home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

सोडियम कैसिनेट (sodium caseinate) क्या है? जानिए इसके उपयोग

सोडियम कैसिनेट (sodium caseinate) क्या है? जानिए इसके उपयोग

अगर आप फूड आयटम्स पर दी गई इंग्रीडेंट्स की लिस्ट को पढ़ते हैं, तो आपने शायद ध्यान दिया होगा कि उस लिस्ट में सोडियम कैसिनेट (Sodium Caseinate) का नाम होता है। आपने शायद कभी इसके बारे में जानना चाहा भी हो, लेकिन फिर सोचा हो कि जाने देते हैं। हमें तो फूड आयटम्स को खाने से मतलब है, तो आज इस लेख में आपको इसके बारे में पूरी जानकारी दी जा रही है। दरअसल सोडियम कैसिनेट एक कंपाउंड है जो कैसिन (Casein) से मिलता है और ये एक प्रकार का प्रोटीन है जिसे स्तनधारी जानवरों के दूध से प्राप्त किया जाता है।

कैसिन गाय के दूध में पाया जाने वाला प्रमुख प्रोटीन है ,जो इसे सफेद रंग, अपारदर्शी गुण प्रदान करता है। यह कई सारे दूध आधारित उत्पादों का एक अभिन्न अंग है। कैसिन प्रोटीन को दूध से अलग करके इसे सप्लिमेंट के तौर पर (सोडियम कैसिनेट) कई फूड प्रोडक्ट्स में इस्तेमाल किया जाता है। यह प्रोडक्ट्स को गाढ़ा (thicken) और स्थिर (stabilize) बनाने के लिए यूज किया जाता है। यह प्रोसेसिंग और स्टोरेज के दौरान फूड की प्रॉपर्टीज को इम्प्रूव करता है। इसके साथ ही यह न्यूट्रिशन वैल्यू, टेस्ट और स्मेल भी देता है। सोडियम कैसिनेट में प्रोटीन, फैट, कैल्शियम, सोडियम और लेक्टोज पाया जाता है। सोडियम कैसिनेट एक फूड एडिटिव और न्यूट्रिशनल सप्लिमेंट है जिसे मिल्क प्रोटीन कैसिन से प्राप्त किया जाता है। अब जानते हैं कि सोडियम कैसिनेट आखिर बनता कैसे है?

और पढ़ें: Raspberry Ketones: वजन कम करने के साथ ही बहुत से फायदे पहुंचा सकता है ये सप्लिमेंट

सोडियम कैसिनेट (sodium caseinate) कैसे बनता है?

कैसिन (Casein) और सोडियम कैसिनेट (sodium caseinate) का उपयोग अक्सर इंटरचेंजेबली किया जाता है, लेकिन कैमिकल लेवल पर इन दोनों में थोड़ा अंतर है।

सोडियम कैसिनेट तब बनता है जब स्किम मिल्क (Skim milk) से कैसिन प्रोटीन को निकाला जाता है। सबसे पहले सॉलिड कैसिन जो दही में होता है, इसे व्हे (whey) से अलग किया जाता है, जो दूध का लिक्विड पार्ट होता है। ऐसा करने के लिए विशेष एंजाइम या अम्लीय पदार्थ जैसे नींबू का रस या सिरके को दूध में मिलाया जाता है। सोडियम कैसिनेट पाउडर को निम्न प्रकार के फूड्स में यूज किया जाता है।

  • प्रोटीन पाउडर (protein powder)
  • कॉफी क्रीमर (Coffee creamer)
  • चीज (cheese)
  • आइसक्रीम (ice cream)
  • चीज प्लेवर वाले स्नैक्स (cheese flavoured snacks)
  • प्रोसेस्ड मीट (processed meats)
  • चॉकलेट (chocolate)
  • ब्रेड (bread)

कई प्रकार के कैसिनेट्स होते हैं, लेकिन सोडियम कैसिनेट (sodium caseinate) को ज्यादातर प्राथमिकता दी जाती है, क्योंकि यह वॉटर सॉल्यूबल (water-soluble) होता है। जिससे यह दूसरे सब्सटेंस में आसानी से मिक्स हो जाता है। इसलिए इसका उपयोग ज्यादा होता है।

और पढ़ें: कोलेजन सप्लिमेंट से सिर्फ त्वचा ही नहीं, बल्कि दिल भी रहता है स्वस्थ्य

सोडियम कैसिनेट (sodium caseinate) का इस्तेमाल किन फूड आयटम्स में किया जाता है?

