जानिए इंसुलिन के प्रकार और मधुमेह के रोगियों में इसका उपयोग

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अगस्त 30, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

मधुमेह की बीमारी को लेकर आपने कई बार इंसुलिन का नाम सुना होगा। क्या आप वाकई जानते हैं की इंसुलिन क्या है? यह कैसे कार्य करता है? इंसुलिन कितने प्रकार के होते हैं। क्या आप जानते हैं, मधुमेह के रोगियों के लिए यह किसी प्रकार मददगार है, तो इस आर्टिकल में हम आपको बताने वाले हैं कि मधुमेह के रोगियों में इसके द्वारा उपचार कैसे किया जा सकता है।

इंसुलिन क्या है, और यह कैसे काम करता है?

इंसुलिन का मुख्य काम आपके रक्त शर्करा के स्तर को बहुत अधिक होने से रोकना है। भोजन के बाद, आपका अग्न्याशय आपके रक्तप्रवाह में हार्मोन इंसुलिन जारी करता है। इंसुलिन अग्न्याशय द्वारा स्रावित एक स्वाभाविक रूप से होने वाला हार्मोन है। रक्त में ग्लूकोज को निकालने और उनका उपयोग करने के लिए शरीर की कोशिकाओं द्वारा इंसुलिन की आवश्यकता होती है। कोशिकाएं ऊर्जा का उत्पादन करने के लिए ग्लूकोज का उपयोग करती हैं। जिससे उन्हें अपने कार्यों को पूरा करने की आवश्यकता होती है। इंसुलिन आपके शरीर के माध्यम से यात्रा करता है जहां यह आपके रक्त से चीनी को बाहर निकालने और ऊर्जा के लिए कोशिकाओं में ले जाने में मदद करता है।शोधकर्ताओं ने पहले 1922 में एक युवा मधुमेह रोगी को इंसुलिन युक्त अग्न्याशय का एक सक्रिय अर्क दिया, और एफडीए ने पहले 1939 में इंसुलिन को मंजूरी दी। वर्तमान में, उपचार के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला इंसुलिन गोमांस और पोर्क अग्न्याशय से प्राप्त होता है।

और पढ़ें : मधुमेह (Diabetes) से बचना है, तो आज ही बदलें अपनी ये आदतें

कुछ मामलों में, आपका शरीर अपने स्वयं के प्राकृतिक इंसुलिन को बनाने में प्रतिक्रिया नहीं दे सकता है जिस तरह से उसे करना चाहिए। इसलिए, आपको अपने रक्त शर्करा के स्तर को प्रबंधित करने के लिए एक इंसुलिन दवा का उपयोग करने की आवश्यकता हो सकती है।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

इंसुलिन का उपयोग कौन करता है?

मधुमेह वाले लोगों में इंसुलिन का इलाज आम है। मधुमेह के इन 3 प्रकारों को इंसुलिन द्वारा इलाज किया जा सकता है:

टाइप 1 डायबिटीज

यदि आपको टाइप 1 मधुमेह है, तो आपका अग्न्याशय इंसुलिन का उत्पादन बिल्कुल नहीं करता है। इसका मतलब यह है कि टाइप 1 मधुमेह वाले किसी व्यक्ति को अपने रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित रखने के लिए इंसुलिन का उपयोग करना चाहिए।

टाइप 2 डायबिटीज

टाइप 2 डायबिटीज के कारण शरीर पर्याप्त रूप से इंसुलिन नहीं बना सकता है या प्रभावी रूप से इंसुलिन का उपयोग नहीं कर सकता है। इसे इंसुलिन प्रतिरोध के रूप में जाना जाता है। शुरुआत में, आप मौखिक दवाओं के साथ टाइप 2 मधुमेह का उपचार करने में सक्षम हो सकते हैं। लेकिन समय के साथ आपको मौखिक दवाओं के साथ या इसके बजाय इंसुलिन का उपयोग करने की आवश्यकता हो सकती है।

और पढ़ें : मधुमेह की दवा मेटफॉर्मिन बन सकती है थायरॉइड की वजह

गर्भावधि मधुमेह (जेस्टेशनल डायबिटीज)

गर्भावधि मधुमेह एक प्रकार का मधुमेह है, जो केवल गर्भावस्था के दौरान होता है। गर्भावधि मधुमेह से पीड़ित कई महिलाएं आहार और व्यायाम या मौखिक मधुमेह दवाओं के माध्यम से अपने रक्त शर्करा को नियंत्रित रख सकती हैं। लेकिन यदि इससे नहीं होता है, तो उन्हें इसका उपचार करने के लिए इंसुलिन की आवश्यकता हो सकती है।

इंसुलिन के प्रकार

इंसुलिन के प्रकार कई रूप से मधुमेह का इलाज करते हैं। वे कितनी तेजी से काम करना शुरू करते हैं और उनके प्रभाव कितने लंबे समय तक चलते हैं, इसके आधार पर उन्हें बांटा गया है। 

रैपिड-एक्टिंग इंसुलिन

रैपिड-एक्टिंग इंसुलिन इंजेक्शन के, 15 मिनट बाद काम करना शुरू कर देता है, इंजेक्शन लगाने के लगभग 1 या 2 घंटे तक उच्च प्रभाव, और 2 से 4 घंटे तक इसका साधारण रूप से प्रभाव रहता है। 

डायबिटीज के मरीजों को क्या खाना चाहिए व क्या नहीं, खेलें क्विज : Quiz : डायबिटीज के पेशेंट को अपने आहार में क्या शामिल करना चाहिए और क्या नहीं?

रेगुलर या सॉर्ट एक्टिंग इंसुलिन 

रेगुलर या सॉर्ट-एक्टिंग इंसुलिन आमतौर पर इंजेक्शन के बाद 30 मिनट के भीतर रक्तप्रवाह तक पहुंच जाता है, इंजेक्शन के बाद 2 से 3 घंटे तक उच्च प्रभाव, और लगभग 3 से 6 घंटे तक साधारण रूप से प्रभावी रहता है। 

इंटरमीडिएट एक्टिंग इंसुलिन 

इंटरमीडिएट एक्टिंग इंसुलिन आम तौर पर इंजेक्शन के बाद 2 से 4 घंटे बाद रक्तप्रवाह में पहुंचता है, 4 से 12 घंटे तक यह उच्च प्रभावी रहता है और लगभग 12 से 18 घंटे तक साधारण रूप से प्रभावी रहता है। 

लॉन्ग एक्टिंग इंसुलिन

लॉन्ग एक्टिंग इंसुलिन आमतौर पर इंजेक्शन के कई घंटे बाद रक्तप्रवाह में पहुंचता है और 24 घंटे तक ग्लूकोज के स्तर को कम करता है। 

अल्ट्रा लॉन्ग-एक्टिंग इंसुलिन

अल्ट्रा लॉन्ग-एक्टिंग इंसुलिन 6 घंटे में रक्त प्रवाह तक पहुंच जाती है, यह लगभग 36 घंटे या उससे अधिक समय तक रहती है। 

ऊपर दी गई जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। इसलिए किसी भी दवा या सप्लिमेंट का इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर से परामर्श जरूर करें। हैलो स्वास्थ्य किसी भी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है।

और पढ़ें मधुमेह से न घबराएं, इन बातों का ध्यान रख जी सकते है सामान्य जिंदगी

इंसुलिन के प्रकार में मेरे मधुमेह के लिए सबसे अच्छा कौन-सा है?

