home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

कोलोस्ट्रम क्या है? जानिए इसके फायदे और साइड इफेक्ट

कोलोस्ट्रम क्या है? जानिए इसके फायदे और साइड इफेक्ट

कोलोस्ट्रम ब्रेस्ट में बनने वाला एक तरल पदार्थ है जो इंसानों, गाय और स्तनधारी जीवों में ब्रेस्ट मिल्क बनने के पहले रिलीज होता है। यह बहुत पौष्टिक होता है और इसमें उच्च स्तर की एंटीबॉडीज पाई जाती है। यह एक तरह का प्रोटीन है जो इंफेक्शन और बैक्टीरिया से लड़ने में मदद करता है। आपने प्रेग्नेंट महिलाओं में कोलोस्ट्रम के बारे में सुना होगा। दरअसल, यह डिलीवरी के बाद स्तनों में बनने वाला पहला दूध है, जो प्रेग्नेंसी की आखिरी कुछ महीनों से लेकर डिलीवरी के बाद कुछ दिनों तक बनता है। नवजात के लिए यह दूध बहुत फायदेमंद होता है। कोलोस्ट्रम बोवाइन कोलोस्ट्रम स्पलीमेंट के रूप में भी मिलता है। आइए, जानते हैं इसके फायदे और नुकसान।

क्या होता है कोलोस्ट्रम? (what is colostrum)

यह ब्रेस्ट में बनने वाला एक तरल पदार्थ है जो सिर्फ महिलों ही नहीं, बल्कि गाय और अन्य स्तनधारी जीवों मे भी बनता है। डिलीवरी के बाद नई मां के स्तन में जो पहला दूध आता है, उसे कोलोस्‍ट्रम कहते हैं। नवजात के लिए यह बहुत फायदेमंद होता है। इसका रंग पीला या थोड़ा ऑरेंज जैसा होता है और आमतौर पर गाढ़ा होता है। लेकिन कभी-कभी यह साफ और पतला भी हो सकता है। कोलोस्‍ट्रम में बीटा-कैरोटीन की मात्रा अधिक होती है इसलिए इसका रंग गहरा पीला होता है। डिलीवरी के बाद कम से कम 5 दिनों तक कोलोस्‍ट्रम आता है। यह नवजात को पॉटी करने में मदद करता है। कोलोस्ट्रम नवजात और जानवरों के बच्चों के विकास और स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद करता है। रिसर्च के मुताबिक, बोवाइन कोलोस्ट्रम सप्लीमेंट लेने से इम्यूनिटी बढ़ती है, संक्रमण से लड़ने में मदद मिलती है और पेट के स्वास्थ्य को ठीक रखता है।

और पढ़ें- बच्चे के जन्म का पहला घंटाः क्या करें क्या न करें?

कोलोस्ट्रम सप्लीमेंट क्या है? (what is colostrum supplement)

वैसे तो सभी स्तनधारी जीव कोलोस्ट्रम का उत्पादन करते हैं, लेकिन कोलोस्ट्रम सप्लीमेंट गाय के कोलोस्ट्रम से बनता है। इस सप्लीमेंट को बोवाइन कोलोस्ट्रम कहते हैं। बोवाइन कोलोस्ट्रम ह्यूमन कोलोस्ट्रम की तरह ही होता है जिसमें विटामिन, मिनरल्स, फैट, कार्बोहाइड्रेट, बीमारियों से लड़ने वाले प्रोटीन, ग्रोध हार्मोन और डाइजेस्टिव एंजाइम्स होता है। पिछले कुछ सालों में कोलोस्ट्रम सप्लीमेंट बहुत लोकप्रिय हुए हैं, क्योंकि यह इम्यूनिटी बढ़ाने, संक्रमण से लड़ने और गट हेल्थ को ठीक रखने में मदद करता है। सप्लीमेंट के लिए गाय के कोलोस्ट्रम को पास्चुरीकृत किया जाता है और सुखाकर पाउडर या गोली (Pills) बनाई जाती है। पाउडर को किसी लिक्विड में मिलाकर इस्तेमाल किया जा सकता है। बोवाइन कोलोस्ट्रम आमतौर पर हल्के पीले रंग का होता है और स्वाद और गंध छाछ जैसा होता है।

