home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

जानें बच्चे के सर्दी जुकाम का इलाज कैसे करें

जानें बच्चे के सर्दी जुकाम का इलाज कैसे करें

चाहे बच्चे हो या बड़े, बदलते मौसम का प्रभाव अधिकतर लोगों के स्वास्थ्य पर पड़ता है। मौसमी ​बीमारी में सबसे आम और परेशान करने वाली बीमारी है सर्दी जुकाम (Cold)। सर्दी जुकाम वायरस (Virus) से होने वाले संक्रमण के कारण होता है। अगर बच्चे को हो जाएं तो वे काफी परेशान हो जाते हैं। ऐसे में आपको पता होना चाहिए कि सर्दी जुकाम का इलाज कैसे किया जाता है? दो साल तक के बच्चों में सर्दी जुकाम होने का जोखिम सबसे ज्यादा होता है। क्योंकि बच्चे का इम्यून सिस्टम (Immune system) इतना विकसित नहीं होता है कि वह फ्लू के वायरस से लड़ सके।

और पढ़ें : बार- बार होते हैं बीमार? तो बॉडी में हो सकती है विटामिन-डी (Vitamin-D) की कमी

बच्चों में सर्दी जुकाम का कारण

बच्चों का इम्यून सिस्टम बहुत संवेदनशील होता है। इसलिए वह जल्द ही सर्दी जुकाम के चपेट में आ जाते हैं। बच्चे को सर्दी जुकाम होने के कई कारण हो सकते हैं। वाराणसी के सृष्टि क्लीनिक के बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. पी. के. अग्रवाल ने हैलो स्वास्थ्य को बताया कि “बच्चे सबसे ज्यादा संवेदनशील होते हैं। इसलिए सर्दी जुकाम की चपेट में आने से जल्दी बीमार हो जाते हैं। लेकिन, सामान्य सर्दी जुकाम दो या तीन दिन में ठीक हो जाता है। बस साफ-सफाई की जरूरत होती है। लेकिन अगर बच्चा ज्यादा परेशान रहे तो सर्दी जुकाम का इलाज करना जरूरी हो जाता है।”

  • सर्दी जुकाम एक संक्रामक बीमारी है। अगर घर में किसी को सर्दी जुकाम हुआ है तो बच्चे के शरीर में सबसे पहले संक्रमण फैलता है।
  • बच्चे को लगभग 100 से ज्यादा कोल्ड वायरस प्रभावित कर सकते हैं। जिससे वे इसकी चपेट में जल्दी आ जाते हैं।
  • सर्दियों के मौसम में बच्चे को ठंड जल्दी लगती है। इसलिए भी बच्चों को सर्दी जुकाम हो जाता है।
  • नमी वाले मौसम में बच्चे को बाहर लेकर जाने से फ्लू के वायरस जल्दी प्रभावित करते हैं।
  • साफ-सफाई की कमी के कारण भी बच्चों को सर्दी जुकाम हो जाता है।

और पढ़ें : सर्दी-खांसी को दूर भगाएंगे ये 8 आसान घरेलू नुस्खे

सर्दी जुकाम किस तरह से करता है बच्चे को प्रभावित

  • सर्दी जुकाम होने पर बच्चे की नाक बहने लगती है और छींक आती हैं।
  • सर्दी जुकाम में बच्चे खाना नहीं खाते हैं और सुस्त हो जाते हैं, उनका सिर दर्द होता है।
  • कभी-कभार बच्चों को सर्दी जुकाम के कारण बुखार भी आ जाता है।
  • अगर सर्दी जुकाम का इलाज सही समय पर ना किया जाए तो जुकाम बच्चे को लगभग दो हफ्ते तक परेशान कर सकता है।
  • सर्दी जुकाम के दौरान बच्चे को खांसी (Cough) आती है और गले में खरास रहती है। नाक जाम होने के कारण बच्चे को सांस लेने में तकलीफ भी होती है।
  • सर्दी जुकाम का इलाज ना कराने पर बच्चे को निमोनिया या गले में संक्रमण होने का खतरा रहता है।

और पढ़ें : बच्चों के डिसऑर्डर पेरेंट्स को भी करते हैं परेशान, जानें इनके लक्षण

कैसे करें बच्चे के सर्दी जुकाम का इलाज?