सोडियम कैसिनेट

इमल्सिफिकेशन, फोमिंग, थिकनिंग, हायड्रेशन, जेलिंग और दूसरी कई प्रॉपर्टीज के चलते सोडियम कैसिनेट का यूज प्रमुख रूप से फूड, कॉस्मेटिक्स और फार्मास्युटिकल इंडस्ट्रीज में किया जाता है। चलिए जानते हैं इसके प्रमुख उपयोग।

न्यूट्रिशन सप्लिमेंट्स (Nutriton supplements)

सोडियम कैसिनेट
cow’s Milk

कैसिन में गाय के दूध का 80 प्रतिशत तक प्रोटीन पाया जाता है। जबकि व्हे (Whey) में बचा हुआ 20 प्रतिशत प्रोटीन होता है। सोडियम कैसिनेट को सप्लिमेंट के तौर पर प्रोटीन पाउडर (Protein Powder),स्नैक बार्स (snack bars) और मील रिप्लेसमेंट (meal replacements) में यूज किया जाता है। प्रोटीन को कंपलीट तब माना जाता है जब इसमें पूरे 9 अमीनो एसिड होते हैं। शरीर के स्वस्थ रहने के लिए इन सभी की जरूरत होती है। रिसर्च में ऐसा पाया गया है कि कैसिन (Casein) मसल टिशूज को प्रमोट करता है। साथ ही ये मसल्स रिपयेर (repair of muscle tissue) में भी मदद करता है इसलिए यह एथलीट्स और वेट लिफ्टर्स के बीच ये खासा लोकप्रिय है। इसमें पाए जाने वाले अमीनो एसिड प्रोफाइल के चलते सोडियम कैसिनेट का यूज इंफेंट फॉर्मूलाज (infant formulas) में भी किया जाता है।

और पढ़ें: डीआईएम सप्लिमेंट्स (DIM Supplements) क्या हैं? जानिए कैसे करते हैं ये कैंसर से सुरक्षा

फूड एडिटिव (Food additive)

प्रोटीन का अच्छा सोर्स होने चलते सोडियम कैसिनेट में कई प्रॉपर्टीज हैं जो उसे फूड इंडस्ट्री का एक लोकप्रिय फूड एडिटिव बनाती हैं। उदाहरण के लिए इसमें पानी को एब्जॉर्ब करने की विशेष क्षमता पायी जाती है। इसलिए इसका उपयोग फूड के टेक्चर को सुधारने जैसे कि गूंधा हुआ आटा और कमर्शियली तैयार किए गए बेक्ड फूड्स में किया जाता है। इमल्सिफायर होने के चलते इसका उपयोग प्रोसेस्ड मीट में किया जाता है। इसके साथ ही यह मीट की थिकनेस को भी बढ़ा देता है। यह फैट के डिस्ट्रीब्यूशन को एक समान करता है। इसकी अनोखी पिघलने वाले गुणों के चलते इसका उपयोग नैचुरल और प्रोसेस्ड चीज में किया जाता है। इसमें पाई जाने वाली फॉमिंग विशेषताओं के चलते आइसक्रीम और टॉपिंग में इसका यूज किया जाता है। यह कॉफी या नॉन डेयरी क्रीम का प्रमुख इंग्रीडिएंट है। इसमें पाए जाने वाले हाय प्रोटीन कंटेंट और कॉफी के टेस्ट को और इनहांस करने के लिए इसका उपयोग किया जाता है।

दूसरे उपयोग

सामान्यत: इसका उपयोग फूड्स में किया जाता है, लेकिन टेक्चर को चेंज करने और कैमिकल स्टेबिलिटी के चलते ये फर्मासुटिकल ड्रग्स, सोप, मेकअप और पर्सनल केयर प्रोडक्ट्स में उपयोग होता है। सोडियम कैसिनेट के कुछ साइड इफेक्ट्स भी हो सकते हैं।

सोडियम कैसिनेट (sodium caseinate) के साइड इफेक्ट्स:

कई बार लोगों के मन में ये सवाल आता है कि क्या सोडियम कैसिनेट हेल्थ के लिए बुरा है या इसके कुछ साइड इफेक्ट्स हैं। हालांकि इसके उपयोग से स्वास्थ्य को किसी प्रकार का कोई जोखिम नहीं है, लेकिन कुछ लोग लैक्टोज (lactose) के प्रति इंटॉलरेंट हो सकते हैं। इसके साथ ही कुछ लोगों को मिल्क प्रोडक्ट्स से एलर्जी होती है तो उन्हें इससे भी एलर्जी हो सकती है क्योंकि यह एक मिल्क प्रोटीन (Milk Protein) है।

लैक्टोज इंटॉलरेंस (lactose intolerance)

इंटॉलरेंस एलर्जी से अलग होता है। एफडीए (FDA) के अनुसार फूड जिनमें सोडियम कैसिनेट होता है उनमें लो लेवल का लैक्टोज होता है जो कि निम्न परेशानियों का कारण बन सकता है। मिल्क एलर्जी और लैक्टोज इंटॉलरेंस दोनों अलग स्थितियां हैं। लैक्टोज इंटॉलरेंस में व्यक्ति मिल्क में मौजूद शुगर को डायजेस्ट नहीं कर पाता (प्रोटीन को कर सकता है)।

कैसिन एलर्जीज (Casein Allergies)

अगर आपको कैसिन से एलर्जी है तो आपको सोडियम कैसिनेट को अवॉइड करना चाहिए क्योंकि यह एलर्जिक रिएक्शन को ट्रिगर कर सकता है। बच्चों में मिल्क प्रोटीन एलर्जी होना सामान्य है। व्यस्कों में मिल्क प्रोटीन एलर्जीज सामान्य नहीं, लेकिन यह गंभीर और लाइफ थ्रेटनिंग हो सकती हैं। एलर्जी रिस्पॉन्स सभी लोगों में अलग होते हैं। कुछ प्रमुख लक्षण निम्न हैं।

  • डायरिया (diarrhoea)
  • उल्टी आना (Vomiting)
  • वजन का कम होना (weight loss)
  • त्वचा का पीला पड़ना (Pale skin)

और पढ़ें: ड्रग्स और न्यूट्रिशनल सप्लिमेंट्स में होता है अंतर, ये बातें नहीं जानते होंगे आप

क्या सोडियम कैसिनेट वीगन फ्रेंडली है? (Is sodium caseinate Vegan friendly)

नहीं, चूंकि सोडियम कैसिनेट को गाय के दूध से निकाला जाता है तो यह वीगन या डेयरी फ्री डायट वालों के लिए उचित नहीं है।

क्या सोडियम कैसिनेट प्राकृतिक प्रोडक्ट है? (Is sodium caseinate Natural)

नहीं, जैसा कि हम ऊपर बता चुके हैं कि कैसिन नैचुरल हैं, लेकिन सोडियम कैसिनेट एक सिंथेटिक एडिटिव (synthetic additive) है।

क्या ये प्रेग्नेंट और ब्रेस्टफीडिंग कराने वाली महिलाओं के लिए सुरक्षित है?

सोडियम कैसिनेट

हां, यह सुरक्षित है, लेकिन प्रेग्नेंट और ब्रेस्टफीडिंग कराने वाली महिलाओं को डॉक्टर की सलाह के बिना किसी भी हर्बल या नॉनहर्बल प्रोडक्ट उपयोग नहीं करना चाहिए। इसलिए एक बार इस बारे में डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

क्या ये ग्लूटन फ्री प्रोडक्ट है?

हां यह ग्लूटेन फ्री प्रोडक्ट है। यह एफडीए के ग्लूटन फ्री प्रोडक्ट्स की डेफिनेशन पर खरा उतरता है। इसमें गेहूं, राई, जौ या इन अनाजों के क्रॉसब्रीड शामिल नहीं हैं।

क्या सोडियम कैसिनेट का सेवन करना सेफ है? (Is Sodium Caseinate Safe to Eat)

फूड एडिटिव के तौर पर इसका यूज करने का अप्रूवल इसे फूड एंड ड्रग एडमिनेस्ट्रेशन (FDA) की तरफ से मिला है। साथ ही यूरोपियन फूड सेफ्टी अथॉरिटीज (EFSA), FA0/WHO की जॉइंट एक्सपर्ट कमेटी ने भी इसे सुरक्षित माना है।

अब आप समझ गए होंगे कि सोडियम कैसिनेट क्या है और इसका उपयोग क्यों किया जाता है। उम्मीद करते हैं कि आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा और कैसिन, सोडियम कैसिनेट से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Milk allergy/ https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/milk-allergy/symptoms-causes/syc-20375101/ Accessed on 9th Feb 2021

https://www.fda.gov/food/laboratory-methods-food/mpm-v-6-dairy-cheese-and-related-products

Effects of added sodium caseinate on the formation of particles in heated milk/https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/16218674/Accessed on 9th Feb 2021

SODIUM CASEINATE/
http://www.fao.org/fileadmin/user_upload/jecfa_additives/docs/Monograph1/Additive-398.pdf/Accessed on 9th Feb 2021

लेखक की तस्वीर badge
Manjari Khare द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 10/02/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x