कोलोस्ट्रम सप्लीमेंट में मौजूद पोषक तत्व (colostrum supplement nutritional value)

बोवाइन कोलोस्ट्रम पोषक तत्वों से भरपूर होता है और इसमें रेग्युलर दूध से अधिक पोषक तत्व होते हैं। इसमें प्रोटीन, फैट, कार्बोहाइड्रेट, मैगनीशियम, बी विटामिन्स और विटामिन ए, सी और ई गाय के दूध से अधिक होता है।

कोलोस्ट्रम माइक्रोन्यूट्रिएंट्स, विटामिन्स और मिनरल्स से भरपूर होता है। सप्लीमेंट के दावे के अनुसार इसमें निम्न पौष्टिक तत्व होते हैं-

लैक्टोफेरिन- लैक्टोफेरिन बैक्टीरिया और वायरस के इंफेक्शन से लड़ने के लिए शरीर के इम्यून सिस्टम की प्रतिक्रिया में शामिल एक प्रोटीन है।

ग्रोथ फैक्टर्स- ग्रोथ फैक्टर्स हार्मोन्स हैं जो विकास को उत्तेजित करता है।

एंटीबॉडीज- एंटीबॉडी प्रोटीन होते हैं, जिसे इम्यूनोग्लोबिन्स भी कहते हैं। जिसका इस्तेमाल आपके शरीर द्वारा बैक्टीरिया और वायरस से लड़ने के लिए किया जाता है। बोवाइन कोलोस्ट्रम IgA, IgG और IgM एंटीबॉडी से भरपूर होता है।

और पढ़ें- जानें ब्रेस्टफीडिंग के 1000 दिन क्यों है बच्चे के जीवन के लिए जरूरी?

कोलोस्ट्रम सप्लीमेंट के फायदे

कई अध्ययन के मुताबिक, कोलोस्ट्रम में मौजूद तत्व इम्यूनोग्लोबिन और ग्रोथ फैक्टर्स ऑटोइम्यून डिसऑर्डर में फायदेमंद है। कोलोस्ट्रम के अन्य फायदों में शामिल है-

इम्यूनिटी बूस्ट करता है (Boost Immunity)

बोवाइन कोलोस्ट्रम इम्यून सिस्टम को मजबूत करके आपके शरीर को बीमारियों से लड़ने के लिए तैयार करता है। इसमें एंटीबॉडीज की मात्रा अधिक होने के कारण ही यह इम्यून सिस्टम को मजबूत करने में मदद करता है। रिसर्च के मुताबिक, यह एथलीट का इम्यूनिटी बूस्ट करने में भी मदद करता है। एक अध्ययन के मुताबिक, 35 व्यस्कों को जो रनर्स थे, डेली बोवाइन कोलोस्ट्रम दिया गया, जिससे उनमें स्लाइवा(PRONUNCIATION-SALIVA)IgA एंटीबॉडीज 79% तक बढ़ गई।

डायरिया से बचाव और उसका इलाज (Prevent Diarrhea )

बोवाइन कोलोस्ट्रम में मौजूद एंटीबॉडीज और प्रोटीन बैक्टीरियल और वायरल इंफेक्शन की वजह से होने वाले डायरिया से बचाव में मदद करते हैं। एचआईवी के मरीजों में डायरिया के लक्षण कम करने में भी यह मदद करता है।

गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल प्रॉब्लम्स (Gastrointestinal Problems)

नॉन स्टेरॉयड एंटी इन्फ्लामेट्री ड्रग्स की वजह से होने वाले गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्याओं से बचाव में कोलोस्ट्रम मदद करता है। एक अध्ययन के मुताबिक, कोलोस्ट्रम नॉन स्टेरॉयड एंटी इन्फ्लामेट्री ड्रग्स के लंबे समय से इस्तेमाल की वजह से गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल को हुए नुकसान को ठीक करने में मदद करता है।

एक्सरसाइज के कारण होने वाला एयरवे इंफेक्शन (Airway infections caused by exercise)

बोवाइन कोलोस्ट्रम को ओरली लेने पर एक्सरसाइज के कारण अपर एयरवे इंफेक्शन से बचाव होता है। यह अक्सर होने वाले एयरवे इंफेक्शन के लक्षणों को भी कम करता है।

फ्लू से बचाव (Flu Prevention)

एक अध्ययन के मुताबिक, बोवाइन सप्लीमेंट लेने से फ्लू से बचाव होता है और सप्लीमेंट लेने वाले सप्लीमेंट न लेने वालों की तुलना फ्लू से जल्दी ठीक हो जाते हैं। हालांकि इस संबंध और रिसर्च की जरूरत है।

और पढ़ें- फूड सेंसिटिव बच्चे को ब्रेस्टफीडिंग कैसे कराएं? जानें इस बारे में सबकुछ

कोलोस्ट्रम के संभावित साइड इफेक्ट (Possible Side Effects)

कोलोस्ट्रम को किस तरह लिया जाना चाहिए, इस संबंध में सही गाइडलाइन नहीं है और बहुत कम रिसर्च हुए है। जितने रिसर्च हुए है उसके अनुसार इसका इस्तेमाल सुरक्षित है और किसी ड्रग के साथ प्रतिक्रिया के बारे में भी कोई जानकारी नहीं है। इसके साइड इफेक्ट के बारे में जानकारी नहीं है।बेहतर होगा कि डॉक्टर से सलाह के बाद ही आप इसका सेवन करें।

कोलोस्ट्रम का इस्तेमाल कैसे किया जाता है? (colostrum supplement use)

कोलोस्ट्रम सप्लीमेंट पाउडर, कैप्सूल और जेल कैप्सूल के रूप में उपलब्ध है। यहां तक की एलर्जी से राहत के लिए कोलोस्ट्रम नेजल स्प्रे भी मौजूद है। कोलोस्ट्रम सप्लीमेंट को बिना किसी प्रिस्क्रिप्सन के ऑनलाइनया स्टोर से खरीदा जा सकता है। डोज की मात्रा अलग-अलग हो सकती है, यह मैन्यूफैक्चर द्वारा एथलेटिक्स परफॉर्मेंस या आंत को स्वस्थ रखने के लिए प्रतिदिन 20 ग्राम से 60 ग्राम तक लेने की सलाह दी जा सकती है। डायरिया के उपचार में इसे खाने से पहले लेने की सलाह दी जाती है। क्लिनकल ट्रायल्स में 9 हफ्ते तक 60mg प्रतिदिन डोज दिया गया। हालांकि बेहतर होगा कि इसे डॉक्टर

क्या प्रेग्नेंट और ब्रेस्टफीड कराने वाली महिलाओं के लिए यह सुरक्षित है?

गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को कोलोस्ट्रम का सेवन करना चाहिए या नहीं इस संबंध में पर्याप्त जानकारी नहीं है। इसलिए बेहतर होगा कि डॉक्टर से सलाह के बाद ही इसका सेवन करें।

क्या कोलोस्ट्रम डेयरी फ्री होता है (Is it dairy-free?)

