home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

क्या आप जानते हैं दूध से एलर्जी (Milk Intolerance) का कारण सिर्फ लैक्टोज नहीं है?

क्या आप जानते हैं दूध से एलर्जी (Milk Intolerance) का कारण सिर्फ लैक्टोज नहीं है?

जब भी आप दूध या दूध से बनी चीजें खाते हैं और अगर आपको कोई समस्या होती है, तो ऐसा माना जाता है कि आप लैक्टोज असहिष्णु हैं यानी आपको दूध से एलर्जी (Milk Allergy) है। इसका अर्थ यह भी हो सकता है कि आपको दूध को पचाने में मुश्किल हो रही है। अगर ऐसा है, तो आप अकेले नहीं है, क्योंकि 65 प्रतिशत लोगों की बचपन के बाद लैक्टोज को पचाने की क्षमता कम हो जाती है यानि दूसरे शब्दों में कहें, तो दूध से एलर्जी हो जाती है। कुछ और कारण भी हो सकते हैं, जिससे आपको दूध और दूध से बनी चीजों को पचाने में समस्या हो सकती है। यह सब A1 और A2 दूध के कारण हो सकता है। अब सवाल यह उठता है कि A1 और A2 दूध क्या होते हैं। आज हम आपके कुछ ऐसे ही सवालों के जवाब देने वाले हैं। जानिए इस बारे में विस्तार से। जानिए दूध से एलर्जी के बारे में।

क्या है A1 और A2 केसीन? (A1 and A2 casein)

दूध में फैट, विटामिन, प्रोटीन और लैक्टोज पाए जाते हैं। लैक्टोज दूध में जो चीनी होती है उसमें प्राकृतिक रूप से पाया जाता है। अब, अगर आप दूध में मौजूद प्रोटीन के बारे में अधिक जानेंगे, तो आपको पता चलेगा कि यह दो तरह का होता है, एक केसीन और दूसरा ‘व्हे’। व्हे की तुलना में केसीन प्रोटीन धीरे-धीरे पच जाते है और यह दोनों नौ जरूरी अमीनो एसिड से लैस होते हैं। हालांकि, अगर थोड़ा और अध्ययन किया जाए, तो आपको पता चलेगा कि केसीन प्रोटीन भी दो तरह के होते हैं। यह बीटा केसीन A1 and A2 में बंट जाती है। सुपरमार्केट में आपको जो दूध का जग या कार्टन मिलते हैं, उनमे दोनों A1 and A2 केसीन होती है। अब सवाल और भी बहुत हैं जैसे दोनों बीटा केसीन प्रोटीन में क्या अंतर है और कैसे A1 हमारे पाचन संबंधी समस्याओं का कारण है?

और पढ़ें : इंडिया में मिलने वाला इतने प्रतिशत दूध पीने लायक नहीं

A1 केसीन और A2 केसीन में क्या अंतर है? (Difference Between A1 and A2 casein)

A2 किस्म का दूध देसी नस्‍ल की गाय से मिलता है। यही नहीं, A2 किस्म का दूध देने वाली गाय गहरे भूरे रंग की होती है। इसमें A1 किस्म के दूध की तुलना में अधिक प्रोटीन और पोषक तत्व होते हैं। ऐसा कहा जाता है कि लगभग 8,000 साल पहले तक सभी गायें A2 केसीन प्रोटीन वाला दूध दिया करती थी जो बकरी, भेड़, पानी भैंस और मानव दूध में मौजूद केसीन के समान है। लेकिन उत्तरी यूरोपीय गायें किसी आनुवंशिक समस्या से पीड़ित हुईं और उन्होंने A1 केसीन बनाना शुरू कर दिया। यह गायें अधिक मजबूत होती हैं और अधिक दूध देती हैं। इसलिए जल्दी ही दुनिया जिसमें अमेरिका भी शामिल है, यह उसकी सबसे अधिक दूध देने वाली गायें बन गईं।

A1 गाय भारत में सबसे ज्यादा पाई जाती हैं। दूसरे देशों में भी अधिकतर ये ही गाय मिलती हैं, इन्हें हाइब्रिड गाय भी कहते हैं। A1 गाय के दूध में एक अलग तरह का अमीनो एसिड होता है जिसे हिस्टीडाइन कहा जाता है।

क्या A1 लैक्टोज के बजाय आपकी दूध से एलर्जी (Milk Allergy) का कारण बन रहा है?

