Shelcal Hd: शेलकॉल एचडी क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जून 16, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

फंक्शन

शेलकॉल एचडी (Shelcal Hd) कैसे काम करती है?

यह टैबलेट मुख्य रूप कैल्शियम (500.0 एमजी) और कॉलेकैल्सिफेरॉल (Cholecalciferol) (विटामिन डी3, 500.0 एलयू) नामक तत्वों को मिलाकर तैयार की जाती है। इस दवा का इस्तेमाल कैल्शियम और विटामिन डी सप्लिमेंट्स के तौर पर किया जाता है। इसमें मौजूद तत्व कैल्शियम और विटामिन डी 3 शरीर में यदि कम हो तो इस दवा को देकर मरीज का उपचार किया जाता है।

बता दें कि कैल्शियम शरीर के लिए काफी अहम होता है। यह नर्व, मसल्स, सेल्स और हडि्डयों को मजबूती प्रदान करता है। वहीं विटामिन डी 3 शरीर में इंटेस्टाइन के द्वारा कैल्शियम और फास्फोरस को एब्जॉर्ब करने में मदद करता है। यह हडि्डयों की मजबूती के लिए काफी अहम होते हैं। शरीर में विटामिन डी की कमी होने से हडि्डयों का फ्रैक्चर, मसल्स पेन और कमजोरी जैसी परेशानियां होती हैं।

डोसेज

शेलकॉल एचडी (Shelcal Hd) का सामान्य डोज क्या है?

इस दवा का डोज किसी भी व्यक्ति का लिंग, उम्र, वजन के साथ मानसिक व शारीरिक कंडिशन को ध्यान में रखकर दिया जाता है।

ओवरडोज या आपात स्थिति में मुझे क्या करना चाहिए?

डॉक्टर के सुझाए डोज से यदि आप ज्यादा मात्रा में डोज का सेवन करते हैं तो जरूरी है कि जल्दी से जल्दी आप डॉक्टरी सलाह लें। इस परिस्थिति में आपको मेडिकल इमरजेंसी तक की जरूरत पड़ सकती है।

शेलकॉल एचडी (Shelcal Hd) की खुराक मिस हो जाए तो क्या करूं?

यदि आप टैबलेट का सेवन करना भूल जाते हैं तो जितनी जल्दी आपको याद आए दवा का सेवन कर लें। वहीं यदि अगली खुराक का समय आ गया है तो पहले से निर्धारित दवा का सेवन करें। डबल डोज न लें।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

और पढ़ें : Lesuride: लेसूराइड क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

उपयोग

शेलकॉल एचडी (Shelcal Hd) का इस्तेमाल कैसे करना चाहिए?

दवा के सेवन की बात करें तो जैसा कि आपके डॉक्टर ने सुझाया है उनके कहे अनुसार इस दवा की खुराक लेनी चाहिए। शाम के खाने के बाद यदि इसका सेवन करें तो नतीजे अच्छे रहते हैं। संभावनाएं रहती हैं कि यह विटामिन फैट और लिवर में जमा हो जाए। इसलिए लंबे समय तक इस दवा का सेवन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है। वहीं डॉक्टर के सुझाए डोज से ज्यादा मात्रा में सेवन करना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है। इसलिए कतई ओवरडोज न लें।

 इन बीमारियों का इलाज करने के लिए शेलकॉल एचडी दवा का होता है इस्तेमाल

और पढ़ें : Mondeslor: मोन्डेस्लर क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

साइड इफेक्ट्स

शेलकॉल एचडी (Shelcal Hd) के क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

शेलकॉल एचडी के निम्न साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं।

और पढ़ें : Looz Syrup : लूज सिरप क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

सावधानी और चेतावनी

शेलकॉल एचडी (Shelcal Hd)का इस्तेमाल करने से पहले मुझे क्या जानना चाहिए?

