घी सिर्फ खाने की चीज नहीं है जनाब, जानें इसके एक से एक घरेलू उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट March 25, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

घी भारतीय घरों में वैल्यूड फूड माना जाता है और इसके बिना खाना अधूरा माना जाता है। आपको जानकर हैरानी होगी कि पहले के समय में घी और दूध की पूजा की जाती है। खैर पूजनीय होना लाजमी है क्योंकि घी शरीर के लिए अत्यंत लाभकारी होता है और इसीलिए भारतीय घरों में इसका प्रयोग खाने में किया जाता है। घी के घरेलू उपाय भी बहुत ही लाभकारी साबित होते हैं। घी सिर्फ खाने के ही काम नहीं आता है, बल्कि अन्य कामों में भी इसका इस्तेमाल किया जाता है। घी के अनेक फायदे होते हैं। यहीं कारण है कि घी के घरेलू उपाय कभी भी नुकसान का कारण नहीं बन सकते हैं।

घी के घरेलू उपाय से पहले इसे जान लें

घी के बारे में

घी क्लेरीफाइड बटर (Clarified Butter) होता है। ये बटर से अधिक फैट में कॉन्संट्रेटेड रहता है क्योंकि इसमें दूध को हटा दिया जाता है। जब बटर को गर्म किया जाता है तो दूध और लिक्विड सेपरेट हो जाते हैं। घी में फैट का कॉन्संट्रेशन अधिक होता है। घी गट हेल्थ के लिए अच्छा होता है। घी नैचुरल फूड है और लंबे समय से खाने में प्रयोग किया जा रहा है। घी सैचुरेटेड फैटी एसिड के मामले में रिच होता है। घी में ट्रांस फैट नहीं होता है और इसे आसानी से घर में भी बनाया जा सकता है।

यह भी पढ़ें: क्या वीगन डायट फर्टिलिटी बढ़ाती है?

घी के घरेलू उपाय : अच्छे डायजेस्टिव सिस्टम के लिए

अच्छे डायजेस्टिव सिस्टम के लिए घी के घरेलू उपाय को अपनाया जा सकता है। घी में ब्यूट्रिक एसिड होता है जो कि पेट में इंफ्लामेशन को कम करने का काम करता है और साथ ही पाचन तंत्र को बेहतर करता है। घी पेट में स्टमक एसिड सिक्रीशन को बढ़ाने का काम करता है। एसिड सिक्रीशन डायजेस्टिव सिस्टम को बेहतर रखने का काम करता है।

घी के घरेलू उपाय : एंटी इंफ्लामेट्री प्रॉपर्टी

sister burn GIF

हल्का सा जल जाने या फिर सूजन की समस्या होने पर घी के घरेलू उपाय को तुरंत अपनाना चाहिए। घी का प्रयोग लोग लंबे समय से स्किन के लाल पड़ जाने पर करते आ रहे हैं। इससे कुछ समय में स्किन की जलन में राहत मिल जाती है। घी का प्रयोग करने से स्किन में किसी भी प्रकार की समस्या नहीं होती है। बच्चों के साथ ही किसी भी उम्र के लोग इसका प्रयोग कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: मछली खाने के फायदे जानकर हो जाएंगे हैरान, कम होता है दिल की बीमारियों का खतरा

घी के घरेलू उपाय : हेल्दी इम्युन सिस्टम

घी में एंटीऑक्सीडेंट के गुण होते हैं। ये जानकारी कम ही लोगों को होती है। घी खाने से इम्युन सिस्टम अच्छा होता है। घी खाने से शरीर में विटामिन और मिनिरल्स को अब्जॉर्व करने की बेहतर क्षमता पैदा होती है। इम्युन सिस्टम को मजबूत बनाने के लिए घी के घरेलू उपाय का प्रयोग किया जा सकता है।

घी के घरेलू उपाय: रिड्यूसिंग बैली फैट

घी के न्युट्रिशनल वैल्यू ही इसे गुणकारी बनाती है। जिन लोगों को बैली फैट की समस्या है, उनके लिए घी गुणकारी साबित हो सकता है। कुछ लोगों के मन में ये सवाल होगा कि जो मोटा है, उसे घी भला क्यों खाना चाहिए? मोटापे और घी का कोई संबंध नहीं है। घी में न्यूट्रीशनल वैल्यू होती हैं जो शरीर को नुकसान नहीं पहुंचाता है। घी में असेंशियल अमीनो एसिड होता है जो कि बैली फैट को कम करने का काम करता है। घी में ओमेगा-3 और ओमेगा-6 फैटी एसिड मौजूद रहता है जो कि पेट के साइज को कम करने का काम करता है और बॉडी फैट को भी कम करता है।

यह भी पढ़ें : क्या आप जानते हैं दूध से एलर्जी (Milk intolerance) का कारण सिर्फ लैक्टोज नहीं है?

