Rheumatoid arthritis : रयूमेटाइड अर्थराइटिस क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

Medically reviewed by | By

Update Date मई 27, 2020
Share now

परिभाषा

रयूमेटाइड अर्थराइटिस (Rheumatoid arthritis) क्या है?

रयूमेटाइड अर्थराइटिस एक पुरानी सूजन की बीमारी है जो सिर्फ आपके जोड़ों से ज्यादा इफेक्ट करती है।कुछ लोगों में शरीर की कुछ प्रणालियों को ज्यादा नुकसान पहुचा सकती है। जैसी स्किन, आंखें, फेफड़े, हृदय और ब्लड वेसेल शामिल हैं।

एक ऑटोइम्‍यून डिसऑर्डर रयूमेटाइड अर्थराइटिस तब होता है जब आपकी इम्यून सिस्टम गलती से शरीर की पेशियों पर हमला करती है पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस आपके जोड़ों के अस्तर को इफ़ेक्ट करता है,जिससे एक दर्दनाक सूजन होती है।

यह भी पढ़ें: Nephrotic syndrome: नेफ्रोटिक सिंड्रोम क्या है?

रयूमेटाइड अर्थराइटिस से जुड़ी सूजन शरीर के और हिस्सों को भी नुकसान पहुंचा सकती है।जबकि नई तरह की मेडिसिंस के उपचार के ऑप्शन में ड्रामैक्ली रूप से सुधार किया है और रयूमेटाइड अर्थराइटिस शारीरिक विकलांगता का कारण बन सकता है।

रयूमेटाइड अर्थराइटिस कितना कॉमन है?

रयूमेटाइड अर्थराइटिस किसी भी उम्र में मरीजों को इफेक्ट कर सकता है। और आपके जोखिम फ़ेक्टर को कम कर के कंट्रोक किया जा सकता है। ज्यादा जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से बात करें।

यह भी पढ़ें : Osteoarthritis :ऑस्टियो आर्थराइटिस क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

रयूमेटाइड अर्थराइटिस के लक्षण क्या हैं?

रयूमेटाइड अर्थराइटिस के सामान्य लक्षण हैं जैसे:

टेंडर,गर्म,सूजे हुए जोड़ों

  • अकड़ जो आमतौर पर सुबह और इनेक्टिविटी के बाद खराब होती है।

शुरुआत में रयूमेटाइड अर्थराइटिस पहले आपके छोटे जोड़ों में इफेक्ट करता है -खास तौर पर जोड़ों को जो आपकी उंगलियों को आपके हाथों और आपके पैर की उंगलियों को जोड़ते हैं।जैसे-जैसे बीमारी बढ़ती है, लक्षण अक्सर कलाई, घुटने,एड़ियों,कोहनी,हिप्स और कंधों तक फैल जाते हैं।ज्यादातर मामलों में लक्षण आपके शरीर के दोनों तरफ समान जोड़ों में होते हैं।

लगभग 40 प्रतिशत लोग जिनको रयूमेटाइड अर्थराइटिस है, वे उन लक्षणों का अनुभव करते हैं जो जोड़ों को जोड़ते नहीं हैं। रयूमेटाइड अर्थराइटिस कई नॉनजोइन्ट जोड़े को इफ़ेक्ट करते हैं उनमे से कुछ हम आपको नीचे बता रहे हैं:

यह भी पढ़ें : Sickle Cell Anemia : सिकल सेल एनीमिया क्या है? जाने इसके कारण ,लक्षण और उपाय

  • सेलिवरी ग्लेड्स
  • नर्व टिसू
  • बॉन मेरौ
  • ब्लड वैसील्स

रयूमेटाइड अर्थराइटिस साइन और लक्षण गंभीर होते हैं बढ़ती बीमारी के दौरान जिसे फ्लेयर्स कहा जाता है।और पीरियड के साथ जब सूजन और दर्द मिट जाता है या गायब हो जाता है। तब समय के साथ, रयूमेटाइड अर्थराइटिस के कारण जोड़ों में मरोड़ आ सकती है और वह जगह से हट जाती है।

ऊपर दिए गए उनमे से कुछ लक्षण हो सकते हैं। अगर आप किसी लक्षण से परेशान है, तो आप अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

मुझे अपने डॉक्टर से कब मिलना चाहिए?

आपको अपने जोड़ों में लगातार दर्द और सूजन है, तो आपको अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

ये भी पढ़े Ground-Ivy: ग्राउंड आइवी क्या है?

जानिए रयूमेटाइड अर्थराइटिस किन कारणों से होता है:

रयूमेटाइड अर्थराइटिस के कारण क्या है?

रयूमेटाइड अर्थराइटिस तब होता है जब आपकी इम्यून सिस्टम सीनोवियम पर अटेक करती है-जोड़ो से घिरी हुई खाल जिसे मेंब्रेनेस भी कहा जाता है।

जिनके कारण सूजन को बड़ा करती है जोड़े के अंदर की हड्डियों को डिस्ट्रॉइड कर सकती है। टेंडर और लिगमन्ट जो एक साथ जोड़ो को कमजोर करते हैं और स्ट्रेच करते हैं।धीरे-धीरे सारे जोड़ें सेप और लिगमन्ट को खो देते हैं।

डॉक्टर को यह पता नही है कि यह प्रोसेस क्या शरू करती है हालांकि एक कॉम्पोनेंट अपीयर की संभावना होती है।जब कि आपके जिन रयूमेटाइड अर्थराइटिस का कारण नही बनते।वे आपको इन्वाइरन्मन्ट फ़ेक्टर के प्रति ज्यादा ससिप्टबल बना सकते हैं।कुछ वायरस और बैक्टीरिया से इंफेक्शन इस बीमारी को ट्रिगर करते हैं।

यह भी पढ़ें : Tonsillitis: टॉन्सिलाइटिस क्या है ? जाने इसके कारण लक्षण और उपाय

रयूमेटाइड अर्थराइटिस के लिए क्या जोखिम है?

रयूमेटाइड अर्थराइटिस के लिए कुछ जोखिम फ़ेक्टर हो सकते हैं जिनमे से हम आपको नीचे बता रहे हैं:

  • आपका सेक्स:रयूमेटाइड अर्थराइटिस पुरुषों की तुलना में महिलाओं में ज्यादा संभावना है
  • आपकी उम्र रयूमेटाइड अर्थराइटिस किसी भी उम्र में हो सकता है लेकिन यह आमतौर पर 40 और 60 की उम्र के बीच होता है।
  • फैमिली हिस्ट्री अगर फैमिली के किसी भी व्यक्ति को रयूमेटाइड अर्थराइटिस है तो आपको उस बीमारी का खतरा बढ़ सकता है।
  • स्मोकिंग सिगरेट के धुएं से रयूमेटाइड अर्थराइटिस का खतरा बढ़ जाता है खासतौर पर जब आपको जेनेटिक प्रीडिस्पज़िशन डेवेलोप है स्मोकिंग ज्यादा गंभीरता से जुड़ा हुआ सेरिवीटी होता है।
  • इन्वाइरन्मन्ट इक्स्पोज़र एस्बेस्टोस या सिलिका जैसे कुछ एक्सपोज़र रयूमेटाइड अर्थराइटिस के विकास के लिए जोखिम बढ़ा सकते हैं।वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के इमरजेंसी वर्कर जो मिट्टी वाली जगह पर काम करते हैं उनको रयूमेटाइड अर्थराइटिस खतरा ज्यादा रहता है।
  • ज्यादा वजन या रयूमेटाइड अर्थराइटिस के विकास के जोखिम को बढ़ाता है,खासकर तौर पर तब पता चलता है जब महिलाओं में 55

साल से कम होते हैं।

यह भी पढ़ें : Zika Virus : जीका वायरस क्या है? जाने इसके कारण ,लक्षण और उपाय

रयूमेटाइड अर्थराइटिस का निदान कैसे किया जाता है?

दी गई जानकारी किसी मेडिकल एडवाइज का विकल्प नही है ज्याफ जानकारी के लिए अपने डॉक्टर का संपर्क करे।

रयूमेटाइड अर्थराइटिस का शरूआत में निदान करना मुश्किल हो सकता है क्योंकि इसके शुरुआत में संकेत और लक्षण कई अन्य बीमारियों की मिमिक करते हैं निदान की कन्फ़र्म करने के लिए कोई एक ब्लड टेस्ट या फिजिकल नहीं है।

  • फिजिकल एक्जामिनेशन: फिजिकल एक्जामिनेशन के दौरान आपका डॉक्टर सूजन,रेडनेस और गर्मी के लिए आपके जोड़ों को चेक करेगा। और मांसपेशियों को भी चेक कर सकते हैं।
  • ब्लड टेस्ट:रयूमेटाइड अर्थराइटिस वाले लोगो को अक्सर हाई एरिथ्रोसाइट सेड़ीमेन्टेनेश रेट (ESR और सेड रेट)या सी-रिएक्टिव प्रोटीन (सीआरपी) होता है।जो शरीर में एक सूजन की उपस्थिति का संकेत दे सकता है।और कोमन ब्लड टेस्ट रुमेटी फ़ेक्टर और एंटी-साइक्लिक साइट्रूलेटेड पेप्टाइड (एंटी-सीसीपी) एंटीबॉडी के लिए देखते हैं।
  • इमेजिंग टेस्ट:आपका डॉक्टर समय के साथ आपके जोड़ो मेंरयूमेटाइड अर्थराइटिस प्रोग्रेस को ट्रैक करने के लिए एक्स-रे रेकोमेडेट करेंगे।एमआरआई और अल्ट्रासाउंड टेस्ट आपके डॉक्टर को आपके शरीर में रोग की गंभीरता का जज करने में मदद कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: Spermatocele : स्पर्माटोसील क्या है?

मेंरयूमेटाइड अर्थराइटिस का इलाज कैसे किया जाता है?

इसका कोई इलाज नहीं है।लेकिन सिसर्ज से पता चलता है कि लक्षण की असर तब ज्यादा होती है जब उपचार की शुरुआत रोग-प्रतिरोधक दवाओं (डीएमएआरडी) को मजबूत करने वाली मजबूत दवाओं से होती है। आपको डॉक्टर द्वारा रेकोमेडेट दवाओं के प्रकार आपके लक्षणों की गंभीरता पर निर्भर करते हैं।

  • नोन्सटेरॉइडल एंटी-इन्फ़्लेमटॉरी दवाओं (NSAIDs) दर्द से राहत और सूजन को कम कर सकते हैं। ओवर-द-काउंटर NSAIDsनमें इबुप्रोफेन (एडविल, मोट्रिन आईबी) और नेप्रोक्सन सोडियम (एलेक्सी) शामिल हैं। मजबूत NSAIDs प्रेस्क्रिप्शन द्वारा उपलब्ध हैं।
  • कॉर्टिकोस्टेरॉइड दवाएं,जैसे कि प्रेडनिसोन, सूजन और दर्द को कम करती हैं और जोड़ो के दर्द धीमा करती हैं।और हड्डियों का पतला होना, वजन बढ़ना और डायबिटीज शामिल हो सकते हैं। डॉक्टर धीरे-धीरे दवा को बंद करने के ज्यादा लक्षणों को राहत देने के लिए एक कॉर्टिकोस्टेरॉइड लिखते हैं।
  • डिज़ीज़-मोदिफ्लाईंग एन्टीहेमेटिक (DMARDs) ये दवाएं रयूमेटाइड अर्थराइटिस की प्रोग्रेस को धीमा कर सकती हैं और जोड़ों और पेशियों के नुकसान से बचा सकती हैं। आम DMARDs में मेथोट्रेक्सेट (ट्रेक्साल, ओट्रेक्सुप, रसुवो), लेफ्लुनामोइड (अरावा), हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन (प्लाक्वेनिल) और सल्फासलीन (एज़ल्फ़िडिन) शामिल हैं।
  • बायोलॉजिकल एजेंट। इसे बायोलॉजिक रिस्पांस मॉडिफायर के रूप में भी जाना जाता है। ये दवाएं इम्यून सिस्टम के कुछ हिस्सों के सूजन को ट्रिगर करती हैं जब नॉनबायलोजिकल DMARD जैसे मेथोट्रेक्सेट के साथ जुड़ता है,तो यह DMARD आमतौर पर सबसे प्रभावी होते हैं।

आपका डॉक्टर आपको एक स्पेसिकल या एक्यूपेशनल

थेरेपिस्ट के पास भेज सकता है,जो आपके जोड़ों को लचीला रखने में मदद करने के लिए आपको व्यायाम सिखा सकता है। थेरेपिस्ट डैली कार्यों को करने के लिए नए तरीके सुझा सकता है,जो आपके जोड़ों के लिए फायदेमंद होंगे।

अगर आप दवाएं को रोकने या कम करने में फैल होती हैं,तो आप और आपके डॉक्टर उस जोड़ों को इलाज के लिए सर्जरी पर विचार कर सकते हैं। यह दर्द को कम कर सकता है। मेंरयूमेटाइड अर्थराइटिस सर्जरी में नीचे दिए गए कुछ प्रोसेड्यूस हो सकती है।

  • सर्जरी सूजन (जोड़ों की लाइनिंग) को हटाने के लिए। सिनोवेटोमी को घुटनों, कोहनी, कलाई, उंगलियों और हिप्स पर किया जा सकता है।
  • टेंडन रपैर। सूजन औरआपके जोड़ के आस-पास टेंडेंस ढीला या टूटना हो सकता है। आपका सर्जन आपके जोड़ के आसपास के टेंडनों को रपैर करने में योग्य हो सकता है।
  • जॉइंट फ्यूज़ जब एक जॉइंट प्रेकोमेडेट विकल्प नहीं होता है,फ्यूज़ करना एक जोड़ को स्थिर करने या दर्द से राहत देने के लिए रिप्लेसमेंट किया जा सकता है।
  • टोटल जॉइंट रिप्लेसमेंट.जॉइंट रिप्लेसमेंट सर्जरी के दौरान आपका सर्जन आपके जोड़ के डैमेज हिस्सों को हटा देता है और धातु और प्लास्टिक से बना एक अंग जॉइंट करता है।

यह भी पढ़ें : Liver Disease : लिवर की बीमारी क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

लाइफस्टाइल में बदलाव और घरेलू उपचार:

लाइफस्टाइल में बदलाव या घरेलू उपचार क्या हैं जो मुझे मेंरयूमेटाइड अर्थराइटिस से निपटने में मदद कर सकते हैं?

नीचे दिए गए लाइफस्टाइल और घरेलू उपचार आपको मेंरयूमेटाइड अर्थराइटिस से निपटने में मदद कर सकते हैं

  • मछली का तेल। कुछ प्रायमरी अभ्यास में पाया गया है कि मछली के तेल की मेंरयूमेटाइड अर्थराइटिस के दर्द और कठोरता को कम कर सकती है। साइड इफेक्ट्स में उल्टी का अहसास, पेट दर्द और मुंह में एक गंदा स्वाद शामिल हो सकता है।मछली का तेल दवाओं के साथ काम कर सकते है, इसलिए पहले अपने डॉक्टर से चैक करें।
  • पौधों का तेल। ईवनिंग प्रिमरोज़, बोरेज और ब्लैक करंट के बीजों में एक प्रकार का फैटी एसिड होता है जो मेंरयूमेटाइड अर्थराइटिस दर्द में मदद कर सकता है।साइड इफेक्ट्स में उल्टी का अहसास, डायरिया, गेस शामिल हो सकते हैं कुछ पौधों के तेल लवर के नुकसान का कारण बन सकते हैं या दवाओं के साथ काम कर सकते हैं, इसलिए पहले अपने डॉक्टर से चेक करें।
  • ताई ची इस मूवमेंट थेरेपी में कोमल व्यायाम शामिल हैं और गहरी साँस के साथ जुड़ा हुआ है। बहुत से लोग अपने जीवन में तनाव दूर करने के लिए ताई ची का उपयोग करते हैं। छोटे स्टडी में पाया गया है कि ताई चीमेंरयूमेटाइड अर्थराइटिस के दर्द को कम कर सकती है।

अगर आपके आपके मन मे कोई प्रश्न हैं, तो अपने बेहतर समाधान को समझने के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

और पढ़ें : 

Myasthenia gravis : मियासथीनिया ग्रेविस क्या है? जाने इसके कारण ,लक्षण और उपाय

हवाई यात्रा में कान दर्द क्यों होता है, जानें कैसे बचें?

सोरियाटिक गठिया की परेशानी होने पर अपनाएं ये उपाय

बच्चों और बुजुर्गों को दिवाली पर वायु प्रदूषण से ऐसें बचाएं

मां की ज्यादा उम्र भी हो सकती है मिसकैरिज (गर्भपात) का एक कारण

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

30 प्लस वीमेन डायट प्लान में होने चाहिए ये फूड्स, एनर्जी रहेगी हमेशा फुल

30 के बाद की महिलाओं में कदम दर कदम लाईफस्टाईल और हेल्थ सिचुएशन में भारी बदलाव होता रहता है। 30 प्लस वीमेन डायट प्लान कैसा हो? 30 प्लस वुमन का हेल्दी डाइट चार्ट,

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Smrit Singh

Antineutrophil Cytoplasmic Antibodies Test-एंटी-न्यूट्रोफिल साइटोप्लाज्मिक एंटीबॉडी (एएनसीए) टेस्ट क्या है?

जानिए एंटी-न्यूट्रोफिल साइटोप्लाज्मिक एंटीबॉडी टेस्ट की मूल बातें, टेस्ट से पहले जानने योग्य बातें, एएनसीए टेस्ट क्या होता है, रिजल्ट को समझें।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shivam Rohatgi

Ecosprin Tablet: इकोस्प्रिन (एस्प्रिन) टैबलेट क्या है?

इकोस्प्रिन (एस्प्रिन) टैबलेट क्या है in hindi, इकोस्प्रिन (एस्प्रिन) टैबलेट के उपयोग और साइड इफेक्ट क्या है। Ecosprin Tablet काे सेवन में बरतें सावधानियां।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Kanchan Singh

लो बीपी कंट्रोल के उपाय अपनाकर देखें, मिलेगी राहत

लो बीपी कंट्रोल करने के उपाय अपनाकर लो बीपी की समस्या से बचा जा सकता है। लो बीपी की समस्या के कारण शरीर को गंभीर नुकसान भी हो सकते हैं।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Bhawana Awasthi