home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

सिंपल से दिखने वाले ओट्स के फायदे जानकर रह जाएंगे हैरान, आज ही डायट में कर लेंगे शामिल

सिंपल से दिखने वाले ओट्स के फायदे जानकर रह जाएंगे हैरान, आज ही डायट में कर लेंगे शामिल

रोजाना ब्रेकफास्ट में दूध को शामिल करना सेहत के लिए अच्छा होता है। अगर आप दूध के साथ ही ओट्स को भी नाश्ते में शामिल करते हैं तो ब्रेस्टफास्ट की न्यूट्रिशन वैल्यू दोगुना हो जाती है। अगर आपने अभी तक ओट्स के फायदे नहीं जाने हैं तो यह आर्टिकल आपकी इसमें मदद कर सकता है। सॉल्युबल फाइबर्स से युक्त ओट्स उन लोगों के लिए बेहद फायदेमंद है जो हाई कोलेस्ट्रॉल की समस्या से जूझ रहे हैं। रोजाना नाश्ता करना बहुत जरूरी होता है, लेकिन उससे भी जरूरी है हेल्दी नाश्ता करना। ओट्स को हेल्दी ब्रेकफास्ट के रूप में शामिल किया जा सकता है।

ओट्स (Avena sativa) एक तरह का अनाज है, जिसे खाने में इस्तेमाल किया जाता है। ओट्स शरीर को कई फायदे पहुंचाता है इसलिए आप भी इस आर्टिकल के माध्यम से जानिए कि क्या हैं ओट्स के फायदे।

और पढ़ें : मेडिकल न्यूट्रिशन थेरिपी क्या होती है? जानिए इसके बारे में

ओट्स के फायदे: न्यूट्रिशनल वैल्यू कहीं ज्यादा

ओट्स के न्यूट्रिएंट कंपोजीशन वेल-बैलेंस्ड होते हैं। साथ ही ओट्स में पावरफुल फाइबर बीटा-ग्लुकॉन भी पाया जाता है। अगर ओट्स को सभी ग्रेन्स से कंपेयर किया जाए तो इसमे अधिक मात्रा में प्रोटीन और फैट पाया जाता है। ओट्स में मुख्य रूप से विटामिन, मिनिरल्स और एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं। जानिए कि आधा कप ओट्स (78 ग्राम) कितना लाभकारी है।

  • (Recommended Dietary Intake (RDI))
  • मैंगनीज: RDI का 191%
  • फॉस्फोरस: RDI का 41%
  • मैग्नीशियम: RDI का 34%
  • कॉपर: RDI का 24%
  • आयरन: RDI का 20%
  • जस्ता: RDI का 20%
  • फोलेट: RDI का 11%
  • विटामिन बी 1 : RDI का 39%
  • विटामिन बी 5 : RDI का 10%
  • कैल्शियम, पोटेशियम, विटामिन बी 6 यानी पाइरिडोक्सिन और विटामिन बी 3 यानी नियासिन की कम मात्रा भी ओट्स में पाई जाती है।

और पढ़ें : कैलोरी और एनर्जी में क्या है संबंध? जानें कैसे इसका पड़ता है आपके शरीर पर असर

ओट्स के फायदे: कब्ज से राहत

कब्ज की समस्या यानी पेट साफ न होने की समस्या बहुत लोगों को परेशान करती है। उम्र बढ़ने के साथ ही कब्ज की समस्या भी बढ़ने लगती है। ऐसे में डॉक्टर फाइबर्स फूड लेने की सलाह देते हैं। ओट्स फाइबर्स का रिच सोर्स है। ये सॉल्युबल और इनसॉल्युबल होता है जिसके कारण बाउल मूवमेंट रेगुलेट करने में हेल्प करता है। जो लोग ओट्समील का सेवन करते हैं, उनमें कब्ज की समस्या नहीं होती है। इसे रोजाना ब्रेकफास्ट मील के तौर पर लिया जा सकता है। ओट्स ब्लड शुगर लेवल भी कंट्रोल करने का काम करता है जिसके कारण टाइप 2 डायबिटीज का खतरा भी कम हो जाता है। जिन लोगों को डायबिटीज की समस्या है, उन्हें रोजाना ओट्स का सेवन करना चाहिए।

ओट्स के फायदे: कम हो जाता है कैंसर का खतरा

ओट्स खाने से कैंसर का खतरा भी कम हो जाता है। ओट्स में पाए जाने वाले कम्पाउंड के कारण कार्डिओवैस्कुलर डिजीज से बचाव होता है और साथ ही हाॅर्मोन रिलेटेड कैंसर जैसे कि ब्रेस्ट कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर और ओवेरियन कैंसर का खतरा कम हो जाता है। अमेरिकन कैंसर सोसाइटी के हिसाब से ओट्स का सेवन महिलाओं और पुरुषों दोनों के लिए लाभकारी है।

ओट्स के फायदे: कम हो जाता है हार्ट अटैक का खतरा

ओट्स में मैग्नीशियम अधिक पाया जाता है। मैग्नीशियम शरीर के लिए बहुत जरूरी होता है। एंजाइम के फंक्शन के लिए मैग्नीशियम बहुत जरूरी होता है। मैग्नीशियम की उचित मात्रा शरीर में ब्लड वैसल्स को रिलैक्स करने का काम करती है जिसके कारण हार्ट अटैक और स्ट्रोक का खतरा कम हो जाता है। ओट्स खाने से हाइपटेंशन यानी हाई ब्लड प्रेशर की समस्या भी कम हो जाती है। ओट्स ब्लड प्रेशर को रेगुलेट करने का काम करता है। मैग्नीशियम का हाई लेवल बॉडी में ग्लूकोज और इंसुलिन के सिकरीशन को मेंटेन रखता है।

और पढ़ें : घी सिर्फ खाने की चीज नहीं है जनाब, जानें इसके एक से एक घरेलू उपाय

ओट्समील के फायदे: वेट लॉस में मददगार

वेट लॉस के लिए अक्सर लोग खाना कम कर देते हैं, लेकिन ये ठीक नहीं है। अगर प्रॉपर और हेल्दी डायट ली जाए तो भी वेट लॉस किया जा सकता है। ओट्स के फायदे से वेट लॉस भी जुड़ा हुआ है। अन्य फूड के कंपेरिजन में ओट्स में लो कैलोरी होती है जो डायजेशन को स्लो कर देती है। इस कारण से ओट्स खाने के बाद काफी देर तक भूख का एहसास नहीं होता है। ओट्स खाने से क्रैविंग की समस्या भी नहीं होती है जिसके कारण वेट लॉस में आसानी होती है।

ओट्स के फायदे: स्किन प्रोटक्शन

ओट्स के फायदे में स्किन प्रोटक्शन भी शामिल है। ओट्स को डायट में शामिल करने से इचिंग और इरिटेशन की प्रॉब्लम से छुटकारा मिलता है। अमेरिकन एकेडमी ऑफ डर्मेटोलॉजी के अनुसार ओट्स स्किन के पीएच को बैलेंस करने के काम करता है। साथ ही ओट्स स्किन को नमी प्रदान करने के साथ मुलायम भी बनाता है। आप ओट्स को बनाना ओट्स स्मूथी की तरह भी ले सकते हैं। योगर्ट, बनाना और रोल्ड ओट्स को दूध और शहद के साथ मिक्स करके डिलीसियस स्मूथी बनाई जा सकती है। ओट्स में कई मॉलीक्यूल ऐसे पाए जाते हैं जो एंटीऑक्सीडेंट्स का काम करते हैं। एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाने के कारण ओट्स में एंटी-इंफ्लामेट्री और एंटी-इचिंग प्रॉपर्टी होती है। ओट्स हेल्थ के साथ ही स्किन के लिए भी फायदेमंद होता है।

ओट्स के फायदे: हेल्दी गट

ओट्स में बीटा ग्लूकान होता है जो कि जेल की तरह होता है। जब ये पानी में मिलता है तो ये एक कोटिंग तैयार करता है। इसी कारण से गट में रहने वाले अच्छे बैक्टीरिया की संख्या में बढ़त होती है। हेल्दी गट के लिए अच्छे बैक्टीरिया का होना बहुत जरूरी होता है। स्टडी में ये बात सामने आई है कि ओटमील गट में अच्छे बैक्टीरिया की ग्रोथ को इंक्रीज करने का काम करता है।

और पढ़ें – महुआ के फायदे : इन रोगों से निजात दिलाने में असरदार हैं इसके फूल

अस्थमा रिस्क को करता है कम

ओट्स के फायदे बहुत से हैं। ओट्स को डायट में शामिल करने से अस्थमा का खतरा भी कम हो जाता है। अस्थमा की समस्या किसी भी उम्र में हो सकती है। ऐसे बहुत से एविडेंस हैं जिनमें कहा गया है कि स्पेसिफिक फूड लेने से अस्थमा का रिस्क फैक्टर कम हो जाता है। 3 हजार से ज्यादा बच्चों में हुई स्टडी के मुताबिक पांच साल की उम्र के बच्चों में अस्थमा डेवलप होने के चांस अधिक होते हैं। अन्य फूड भी जैसे वीट, फिश, एग और बार्ली सीरियल्स अस्थमा के रिस्क को कम करने का काम करते हैं।

अब आप ओट्स के फायदे जान चुके हैं। अगर आपको ओट्स के फायदे उठाने हैं तो इसे डायट में शामिल करें। अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से भी संपर्क कर सकते हैं। अगर ओट्स खाने के बाद कुछ समस्या महसूस हो तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। हम उम्मीद करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। यदि आपका लेख से जुड़ा कोई सवाल है तो आप कमेंट सेक्शन में पूछ सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Health Benefits of Eating Oats and Oatmeal: https://www.lifehack.org/articles/lifestyle/10-benefits-oatmeal-you-probably-never-knew.html Accessed July 21, 2020

Are oats good for you?: https://www.hsph.harvard.edu/nutritionsource/food-features/oats/ Accessed July 21, 2020

The Metabolic Effects of Oats Intake in Patients with Type 2 Diabetes: A Systematic Review and Meta-Analysis: https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4690088/ Accessed July 21, 2020

Cholesterol-lowering effects of oat β-glucan: a meta-analysis of randomized controlled trials: https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5394769/ Accessed July 21, 2020

Oatmeal porridge: impact on microflora-associated characteristics in healthy subjects: https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/26511097/ Accessed July 21, 2020

The role of meal viscosity and oat β-glucan characteristics in human appetite control: a randomized crossover trial: https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4052334/ Accessed July 21, 2020

लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित
अपडेटेड 17/04/2020
x