घी के घरेलू उपाय: दूर करें डार्क सर्कल

conceal dark circles GIF by Much

आजकल की लाइफस्टाइल में आराम बहुत ही कम लोगों को मिल पाता है। दिनभर काम और रात में किसी चिंता या अधिक काम की वजह से पूरी नींद न होने पाने के कारण आंखों के नीचे काले घेरे। घी के घरेलू उपाय को अपनाकर डार्क सर्कल को दूर किया जा सकता है। रात को सोने से पहले अपनी आंखों के चारों ओर डार्क सर्कल में घी की लेयर लगाए। आपको कुछ ही दिनों बाद घी का जादू दिखाई देने लगेगा।

घी के घरेलू उपाय: डायबिटीज पेशेंट के लिए

अगर आप डायबिटीज की समस्या से पीड़ित हैं तो घी आपके लिए बेहतर रहेगा। घी के घरेलू उपाय को अपनाने से बीमारी में राहत मिलती है। डायबिटीज की समस्या वाले लोगों के लिए राइस और वीट हेल्दी नहीं होता है। अगर आप रोटी के ऊपर घी लगाकर खाएंगे तो ग्लाइसेमिक इंडेक्स में कमी आएगी।

घी के घरेलू उपाय: हेयर न्यूट्रिशन के लिए

आपके बाल फ्रिजी हैं और बिल्कुल भी मुलायम नहीं हैं तो घी के घरेलू उपाय को अपनाएं। घी में फैटी एसिड और एंटीऑक्सीडेंट होता है जोकि हेयर कंडीशनर का काम करेगा। घी ड्राई और फ्रिजी हेयर को कुछ ही समय में सॉफ्ट और शाइनी बना देगा। घी को ऑलिव ऑयल के साथ यूज किया जा सकता है। अगर आपको डेंड्रफ की समस्या है तो भी इसे लेमन यानी नींबू के साथ मिलाकर लगाया जा सकता है।

यह भी पढें: इंडिया में मिलने वाला इतने प्रतिशत दूध पीने लायक नहीं

घी के घरेलू उपाय: हेल्दी और शाइनी लिप्स के लिए

पॉल्युशन, सनरेज, स्मोक और डस्ट की वजह से होठों का रंग और शाइन चला जाता है। अगर आपको हेल्दी और शाइनी लिप्स चाहिए तो घी के घरेलू उपाय पर गौर करें। घी में उपस्थित फैटी एसिड लिप्स को नरिश करने का काम करता है। बेडटाइम से पहले हल्का गुनगुना घी लगाएं। ऐसा रोजाना करने से कुछ ही दिनों बाद आपके लिप्स सॉफ्ट हो जाएंगे। घी के टेम्प्रेचर का ध्यान जरूर रखें।

घी के घरेलू उपाय: कोल्ड से राहत

अगर आपको मौसम बदलने के साथ ही कोल्ड की समस्या हो गई है तो घी के घरेलू उपाय को अपनाकर देखिए। सांस लेने में समस्या, टेस्ट सेंस में कमी या सिरदर्द की समस्या से राहत पाने के लिए घी का प्रयोग किया जा सकता है। सुबह के समय अपनी नाक में हल्के गुनगुने घी की कुछ बूंदें डाले। इस बात का ध्यान रखे कि घी का टेम्परेचर ज्यादा न हो। हल्का गुनगुना यानी घी छूने में हल्की सी गर्माहट का एहसास। ऐसा करने से गले में खराश की समस्या से भी राहत मिलेगी।

घी के घरेलू उपाय: हेल्दी स्किन के लिए

हेल्दी स्किन के लिए घी का प्रयोग किया जा सकता है। घर में ही घी का यूज करके फेस मास्क का उपयोग करें। घी सभी प्रकार की स्किन के लिए सही रहता है। सॉफ्ट स्किन के लिए 2 टेबलस्पून घी में दो टेबलस्पून बेसन और एक टेबलस्पून हल्दी मिलाएं। फिर पानी मिलाएं। अब सभी को मिक्स कर लें। अब फेस मास्क को फेस में 20 मिनट के लिए लगा लें। सप्ताह में दो बार इस फेस मास्क का यूज करें। आपको कुछ ही समय बाद असर दिखने लगेगा।

यह भी पढ़ें – जानिए कैसे वजन घटाने के लिए काम करता है अश्वगंधा

घी के घरेलू उपाय: लीच थेरेपी के दौरान

लीच थेरेपी के दौरान लीच शरीर से गंदा खून चूसते हैं और शरीर को रिलेक्स मिलता है। लेकिन लीच थेरेपी के दौरान स्किन के प्रभावित भागों में सेंसेशन और ब्लीडिंग की समस्या हो जाती है। अगर आप इस समस्या से बचना चाहते हैं तो घी के घरेलू उपाय को अपना सकते हैं। घी को प्रभावित जगह में लगाएं। आपको कुछ समय बाद राहत महसूस होगी।

घी के घरेलू उपाय: स्काल्प इंफेक्शन में

घी का प्रयोग बालों से डेंड्रफ की समस्या तो दूर करता ही है, साथ ही स्काल्प इंफेक्शन से भी बचाता है। जिन लोगों के सिर में वाइट स्पॉट होते हैं, उन्हें घी से मसाज करना चाहिए। ऐसा सप्ताह में दो बार करें। आपको जल्द ही असर देखने को मिलेगा।

घी का खाने में प्रयोग करने से किसी प्रकार की समस्या नहीं होती है। फेस में लगाने से पहले एक बार हाथ की स्किन में लगाकर टेस्ट कर सकती हैं।

हैलो हेल्थ किसी भी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार मुहैया नहीं कराता है।

और पढ़ें:-

कोकोनट वॉटर से वेट लॉस होता है, क्या आप इस बारे में जानते हैं?

क्या ऑफिस वर्क से बढ़ रहा है फैट? अपनाएं वजन घटाने के तरीके

स्वस्थ सेहत के लिए रनिंग (Running) है जरुरी

पानी में सेक्स करना (वॉटर सेक्स) कितना सही है

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy

संबंधित लेख:

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    डाइजेशन को बेहतर बनाने के लिए डाइट में शामिल करें ये 15 फूड्स

    पाचन तंत्र सुधारने वाले खाद्य पदार्थ में केला, सेब, एवोकाडो, योगर्ट, पपीता, अदरक, चिया सीड्स, पेपरमिंट, सौंफ, खरबूजा जैसे तमाम फूड्स शामिल हैं। इसके साथ ही स्मोकिंग..

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
    आहार और पोषण, स्पेशल डायट September 18, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

    प्रोटीन का पाचन और अवशोषण शरीर में कैसे होता है? जानें प्रोटीन की कमी को दूर करना क्यों है जरूरी

    प्रोटीन का पाचन और अवशोषण शरीर में कैसे होता है? प्रोटीन की कमी से होने वाली बीमारियां, हाई प्रोटीन फूड्स, एक दिन में प्रोटीन की कितनी आवश्यकता होती है? जानिए सबकुछ प्रोटीन के बारे में..

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shikha Patel

    पाचन तंत्र को मजबूत बनाने के लिए जरूरी हैं ये टिप्स फॉलो करना

    पाचन तंत्र सुधारने के प्राकृतिक तरीके क्या हैं? बेहतर डाइजेस्टिव सिस्टम के लिए खाने को चबाकर खायें, डायट में ज्यादा से ज्यादा फाइबर (strong-digestive-system-tips).

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
    आहार और पोषण, हेल्दी रेसिपी September 11, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

    बच्चों में काले घेरे के कारण क्या हैं और उनसे कैसे बचें?

    इस लेख में हम आपको बताएंगे कि बच्चों की आंखों के नीचे काले घेरे कैसे और क्यों आते हैं और साथ ही इनका क्या है और छोटे शिशु को इनसे कैसे बचाया जा सकता है।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
    के द्वारा लिखा गया Shivam Rohatgi
    बेबी, बेबी की देखभाल, पेरेंटिंग April 4, 2020 . 8 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    एसिड रिफ्लक्स और अस्थमा (Acid Reflux and Asthma)

    कहीं अस्थमा का कारण एसिड रिफ्लक्स तो नहीं!

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
    प्रकाशित हुआ February 3, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
    कब्ज के कारण पीठ दर्द (Constipation and back pain)

    कॉन्स्टिपेशन और बैक पेन! कहीं आपकी परेशानी ये दोनों तो नहीं?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
    प्रकाशित हुआ February 1, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
    एजिंग बॉडी, Ageing Body

    एजिंग बॉडी: बढ़ती उम्र के लक्षणों को यूं कहें बाय-बाय

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
    प्रकाशित हुआ January 14, 2021 . 9 मिनट में पढ़ें
    ड्रग्स एंड न्यूट्रिशनल सप्लीमेंट्स, drug and supplements

    ड्रग्स और न्यूट्रिशनल सप्लिमेंट्स में होता है अंतर, ये बातें नहीं जानते होंगे आप

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
    प्रकाशित हुआ December 1, 2020 . 10 मिनट में पढ़ें