कोलोस्ट्रम दूध नहीं है और इसमें लैक्टोज नहीं होता है। इसलिए यह उन लोगों के लिए भी सुरक्षित है जिन्हें लैक्टोज से एलर्जी है। हालांकि, कोलोस्ट्रम से अन्य तरह की एलर्जी होना संभव है। कोलोस्ट्रम सप्लीमेंट गाय के दूध से बनता है।

नवजात के लिए कोलोस्‍ट्रम के फायदे (colostrum benefits for infant)

नवजात बच्चे के लिए मां का पहला दूध बहुत जरूरी होता है और इसे ही कोलोस्ट्रम कहते हैं। कोलोस्ट्रम नवजात के लिए कई तरह से फायदेमंद है।

  • जन्‍म के बाद नवजात पहली बार कोलोस्‍ट्रम ही पीता है। इसमें कई पोषक तत्‍व मिल होते हैं।
  • यह शिशु को पहली बार पॉटी करने में मदद करता है। यह बच्‍चे के शरीर से बिलीरुबिन को निकालकर पीलिया होने से रोकता है।
  • यह नवजात की इम्‍यूनिटी को मजबूत बनाने में मदद करता है।
  • इसमें सीक्रेटरी इम्‍युनोग्‍लोबुलिन ए नामक एंटीबॉडी की अधिक मात्रा होती है। इसलिए कोलोस्‍ट्रम शिशु को संक्रमण से बचाने में कारगर होता है।
  • कोलोस्‍ट्रम में उच्‍च मात्रा में कोलेस्‍ट्रोल होता है जो बच्‍चे के नर्वस सिस्टम के विकास में मदद करता है।
  • इसमें जिंक, कैल्शियम, विटामिन ए, बी6 और के होता है जो नवजात के संपूर्ण विकास में मदद करता है।
  • न्यूबॉर्न बेबी की आंतों में बहुत छेद होता है। कोलोस्ट्रम बच्चे की आंतों को एक बैरियर के साथ छेदों को सील कर देता है। इससे बच्चे की किसी भी फूड एलर्जी से एलर्जी का खतरा नहीं रहता है।
  • इसमें न्यूरोप्रोटेक्टिव प्रभाव भी होता है, जो अल्जाइमर से बचाने में मददगार हो सकता है।

और पढ़ें- क्या ब्रेस्टफीडिंग से बच्चे को सीलिएक बीमारी से बचाया जा सकता है?

डिलीवरी के बाद कब तक आता है कोलोस्‍ट्रम?

डिलीवरी के बाद 3 से 4 दिनों तक महिला के ब्रेस्ट में कोलोस्‍ट्रम बनता है। पांचवें दिन से ब्रेस्‍ट मिल्‍क आना शुरू हो जाता है जो कि पतला और सफेद होता है। कोलोस्ट्रम पीला और गाढ़ा होता है और ब्रेस्ट में इसका निर्माण प्रेग्नेंसी के आखिरी कुछ महीनों से ही होने लगता है। कई बार आखिरी चरण में महिला को ब्रेस्ट में हल्का रिसाव भी महसूस होता है, वह कोलोस्ट्रम ही होता है।

कोलोस्ट्रम नवजात बच्चे के लिए अमृत के समान होता है, लेकिन यह सप्लीमेंट के रूप में भी उपलब्ध है जो गाय के कोलोस्ट्रम से बनता है और यह सप्लीमेंट व्यस्कों के लिए फायदेमंद है, जो कई बीमारियों से बचाने में मदद करता है। हालांकि कोलोस्ट्रम सप्लीमेंट्स को लेकर अभी बहुत रिसर्च नहीं हुई है। इसलिए बेहतर होगा कि आप डॉक्टर की सलाह पर ही इसे लें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

ADD MORE REFERENCES

REVIEWED

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

http://www.foodandnutritionjournal.org/volume1number1/colostrum-its-composition-benefits-as-a-nutraceutical-a-review/ accessed on 04/2/2021

 

https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/14653766/ accessed on 04/2/2021

 

https://clinicaltrials.gov/ct2/show/NCT01792297  accessed on 04/2/2021

लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Toshini Rathod द्वारा लिखित
अपडेटेड 04/02/2021
x