केसीन एक प्रोटीन है, जबकि लैक्टोज चीनी है। कई लोग ऐसा मान लेते हैं कि वो लैक्टोज असहिष्णु नहीं हैं, यानी उन्हें दूध से एलर्जी नहीं है। इसके बजाय, वे A1 केसीन के लिए असहिष्णु हैं। जब हम मरीज को A2 दूध देते हैं, जिसमें A2 केसीन और लैक्टोज होता है, तो उनकी रिपोर्ट में ‘लैक्टोज असहिष्णुता’ यानि दूध से एलर्जी के लक्षण नहीं दिखाई देते। जब इन मरीजों को बकरी, भेड़, भैस या सच में A2 गाय का दूध दिया गया, तो उन्हें कोई समस्या नहीं हुई जैसे पेट में दर्द, डायरिया, ऐंठन, उल्टी आदि। यह परिणाम अमेरिका की खास पत्रिका में प्रकाशित हो चुके हैं। इसलिए A1 दूध आपकी डेयरी असहिष्णुता का कारण हो सकता है।

A1 असहिष्णुता (Intolerance) का टेस्ट कैसे कर सकते हैं?

कुछ ऐसी कंपनियां हैं, जो इसका टेस्ट करती हैं, लेकिन इसका सबसे आसान टेस्ट और तरीका है अपने आहार से हाइब्रिड गाय के दूध और दूध से बने चीजों को निकालना। इसके बाद आपको अच्छा महसूस होगा। इन खाद्य पदार्थों को अपने आहार से निकालने के बाद आप जान पाएंगे कि आप A1 असहिष्णु हैं या नहीं।

और पढ़ें : ब्रेस्ट में जमे हुए दूध को ठीक करने के लिए 5 प्राकृतिक उपाय

अगर मैं A1 असहिष्णु हूं तो क्या दूध या दूध से बने खाद्य पदार्थों का सेवन कर सकता हूं?

अगर आप जानते हैं कि आप A1असहिष्णु हैं, इसके बाद भी आप दूध और दूध से बने पदार्थों को खा सकते हैं, लेकिन इनके लिए आपको खास ध्यान रखना होगा। आप बकरी, भेड़ आदि का दूध, दही आदि खा सकते हैं या आप A2 दूध खरीदें। यह सब बड़े शहरों में आसानी से उपलब्ध है। इन चीजों को खाने से पहले इनके बारे में पूरी जानकारी ले लें।

इन सब चीजों से यह साबित होता है कि यह जरूरी नहीं कि आप मिल्क इनटॉलरेंस यानी दूध से एलर्जी के पीछे का कारण लैक्टोज हो, बल्कि A1 दूध का सेवन भी इसका कारण हो सकता है। अगर ऐसा है तो आप A2 दूध और दूध से बनी चीजों का सेवन करें।

दूध से एलर्जी के लक्षण (Milk Intolerance Symptoms)

दूध से एलर्जी

दूध से एलर्जी के लक्षण लोगों में अलग-अलग हो सकते हैं। साथ ही दूध पीने या कोई डेयरी प्रोडक्ट खाने के कुछ देर बाद इंसान में दूध से एलर्जी के लक्षण दिखाई दें। दूध से एलर्जी के लक्षण हैं:

  • जीभ, गले या होंठ में सूजन
  • उल्टियां होना
  • होंठ के आस-पास कुछ सेंसेशन महसूस करना
  • सिरदर्द
  • कुछ भी निगलने में दिकक्त होना
  • दस्त होना
  • आंखों से पानी बहना
  • पेट की ऐंठन

और पढ़ें :गाय, भैंस ही नहीं गधे और सुअर के दूध में भी छुपा है पोषक तत्वों का खजाना

दूध से एलर्जी (Milk Intolerance) होने पर डॉक्टर को कब दिखाएं

अगर आपके बच्चे में दूध पीने के कुछ देर बाद ऊपर बताए गए दूध से एलर्जी से होने वाले कोई भी लक्षण दिखें, तो आपको डॉक्टर को दिखाने की जरूरत हो सकती है। साथ ही अगर मुमकिन हो तो जिस समय बच्चे में दूध से एलर्जी के कारण उनके शरीर में कोई प्रतिक्रिया दिखें तभी डॉक्टर को दिखाएं। इससे डॉक्टर बच्चे की स्थिति को समझकर उसका बेहतर तरीके से इलाज कर पाएगा।

और पढ़ें: क्या सोने से पहले नियमित रूप से हल्दी वाला दूध पीना फायदेमंद होता है?

उम्मीद करते हैं कि आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा और बेबी दूध से एलर्जी से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र
लेखक की तस्वीर badge
Anu sharma द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 27/04/2021 को
डॉ. हेमाक्षी जत्तानी के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x