home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Ebastine: इबैस्टिन क्या है? जानिए इसके उपयोग, डोज और सावधानियां

Ebastine: इबैस्टिन क्या है? जानिए इसके उपयोग, डोज और सावधानियां

इबैस्टिन (Ebastine) का इस्तेमाल किस लिए किया जाता है?

इबैस्टिन H1 एंटीहिस्टामाइन (Antihistamine) दवा है। यह ब्लड-ब्रेन बैरियर में प्रवेश नहीं करती है। इबैस्टिन एक एंटीएलर्जिक दवा है, जो दिमाग में हिस्टामाइन (histamine) कैमिकल को ब्लॉक देती है। यह कैमिकल नाक बहने और छींक आने के लिए जिम्मेदार होता है। 1983 में इबैस्टिन को सबसे पहले पेटेंट कराया गया था। चिकित्सा इस्तेमाल के लिए इसे सबसे पहले 1990 में मार्केट में उतारा गया था। यह पानी में अच्छी तरह नहीं घुलती है, इसलिए ये माक्रोनाइज्ड रूप में आती है। यह दवा एंटीहिस्टामाइन या एंटीएलर्जिक परिवार से संबंध रखती है। यह खुजली, रैशेस जैसे एलर्जिक रिएक्शन से राहत देती है। आमतौर पर यह पित्ती (हाइव्स), एग्जिमा/जिल्द की सूजन, प्रुरिगो (Prurigo), स्किन प्रुरिटस (Pruritus) और एलर्जी राइनिटिस (Rhinitis) के इलाज के लिए इस्तेमाल की जाती है।

इबैस्टिन (Ebastine) का इस्तेमाल कैसे करना चाहिए?

इबैस्टिन का सेवन भोजन के साथ या खाली पेट एक ग्लास पानी के साथ करना चाहिए। हालांकि, इसका इस्तेमाल करने से पहले आपको अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट से सलाह अवश्य लें। इबैस्टिन का खाली पेट इस्तेमाल करने से आपके पेट में जलन हो सकती है। इसका सेवन करते वक्त हमेशा ध्यान रखें कि गोली को कभी चबाएं या तोड़े नहीं। यदि आप लिक्विड में इस दवा का सेवन कर रहे हैं तो खुराक लेने से पहले बोतल को अच्छे से हिला लें। इबैस्टिन के प्रत्येक डोज के बीच में समान अंतराल रखें। आपके लिए बेहतर होगा कि आप दवा के लेबल पर छपे दिशा निर्देशों को सावधानीपूर्वक पढ़ें। साथ ही अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट से सलाह लें।

यह भी पढ़ें: बच्चों में डर्मेटाइटिस के क्या होते है कारण और जानें इसके लक्षण

इबैस्टिन (Ebastine) को कैसे स्टोर करना चाहिए?

इबैस्टिन को स्टोर करने का सबसे बेहतर तरीका है इसे कमरे के तापमान पर रखना। इसे सूर्य की सीधी किरणों और नमी से दूर रखें। दवा को खराब होने से बचाने के लिए आपको बस्टाएइन को बाथरूम या फ्रीजर में नहीं रखना है। इबैस्टिन के अलग-अलग ब्रांड्स को अलग तरीकों से स्टोर किया जाता है। इसे रखने से पहले सबसे बेहतर होगा कि आप दवा के पैकेज पर छपे निर्देशों को पढ़ लें या फार्मासिस्ट से पूछें। सुरक्षा की दृष्टि से सभी दवाइयों को अपने बच्चों और पेट्स से दूर रखें। जब तक कहा ना जाए तब तक सुरक्षा की दृष्टि से आपको इबैस्टिन को टॉयलेट या नाली में नहीं बहाना है। आवश्यकता ना रहने या एक्सपायरी की स्थिति में दवा का समुचित तरीके से निस्तारण जरूरी है। सुरक्षित तरीके से इसका निस्तारण करने के लिए अपने फार्मासिस्ट से सलाह लें।

इबैस्टिन (Ebastine) का इस्तेमाल करने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

  • यदि आप प्रेग्नेंट या ब्रेस्टफीडिंग करा रही हैं। दोनों ही स्थितियों में सिर्फ डॉक्टर की सलाह पर ही दवा खानी चाहिए।
  • यदि आप अन्य दवाइयां ले रही हैं। इसमें डॉक्टर की लिखी हुई और गैर लिखी हुई दवाइयां शामिल हैं, जो मार्केट में बिना डॉक्टर के प्रिस्क्रिप्शन के खरीद के लिए उपलब्ध हैं।
  • यदि आप कोई ओवर-दि-काउंटर दवा या डायट्री सप्लिमेंट का इस्तेमाल कर रहे हैं।
  • यदि आपको इबैस्टिन के किसी पदार्थ या अन्य दवा या औषधि से एलर्जी है।
  • यदि आपको कोई बीमारी, डिसऑर्डर या कोई अन्य मेडिकल कंडिशन है।
  • यदि आपको विगत समय में किसी अन्य दवा से किसी भी प्रकार का एलर्जिक रिएक्शन (खुजली, रैश आदि) रहा हो।
  • यदि आपको विगत समय में गुर्दे की समस्या रही हो।
  • यदि आपको विगत समय में क्यूटी इंटरवल प्रोलोनगेशन (QT interval prolongation) की समस्या रही हो।

इबैस्टिन (Ebastine) को प्रेग्नेंसी या ब्रेस्टफीडिंग के दौरान लेना सुरक्षित है?

इबैस्टिन एंटीहिस्टामाइन की दूसरी जनरेशन ((H1) receptors) में आती है। वैज्ञानिक शोध में पाया गया कि यह दवा प्रेग्नेंसी के दौरान भ्रूण को नुकसान नहीं पहुंचाती हैं। यह दवाइयां भ्रूण में होने वाले जन्मदोष के लिए किसी भी तरह से जिम्मेदार नहीं होती हैं। प्रेग्नेंसी के शुरुआती दिनों या पहली तिमाही से इससे शिशु को कोई नुकसान न पहुंचने के सुबूत मिले हैं। वहीं, ब्रेस्टफीडिंग के दौरान यह न्यूनतम मात्रा में मां के दूध से होते हुए शिशु की बॉडी में प्रवेश करती है। इससे शिशु को कितना नुकसान पहुंचता है, इस संबंध में पर्याप्त जानकारी उपलब्ध नहीं है। बेहतर होगा कि आप प्रेग्नेंसी और ब्रेस्टफीडिंग के दौरान किसी भी दवा का इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट से सलाह अवश्य लें।

इबैस्टिन (Ebastine) के साइड इफेक्ट्स क्या हैं?

इबैस्टिन का इस्तेमाल करने से आपको निम्नलिखित साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं:

इबैस्टिन के गंभीर साइड इफेक्ट्स के निम्नलिखित लक्षण दुर्लभ मामलों में ही नजर आते हैं। लेकिन इनके सामने आते ही आपको डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

उपरोक्त लक्षण नजर आते ही इबैस्टिन का सेवन बंद कर दें और तत्काल अपने डॉक्टर से सलाह लें। हालांकि उपरोक्त दुष्प्रभाव के अलावा भी इबैस्टिन के अन्य साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं, जिन्हें ऊपर सूचीबद्ध नहीं किया गया है। यदि आप इसके साइड इफेक्ट्स को लेकर चिंतित हैं तो अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट से इसकी अधिक जानकारी के संबंध में परामर्श ले सकते हैं।

यह भी पढ़ें: क्या आपको भी है भूख न लगने की परेशानी ?

इबैस्टिन (Ebastine) के साथ कौन सी दवाइयां रिएक्शन कर सकती हैं?

इबैस्टिन को CYP34A द्वारा मेटाबोलाइज्ड किया जाता है। ऐसे में अन्य दवाइयों से इसके रिएक्शन होने की संभावना रहती है। जो दवाइयां समान एंजायम सिस्टम के जरिए मेटाबोलाइज्ड की जाती हैं, उनके साथ इबैस्टिन का सेवन करना नुकसानदायक हो सकता है। इन दवाइयों के साथ एबस्टाइन का सेवन करने से दवा का कार्य करने के तरीका बदल सकता है या गंभीर साइड इफेक्ट्स का खतरा बढ़ सकता है।

निम्नलिखित दवाइयां इबैस्टिन के साथ रिएक्शन कर सकती हैं:

  • केटोकोनेजोल (ketoconazole)
  • एरोथ्रोमायसिन (erythromycin)
  • कारेबेस्टाइन (carebastine)
  • एंटीडिप्रेशन की दवाइयां
  • दर्द नाशक दवाइयां
  • एंटी एंजाइटी दवाइयां
  • ट्रेनक्विलाइजर्स (Tranquilizers)

उपरोक्त दवाइयों के अलावा भी कुछ ऐसी दवाइयां हो सकती हैं, जिन्हें ऊपर सूचीबद्ध नहीं किया गया है। अन्य दवाइयों के साथ इसके रिएक्शन की अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर या हर्बलिस्ट से सलाह लें।

यह भी पढ़ें: नवजात शिशु में दिखाई दें ये संकेत तो हो सकता है पीलिया

क्या एल्कोहॉल के साथ इबैस्टिन (Ebastine) का इस्तेमाल सुरक्षित है?

एल्कोहॉल के साथ इबैस्टिन का सेवन असुरक्षित है। इबैस्टिन का एल्कोहॉल के साथ सेवन करने से आपको अतिरिक्त रूप से चक्कर आ सकते हैं या आपको उनींदापन हो सकता है। इस स्थिति में ऐसा कोई कार्य ना करें, जिसमें मानसिक ध्यान लगाने की आवश्यकता हो। जब तक आप स्वस्थ महसूस ना करने लगें तब तक ऐसे किसी कार्य को करने से बचें। यदि आपको फिर भी ड्राइव या किसी भी प्रकार का मेंटल फोकस वाला कार्य करना पड़ता है तो ऐसे कार्यों को सावधानीपूर्वक किया जाना चाहिए।

इबैस्टिन (Ebastine) का हेल्थ पर क्या असर पड़ सकता है?

इबैस्टिन आपकी मौजूदा हेल्थ कंडिशन को प्रभावित कर सकती है या दवा का कार्य करने का तरीका परिवर्तित हो सकता है। इससे साइड इफेक्ट्स से बचने के लिए बेहतर होगा कि आप अपनी मौजूदा हेल्थ की जानकारी अपने डॉक्टर से जरूर साझा करें।

इबैस्टिन (Ebastine) का सामान्य डोज क्या है?

  • डॉक्टर की सलाह पर प्रतिदिन 10-20 mg दिन में एक बार।
  • भोजन के साथ या खाली पेट दिन में इबैस्टिन का एक बार सेवन किया जा सकता है।
  • बुजुर्गों के लिए डोज में बदलाव करने की आवश्यकता नहीं है या फिर जिन लोगों को गुर्दों से संबंधि समस्या है, उन्हें भी समान डोज दिया जा सकता है।
  • जिन लोगों को लिवर की समस्या है, उन्हें प्रतिदिन मैक्सिम 10mg डोज दिया जा सकता है।

ओवरडोज या आपात स्थिति में मुझे क्या करना चाहिए?

आपात या ओवरडोज की स्थिति में तुरंत अपने नजदीकी डॉक्टर या आपातकालीन सेवा से संपर्क करें।

इबैस्टिन (Ebastine) का डोज मिस हो जाए तो क्या करूं?

इबैस्टिन का डोज मिस हो जाता है तो जल्द से जल्द इसे लें। हालांकि, यदि आपका अगली खुराक का समय नजदीक आ गया है तो भूले हुए डोज को न खाएं। पहले से तय नियमित डोज को लें। एक बार में दो खुराक ना खाएं।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या इलाज मुहैया नहीं कराता है।

और पढ़ें:-

अस्थमा और हार्ट पेशेंट के लिए जरूरी है पूरे साल फेस मास्क का इस्तेमाल

ब्रेन स्ट्रोक के कारण कितने फीसदी तक डैमेज होता है नर्वस सिस्टम ?

ब्रेन स्ट्रोक का कारण बन सकते हैं ये फूड्स

साइलेंट स्ट्रोक और मिनी स्ट्रोक के बीच क्या अंतर है?

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Dr. Hemakshi J के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Sunil Kumar द्वारा लिखित
अपडेटेड 26/12/2019
x