेंके। सुरक्षित रूप से दवा को नष्ट करने के बारे में अपने फार्मासिस्ट से परामर्श करें।

और पढ़ेंः Lamotrigine : लमोट्रिगिन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

सावधानियां और चेतावनी

लिसिनोप्रिल (Lisinopril) का इस्तेमाल करने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

लिसिनोप्रिल को लेने से पहने निम्न बाते अपने डॉक्टर को जरूर बताएं:

  • यदि आपको लिसिनोप्रिल या अन्य किसी दवा से एलर्जी है तो इस बात की जानकारी अपने डॉक्टर को दें।
  • इस दवा का इस्तेमाल करने से पहले अपनी मेडिकल हिस्टरी के बारे में डॉक्टर को बताएं।
  • इस दवा को लेने के बाद आपको चक्कर आ सकते हैं। इसलिए दवा को लेने के बाद ड्राइविंग या किसी तरह की कोई मशीन न चलाएं।
  • दवा को लेने के बाद अगर आपको बहुत ज्यादा पसीना, डायरिया या उल्टी जैसा महसूस हो तो तुरंत डाक्टर से कंसल्ट करें। याद रखें दवा के साथ दिनभर अच्छे से पानी पीएं।
  • ये दवा शरीर में पोटैशियम लेवल को बढ़ा सकती है। अगर आप पोटैशियम सप्लीमेंट्स ले रहे हैं तो डॉक्टर को इस बात की जानकारी दें।
  • अगर आप प्रेग्नेंट है या प्रेग्नेंट होने का प्लान कर रही हैं या ब्रेस्टफीडिंग कराती हैं तो अपने डॉक्टर को जरूर बताएं।
  • अगर आपको दवा से अलग भी किसी चीज से एलर्जी है तो इसकी जानकारी भी अपने डॉक्टर को जरूर दें।
  • यदि आप किसी स्वास्थ्य स्थिति का उपचार ले रहे हैं।
  • अगर आप किसी तरह के हर्बल्स, काउंटर से मिलने वाली दवाएं या अन्य दवाओं का इस्तेमाल कर रहे हैं।
  • इस दवा को डॉक्टर की सलाह के बिना न लें और न ही अचानक बंद करें। इसकी डोज में वृद्धि या कमी डॉक्टर की सलाह के बाद ही करें।
यह भी पढ़ेंः Lactic Acid : लैक्टिक एसिड क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

क्या प्रेग्नेंसी या ब्रेस्टफीडिंग के दौरान लिसिनोप्रिल (Lisinopril) को लेना सुरक्षित है?

लिसिनोप्रिल

प्रेग्नेंसी या ब्रेस्टफीडिंग के दौरान महिलाओं में के इस्तेमाल को लेकर अभी पर्याप्त जानकारी नहीं है। लिसिनोप्निल लेने से पहले इसके फायदों और नुकसान के बारे में जानने के लिए डॉक्टर से जरूर सलाह लें। युएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एफडीए) के अनुसार लिसिनोप्रिल प्रेग्नेंसी रिस्क कैटेगरी ‘D’ के अंतर्गत आती है।

एफडीए प्रेगनेंसी रिस्क कैटेगरी का संदर्भ नीचे दिया गया है,

  • A= कोई नुकसान नहीं
  • B= कुछ शोध में कोई नुकसान नहीं
  • C= थोड़ा नुकसान हो सकता है
  • D= नुकसान का पॉजिटिव प्रमाण
  • X= निषेध
  • N= कुछ पता नहीं
और पढ़ेंः Ibugesic Plus : इबूगेसिक प्लस क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

साइड इफेक्ट्स

लिसिनोप्रिल के क्या साइड इफेक्ट क्या हो सकते हैं? (Side effects of Lisinopril)

  • दवा को लेने के बाद आपको चक्कर आना, आलस, थकान या सिर दर्द की शिकायत हो सकती है क्योंकि दवा शरीर में समायोजित होती है। अगर इनमें से कोई भी प्रभाव लंबे समय तक रहता है या पहले से ज्यादा हो जाता है तो तुरंत डॉक्टर या फार्मिस्ट से कंसल्ट करें। आलस और चक्कर के रिस्क को कम करने के लिए सोते समय आराम से लेटें और उठते समय भी धीरे से खड़े होएं।
  • याद रखें आपका डॉक्टर इस दवा को प्रिस्क्राइब करता है क्योंकि वह जानता है कि इस दवा के नुकसान की तुलना में फायदे ज्यादा हैं। बहुत सारे लोग जो इस दवा का इस्तेमाल करते हैं, उनमें कोई साइड इफेक्ट्स नहीं होते हैं।
  • अपने डॉक्टर को तुरंत बताएं अगर आपको ये सारे गंभीर साइड इफेक्ट्स महसूस हों जैसे बेहोश होना, मसल्स का कमजोर होना, अनियमित दिल की धड़कन आदि।
  • हालांकि लिसिनोप्रिल का इस्तेमाल किडनी रोगों के लिए भी किया जाता है लेकिन बहुत कम बार ऐसा भी देखा गया है कि परेशानी पहले से भी ज्यादा बढ़ जाती है। अगर आप लिसिनोप्रिल ले रहे हैं और आपको यूरीन के रंग या मात्रा में किसी तरह का कोई बदलाव नजर आए तो तुरंत डॉक्टर से कंसल्ट करें।
  • लिसिनोप्रिल को लेने से लिवर संबंधित परेशानी हो सकती है। अगर आपको लिवर डैमेज के कोई लक्षण जैसे उल्टी, जी मिचलाना, भूख न लगना, पेट में दर्द, स्किन और आंखों का काला पड़ना, डार्क यूरिन की परेशानी हो तो आपको तुरंत मेडिकल अटेंशन की जरूरत है।

हालांकि सभी लोगों को ये सारे साइड इफेक्ट्स महसूस नहीं होते हैं। यहां पर कुछ साइड इफेक्ट्स नहीं बताए गए हैं। अगर आपको इन साइड इफेक्ट्स को लेकर किसी तरह की चिंता है तो इस बारे में डॉक्टर या फार्मासिस्ट से संपर्क करें।

और पढ़ेंः Hifenac P : हिफेनेक पी क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

रिएक्शन

कौन सी दवाएं लिसिनोप्रिल (Lisinopril) के साथ इस्तेमाल नहीं करनी चाहिए?

आपकी मौजूदा ली जा रही दवाओं के साथ रिएक्शन कर सकती है। इससे गंभीर दुष्परिणाम होने की संभावना बढ़ सकती है। इसके साइड इफेक्ट्स से बचने के लिए आपको उन सभी दवाइयों की लिस्ट बनानी हैं, जिनका सेवन आप कर रहे हैं। इनमें डॉक्टर की लिखी हुई, गैर लिखी हुई और मार्केट में खरीद के लिए बिना डॉक्टर की सलाह के उपलब्ध हर्बल प्रोडक्ट को भी शामिल करिए। इस लिस्ट को अपने डॉक्टर और फार्मासिस्ट के साथ साझा कीजिए। डॉक्टर की सलाह के बिना किसी भी दवा को शुरू, बंद और डोज में परिवर्तन न करें। अगर आप ठीक महसूस भी कर रहे हैं जब तक डॉक्टर इसकी सलाह न दे खुराक में किसी तरह का कोई बदलाव न करें।

निम्नलिखित दवाओं में से किसी के साथ इस दवा का उपयोग करने से आपको कुछ साइड इफेक्ट्स का खतरा हो सकता है:

  • एलिसकेरेन (Aliskiren)
  • वो दवाइयां जो इम्यून सिस्टम को कमजोर करती हैं जैसे ऐवरोलीमस, सीरोलीमस (everolimus, sirolimus)
  • लिथियम
  • वो दवाएं जो ब्लड में पोटैशियम का लेवल बढ़ाती हैं जैसे लोसार्टन, वलसार्टन (losartan/valsartan)
  • बर्थ कंट्रोल पिल्स जिसमें ड्रॉसपीरेनोन हो
  • सैकुबिट्रील (Sacubitril)
  • वॉटर पिल्स
  • अर्थराइटिस के लिए लगाए जाने वाले गोल्ड इंजेक्शन
  • एस्प्रिन (aspirin)
  • आईब्रुफेन (ibuprofen)
  • नेप्रोक्सन (naproxen)
  • सेलेकोक्सिब (celecoxib)
  • डिक्लोफेनेक (diclofenac)
  • मेलोक्सिकम (meloxicam)

क्या भोजन या एल्कोहॉल के साथ लिसिनोप्रिल (Lisinopril) का इस्तेमाल किया जा सकता है?

किसी खास डायट और एल्कोहॉल के साथ लिसिनोप्रिल का सेवन दवा के कार्य करने के तरीके में बदलाव या गंभीर साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं। इसका इस्तेमाल करने से पहले डायट और एल्कोहॉल से जुड़ी जानकारी और उसके रिएक्शन के बारे में अपने डॉक्टर से सलाह लें।

लिसिनोप्रिल (Lisinopril) खाने से स्वास्थ्य पर किस तरह का प्रभाव पड़ सकता है?

लिसिनोप्रिल आपके स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकती है। शरीर में इसके गंभीर रिएक्शन हो सकते हैं या दवा के कार्य करने के तरीके में बदलाव आ सकता है। इस स्थिति में यह बेहद ही जरूरी है कि आप अपनी मौजूदा मेडिकल कंडिशन की जानकारी डॉक्टर को दें। विशेषकर निम्नलिखित परिस्थितियों में यह और भी जरूरी हो जाता है:

और पढ़ें: Dolo 650MG Tablet : डोलो 650 एमजी टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

डोसेज

ऊपर बताई गई जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं हो सकती है। इसका इस्तेमाल करने से पहले हमेशा अपने डॉक्टर से सलाह लें।

व्यस्कों के लिए लिसिनोप्रिल (Doses of Lisinopril) की डोज क्या है?

हाइपरटेंशन (Hypertension):

शुरुआती डोज: 10 मिलीग्राम दिन में एक बार

मेंटेनेंस डोज: 20 से 40 मिलीग्राम दिन में एख बार

अधिकतम डोज: 80 मिलीग्राम दिन में एक बार

कंजेस्टिव हार्ट फेलियर (Congetive Heart Failure):

शुरुआती डोज: 2.5 to 5 mg मुंह से, दिन में एक बार

अधिकतम डोज: 40 मिलीग्राम दिन में एक बार

मायोकार्डियल इन्फ्रक्शन (Myocardial Infarction):

शुरुआती डोज: 5 मिलीग्राम

मेंटेनेंस डोज: 10 मिलीग्राम दिन में एक बार। ये डोज 6 हफ्ते तक लेनी होगी।

डायबिटिक न्यूरोपैथी (Diabetic Nephropathy):

शुरुआती डोज: 10 से 20 मिलीग्राम दिन में एक बार

मेंटेनेंस डोज: 20 से 40 मिलीग्राम दिन में एक बार

और पढ़ें: Chlorpheniramine Maleate: क्लोरफेनीरामाइन मेलिएट क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

बच्चों के लिए लिसिनोप्रिल (Lisinopril) की डोज क्या है?

हाइपरटेंशन (Hypertension):

शुरुआती डोज: 0.07 मिलीग्राम/किलोग्राम दिन में एक बार

मेंटेनेंस डोज: ब्लड प्रेशर के अनुसार डोज निर्धारित की जाएगी

अधिकतम डोज: 0.61 मिलीग्राम/किलोग्राम (अधिकतम 40 मिलीग्राम) दिन में एक बार

लिसिनोप्रिल (Lisinopril) किस रूप में आती है?

लिसिनोप्रिल निम्नलिखित रूपों में उपलब्ध है

  • ओरल टैबलेट
  • ओरल सॉल्यूशन

आपात स्थिति या ओवरडोज होने पर मुझे क्या करना चाहिए?

आपात स्थिति या ओवरडोज होने पर अपनी स्थानीय आपातकीलन सेवा या नजदीकी अस्पताल से संपर्क करें।

लिसिनोप्रिल (Lisinopril) का डोज मिस हो जाए तो क्या करूं?

यदि आपसे लिसिनोप्रिल (Lisinopril) की खुराक भूल जाएं, तो जल्द से जल्द इसे लें। हालांकि, अगली खुराक का समय नजदीक होने पर भूले हुई खुराक न लें। पहले से तय नियमित डोज को लें। एक बार में डबल डोज न लें।

उम्मीद करते हैं कि आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा और लिसिनोप्रिल (Lisinopril) से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Mona narang द्वारा लिखित
अपडेटेड 26/12/2019
x