आपका डॉक्टर इंसुलिन के प्रकार को निर्धारित करने के लिए आपके मधुमेह के बारे में पूरी जानकारी लेगा। जिससे वह पता लगा सके की आपके मधुमेह के लिए सबसे बेहतर इंसुलिन के प्रकार कौन से हैं। उस विकल्प को बनाना कई बातों पर निर्भर करेगा, जिसमें शामिल हैं:

  • इंसुलिन को अवशोषित करने में आपके शरीर को कितना समय लगता है और कितनी देर तक यह सक्रिय रहता है यह सभी व्यक्ति में भिन्न होता है।
  • आप किस प्रकार का भोजन करते हैं,आपकी जीवनशैली कैसी है?
  • आप कितनी शराब पीते हैं।
  • क्या आप व्यायाम करते हैं, यह सब प्रभावित करता है कि आपका शरीर इंसुलिन का उपयोग कैसे करता है।
  • आप कितनी बार अपने ब्लड शुगर की जांच कराते हैं?
  • आपकी उम्र भी इसमें मायने रखती है। 
  • आपके रक्त शर्करा के उपचार के लिए आपके लक्ष्य क्या है?

और पढ़ें: Ebastine: इबैस्टिन क्या है? जानिए इसके उपयोग, डोज और सावधानियां

इंसुलिन की खुराक कैसे अनुसूचित हैं?

अपने इंसुलिन को कब लें, इस बारे में अपने डॉक्टर के दिशानिर्देशों का पालन करें। आपके शॉट और भोजन के बीच का समय अवधि आपके द्वारा उपयोग किए जाने वाले प्रकार के आधार पर भिन्न हो सकता है। सामान्य तौर पर, आपको अपने इंजेक्शन को भोजन के साथ लेने की सलाह दी जाती है। सही समय पर इसकी खुराक लेने से यह आपको निम्न रक्त शर्करा के स्तर से बचने में मदद करेगा। इंसुलिन के प्रकार को आप इस प्रकार भोजन के साथ या पहले-बाद में ले सकते हैं।

  1. रैपिड एक्टिंग इंसुलिन: भोजन से लगभग 15 मिनट पहले लिया जाना चाहिए।
  2. सॉर्ट एक्टिंग इंसुलिन: भोजन से 30 से 60 मिनट पहले लिया जाना चाहिए।
  3. इंटरमीडिएट एक्टिंग इंसुलिन: भोजन से 1 घंटे पहले लिया जाना चाहिए।
  4. प्री मिक्सड इंसुलिन:यह उत्पाद पर निर्भर करता है, भोजन से पहले 10 मिनट या 30 से 45 मिनट के बीच लिया जाना चाहिए।

और पढ़ें : Nexpro Rd: नेक्सप्रो आरडी क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

डायबिटीज के मरीज कैसे बढ़ाएं इम्युनिटी, वीडियो देख एक्सपर्ट से जानें, 

आप इंसुलिन कैसे इंजेक्ट करते हैं?

इंसुलिन इंजेक्ट करते समय, हमेशा सुनिश्चित करें कि आप अपने पर्चे के अनुसार खुद को सही इंसुलिन के प्रकार और खुराक ले रहे हैं। बहुत अधिक इंसुलिन इंजेक्ट करने से निम्न रक्त शर्करा (हाइपोग्लाइसीमिया) हो सकता है और जल्दी ही एक आपातलकाल समस्या में बदल सकता है (हाइपोग्लाइसीमिया के संकेतों में भ्रम,आंखो के सामने अंधेरा होना, पसीना, चिंता शामिल हैं।) इसके अलावा, कभी भी इंसुलिन में कुछ मिलाएं नहीं या न ही इसे पतला करें जब तक कि आपका डॉक्टर आपको न बताए, और कभी भी एक्सपायर्ड इंसुलिन का इस्तेमाल न करें।

आपका डॉक्टर या फार्मासिस्ट आपको यह बता सकता है कि इंसुलिन को ठीक से कैसे इंजेक्ट किया जाए। लेकिन यहां आपको उन चरणों के बारें में बताया जा रहा है, जिनका आपको पालन करना चाहिए यदि आप एक इंसुलिन पेन के बजाय एक शीशी और एक सिरिंज का उपयोग कर रहे हैं तो क्या करना चाहिए। सबसे पहले, इन समानों को इकट्ठा करें-

  • साबुन और पानी या सेनीटाइजर
  • शराब
  • इंसुलिन की शीशी
  • इंसुलिन सिरिंज
  • शार्प कंटेनर (सुई का निपटान करने के लिए)
  • अब अपने हाथों को साबुन और पानी से धोएं या हैंड सैनिटाइजर से साफ करें।
  • धीरे से मिश्रण करने के लिए अपने हाथों के बीच इंसुलिन की शीशी को रोल करें। इंसुलिन की शीशी कभी न हिलाएं।
  • एल्कोहॉल वाइप्स से इंसुलिन की शीशी के शीर्ष पोंछें।

और पढ़ें :Diclofenac sodium : डिक्लोफिनेक सोडियम क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

  • अपने इंसुलिन सुई की टोपी निकालें और अपने इंसुलिन की खुराक के अंकन से मिलान करने के लिए सिरिंज के प्लंजर को वापस खींचें।
  • सुई को इंसुलिन की शीशी के ऊपर से दबाएं और फिर नीचे की ओर धक्का दें।
  • शीशी को उल्टा करके सुई से अंदर की ओर मोड़ें।
  • अब, धीरे-धीरे प्लंजर को फिर से खुराक तक खींचें।
  • बुलबुले के लिए सिरिंज की जांच करें। यदि आप बुलबुले देखते हैं, तो टिप पर बुलबुले तैरने के लिए सिरिंज के किनारे पर टैप करें। 
  • धीरे से सिरिंज से बुलबुले निकलने के लिए हल्के से धक्का दें। सभी बुलबुले हटाए जाने तक इसे दोहराएं।
  • बुलबुले हटा दिए जाने के बाद, खुराक पर वापस जाने के लिए प्लंजर को थोड़ा पीछे खींचें।
  • सिरिंज को ध्यान से निकालें और सुई से कुछ और स्पर्श न कराएं।
  • एक बार सिरिंज तैयार हो जाए तो अब आप इंसुलिन इंजेक्ट करने के लिए तैयार रहे,
  • सुनिश्चित करें कि आपकी इंजेक्शन लगाने वाली जगह साफ और सूखी है। 

और पढ़ें: Ebastine: इबैस्टिन क्या है? जानिए इसके उपयोग, डोज और सावधानियां

  • त्वचा के एक छोटे से हिस्से को लगभग 1 से 2 इंच तक पिंच करें, और सुई को 45 डिग्री के कोण पर डालें।
  • एक बार सुई पूरी तरह से डालने के बाद, त्वचा पर जाने दें और धीरे-धीरे इंसुलिन को इंजेक्ट करें।
  • सुई को बाहर निकालें और इसे कंटेनर में फेंक दें।
  • उस क्षेत्र की देखभाल करें जहां आप अपने इंसुलिन को इंजेक्ट किया है और अपने चिकित्सक को बताएं कि क्या कोई समस्या उत्पन्न होती है।

इंसुलिन स्टोरेज

इंसुलिन को गर्मी और प्रकाश से दूर रखें। यदि आप इंसुलिन को फ्रिज में स्टोर नहीं करते हैं, तो उन्हें  ठंडे स्थान पर (56 ° F और 80 ° F के बीच) के तापमान में रखा जाना चाहिए।अपने इंसुलिन को कभी भी जमने न दें। यदि आपका इंसुलिन जम जाता है, तो इसका उपयोग न करें।
रेफ्रिजरेटर में (36 ° F और 46 ° F के बीच) के तापमान मे रखा जाना चाहिए।  इंसुलिन पेन आप कमरे के तापमान (56 ° F और 80 ° F के बीच) में रखें।

ऊपर दी गई जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। इसलिए किसी भी दवा या सप्लिमेंट का इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर से परामर्श जरूर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy

Recommended for you

बेसल इंसुलिन

क्या है बेसल इंसुलिन, इसके प्रकार, डोज, साइड इफेक्ट और खासियत जानें

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ अगस्त 17, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
Insulin glargine-इन्सुलिन ग्लारजीन

Insulin Glargine: इंसुलिन ग्लारजीन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mona narang
प्रकाशित हुआ फ़रवरी 11, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें