home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

डिलीवरी के बाद सेक्स करने का सही समय क्या है?

डिलीवरी के बाद सेक्स करने का सही समय क्या है?

एक ओर जहां गर्भावस्था के दौरान महिला को कई तरह की सावधानियां बरतनी पड़ती हैं, ठीक उसी तरह डिलीवरी के बाद भी पूरी सावधानियां बरतने की जरूरत होती है। क्योंकि, डिलीवरी के बाद काफी समय तक महिला का शरीर कमजोर रहता है, इसलिए उन्हें किसी भी तरह की लापरवाही नहीं बरतनी चाहिए। बहुत-से लोगों के मन में डिलीवरी के बाद सेक्स को लेकर सवाल बना रहता है।

ज्यादातर लोगों का सवाल होता है कि बच्चे के जन्म के कितने समय बाद सुरक्षित सेक्स कर सकते हैं? आपको बता दें कि सेक्स के लिए डिलीवरी के बाद होने वाली ब्लीडिंग (lochia) के खत्म होने तक आपको इंतजार करना पड़ सकता है। आइए, विस्तार से जानते हैं कि डिलीवरी के कितने दिन बाद सेक्स कर सकते हैं?

और पढ़ें: सेक्स के बाद इमोशनल बॉन्डिंग बढ़ाता है आफ्टरप्ले

डिलीवरी के बाद सेक्स कितने दिन में कर सकते हैं?

बच्चे के जन्म के करीब तीन सप्ताह बाद तक महिला को ब्ली़डिंग बंद हो जाती है। हालांकि, इसे पूरी तरह से ठीक होने में चार से छह सप्ताह तक का समय लग सकता है। जिसके बाद सेक्स किया जा सकता है।

प्लेसेंटा के बाहर निकलने से गर्भाशय में हुए घाव को भरने में समय लगता है। अगर ब्लीडिंग बंद होने से पहले ही सेक्स करेंगे, तो इससे संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ सकता है। जब भी आपको लगे कि बच्चे के जन्म के बाद आप शारीरिक और मानसिक रूप से सेक्स के लिए तैयार हैं, तो आप संभोग कर सकते हैं।

इस बात का भी ख्याल रखें कि डिलीवरी के बाद का कुछ समय काफी नाजुक होता है, इसलिए कोशिश करें कि आप डिलीवरी के कम से कम एक महीने का अंतराल जरूर रखें। इसके अलावा, हर महिला की शारीरिक स्थिति अलग होती है, इसलिए आप डिलीवरी के बाद सेक्स को लेकर अपने डॉक्टर से सलाह ले लें।

और पढ़ें: पहली बार सेक्शुअल इंटरकोर्स करते समय ध्यान दें ये बातें

डॉक्टर्स की राय

बच्चे के जन्म के छह सप्ताह बाद डॉक्टर मां के शरीर की जांच कराने की सलाह देते हैं। इस जांच में वे पता लगाते हैं कि महिला का शरीर प्रसव के बाद पूरी तरह से स्वस्थ हो पाया है या नहीं।

पोस्ट डिलीवरी सेक्स पर क्या कहते हैं अध्ययन

अमेरिकन कॉलेज ऑफ ओब्स्टेट्रिशियन एंड गायनेकोलॉजिस्ट द्वारा जारी किए गए पोस्टपार्टम केयर दिशानिर्देशों के तहत सलाह दी गई है कि महिलाओं को प्रसव के बाद कम से कम 12 सप्ताह तक किसी भी तरह की भारी शारीरिक क्रिया करने से परहेज करना चाहिए। डिलीवरी के बाद सेक्स कब करना चाहिए, उन्होंने इस मुद्दे पर अध्ययन भी किया। इस अध्ययन के लिए, शोधकर्ताओं ने दक्षिण कैरोलिना की 70 महिलाओं से प्रजनन और स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों के बारे में पूछताछ की।

इस अध्ययन के दौरान पाया गया कि ऐसे कई कारक होते हैं, जो महिलाओं को डिलीवरी के बाद सेक्स फिर से शुरू करने से रोकते हैं। उन्होंने अपने अध्ययन में पाया कि महिलाएं निश्चित नहीं थीं कि डिलीवरी के बाद सेक्स करने के दौरान उनका शरीर किस तरह से उनका साथ देगा या उन्हें डिलीवरी के बाद सेक्स के दौरान दर्द या किस तरह की परेशानी हो सकती है या क्या वो सेक्स लाइफ के साथ-साथ नवजात शिशु की देखभाल कर पाने में सक्षम होंगी या नहीं।

इसके अलावा अध्ययन में यह भी पाया गया कि महिलाओं के कई मनोवैज्ञानिक कारण भी डिलीवरी के बाद सेक्स फिर से शुरू करने में बाधा बन सकते हैं। डिलीवरी के बाद सेक्स फिर से शुरू करने के लिए महिलाएं मानसिक रूप से तैयार महसूस नहीं कर सकती हैं या नर्वस महसूस कर सकती हैं। खासकर तब, जब उन्होंने डिलीवरी के बाद सेक्स करने का प्रयास किया हो, लेकिन पहली ही बार में वे असफल साबित हो गई हों। इसके अलावा, बच्चे के जन्म के बाद उनके शरीर का फिगर भी उनकी सबसे बड़ी चिंता का कारण बन सकता है। कई महिलाएं बच्चे के जन्म के बाद साथी के सामने खुद के शरीर को लेकर असहज महसूस कर सकती हैं।

और पढ़ेंः रिलेशनशिप टिप्स : हर रिलेशनशिप में इंटिमेसी होनी क्यों जरूरी है?

इस अध्ययन के दौरान कुछ महिलाओं को जहां 40 दिनों के अध्ययन में शामिल किया गया, तो कुछ महिलाओं को लगभग छह सप्ताह तक अध्ययन का हिस्सा बनना पड़ा। अध्ययन में शामिल एक महिला का कहना है, “अध्ययन के दौरान डॉक्टर ने मुझे डिलीवरी के बाद सेक्स करने के लिए 6 सप्ताह का समय दिया था। क्योंकि, अधिकतर महिलाएं बच्चे के जन्म के छह सप्ताह बाद अपने शरीर को सेक्स के लिए फिर से तैयार कर लेती है। लेकिन हमने सिर्फ चार सप्ताह तक ही इसके लिए इंतजार किया। क्योंकि, वे चाहते थे कि बच्चे के जन्म के बाद फिर से उनकी सेक्स लाइफ दोबारा से शुरू हो सके।”

शारीरिक और मानसिक रूप से तैयार होना है जरूरी

इसके अलावा अध्ययन में शामिल एक अन्य महिला का कहना था कि शोधकर्ताओं ने उनसे कहा कि जब तुम्हें लगे कि डिलीवरी के बाद सेक्स करने के लिए तुम शारीरिक और मानसिक रूप से तैयार हों, तो तभी से सेक्स कर सकती हों। इसके लिए दो सप्ताह या 12 सप्ताह तक का इंतजार नहीं करना चाहिए।

और पढ़ेंः फर्स्ट टाइम सेक्स से पहले जान लें ये 10 बातें, हर मुश्किल होगी आसान

इन स्थितियों में करें सेक्स से परहेज

टांके लगे होने पर डिलीवरी के बाद सेक्स

जिन महिलाओं का पेरिनियम भाग (योनि और गुदा के बीच का भाग) प्रसव के दौरान कट जाता है या वहां पर चीरा लगाया जाता है, तो इसके ठीक होने तक सेक्स से परहेज करना चाहिए। इसके अलावा, टांके लगे होने पर भी सेक्स से तब तक परहेज करना चाहिए, जब तक यह ठीक न हो जाए।

गलत सेक्स पुजिशन

शिशु के जन्म के बाद मां के शरीर में कई बदलाव होते हैं। ऐसे में उन पुजिशन को करने से बचना चाहिए, जो मां के गर्भाशय पर दबाव बनाते हों। आइए कुछ आरामदायक सेक्स पुजिशन के बारे में जान लेते हैं, जो डिलीवरी के बाद सेक्स करने के लिए मददगार साबित हो सकती हैं।

डिलीवरी के बाद सेक्स के लिए स्पूनिंग पुजिशन

डिलीवरी के बाद सेक्स करने के लिए यह पुजिशन आपका बेस्ट ऑप्शन हो सकती है। यह सेक्स पुजिशन उन महिलाओं के लिए भी मददगार और आरामदायक साबित होती है, जिन्हें प्रसव के दौरान सी-सेक्शन से गुजरना पड़ा हो। इससे आपके पेट पर कोई प्रेशर नहीं पड़ता है, जिससे आप आराम से सेक्स का आनंद ले पाती हैं। इस पुजिशन में महिला पेनिट्रेशन की गहराई और स्पीड को कंट्रोल कर सकती हैं, जिससे उनका एक्सपीरियंस और भी शानदार हो जाएगा। इस पुजिशन को अपनाने के लिए महिला को बेड पर एक साइड की तरफ से लेटना होता है। इसके बाद पुरुष पार्टनर उसके पीछे उसी साइड की तरफ से लेटकर इंटरकोर्स करता है। इसमें दोनों पार्टनर एक दूसरे से आई कॉन्टैक्ट नहीं बना पाते हैं।

मिशनरी पुजिशन

मिशनरी पुजिशन सबसे पुरानी, सबसे आसान और महिलाओं के लिए सबसे आरामदायक होती है। इसमें आपके किसी भी शारीरिक अंग पर प्रेशर नहीं पड़ता है। इस सेक्स पुजिशन को अपनाते हुए पुरुष खुद को महिला के शरीर के ऊपर आने से बचा सकते हैं, जिससे उनके महिला के ऊपर गिरने की आशंका खत्म हो जाती है। इसके साथ ही इस पुजिशन में स्पीड और पेनिट्रेशन के लेवल को आराम से कंट्रोल किया जा सकता है। इसे पुजिशन को ट्राय करने के लिए महिला को बेड पर कमर के बल आराम से लेटना होता है। इसके बाद मेल पार्टनर महिला के पैरों की तरफ से इंटरकोर्स करता है

और पढ़ें: तरह-तरह के कॉन्डम फ्लेवर्स से लगेगा सेक्स लाइफ में तड़का

पोस्ट प्रेग्नेंसी सेक्स के लिए वीमेन ऑन टॉप पुजिशन

प्रेग्नेंसी के बाद सेक्स करने के लिए महिलाएं वीमेन ऑन टॉप पुजिशन को ट्राय कर सकती हैं और यह उनके लिए काफी बेहतर भी होती है। क्योंकि इसमें पूरा कंट्रोल उनके हाथ में होता है। इस सेक्स पुजिशन में महिलाओं के पेट पर प्रेशर नहीं पड़ता है, जिस कारण उनके लिए परेशानी या दर्द होने की आशंका घट जाती है। इस पुजिशन को ट्राय करने के लिए मेल पार्टनर को बेड पर कमर के बल लेटना होता है और फीमेल पार्टनर उनके ऊपर आकर इंटरकोर्स करवाती है। इसमें महिला खुद पेनिट्रेशन का लेवल और स्पीड का चुनाव कर सकती है।

रिवर्स चेयर पुजिशन

इस पुजिशन में भी महिलाओं को वीमेन ऑन टॉप जैसे फायदे प्राप्त होते हैं। क्योंकि, इसमें भी हर चीज उनके कंट्रोल में होती है। पेनिट्रेशन का क्या लेवल होगा, स्पीड क्या होगी आदि, सबकुछ उनके हाथ में होता है। इस पुजिशन में भी उनके पेट पर कोई दबाव नहीं पड़ता है। इसे ट्राय करने के लिए आप मेल पार्टनर को एक चेयर पर बैठना होता है और उसके बाद फीमेल पार्टनर उनकी तरफ कमर करके पेनिट्रेशन करवाती है। अगर आप उनकी तरफ मुंह भी करना चाहती हैं, तो कर सकती हैं लेकिन ध्यान रखना होगा कि आप दोनों के सेक्स करने के दौरान पेट पर दबाव न पड़े।

डॉगी स्टाइल से रहें बिल्कुल दूर

ऊपर बताई गई आरामदायक सेक्स पुजिशन के साथ यह भी जान लें कि प्रेग्नेंसी के बाद डॉगी स्टाइल पुजिशन से बिल्कुल दूर रहना चाहिए। क्योंकि इस पुजिशन में उनके पेट और पेरीनियम पर काफी दवाब पड़ता है। इसके साथ ही वह न ही पेनिट्रेशन का लेवल कंट्रोल कर पाती हैं और न ही स्पीड। इस कारण उन्हें दर्द का सामना करना पड़ सकता है।

और पढ़ें: रूटीन की सेक्स पुजिशन से कुछ हटकर करना है ट्राय तो इन्हें आजमाएं

powered by Typeform

योनि में ज्यादा सूखापन होने पर डिलीवरी के बाद सेक्स

इस बात का ख्याल रखें कि शिशु के जन्म के बाद महिला की योनि पहले की तुलना में अधिक ड्राय हो सकती है। इस दौरान संबंध बनाना मां के लिए पीड़ादायक हो सकता है। इसलिए, इसे आरामदायक बनाने के लिए चिकनाई का उपयोग करें। लेकिन, अगर कॉन्डोम का उपयोग करते हैं, तो चिकनाई युक्त चीजों का इस्तेमाल न करें।

पुरुष इस बात का खास ध्यान रखें कि जरूरी अंतराल से पहले डिलीवरी के बाद सेक्स करना महिला के लिए हानिकारक हो सकता है। इसलिए, हमेशा महिला की सेहत दुरुस्त होने का इंतजार करें, ताकि उनके शरीर को किसी तरह की हानि न हो और महिला भी इसका ठीक तरह से आनंद उठा पाए।

डिलीवरी के बाद क्या तुरंत प्रेग्नेंट हो सकती हैं महिलाएं

डिलीवरी के बाद सेक्स करने पर महिलाओं या कपल्स के मन में एक सवाल और होता है, जो कि दोबारा प्रेग्नेंसी से जुड़ा हुआ है। कुछ कपल्स को पोस्ट डिलीवरी सेक्स से प्रेग्नेंसी की संभावनाओं का डर लगा रहता है। वहीं, कुछ लोगों को लगता है कि डिलीवरी के तुरंत बाद महिलाएं प्रेग्नेंट नहीं हो सकती हैं, इसलिए उस दौरान सेक्स का आनंद लेने में कोई बुराई नहीं है। लेकिन सच यह है कि आप किसी डिलीवरी के बाद बहुत कम समय में दोबारा गर्भवती हो सकती हैं और इसकी पूरी संभावना बनी रहती है। हालांकि, हर महिला में यह समय अलग-अलग हो सकता है। वहीं, कुछ लोगों को लगता है कि स्तनपान करवाने वाली महिला गर्भवती नहीं हो सकती है, जो कि कुछ हद तक ही सही है।

प्रसव के कितने समय बाद दोबारा गर्भवती होने की होती है संभावना

आप यह जानकर चौंक सकते हैं कि जो महिलाएं स्तनपान नहीं करवा पा रही हैं, उनके प्रसव के बाद 6 हफ्तों के आसपास पहला ओव्यूलेशन शुरू हो सकता है। कुछ महिलाओं में यह प्रक्रिया और जल्दी शुरू हो सकती है। लेकिन, स्तनपान करवाने वाली महिलाओं में ओव्यूलेशन आमतौर पर 6 महीने के बाद ही होता है। हालांकि, इसके अलावा निम्नलिखित कारण भी डिलीवरी के बाद आपके पहले ओव्यूलेशन का समय निर्धारित करने में रोल निभा सकते हैं। जैसे-

  • जिनका पोस्टपार्टम समय 6 महीने से कम हो
  • शिशु को स्तनपान करवाने की फ्रीक्वेंसी और रेगुलरिटी
  • पीरियड्स की शुरुआत

आप ध्यान रखें कि जो महिलाएं स्तनपान को बर्थ कंट्रोल के एक विकल्प की तरह इस्तेमाल करती हैं। उनमें से हर 4 महिलाओं में 1 महिला को गर्भवती होने की संभावना होती है।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो रही है, तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Sex after pregnancy: Set your own timeline. https://www.mayoclinic.org/healthy-lifestyle/labor-and-delivery/in-depth/sex-after-pregnancy/art-20045669. Accessed on 05 February, 2020.

Contraception – https://www.cdc.gov/reproductivehealth/contraception/index.htm Accessed on 05 February, 2020

Birth Spacing and Risk of Adverse Perinatal Outcomes – https://jamanetwork.com/journals/jama/article-abstract/202711 Accessed on 05 February, 2020

Getting pregnant again – https://www.womenshealth.gov/pregnancy/childbirth-and-beyond/getting-pregnant-again Accessed on 05 February, 2020

HOW LONG SHOULD YOU WAIT BEFORE GETTING PREGNANT AGAIN? – https://www.marchofdimes.org/pregnancy/how-long-should-you-wait-before-getting-pregnant-again.aspx Accessed on 05 February, 2020

लेखक की तस्वीर
Dr. Pooja Bhardwaj के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Ankita mishra द्वारा लिखित
अपडेटेड 05/07/2019
x