home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Episode-3: डायबिटीज को दूर नहीं, पर कंट्रोल किया जा सकता है!

Episode-3: डायबिटीज को दूर नहीं, पर कंट्रोल किया जा सकता है!

डायबिटीज के नाम से अक्सर लोगों के मन में यही ख्वाल आता है कि अगर ये बीमारी एक बार हो गई, तो फिर जिंदगी भर के लिए इंसान को बीमार कर देती है। इसी स्ट्रेस के चलते कई डायबिटीज पेशेंट डिप्रेशन में भी चले जाते हैं। लेकिन कुछ ऐसे शुगर पेशेंट्स भी हैं, जिन्होंने अपनी लाइफ का उदाहरण देते हुए, इस धारणा को गलत साबित किया। हां, ये बात भी सही है कि डायबिटीज की बीमारी एक बार होने के बाद जिंदगी भर के लिए रह जाती है। लेकिन इसे कंट्रोल में रखा जा सकता है, जिससे डायबिटीज के कारण होने वाली अन्य बीमारियों से भी बचा जा सकता है।

अगर हम लाइफस्टाइल डिजीज की बात करें, तो डायबिटीज उनमें से एक है। इसके काफी केसेज बढ़ते जा रहे हैं। तो आइए, इस ‘वर्ल्ड डायबिटीज डे’ पर हमारे साथ जुड़िए हमारी सीरीज ‘स्वाद से मीठा गया है, जिंदगी से नहीं’ से। हमारे इस तीसरे एपिसोड में हैं, लखनऊ की रहने वाली कांती गुप्ता। इन्होंने हमें बताया कि डायबिटीज की शिकार हो जाने के बाद इनकी लाइफ में क्या-क्या बदलाव आए और किस तरह से वे अपनी इस बीमारी से लड़ते हुए लाइफ को मैनेज करती है। इसी के साथ अपनी जिंदगी में चीनी की कमी को कैसे पूरा करती हैं। आइए जानें, इनकी कहानी-

Q-1. चलिए, नाम से शुरू करते हैं!

जी बिल्कुल, मेरा नाम कांती गुप्ता है और मैं एक हाउस वाइफ हूं।

Q-2. आपकी उम्र क्या है?

मेरी उम्र 60 साल है

Q-3. आपको डायबिटीज की समस्या कब से है?

पिछले 10 सालों से डायबिटिक पेशेंट हूं और मीठे से दूर भी। अब तो मुझे आदत सी भी हो गई है।

Q-4. आपको किस प्रकार की डायबिटीज है और क्या वो कंट्रोल में रहती है?

मुझे डायबिटीज टाइप-़2 है। इसी के साथ मुझे हाय कोलेस्ट्रॉल की समस्या भी है। हां, ज्यादातर समय मेरी डायबिटीज कंट्रोल में रहती है और इसके लिए मैं स्ट्रिक्ट डायट फॉलो करती हूं। अब मुझे इस लाइफ की आदत भी हो गई है।

और भी पढें: शुगर फ्री नहीं! अपनाएं टेंशन फ्री आहार; आयुर्वेद देगा इसका सही जवाब

Q-5. पहले दिन जब आपको पता चला कि आपका लाइफस्टाइल अब पहले जैसा नहीं रहा, तो आपके मन में सबसे पहले क्या ख्याल आया था?

जब किसी को भी पता चलेगा कि उसे डायबिटीज जैसी बीमारी हो गई है और अब उसकी लाइफ पहले जैसी नहीं रही, तो ये बात किसी के लिए भी शॉकिंग हो सकती है। मेरे साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ था। लेकिन समय के साथ मैं भी इस लाइफस्टाइल में सेट हो गई हूं और अपने डायट और एक्सरसाइज पर पूरा फोकस करती हूं।

Q-6.अच्छा.. जरा हमें ये बताएं कि डायबिटीज जैसी बीमारी के साथ रहने के बाद भी आप अपनी लाइफ को कैसे एंजॉय करती हैं?

वैसे तो डायबिटिक होने के साथ जीवन थोड़ा सा मुश्किल हो जाता है, लकिन अब कर भी क्या सकती हूं। मैं ने इसे अपने लाइफ का हिस्सा मान लिया है और अब मुझे इतनी दिक्कत भी नहीं होती है। मैं घूमने की शौकिन हूं और अच्छे से घूमती भी हूं। लेकिन ट्रैवलिंग के दौरान मुझे कई बातों को ध्यान रखना पड़ता है, जैसे कि ज्यादा देर तक खाली पेट नहीं रह सकती या अपनी नींद से समझौता नहीं कर सकती हूं। क्योंकि अगर मेरी नींद पूरी नहीं होती है, तो भी शुगर का लेवल बढ़ने लगता है।

और भी पढें: टाइप-1 डायबिटीज क्या है? जानें क्या है जेनेटिक्स का टाइप-1 डायबिटीज से रिश्ता

Q-7. हमारे साथ अपना लाइफस्टाइल शेड्यूल और डायट प्लान शेयर करें।

वैसे तो मेरा लाइफस्टाइल बहुत नॉर्मल है, मीठे से दूरी बनाए रखने की पूरी कोशिश करती हूं और इसी के साथ स्ट्रिक्ट डायट भी फॉलो करती हूं। सुबह उठकर मैं मॉर्निंग वॉक करती हूं। मेरी डायट स्ट्रिक्ट है, तो मैं सुबह के नाश्ते में कोई एक फल और मूंग दाल का चीला, उत्त्पम या पोहा आदि खाती हूं। इसके बाद 11 बजे तक एक ग्लास छाछ पीती हूं। दिन के खाने में 2 रोटी, 1 कटोरी दाल, 1 कटोरी सब्जी और 1 कोटाेरी चावल खाती हूं। शाम को बिना गुड़ वाली चाय लेती हूं और रात के डिनर में 2 रोटी और हरी सब्जी खाती हूं।

Q-8.क्या आपके पास कोई ऐसी ट्रिक है, जिससे आप खाने को हेल्दी वे में ट्विस्ट कर के अपने खाने में मिठास को घोल सकती हैं?

जैसा कि मैं ने बताया, मैं बहुत स्ट्रिक्ट डायट फॉलो करती हूं। मेरा शुगर लेवल नॉर्मल रहता है, इसलिए जब कभी बहुत ज्यादा मन हुआ कुछ खाने का, तो अपना मनपसंद मीठा खा लेती हूं। वैसे मीठे में ज्यादातर काजू कतली खाना पसंद करती हूं, ये कम मीठी भी होती है।

Q-9अच्छा! अब ये सही-सही बताइए कि आप महीने में कितनी बार चीट डे मनाती हैं? क्या खाती हैं?

हां, मैं घर में तो अपने खाने पर कंट्रोल कर पाती हूं, पर पार्टीज में ऐसा नहीं हो पाता है। थोड़ा-थोड़ा सब कुछ खा लेती हूं। सही बाेलूं तो कंट्रोल नहीं हो पाता है।

Q-10. अच्छा.. कई बार ऐसा भी होता होगा कि घर में आपके सामने कोई मीठा खा रहा हाेता है, तो उस समय मन में क्या ख्याल आता है?

उन्हें मीठा खाते हुए देखकर बहुत ज्यादा फर्क नहीं पड़ता है। हां, ये है कि कभी-कभार बहुत ज्यादा मन होता है, तो उस समय खा लेती हूं।

और भी पढें: सिंथेटिक दवाओं से छुड़ाना हो पीछा, तो थामें आयुर्वेद का दामन

Q-11. मान लीजिए, अगर आपके सामने आपकी पसंद की ये चार मिठाइयां हो और आप केवल एक ही चुन सकती हैं, तो क्या चुनेंगी-

A- रस से भरी जलेबी

B- गुलाब जामुन

C- कम मीठे वाली काजू कतली

D- गुड़ वाली मिठाई

अगर शुगर के बढ़ने का डर न हो तो मैं गुलाब जामुन खाना पसंद करूंगी। मुझे बहुत पसंद है।

Q-12. क्या डॉक्टर ने आपको मेडिसिन लेने की सलाह दी है? अगर हां, तो आपका शेड्यूल क्या है ?

हां, मुझे डॉक्टर ने मेडिसिन लेने की सलाह दी है। मैं दिन में 2 बार मेडिसिन लेती हूं, सुबह नाश्ते से पहले और रात में खाने से पहले।

Q-13. आपको कैसे पता चलता है, जब आपके शरीर में शुगर का लेवल बढ़ता है या कम हो जाता है ? किस तरह के बदलाव और लक्षण आप महसूस करती हैं?

जब मेरी शुगर हाय होती है, तो उस समय मुझे घबराहट होना शुरू हो जाती है। तब तुरंत मैं अपने ग्लूकोमीटर से अपना शुगर लेवल चेक करती हूं।

Q-14. क्या आप डायबिटीज कंट्रोल के लिए नियमित रूप से एक्सरसाइज करती हैं? अगर आपका जवाब हां है, तो किस प्रकार की एक्सरसाइज करती हैं?

हार्ड एक्सरसाइज मुझसे नहीं हो पाती है, मैं तो बस मॉर्निंग वॉक करती हूं।

Q-15. क्या डायबिटीज कभी आपकी मेंटल हेल्थ पर भारी पड़ती है? अगर आपका जवाब हां है, तो अपने आप को मेंटली फिट कैसे रखती हैं?

हां, कई काम को करते समय मुझे दिक्कत महसूस होती है। मेरे कहने का अर्थ है कि कहीं न कहीं दिमाग में एक स्ट्रेस बना रहता है। मेंटली फ्री महसूस नहीं होता है।

और भी पढें: ब्लड शुगर कैसे डायबिटीज को प्रभावित करती है? जानिए क्या हैं इसे संतुलित रखने के तरीके

Q-16. डायबिटीज के पेशेंट होने के तौर पर आपकी लाइफ का सबसे कठिन समय कौन सा रहा है?

वैसे तो ऐसा खास कुछ भी नहीं रहा है, लेकिन डायबिटीज के कारण मेरे शरीर में कमजोरी बहुत हो गई है। पहले की अपेक्षा अब थकान बहुत ज्यादा महसूस होने लगी है।

Q-17. किसी काम को करते समय आपको ऐसा महसूस होता है क्या कि आप डायबिटिक हैं और आप इसे नहीं कर सकती हैं?

मुझे बहुत ज्यादा चलने में दिक्कत होती है या कोई काम बहुत ज्यादा कर लूं, तो थकान हो जाती है।

Q-18. डायबिटीज के साथ सबसे बड़ा चैलेंज क्या रहा है?

अब शरीर में उतनी ताकत महसूस नहीं हाेती है, जैसे पहले मैं घंटों लगातार घर का काम कर लेती थीं। मगर, अब नहीं हो पाता है।

Q-19. क्या आपको मालूम है कि डायबिटीज को पूरी तरह से रिवर्स किया जा सकता है?

नहीं, मुझे इसकी जानकारी नहीं है

Q-20. आप अपनी लाइफ का मोटो हमारे साथ शेयर करें।

अगर आपके पास अच्छी हेल्थ है, तो सब कुछ है।

Q-21. जिन्हें अभी-अभी डायबिटीज हुआ है, उन्हें आप डायबिटीज कंट्रोल करने के लिए क्या मैसेज देना चाहेंगी?

हां, मैं सबको यही मैसेज देना चाहूंगी कि अगर शुरू से आप अपनी लाइफस्टाइल और डायट को कंट्रोल कर के चलते हैं, तो काफी अच्छा रहेगा।

इस सीरीज के तीसरे इंटरव्यू में आपने जाना होगा कि बीमारी चाहें कोई भी हो, उससे निपटने के लिए आपके मेंटल हेल्थ का अच्छा होना जरूरी है। इससे बीमारी कभी भी आप पर हावी नहीं हो पाएगी। इसी के साथ ही आपने यह भी जाना होगा कि डायबिटीज के मरीज किस तरह से अपनी डायबिटिक लाइफ को असान बना सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
04/11/2020 पर Niharika Jaiswal के द्वारा लिखा
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
x