home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

आंखों की समस्याओं से बचना है आसान, बस अपनाएं ये होम रेमेडीज!

आंखों की समस्याओं से बचना है आसान, बस अपनाएं ये होम रेमेडीज!

हमारा शरीर एक मशीन की तरह है, जिसके हर अंग का अपना काम है। अगर हमारे शरीर के किसी भी अंग में कोई समस्या होती है, तो उसके कारण पूरा शरीर प्रभावित होता है। इन्हीं अंगों में से एक है हमारी आंखें, जिनके कारण हम इस खूबसूरत दुनिया को देख पाते हैं। आंखों या दृष्टि में छोटी सी समस्या का असर हमारे रोजाना के कामों पर भी पड़ता है। ,अक्सर हम अपने आंखों के स्वास्थ्य को नजरअंदाज करते हैं और आंखों का ध्यान (Eye Care) नहीं रखते। लेकिन, आंखों की देखभाल भी उतनी ही जरूरी है, जितनी शरीर के अन्य अंगों की। तो जानते हैं कि आपको अपनी आंखों का ध्यान (Eye Care) कैसे रखना चाहिए और कैसे बना सकते हैं आप अपनी आंखों को हेल्दी।

हमारी आंखें कैसे काम करती हैं?

आंखों का ध्यान (Eye Care) रखने के बारे में जानने पहले जानते हैं कि आखिर हमारी आंखें काम कैसे करती हैं। आंखें हमारे शरीर के सेंसरी ऑर्गन हैं। जो हमारे आसपास की विजिबल दुनिया से रोशनी को इकठ्ठा करती हैं और इसे नर्व इम्पल्स (Nerve Impulses) में बदल देती है। ऑप्टिक नर्व इन सिग्नल्स को दिमाग तक ट्रांसमिट करती हैं, जिससे आसपास की तस्वीर बनती है। यह दोनों आंखों की ऑप्टिक नर्व दिमाग में जुड़ती है। हमारा दिमाग दोनों ऑप्टिक नर्व से जानकारी का प्रयोग कर के एक तस्वीर बनाता है जो हमें एक छवि की तरह दिखती है।

यह भी पढ़ें: Eye allergies: आंख में एलर्जी क्या है?

आंखों में समस्याओं का कारण क्या हैं? (Causes of Eye Problems)

इसमें, कोई संदेह नहीं है कि आंखों का ध्यान (Eye Care) रखना बेहद जरूरी है। लेकिन, कुछ आंखों की समस्याओं से बचाव संभव नहीं है। खासतौर, पर उम्र के बढ़ने पर कुछ आंखों की समस्याएं होना सामान्य हैं। हालांकि कुछ फैक्टर्स आंखों में होने वाली समस्याओं का कारण बनते हैं और इन्हें बढ़ा सकते हैं। यह कारक इस प्रकार हैं:

  • कुछ बीमारियां जैसे हाय ब्लड प्रेशर (Blood Pressure), कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol), ब्लड शुगर (Blood Sugar) आदि आंखों की समस्याओं का मुख्य कारण हैं।
  • आंखों में कोई संक्रमण या चोट लगना भी आंखों की परेशानियों का कारण हो सकते हे।
  • वायु प्रदूषण, धुआं, धूल-मिटटी या केमिकलस के अधिक सम्पर्क में रहने से भी आपको आंखों संबंधी रोग हो सकते हैं।
  • सूरज की रोशनी में अधिक देर रहना भी आंखों की बीमारियों का कारण बनता है।
  • एयरबोर्न एलर्जेंस (Airborne Allergens) आंखों में एलर्जी पैदा कर सकते हैं।
  • इलेक्ट्रॉनिक गेजेट्स के सामने अधिक समय तक बैठना और उनका अधिक प्रयोग करने से भी आंखों की परेशानियां हो सकती हैं।

आंखों का ध्यान

आंखों की देखभाल के लिए होम रेमेडीज (Home Remedies for Eye Care)

आंखों का ध्यान (Eye Care) रखना बेहद जरूरी है क्योंकि आंखों के कई रोगों का निदान शुरुआत में नहीं होता। लेकिन, बाद में यह समस्याएं गंभीर हो सकती हैं। अपनी आखों की देखभाल आप घर पर आराम से कर सकते हैं। आंखों की देखभाल के लिए कुछ घरेलू नुस्खे इस प्रकार हैं:

  • ठंडा पानी (Cold Water): अपनी आंखों को दिन में कई बार ठंडे पानी से साफ करें। इससे आपकी आंखें फ्रेश होंगी और उन्हें आराम मिलेगा।
  • एलोवेरा (Aloe Vera): आंखों का ध्यान (Eye Care) रखने में एलोवेरा भी आपकी मदद कर सकता है। एलोवेरा भी आंखों के लिए एक प्रभावी औषधि है। थोड़ा सा एलोवेरा जूस अगर आप कॉटन में लगा कर अपनी आंखों पर रखेंगे, तो उनसे आंखों को आराम मिलेगा। यही नहीं अगर आप खीरे के टुकड़े या खीरे के जूस को कॉटन में लगा कर अपनी आंखों पर रखेंगे या आंखों के आसपास रगड़ेंगे तो आपको आंखों के चारों तरफ की रेडनेस से छुटकारा मिलेगा।
  • कैमोमाइल टी (Chamomile Tea): कैमोमाइल टी आंखों को धोने के लिए एक बेहतरीन एंटी- इंफ्लेमेटरी वाश हैं। इससे आपको आंखों में होने वाली छोटी से छोटी समस्या या इन्फेक्शन से भी राहत मिल सकती है

Quiz: सालों से अपनाई जा रही हैं, जानें इन होम रेमेडीज के बारे में

  • संतरे के छिलके (Orange Peel) :आंखों का ध्यान (Eye Care) रखें संतरे के छिलकों से। क्या आप जानते हैं कि संतरे के छिलके में ऐसे रसायन होते हैं, जिन्हें शरीर में हिस्टामाइन की प्रतिक्रिया को शांत करने के लिए उपयोगी माना गया है? इसलिए आप इसका प्रयोग वाटरी आयस की समस्या में भी कर सकते हैं।
  • गुलाब की पत्तियां (Rose Petals):आंखों की सूजन को कम करने के लिए आपने टी बैग्स का प्रयोग तो किया ही होगा लेकिन क्या आपने आंखों की सूजन को कम करने के लिए गुलाब की पत्तियों या रोज वाटर का प्रयोग किया है। अगर नहीं तो कर के देखिए। आपको अच्छे परिणाम मिलेंगे।
  • तुलसी (Basil ): तुलसी में विटामिन-A होता है जो आंखों के लिए अच्छा है। तुलसी के रस को कॉटन में लगा कर प्रयोग करने से आपको अच्छा महसूस होगा।
  • टी बैग (Tea Bag): टी बैग्स का प्रयोग आंखों की थकावट को दूर करने के लिए प्रयोग की जाती है। इसके लिए टी बैग को कुछ देर फ्रिज में ठंडा कर लें और उसके बाद आंखों पर रखें। आपकी थकावट तुरंत दूर होगी। यही नहीं यह तरीका डार्क सर्कल्स दूर करने में भी प्रभावी है

कैसे बचें आंखों की समस्याओं से? (Prevention from Eye Problems)

अगर आप चाहते हैं कि न केवल आपकी आखें सुन्दर दिखें बल्कि आप आंखों की परेशानियों से राहत भी पाएं। तो आपको केवल अपने लाइफस्टाइल में कुछ परिवर्तन करने हैं। अपनी आंखों का ध्यान (Eye Care) रखने के लिए आप इतना तो कर ही सकते हैं। जानिए कैसे बच सकते हैं आप आंखों से जुडी परेशानियों से:

यह भी पढ़ें: बेहद आसानी से की जाने वाली 8 आई एक्सरसाइज, दूर करेंगी आंखों की परेशानी

रोजाना सैर करें (Walk Daily)

जैसा ही हम जानते हैं कि कुछ रोग जैसे डायबिटीज, हाय ब्लड प्रेशर आदि आंखों के लिए बेहद नुकसानदायक हैं। इनसे बचने के लिए आपको रोजाना व्यायाम करना चाहिए। अपने वजन को संतुलित भी रखें ताकि आपको इन रोगों का खतरा कम हो और आपकी आंखें भी हेल्दी रहें।

स्मोकिंग से बचे (Avoid Smoking)

स्मोकिंग करने से कुछ फ्री रेडिकल्स निकलते हैं, जो आंखों को नुकसान पहुंचाते हैं और धमनी रोग (Arterial Disease) के खतरे को बढ़ाते हैं। इसलिए स्मोकिंग करने से बचें।

रोजाना दो गिलास ग्रीन टी पीएं (Green Tea)

ग्रीन टी में मौजूद तत्व डायबिटीज और हार्ट डिजीज से बचने में मदद करते हैं और आंखों के रेटिना व लेंस को स्वस्थ रखने में सहायक हैं।

आंखों का ध्यान

ही डाइट (Right Diet)

अगर आंखों के रोगों से बचना है, तो अपने आहार को हेल्दी रखें। ऐसी चीजों का सेवन करें जिनमे, एंटी ऑक्सीडेंट अधिक हों। जानिए आपको क्या खाना चाहिए आंखों को हेल्दी रखने के लिए:

  • ड्राय फ्रूट जैसे बादाम, किशमिश और अंजीर आदि (Dry Fruits)
  • गाजर और आंवला (Carrot and Amla)
  • कॉपर युक्त आहार (Copper Rich Foods)
  • विटामिन A युक्त आहार (Vitamin A rich foods)
  • हरी सब्जियां और फल (Green Vegetables and Fruits)
  • साबुत अनाज (Whole Grains)
  • दालें (Pulses)

यह भी पढ़ें: खूबसूरत दुनिया को देखने के लिए आंखों की हिफाजत है जरूरी

व्यायाम करें (Exercise)

अपनी आंखों का ध्यान (Eye Care) रखने के लिए आंखों का नियमित रूप से व्यायाम करें। इसके लिए अपनी आयबाल सभी दिशाओं में घुमाएं। रोजाना इस व्यायाम को कुछ देर करने से आपको फायदा होगा और आंखों को आराम मिलेगा।

आंखों के ऊपर मालिश करें (Eye Massage)

आंखों के ऊपर मालिश करना उन लोगों के लिए अच्छा व्यायाम है जो अधिक देर तक कंप्यूटर आदि के सामने काम करते हैं। इस के लिए अपनी आयब्रोज को अपनी इंडेक्स फिंगर और अंगूठे के बीच में पकड़ें, ताकि आपका अंगूठा आयब्रो के ऊपर हो और इंडेक्स फिंगर नीचे। इसके बाद धीरे-धीरे आंखों की मालिश करें।

किन स्थितियों में नेत्र रोग विशेषज्ञ की सलाह लेना जरूरी है? (When to seek Advice of an Ophthalmologist)

अगर बात आंखों की आती है तो आपको बिलकुल भी जोखिम नहीं लेना चाहिए। अगर आपको आंखों में कोई भी समस्या, दर्द या बैचैनी होती है, तो तुरंत डॉक्टर की सलाह अनिवार्य है। क्योंकि, अगर समस्या बढ़ जाए तो आपकी आंखों की नजर कम हो सकती है या अंधेपन की समस्या भी हो सकती है। जानिए किन स्थितियों में आपको डॉक्टर से मिलना चाहिए:

  • अगर आपको रात को देखने या गाडी चलने में समस्या हो रही हो।
  • लाल या पिंकआय की समस्या होने पर भी डॉक्टर से तुरंत चेकअप कराना चाहिए।
  • अगर आपको रोशनी के प्रति संवेदनशीलता महसूस हो रही हो, तो भी नेत्र रोग विशेषज्ञ से मिलें।
  • किसी चीज पर फोकस करने में समस्या, आंखों में दर्द या धुंधली दृष्टि भी किसी बड़ी समस्या का इशारा हो सकते हैं।

eye care

  • लगातार सिरदर्द का एक कारण आंखों में परेशानी होता है, इसके लिए भी डॉक्टर की राय और उपचार जरूरी है।
  • डबल विजन,आंखों में पानी आना, ड्राय आय, आंखों के आगे काले छोटे सर्किल या स्पॉट नजर आना भी किसी आंखों की समस्या के कारण हो सकता है। इसमें भी नेत्र रोग विशेषज्ञ की राय जरूरी है।

यह भी पढ़ें: आंखों की समस्याओं को न करें नजरअंदाज, जानें नजर में खराबी और अंधेपन के बारे में

आंखों और आंखों की समस्याओं को कभी भी हल्के में नहीं लेना चाहिए। आंखों में होने वाली समस्याएं कई बार अंधेपन का कारण भी बन सकती हैं। इसलिए, अपनी आंखों का ध्यान (Eye Care) रखें और समय-समय पर डॉक्टर से उनकी जांच अवश्य कराएं ताकि आप भविष्य में किसी भी परेशानी से बच सकें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

How your eyes work.https://www.visioninitiative.org.au/common-eye-conditions/how-your-eyes-work. Accessed on 31/3/21

your eyes.https://kidshealth.org/en/kids/eyes.html. Accessed on 31/3/21

Types of Vision Problems. https://www.health.ny.gov/diseases/conditions/vision_and_eye_health/types_of_vision_problems.htm . Accessed on 31/3/21

Eye Diseases. https://www.aao.org/eye-health/tips-prevention/home-remedies. Accessed on 31/3/21

Home Remedies for Simple Eye Problems. https://www.aao.org/eye-health/tips-prevention/home-remedies. Accessed on 31/3/21

Eye and Vision Conditions. https://www.aoa.org/healthy-eyes/eye-and-vision-conditions?sso=y. Accessed on 31/3/21

 

लेखक की तस्वीर badge
AnuSharma द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 31/03/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x