जानिए कैसे वजन घटाने के लिए काम करता है अश्वगंधा

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट September 9, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

भागदौड़ के चक्कर में जो भी आसानी से मिला खा लिया। फिर जब भूख लगी तो इग्नोर किया और कुछ देर बाद एक साथ ज्यादा खाना ले लिया। खानपान में लापरवाही और पौष्टिक आहार में कमी के कारण वेट अचानक से बढ़ जाता है। वेट बढ़ने के और भी कारण हो सकते हैं। लोग वेट लॉस के लिए बहुत से तरीके अपनाते हैं। लेकिन कहा जाता है कि पौष्टिक आहार और नियमित व्यायाम ही स्वस्थ शरीर की कुंजी होता है।

अगर किन्हीं कारणों से वेट बढ़ गया है तो उसे कम करने के लिए आर्युवेदिक जड़ी बूट का उपयोग करना भी बेहतर उपाय हो सकता है। क्या आपने वेट लॉस के लिए अश्वगंधा का प्रयोग किया है? अगर आप वेट लॉस की समस्या से परेशान हैं तो वेट लॉस के लिए अश्वगंधा का प्रयोग जरूर करके देखें। वेट लॉस के साथ ही अश्वगंधा का प्रयोग कई स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को सही करने के लिए किया जाता है। इस आर्टिकल के माध्यम से जानिए कि किस तरह से वेट लॉस के लिए अश्वगंधा का प्रयोग किया जाए।

और पढ़ें: क्या आपको भी है भूलने की है बीमारी? जानिए याद्दाश्त बढ़ाने के 10 घरेलू उपाय

अश्वगंधा के बारे में जानते हैं आप?

अश्वगंधा एक औषधीय पौधा है। अश्वगंधा की जड़ों और बीजों का उपयोग औषधीय दवाओं को बनाने के लिए किया जाता है। यह आमतौर पर मानव शरीर में कुछ खास बीमारियों के इलाज के लिए प्रयोग किया जाता है। कुछ लोग इसका उपयोग दर्द और सूजन को कम करने, इम्युनिटी बढ़ाने, स्ट्रेस को कम करने और बढ़ती उम्र के प्रभाव को रोकने के लिए करते हैं।

अश्वगंधा का उपयोग एडाप्टोजेन के रूप में शरीर को रोजमर्रा के तनाव से बचाने और सामान्य टॉनिक की तरह भी किया जाता है। इसके अलावा इसको घाव में, पीठ दर्द, वेट लॉस के लिए अश्वगंधा और हेमिप्लेजिया के इलाज के लिए किया जाता है। अश्वगंधा ज्यादातर लोगों के लिए सुरक्षित होती है। कुछ लोगों को इससे समस्या भी महसूस हो सकती है। अगर आप अश्वगंधा का प्रयोग पहली बार कर रहे हैं तों डॉक्टर से इस बारे में जानकारी जरूर लें।अश्वगंधा मार्केट में पाउडर और कैप्सूल के रूप में उपलब्ध है।

और पढ़ें: सिर दर्द ठीक करने के साथ ही गैस में राहत दिला सकता है केसर, जानें 11 फायदे

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

वेट लॉस के लिए अश्वगंधा

अश्वगंधा को भारतीय जिनसेंग भी कहा जाता है। अश्वगंधा का प्रयोग औषधीय रूप में किया जाता है। साथ ही अश्वगंधा का उपयोग यूनानी चिकित्सा पद्धति, सिद्ध चिकित्सा, अफ्रीकी चिकित्सा और होम्योपैथिक चिकित्सा में भी विभिन्न बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि अश्वगंधा औषधीय गुणों से भरपूर है। जो लोग अधिक वजन के हैं, अश्वगंधा का चिकित्सक द्वारा बताए गए समय पर सेवन करने से वजन में कमी ला सकते हैं।

अश्वगंधा बाजार में दो रूप में मिल जाती है। पहली तो कैप्सूल के रूप में और दूसरी पाउडर के रूप में। कैप्सूल के रूप में अश्वगंधा को चिकित्सक के बताए गए नियम के अनुसार सेवन करने से वजन में कमी होती है। वहीं पाउडर को दूध में मिलाकर सेवन किया जाता है। अश्वगंधा का स्वाद थोड़ा खराब लग सकता है। जब भी वेट लॉस के लिए अश्वगंधा का प्रयोग करें, दूध में पाउडर मिलाने के साथ ही कुछ मात्रा में शहद भी मिला लें। ऐसा करने से दूध पीने में पेरेशानी नहीं होगी।

और पढ़ें: डिप्रेशन और नींद: बिना दवाई के कैसे करें इलाज?

वेट लॉस के लिए अश्वगंधा का प्रयोग बढ़ा देगा एनर्जी

वेट लॉस के लिए अश्वगंधा का प्रयोग करने पर शरीर में एनर्जी फील होती है। अश्वगंधा एड्रेनल ग्लैंड्स को रेगुलेट करता है और साथ ही कोर्टिसॉल लेवल को भी ठीक बनाए रखता है। ओवरऑल एनर्जी के बढ़ जाने से वर्कआउट के दौरान बेहतर महसूस होता है। अश्वगंधा एनर्जी लेवल को बढ़ाने के साथ ही थकावट को दूर कर देता है। अश्वगंधा में आयरन भी होता है जो बॉडी में ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाने का काम करता है।

वेट लॉस के लिए अश्वगंधा का प्रयोग बनाएगा मसल्स मास

मसल्स मास किसी भी वेट लॉस प्रोग्राम के लिए जरूरी होता है। अश्वगंधा का प्रयोग शरीर में मेटाबॉलिज्म को बढ़ाने का काम करता है। मेटाबॉलीक रेट के हाई होने से फैट अधिक मात्रा में बर्न होता है। मेटाबॉलिज्म शरीर में होने वाला जरूरी प्रोसेस है। जिस भी व्यक्ति का मेटाबॉलिज्म रेट अच्छा होता है, उसके शरीर में कम फैट जमा होता है। अश्वगंधा में एंटी-ऑक्सिडेंट गुण होते हैं, जो वजन कम करने में मदद करते हैं। ये एंटी-ऑक्सिडेंट मेटाबोलिज्म को भी मजबूत बनाते हैं।

वेट लॉस के लिए अश्वगंधा का प्रयोग देगा अच्छी नींद

ये बात सच है कि अच्छी नींद शरीर की कई बीमारियों को दूर कर देती है। अश्वगंधा का प्रयोग करने से अच्छी नींद आती है। जिन लोगों को अच्छी नींद नहीं आती है, उनके शरीर में हार्मोन में गड़बड़ी हो जाती है। हार्मोन में गड़बड़ी के कारण शरीर का वजन बढ़ने लगता है। वेट लॉस के लिए अश्वगंधा का प्रयोग शरीर में एक साथ व्यवस्थाओं को दुरस्त करने का काम करता है। शरीर से जुड़ी कई गड़बड़ियों का संबंध वजन बढ़ने से होता है। अश्वगंधा का प्रयोग उन्हीं समस्याओं के निदान के लिए किया जाता है। ऐसा करने से वजन कुछ समय बाद कम होने लगता है।

और पढ़ें: क्या होता है BRCA1 और BRCA2 जीन?

इम्युनिटी और वेट लॉस का संबंध

अच्छी इम्युनिटी वेट को अधिक नहीं होने देती है। वेट लॉस के लिए अश्वगंधा का प्रयोग करने पर शरीर की इम्युनिटी में सुधार होता है। साथ ही शरीर को वेट लॉस की प्रोसेस के लिए तैयार करता है। इम्युनिटी कमजोर होने पर शरीर में कई तरह की बीमारियां पनपने लगती है। बीमारी के कारण शरीर का वजन भी बढ़ सकता है। अश्वगंधा से शरीर की सूजन भी कम होती है।

स्ट्रेस का वेट लॉस से संबंध

स्ट्रेस लेने से शरीर में समस्याएं उत्पन्न होने लगती है। स्ट्रेस के कारण तुरंत किसी भी तरह की परेशानी भले ही नजर न आए, लेकिन कुछ समय बाद शरीर में परिवर्तन देखने को मिलते हैं। अश्वगंधा स्ट्रेस को कम करने का काम करता है। स्ट्रेस खत्म होने से शरीर की आधी परेशानियां भी खत्म हो जाती है। स्ट्रेस के कारण वेट होने की भी संभावना रहती है।

और पढ़ें: भारतीय रिसर्चर ने खोज निकाला बच्चों में बोन कैंसर का इलाज

कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम कर सकता है

अश्वगंधा में मौजूद एंटी इंफ्लमैटरी गुण, हमारे शरीर में कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड के स्तर को कम करते हैं जिससे, हमारे हृदय के स्वास्थ्य में सुधार आता है। अध्ययनों  में यह पाया गया कि यह ब्लड फैट को काफी हद तक कम कर देता है। वेट लॉस के लिए अश्वगंधा का प्रयोग करने से पहले एक बार अपने डॉक्टर से इस बारे में जानकारी जरूर प्राप्त करें।

ब्लड शुगर कम करे

अश्वगंधा ब्लड शुगर को कम करने में भी मदद करता है। इससे इंसुलिन संतुलित मात्रा में रहता है, जिससे मोटापा कम करने में मदद मिलती है। इसी के साथ टाइप-2 डायबिटीज से भी बचाव होता है।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

विश्व आत्महत्या रोकथाम दिवस: क्यों भारत में महिला आत्महत्या की दर है ज्यादा? क्या हो सकती है इसकी रोकथाम?

भारत में महिला आत्महत्या की रोकथाम के लिए क्या करना चाहिए? आखिर क्यों महिलाएं करती हैं आत्महत्या? । Women suicide prevention in Hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन September 2, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

दस्त का आयुर्वेदिक इलाज क्या है और किन बातों का रखें ख्याल?

जानिए दस्त का आयुर्वेदिक इलाज कैसे किया जाता है? दस्त की समस्या को आयुर्वेद जानकार क्या कहते हैं? किन बातों का रखना चाहिए ख्याल?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
दस्त (डायरिया), स्वस्थ पाचन तंत्र June 30, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

दूर्वा (दूब) घास के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Durva Grass (Bermuda grass)

जानिए दूर्वा (दूब) घास की जानकारी, फायदे, दूर्वा (दूब) घास का उपयोग, कब लें, कैसे लें, Durva Grass के साइड इफेक्ट्स, सावधानियां। Bermuda grass in Hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Surender aggarwal

Librium 10: लिब्रियम 10 क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

लिब्रियम 10 की जानकारी in hindi, लिब्रियम 10 के साइड इफेक्ट क्या है, क्लोरडाएजपॉक्साइड (Chlordiazepoxide) दवा किस काम में आती है, रिएक्शन, उपयोग, Librium 10.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha

Recommended for you

मेंस हार्ट हेल्थ , Men's heart health

पुरुष हार्ट हेल्थ को लेकर अक्सर करते हैं ये गलतियां

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ February 11, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
ऑनलाइन स्कूलिंग के फायदे, Online Schooling benifits

ऑनलाइन स्कूलिंग से बच्चों की मेंटल हेल्थ पर पड़ता है पॉजिटिव इफेक्ट, जानिए कैसे

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ November 4, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

क्या आप वेट लॉस करना चाहते हैं?

के द्वारा लिखा गया Surender aggarwal
प्रकाशित हुआ October 27, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
कोरोना से ठीक होने के बाद के उपाय

कोरोना संक्रमण से ठीक होने के बाद ऐसे बढ़ाएं इम्यूनिटी, स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताए कुछ आसान उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ September 18, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें