home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

ग्लूटेन की वजह से होती हैं आंत की ये घातक बीमारी, जानें क्या हैं लक्षण और इलाज

ग्लूटेन की वजह से होती हैं आंत की ये घातक बीमारी, जानें क्या हैं लक्षण और इलाज

सीलिएक रोग एक गंभीर ऑटो इम्यून डिजीज है। ये रोग ज्यादातर आनुवंशिक रूप से होती है। इस रोग के कारण छोटी आंत प्रभावित होती है। दुनिया भर में करीब 100 लोगों में से एक व्यक्ति इस बीमारी से परेशान है। हमारे देश में सीलिएक बीमारी को लेकर बहुत कम जागरुकता है। ये बीमारी स्मॉल इंटेस्टाइन को प्रभावित करती है, जहां खाना पेट से निकलने के बाद पहुंचता है। ये एलर्जी पहले नवजात शिशुओं को जल्दी प्रभावित करती है, जिन्होंने जल्द ही ग्लुटेन युक्त डायट लेनी शुरू की है।

और पढ़ें: पेट दर्द (Stomach pain) के ये लक्षण जो सामान्य नहीं हैं

कैसे होती है सीलिएक बीमारी?

ये बीमारी ग्लुटेन नाम के प्रोटीन के कारण होती है। इस बीमारी से पीड़ित व्यक्ति को पूरी जिंदगी एलर्जी और पेट की समस्या रहती है। ग्लुटेन गेहूं के साथ ही चावल, मक्का, ज्वार व फलियों में भी पाया जाता है। कई बार ग्लुटेन के शरीर में पहुंचते ही मरीज को पेट की समस्याएं शुरू हो जाती हैं। ये रोग एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में भी फैलता जाता है, जो किसी भी उम्र में हो सकता है। कुछ दवाएं भी इस रोग को जन्म देती हैं। सीलिएक रोग में ग्लुटेन खाने से छोटी आंत को नुकसान होता है। शरीर को पौष्टिक तत्व नहीं मिल पाते हैं, जिसके परिणाम स्वरूप कई रोग और लक्षण सामने आते हैं। भारत में इस बीमारी को लेकर बहुत कम लोग जागरूक हैं।

यह बीमारी जानलेवना नहीं है, लेकिन वक्त पर इसका इलाज नहीं किया जाए, तो व्यक्ति को दूसरे गंभीर रोग होने का खतरा बढ़ जाता है। इस बीमारी से ग्रसित व्यक्ति द्वारा ग्लूटेन लेने से डायजेस्टिव ट्रैक्ट की आंतरिक झिल्ली क्षतिग्रस्त हो जाती है, जिससे पोषक तत्व अवशोषित नहीं हो पाते और पेट संबंधित रोग होने लगते हैं।

जानिए सीलिएक बीमारी के लक्षण (Symptoms of celiac disease)

सीलिएक बीमारी के लक्षण हर व्यक्ति में अलग-अलग देखने को मिल सकते हैं। किसी में डायरिया और एब्डोमिनल पेन की शिकायत हो सकती है, वहीं किसी दूसरे में चिड़चिड़ापन और डिप्रेशन की शिकायत हो सकती है। कुछ लोगों में इसके लक्षण कम उम्र में ही नजर आते हैं, तो कुछ लोगों में जवानी में जाकर इसके लक्षण नजर आते हैं। वहीं कुछ लोगों में इसके लक्षण नजर ही नहीं आते हैं।

और पढ़ें – मेटाबॉलिज्म क्या है और जानिए कौनसे फैक्टर्स उसे प्रभावित करते हैं

सीलिएक रोग से ग्रसित जिन लोगों का इलाज नहीं हो पाता है, उन्हें दूसरे ऑटोइम्यून रोग जैसे ऑस्टियोपोरोसिस, थायरॉइड और कुछ कैंसर रोग होने का खतरा होता है।

सीनिएक रोग के लक्षण:

  • दस्त (Diarrhea) का होना
  • कब्ज (Constipation) की समस्या
  • पेट दर्द (Stomach pain) होना
  • पेट फूलना (Abdominal Bloating) की समस्या
  • उल्टी (Vomiting) की समस्या
  • शरीर का ठीक से विकास न होना
  • वजन कम होना (Weight loss)
  • लिवर संबंधित बीमारियां (Liver problem)
  • हडि्डयों की बीमारी (Bone related problems)
  • दांत में एनोमिल की दिक्कत (tooth discoloration or loss of enamel)
  • एनीमिया (खून की कमी)
  • दौरे पड़ना (Seizures)
  • स्किन डिसऑर्डर (Skin disorder)
  • बार-बार गर्भपात (Miscarriage)
  • शरीर में कमजोरी (Weakness)

बच्चो के मुकाबले इसके लक्षण परिपक्व और व्यस्क लोगो में ज्यादा गहरे रूप से नजर आते हैं। अगर आपमें एनीमिया के लक्षण नजर आ रहे हैं और आप इसका कारण नहीं समझ पा रहे हैं, तो आपको सीलिएक रोग होने की संभावना अधिक होती है। यदि आपको उपरोक्त बताए लक्षण नजर आते हैं, तो अपने डॉक्टर से बिना देरी करें कंसल्ट करें। इन लक्षणों को आपको अनदेखा नहीं करना चाहिए, जैसे ही आप में ये लक्षण दिखें, आप तुरंत डॉक्टर से मिलें। लेकिन हां, एक बात का ध्यान रखना जरूरी है कि इस तरह के लक्षण दूसरी बीमारियों के भी हो सकते हैं, इसलिए ऐसे लक्षणों के होने पर आप डॉक्टर को दिखाने और टेस्ट कराने के बाद ही किसी नतीजे पर पहुंचें। फिर उनकी सलाह पर अपने लाइफस्टाइल में बदलाव लाएं।

और पढ़ें: पेट की समस्या से बचने के प्राकृतिक और घरेलू उपाय

ग्लूटन से हो सकती हैं ये समस्याएं:

दिमाग: माइग्रेन, थकान, सिर में दर्द, डिप्रेशन, भूलने की आदत
ग्रोथ: लंबाई और वजन का कम रहना
छोटी आंत: सीलिएक बीमारी, डायरिया
पेट: अपच, गैस, कब्ज, पेट दर्द
बड़ी आंत: डायरिया, कब्ज, मलद्वार का फूल जाना
स्किन: एग्जीमा, डर्मटाइटिस
इम्यून: इम्यून सिस्टम कमजोर, बार-बार इंफेक्शन होना

सीलिएक बीमारी से कैसे बचें?

जिन लोगों को सीलिएक बीमारी है, उन्हें गेहूं, जौ, मैदा से दूर रहना चाहिए। साथ ही, डॉक्टर से संपर्क कर यह जान लेना चाहिए कि और किन खाद्य पदार्थों से दूरी बना लेनी चाहिए। बाहर का खाना बंद कर देना चाहिए। डिब्बाबंद सामान आपके लिए हानिकारक हो सकता है।

सीलिएक रोग का इलाज करने के लिए कोई दवा नहीं है। इससे होने वाली परेशानियों से बचने के लिए एक ही तरीका है कि आप ग्लूटन फ्री डायट को फॉलो करें। जब आप ग्लूटन फ्री डायट लेंगे तो इससे आपकी छोटी आंत हील करेगी और भविष्य में होने वाली परेशानी और सूजन को होने से रोकने में मदद करेगी। आपको हर उस चीज को खाने से बचना होगा जिसमें गेहूं या गेहूं के आटे का इस्तेमाल किया गया होगा। आपको राई, जौ, बेसन, सूजी आदि का सेवन करने से भी परहेज करना होगा। क्योंकि इन सभी में ग्लूटन होता है।

आप ओट्स खा सकते हैं या नहीं इस बारे में अपने डॉक्टर से बात करें। क्योंकि सीलिएक रोग से ग्रसित कुछ लोगों को ओट्स से कोई दिक्कत नहीं होती है। हो सकता है आपका डॉक्टर आपको ग्लूटन फ्री ओट्स लेने के लिए कहे। सिलिएक रोग से ग्रसित लोगों को डायट का खास ख्याल रखना होता है, क्योंकि ज्यादातर खाने की चीजों में आटा शामिल होता है।

और पढ़ें- क्या आप भी कर रहे हैं फूड बोर्न डिजीज और फूड प्वाइजनिंग को एक समझने की गलती, समझें दोनों में अंतर

खाने पीने की इन चीजों को करें इग्नोर

  • पास्ता (Pasta) का सेवन न करें।
  • ब्रेड (Bread) का सेवन हो सकता है हानिकारक।
  • केक (Cake) भी इस रोग वाालों के लिए नुकसानदेह है।
  • कुकीज (Cookies) से भी बचें।
  • बीयर (Bear) या अन्य अल्कोहल के सेवन से बचें।
  • सॉस (Sauce) से भी दूर रहें।
  • आइस क्रीम (Ice cream) का सेवन से बचें।
  • इंस्टेंट कॉफी (Instant coffee) से भी दूर रहें।
  • पैकड सूूप (Canned soups) भी सीलिएक रोग वालों के लिए नुकसानदेह है।
  • सैलेड ड्रेसिंग (Salad dressings) का इस्तेमाल न करें।
  • मस्टर्ड और सॉस (Mustard and ketchup)
  • योगर्ट (Yogurt) का सेवन न करें।

और पढ़ें: अगर शरीर में दिखें ये लक्षण तो आपके गट सिस्टम को है खतरा

इन फूड्स का करें सेवन

ऐसे कई सारे फूड आइटम हैं, जो ग्लूटन फ्री होने के साथ न्युट्रिएंट्स से भरपूर हैं। अपनी डायट से प्रोसेस्ड फूड को बाहर कर होल ग्रेन फूड को शामिल करें। आइए जानते हैं कुछ हेल्दी ग्लूटन फ्री फूड्स के बारे में, जिसे आप अपनी डायट में शामिल कर के हेल्दी रह सकते हैं। जिन लोगों को सीलिएक रोग है, उनके लिए इस तरह की डायट प्रभावकारी है।

  • सी फूड्स (Sea Food) का सेवन फायदेमंद हो सकता है।
  • डेयरी प्रोडक्ट्स (Dairy Products) काे अपनी डायट में शामिल करें।
  • अंडे (Eggs) को खा सकते हैं।
  • फल (Fruits) का रोजाना खाएं। इससे उनके शरीर में सभी पोषक तत्व मिल जाते हैं।
  • ग्लूटेन फ्री ग्रेंस (Gluten free grains): इसमें आप किनोवा, ब्राउन राइस, बकव्हीट, बाजरा, जई आदि का सेवन कर सकते हैं।
  • सब्जियां (Vegetables) भी खा सकते हैं।
  • हेल्दी फैट्स (Healthy fats)
  • हर्ब और मसाला (Herbs and spices) का सेवन इनके लिए फायदेमंद होता है।

अगर आपको लगता है कि आप इस बीमारी से पीड़ित है और उपरोक्त लक्षण आपको दिख रहें, तो सबसे पहले अपने डॉक्टर से संपर्क करें। उसके बाद ही उपचार करें। इस तरह के फूड्स को अपनी डायट में शामिल करें। इससे आपके शरीर को अधिकतर पोषक तत्व मिलेंगे, जो सीलिएक रोग वाले अन्य फूड्स से नहीं ले पाते हैं। अगर इनमें से किसी भी फूड्स के सेवन से आपको किसी प्रकार की दिक्कत हो रही है, तो भी अपने डॉक्टर से संपर्क करें। उसी हिसाब से डायट लें।

और पढ़ें: क्या एंटीबायोटिक्स कर सकती हैं गट बैक्टीरिया को प्रभावित?

किन लोगों को सीलिएक बीमारी होने का खतरा अधिक होता है?

महिला और पुरुष दोनों को इस रोग के होने की संभावना बराबर होती है। किसी भी उम्र में यह जेनेटिक ऑटोइम्यून डिसऑर्डर विकसित हो सकता है। हालांकि निम्नलिखित कुछ ऐसे कारक हैं, जो इस रोग के विकास के जोखिम को बढ़ा सकते हैं।

  • परिवार में किसी को यह रोग होना (Family History): परिवार में किसी को सीलिएक रोग है तो इसका विकास होना आम है। जिन लोगों को सिलिएक रोग होता है उनके बच्चों में 5 से 10 प्रतिशत यह रोग होने की संभावना होती है।
  • ऑटोइम्यून डिजीज (Autoimmune disease): ऑटोइम्यून बीमारी होने से आपको अन्य ऑटोइम्यून रोग विकसित होने की संभावना होती है, जैसे सीलिएक रोग। थायरॉइड रोग और टाइप 1 मधुमेह अन्य ऑटोइम्यून बीमारियों के उदाहरण हैं।

उम्मीद करते हैं कि आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा सीलिएक बीमारी से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Celiac disease: https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/celiac-disease/symptoms-causes/syc-20352220 Accessed August 06, 2020

What is Celiac Disease?: https://celiac.org/about-celiac-disease/what-is-celiac-disease/ Accessed August 06, 2020

CELIAC DISEASE: WHO IS AT RISK?: https://www.beyondceliac.org/celiac-disease/risk-factors/ Accessed August 06, 2020

CELIAC DISEASE: FAST FACTS: https://www.beyondceliac.org/celiac-disease/facts-and-figures/ Accessed August 06, 2020

SYMPTOMS OF CELIAC DISEASE: https://www.beyondceliac.org/celiac-disease/symptoms/ Accessed August 06, 2020

लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 24/11/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x