बच्चे हो या बड़े सर्दी जुकाम का इलाज तुरंत बेअसर सा होता है। सर्दी जुकाम का एक पीरियड होता है, जो खुद बखुद ठीक हो जाता है। बस सर्दी जुकाम का इलाज करते वक्त कुछ सतर्कता बरतने की जरूरत होती है।

  • बच्चे को बिना डॉक्टर के परामर्श के कोई दवा ना दें।
  • अगर बच्चे की नाक जाम हो गई है तो ‘रबर सक्शन बल्ब’ का इस्तेमाल करें।
  • बच्चे के गले, छाती और नाक पर वैपर रब लगाएं।
  • बच्चे को स्टीम देने का प्रयास करें। बच्चे को बाथरूम में ले जाकर गर्म पानी का नल चालू कर दें। बच्चे को लगभग 15 मिनट तक लेकर बाथरूम में रहें। बच्चे को पानी से दूर रखें, क्योंकि उसे सिर्फ भाप दिलानी है।
  • बच्चे को गर्म तरल दें। बच्चे को हर दो-तीन घंटे पर चिकन सूप, हर्बल टी, आदि गर्मागर्म देती रहें। इससे बच्चे के गले की खरास दूर होगी।
  • बच्चे को सर्दी जुकाम में शहद चटाएं। शहद की तासीर गर्म होती है जो सर्दी जुकाम में तेजी से राहत पहुंचाती है।

और पढ़ें : Honey : शहद के 5 लाभकारी उपयोग

प्राकृतिक रूप से करें सर्दी जुकाम का इलाज

गुनगुना पानी पिलाएं

दिनभर में कई बार थोड़ी-थोड़ी मात्रा में गुनगुना पानी पिलाएं। गुनगुना पानी गले में खराश और बलगम की समस्या से राहत दिलाने में मददगार होता है। इसके अलावा गर्म पानी गले की सूजन को कम करता है। गर्म पानी सर्दी जुकाम का इलाज है।

अदरक, शहद और नींबू की चाय से करें सर्दी जुकाम का इलाज

अदरक सूखी और दमा खांसी के उपचार के लिए रामबाण की तरह काम करता है। अदरक में एंटी-इन्फ्लेमेटरी के गुण होते हैं। जो सर्दी-जुकाम के साथ-साथ उल्टी और दर्द से राहत भी दिलाता है।

एक कप गर्म पानी में 20-40 ग्राम ताजा अदरक मिलाएं और इससे चाय बनाएं। चाय बनाने के बाद इसे थोड़ा ठंडा होने दें। आप अपने स्वादानुसार इसमें शहद या नींबू का रस भी मिला सकते हैं।

गर्म पानी, बेकिंग सोडा और नमक से करें नाक की सिकांई

अगर बच्चा बंद नाक से परेशान हैं, तो नमक वाला गर्म पानी आपके लिए मददगार हो सकता है। गर्म पानी और नमक का यह मिश्रण नाक से वायरस के कणों और बैक्टीरिया को भी साफ करने का काम करता है।

इस सर्दी जुकाम का इलाज करने के लिए 2 गिलास पानी में 1/4 चम्मच नमक और 1/4 चम्मच बेकिंग सोडा मिलाएं। अब इस मिश्रण वाले पानी को नोज किट या बल्ब सिरिंज की मदद से अपने एक तरफ की नाक के अंदर डालें। इस दौरान दूसरे नाक को दबा कर रखें और चेहरे को ऊपर की तरफ करके रखें, ताकि पानी नाक से बाहर न निकले। फिर 20 से 30 सेकेंड बाद नाक से उस पानी को बहने दें। नाक की दोनों छेदों के साथ इस प्रक्रिया को तीन से पांच बार दोहराना होगा।

बच्चे नाजुक होते हैं और उन पर कोई भी बीमारी जल्दी हावी होती है। ऐसे में बच्चे सर्दी जुकाम से ज्यादा परेशान हो जाते हैं। बच्चे की साफ-सफाई के साथ ही उसके खिलौने और बिस्तर को भी साफ-सुथरा रखें। जिससे उसे संक्रमण का खतरा कम रहे। इसके अलावा ऊपर दिए गए सभी टिप्स को अपनाने से आपका बच्चा जल्द ठीक हो जाएगा। हैलो स्वास्थ्यकिसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Dr. Shruthi Shridhar के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Shayali Rekha द्वारा लिखित
अपडेटेड 10/09/2019
x