यदि आप शेलकॉल एचडी का सेवन करते हैं तो जरूरी है कि आपको निम्न बातों के बारे में जानकारी होनी चाहिए।

  • एलर्जी : बता दें कि यदि आपको विटामिन डी, कैल्शियम सहित इस दवा में मौजूद अन्य इंग्रीडिएंट्स से एलर्जी है तो इस दवा का सेवन नहीं करना चाहिए। डॉक्टरी सलाह लेने के बाद वैकल्पिक दवाओं का सेवन करना फायदेमंद होता है।
  • ज्यादा मात्रा में सेवन से बचें : मरीजों को यह ध्यान रखना चाहिए कि डॉक्टर ने जितना सुझाया है उतनी मात्रा में ही इस दवा का सेवन करें। यदि आपके खून में कैल्शियम और विटामिन डी की मात्रा अधिक है तो दवा का सेवन नहीं करना चाहिए। संभावनाएं रहती हैं कि खून में काफी मात्रा में कैल्शियम आ सकता है, किडनी स्टोन की बीमारी होने के साथ आपकी स्थिति इतनी बिगड़ सकती है कि आप बेड से उठ भी न पाए। इसलिए जरूरी है कि दवा का सेवन करने को लेकर इन बातों को ध्यान रखना चाहिए।
  • टिशू क्लासिफिकेशन : संभावनाएं रहती हैं कि इस दवा का सेवन करने से आप टिशू क्लासिफिकेशन की समस्या से ग्रसित हो सकते हैं। इसलिए जरूरी है कि जितना जल्दी संभव हो डॉक्टरी सलाह लेना चाहिए। इस बीमारी के होने से बॉडी के टिशू में कैल्शियम डिपॉजिट हो सकता है।
  • मालएब्जॉर्प्शन (Malabsorption) : शेलकॉल एचडी सेवन करने से आप मालएब्जॉर्प्शन की समस्या से ग्रसित हो सकते हैं। यदि शरीर में कोई लक्षण दिखाई दे तो जरूरी है कि जल्द से जल्द डॉक्टरी सलाह लेना चाहिए।
  • किडनी प्रॉब्लम और ब्लड कैंसर : संभावनाएं रहती हैं कि यदि आप बिना डॉक्टरी सलाह के दवा का सेवन करें तो आपको किडनी की समस्याएं होने के साथ ब्लड कैंसर तक की बीमारी हो सकती है। इसलिए जरूरी है कि डॉक्टरी सलाह लेने के बाद ही शेलकॉल एचडी का सेवन करें।
  • अन्य सप्लिमेंट्स लेने के केस में : शेलकॉल एचडी का सेवन करने के पूर्व या फिर साथ में यदि आप विटामिन डी और कैल्शियम बढ़ाने वाली दवाइयों का सेवन कर रहे हैं तो ऐसा करना आपकी सेहत के लिए नुकसानदेह हो सकता है। इसलिए जरूरी है कि दवा लेने के पूर्व डॉक्टरी सलाह ले लें।
  • कोलेस्ट्रोल का स्तर : बता दें कि यदि आपके शरीर में कोलेस्ट्रोल की मात्रा अधिक है तो जरूरी है कि शेलकॉल एचडी का सेवन करने के पूर्व डॉक्टरी सलाह लें।
  • थायरॉयड : इस दवा का सेवन करने के साथ कभी भी थायरॉयड की दवा का सेवन नहीं करना चाहिए। यदि आप इस बीमारी से ग्रसित हैं तो जरूरी है कि डॉक्टरी सलाह लें।
  • हाइपरकैल्शिमिया (Hypercalcemia) : मरीजों को सुझाव दिया जाता है कि शेलकॉल एचडी का सेवन हाइपरकैल्शिमिया की परिस्थिति में नहीं करना चाहिए। संभावनाएं रहती हैं कि पैराथायरायड ग्लैंड सामान्य रूप से काम न करें।
  • विटामिन डी टॉक्सिटी : विटामिन डी टॉक्सिटी के केस में इस दवा का सेवन कतई नहीं करना चाहिए।
  • पेप्टिक अल्सर : पेप्टिक अल्सर की बीमारी से जूझ रहे लोगों को शेलकॉल एचडी सेवन कतई नहीं करना चाहिए। संभावनाएं रहती हैं कि दवा का सेवन करने से कई नकारात्मक असर हो सकते हैं।
  • रिपीटेड ब्लड ट्रांसफ्यूशन्स : मरीज जिन्हें नियमित तौर पर खून चढ़ाया जाता है उन्हें शेलकॉल एचडी का सेवन करने की सलाह नहीं दी जाती है।

और पढ़ें : Onabet: ओनाबेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

रिएक्शन

कौन-सी दवाइयां शेलकॉल एचडी (Shelcal Hd) के साथ रिएक्शन कर सकती हैं?

वैसे तो हर दवा हर व्यक्ति पर अलग-अलग तरीके से रिएक्ट करती है। इस दवा को लेने से पहले भी इसके रिएक्शन को लेकर डॉक्टरी सलाह जरूर लेना चाहिए ताकि उसके रिएक्शन से समय रहते बचा जा सके।

इन दवाओं के साथ इंटरेक्शन की संभावनाएं 

  • कोलेस्ट्रामाइन (Cholestyramine)
  •  एक्टीनोमाइसिन (Actinomycin)
  •  डॉक्सीसाइली (Doxycycline)
  •  बारबीटूरेंट्स (Barbiturates)
  •  कैल्शियम एसीटेट (Calcium acetate)
  •  एलेंड्रोनेट (Alendronate)
  •  सिप्रोफ्लोक्लासिन (Ciprofloxacin)
  •  ग्लूकोकोर्टीकोइड्स (Glucocorticoids)

इन बीमारियों के साथ भी रिएक्शन की हैं संभावनाएं

  • एलर्जिक रिएक्शन : शेलकॉल एचडी टैबलेट में मौजूद तत्वों के कारण कुछ लोगों को एलर्जी की समस्या हो सकती हैर। वहीं इसलिए कोशिश करें कि ऐसे व्यक्ति जिन्हें इसके सेवन से एलर्जी हो सकती है वे इसका सेवन न ही करें।
  • किडनी स्टोन : कुछ मरीजों में इस दवा का सेवन करने के कारण किडनी स्टोन की बीमारी भी हो सकती हैर। ऐसे में एक्सपर्ट सुझाव देते हैं कि किडनी की बीमारी से ग्रसित व्यक्ति इस दवा का सेवन न ही करें।
  •  खून में कैल्शियम की ज्यादा मात्रा :हाइपरएक्टिव थायराॅइड ग्लैंड के कारण जिनके शरीर में कैल्शियम की मात्रा अधिक होती है उन्हें इस दवा का सेवन नहीं करने की सलाह दी जाती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि संभावनाएं रहती हैं कि उनकी समस्या और ज्यादा खराब न हो जाए। इसके दुष्प्रभाव की बात करें तो हड्डियां कमजोर होने के साथ दिमाग और हार्ट संबंधी परेशानी भी हो सकती है।
  •  इनफ्रिक्वेंट बाॅवेल मूवमेंट : इस दवा का सेवन करने के कारण संभावनाएं रहती हैं कि मरीज क्रॉनिक कॉन्स्टिपेशन की बीमारी से ग्रसित हो सकता है। जिसके कारण उसका पूरा शरीर प्रभावित हो सकता है। क्रॉनिक कॉन्स्टिपेशन के कारण इनफ्रिक्वेंट बाॅवेल मूवमेंट संबंधी दिक्कतें हो सकती हैं। वहीं मरीज को मल त्यागने में दिक्कत हो सकती है।
  •  सारकोडोसिस :  सारकोडोसिस का अर्थ इनफ्लमेटरी सेल्स ग्रेन्यूलोमास (granulomas) के बढ़ने से है। यह शरीर के विभिन्न पार्ट में बढ़ सकते हैं। जैसे लंग्स, लिंफ नोड्स, आंख और स्किन पर। ऐसे में इस बीमारी से ग्रसित मरीजों को सलाह दी जाती है कि शेलकॉल एचडी सेवन न ही करें।
  •  डीहाइड्रेशन : डीहाइड्रेशन के कई केस में शरीर से जितना पानी निकल जाता है उससे काफी कम मात्रा में व्यक्ति पानी लेता है। इसका असर शरीर के सभी अंगों पर पड़ता है। जिस कारण बॉडी आसानी से काम नहीं कर पाती। ऐसे में डीहाइड्रेशन की बीमारी से ग्रसित लोगों को सलाह दी जाती है कि वे शेलकॉल एचडी का सेवन न ही करें।
  •  किडनी डिजीज : सलाह दी जाती है कि किडनी की बीमारी से ग्रसित व्यक्ति इस दवा का सेवन न ही करे तो बेहतर होगा। ऐसे में व्यक्ति के शरीर का खून सामान्य की मात्रा में अच्छे से प्यूरीफाइ नहीं हो पाएगा। खून को फिल्टर करने के लिए शरीर को अत्यधिक मात्रा में पानी की आवश्यकता पड़ेगी। रेड ब्लड सेल्स के प्रोडक्शन और स्वस्थ्य हड्डियों को बनाने में विटामिन डी की उपयोगिता में किडनी अहम भूमिका अदा करती है। इसलिए जरूरी है कि किडनी स्वस्थ रूप से काम करें। वहीं किडनी की बीमारी होने पर मरीज को यह दवा नहीं देने की सलाह दी जाती है।

और पढ़ें : Cofsils: कोफसिल्स क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

स्टोरेज

शेलकॉल एचडी (Shelcal Hd) को कैसे करूं स्टोर?

दवा को घर में सामान्य रूम टेंप्रेचर में ही रखें। दवा को सूर्य कि किरणों से बचाकर रखें। 25 डिग्री तापमान दवा के लिए बेस्ट है, लेकिन फ्रिज में रखने की गलती न करें। यदि आप ऐसा नहीं करते हैं तो यह दवा सामान्य रूप से काम नहीं कर पाएगी। इसके अलावा इसे बच्चों की पहुंच से दूर रखना चाहिए। एक्सपायरी होने के पहले ही दवा का सेवन करें। इसे एयरटाइट कंटेनर में रखना चाहिए। इतना ही नहीं दवा को फ्लश नहीं करना चाहिए। इससे पर्यावरण को नुकसान पहुंच सकता है। दवा एक्सपायर हो जाए तो उसे कैसे डिस्पोज करना है उसको लेकर फॉर्मासिस्ट से सलाह लेनी चाहिए।

शेलकॉल एचडी (Shelcal Hd) किस रूप में उपलब्ध है?

  •  टैबलेट
  • सिरप

इस विषय पर अधिक जानकारी के लिए डाॅक्टरी सलाह लें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

कोरोना वायरस से जंग में शरीर का साथ देगा विटामिन-डी, फायदे हैं अनेक

कोरोना वायरस और विटामिन-डी : क्या आप जानते हैं कि विटामिन-डी (Vitamin D) का सेवन करके आप कोरोना वायरस से बचाव कर सकते हैं?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mona narang
कोरोना वायरस, कोविड 19 की रोकथाम अप्रैल 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

विटामिन सप्लीमेंट्स लेना कितना सुरक्षित है? जानें इसके संभावित खतरे

विटामिन सप्लीमेंट्स क्या हैं? कैसे लिए जाते हैं, जानें विटामिन सप्लीमेंट्स के प्रकार in hindi, vitamin suppliments in hindi। कई बार भोजन से कुछ पोषक तत्व नहीं मिल पाते, ऐसे में विटामिन सप्लीमेंट्स लिए जाते हैं, लेकिन अपनी मर्जी से सप्लीमेंट्स लेना क्या सुरक्षित है, जानिए यहां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन फ़रवरी 12, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

चावल के आटे के घरेलू उपयोग के बारे में कितना जानते हैं आप?

चावल के आटे के घरेलू उपयोग करके स्किन की समस्याओं से निजात पाया जा सकता है। चावल के आटे का यूज शहद, खीरे, दूध, आलू का रस आदि के साथ किया जा सकता है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन फ़रवरी 11, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

इंटरनेशनल एपिलेस्पी डे: मिर्गी के इलाज में कीटो डायट कर सकती है मदद, ऐसा होना चाहिए मरीज का खान-पान

एपिलेप्सी कोई लाइलाज बीमारी नहीं है, बल्कि मिर्गी का इलाज घरेलू उपाय से भी किए जा सकता है। मिर्गी के इलाज के लिए कीटो डायट का उपयोग भी कर सकते हैं। मिर्गी के लक्षण और कारण, एपिलेस्पी ट्रीटमेंट, epilepsy diet in hindi, epilepsy seizure treatment in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
हेल्थ सेंटर्स, न्यूरोलॉजिकल समस्याएं फ़रवरी 10, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

वेजीटेरियन डाइट

वर्ल्ड वेजीटेरियन डे : ये 10 शाकाहारी खाद्य पदार्थ मीट से कहीं ज्यादा ताकतवर

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ सितम्बर 4, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
Calcimax P, कैल्सिमैक्स पी

Calcimax P: कैल्सिमैक्स पी क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ जून 29, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
कैल्सिमैक्स फोर्ट

Calcimax Forte: कैल्सिमैक्स फोर्ट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ जून 17, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
Cardivas : कार्डिवैस, कार्विडिलोल

Cardivas : कार्डिवैस क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
प्रकाशित हुआ जून 15, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें