home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

जानिए अश्वगंधा के फायदे और स्वास्थ्य लाभ

जानिए अश्वगंधा के फायदे और स्वास्थ्य लाभ

अश्वगंधा (Ashwagandha) एक असामान्य पौधा है। इसके विशेष गुण इसे अन्य पौधों से अलग करते हैं। प्राचीन भारत में, आयुर्वेद काल से ही अश्वगंधा को एक औषधि के रूप में देखा गया है। अश्वगंधा में ऐसे रसायन होते हैं जो मस्तिष्क को शांत करने, सूजन को कम करने, ब्लड प्रेशर (Blood Pressure) को घटाने और इम्यून सिस्टम (Immune system) को सुधारने में मदद कर सकते हैं। यह बढ़ते कोलेस्ट्रोल को नियंत्रित रखता है, याददाश्त को बेहतर बनता है पर अश्वगंधा के फायदे सिर्फ यहीं तक सीमित नहीं हैं।

और पढ़ें: विटामिन-सी कितना फायदेमंद, जानिए पूरा ज्ञान

आज हम आपको बताने जा रहे हैं अश्वगंधा के फायदे (Benefits of Ashwagandha)

अश्वगंधा के फायदे – ब्लड शुगर लेवल (Blood sugar level) को करता है कम

कई अध्ययनों में यह पाया गया है कि, अश्वगंधा शरीर में ब्लड शुगर लेवल को कम करने मदद करता है। कई अध्ययनों में ये पाया गया है कि इसके प्रयोग से स्वस्थ लोगों और मधुमेह रोगियों के ब्लड शुगर लेवल को कम करने की क्षमता बढ़ती है।

अश्वगंधा के फायदे एंग्जायटी में (Benefits of Ashwagandha in Anxiety)

अश्वगंधा के उपयोग से एंग्जायटी को कम करने में बहुत मदद मिलती है। एक अध्ययन से पता चलता है कि इस जड़ी-बूटी में एंग्जायटी के स्तर को कम करने की काफी क्षमता है। कई सारे शोधों में यह साबित हो चुका है है कि सीमिति मात्रा में अश्वगंधा का सेवन करने वाले लोगों में 30 फीसदी तक तनाव को कम पाया गया है।

और पढ़ें: रेड वाइन पीना क्या बना सकता है हेल्दी, जानिए इसके हेल्थ बेनीफिट्स

अश्वगंधा के फायदे – गठिया (Arthritis) से राहत दिला सकता है अश्वगंधा

अश्वगंधा एक बहुउद्देशीय जड़ी-बूटी है जो शरीर को शारीरिक रूप से मजबूत बनाने और गठिया के लक्षणों को कम करने के लिए जानी जाती है। इसे प्राकृतिक दर्द निवारक माना जाता है। यह हमारे शरीर में उठने वाले पेन सिग्नल्स को नर्वस सिस्टम तक पहुंचने से रोकता है। जिसकी वजह से हमें दर्द का अहसास कम होता है। यदि आप पारंपरिक उपचार के लिए प्राकृतिक विकल्प खोज रहे हैं, तो गठिया के लिए इसका विचार जरूर करें।

अश्वगंधा के फायदे – डिप्रेशन में फायदा करता है अश्वगंधा (Ashwagandha benefits in depression)

आजकल हर चौथा व्यक्ति डिप्रेशन की समस्या से परेशान पाया जा रहा है। कई बार तो इस समस्या का लेवल बढ़ने पर व्यक्ति के मन में आत्महत्या तक के भी विचार आने लगते हैं। ऐसे में आप अश्वगंधा का सेवन कर सकते हैं। आपको बता दें कि करीब 60 लोगों पर की गई एक रिसर्च में ये सामने आया है कि जिन लोगों ने रोजाना 60 मि.ग्रा अश्वगंधा का सेवन किया, उनमें डिप्रेशन की शिकायत में 79 प्रतिशत तक कमी आई थी। वहीं इसका प्रयोग न करने वालों में 10 प्रतिशत तक वृद्धि आई थी।

अश्वगंधा के फायदे – मसल्स मास (Muscles mass) और स्ट्रेंथ (Strength) को बढ़ाता हैं

कई अध्ययन से पता चला है कि अश्वगंधा शरीर की संरचना में सुधार कर सकता है और हमारी ताकत बढ़ा सकता है। इसका सेवन करने वाले लोगों को मांसपेशियों की ताकत में अधिक लाभदायक है।

और पढ़ेंः क्या ब्राउन शुगर से ज्यादा हेल्दी है स्टीविया? जानें स्टीविया के फायदे और नुकसान

अश्वगंधा के फायदे – कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम कर सकता है (Can lower cholesterol levels)

अश्वगंधा में मौजूद एंटी इंफ्लमेटरी गुण, हमारे शरीर में कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड के स्तर को कम करते हैं जिससे, हमारे हृदय के स्वास्थ्य में सुधार आता है। जानवरों पर हुए कुछ अध्ययनों में यह पाया गया कि यह ब्लड फैट को काफी हद तक कम कर देता है।

बाल बढ़ाता है अश्वगंधा (Ashwagandha for Hair growth)

आयुर्वेद में काफी समय से अश्वगंधा का प्रयोग बालों से सम्बंधित समस्याओं को दूर करने के लिए किया जाता रहा है। ये बालों की जड़ों तक रक्त का संचार सुधार देता है, जिससे आपके बाल तेजी से बढ़ते हैं और स्वस्थ रहते हैं।

अश्वगंधा के फायदे (Benefits of Ashwagandha) – बढ़ती है याद्दाश्त और ब्रेन फंक्शन में सुधार

टेस्ट-ट्यूब और जानवरों के अध्ययन से पता चलता है कि यह चोट या बीमारी के कारण होने वाली मेमोरी और ब्रेन फंक्शन समस्याओं को कम कर सकता है।

[mc4wp_form id=”183492″]

अश्वगंधा के फायदे (Benefits of Ashwagandha) – अल्जाइमर का इलाज

कई अध्ययनों में यह पाया गया कि अगर किसी व्यक्ति को पहले से ही अश्वगंधा का सेवन कराया जाए तो उसे अल्जाइमर की बीमारी होने की संभावना कम हो जाती है।

अश्वगंधा के फायदे – कैंसर के इलाज में भी निभाता है छोटी सी भूमिका (Ashwgandha for cancer treatment)

कुछ अध्ययनों में यह पाया गया है कि कुछ केस में अश्वगंधा कैंसर की सेल ग्रोथ को रोकने में मदद कर सकता है। शोध से मिले फलों के अनुसार यह स्तन, फेफड़े, गुर्दे और प्रोस्टेट कैंसर को धीमा करने की क्षमता रखता है।

अश्वगंधा के फायदे – बढ़ाता है टेस्टोस्टेरोन (Increases Testosterone)

अश्वगंधा की खुराक टेस्टोस्टेरोन के स्तर और फर्टिलिटी को बढ़ावा देता है। एक अध्ययन में, 75 इंफर्टाईल पुरुषों पर अश्वगंधा के साथ इलाज किया गया है, जिसमें से कुछ लोगों के स्पर्म काउंट में बढ़ोतरी पाई गई।

सफेद बालों में अश्वगंधा के फायदे (Benefits of ashwagandha for gray hair)

अश्वगंधा के प्रयोग से शरीर में मेलेनिन का उत्पादन होता है जो बालों के रंग के लिए जिम्मेदार होता है और इसकी कमी से ही बाल सफेद होने लगते हैं। इसके नियमित सेवन से बाल समय से पहले सफेद नहीं होते हैं।

अश्वगंधा के फायदे – कोर्टिसोल के स्तर को कम करता है (Lowers cortisol levels)

कोर्टिसोल को ‘स्ट्रेस हार्मोन’ के रूप में जाना जाता है, क्योंकि हमारा अड्रीनल सिस्टम इसे तनाव होने पर रिलीज करता है। यह इसी स्तर को घटाने में मदद करता है।

और पढ़ें : क्या आप जानते हैं दूध से एलर्जी (Milk Intolerance) का कारण सिर्फ लैक्टोज नहीं है?

बढ़ती उम्र में अश्वगंधा के फायदे (Benefits of Ashwagandha in aging)

अश्वगंधा में भरपूर मात्रा में एंटी-ऑक्सिडेंट्स पाए जाते हैं जिस कारण वो सन रेज के कारण होने वाले नुकसान से हमें बचाता है। अश्वगंधा त्वचा के कैंसर से बचाव करने में मदद करता है। इसके लिए आप ऐसा पैक बना सकते हैं जो आपकी त्वचा को एंटी एजिंग लाभ देता हो। इसके लिए अश्वगंधा के चूर्ण में गुलाब जल मिलाकर पेस्ट बना लें। इसे चेहरे पर 15 मिनट के लगा लें फिर चेहरा पानी से धो लें। इससे आपको बढ़ती उम्र के लक्षण रोकने में मदद मिल सकती है।

ध्यान रखें ये बातें

इसका सेवन प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाने के लिए किया जाता है। अश्वगंधा को दवाओं के साथ लेने से प्रतिरक्षा प्रणाली में कमी से इन दवाओं की प्रभावशीलता कम हो सकती है। इन दवाओं में अजैथिओप्रिन (इमुरान), बेसिलिक्सीमाब (सिम्यूलेक्ट), साइक्लोस्पोरिन (न्यूरॉल, सैंडिम्यून), डेक्लिज़ुमैब (जेनपैक्स), म्यूरोमोनैब-सीडी 3 (ओकेटी 3, ऑर्थोक्लोन ओकेटी 3), माइकोफेनोलेट (सेलसेप्ट), टैक्रोलिमस (एफके 506 प्रोग्राफ), सिलोलिमस (रैपैम्यून), प्रेन्डिसोन (डेल्टासोन, ओरासोन), कॉर्टिकोस्टीरॉयड (ग्लूकोकॉर्टिकॉयड) एवं अन्य शामिल हैं।

अश्वगंधा का एक बहुत ही अच्छे पूरक के रूप में प्रयोग किया जा सकता है। तो यदि आप कम टेस्टोस्टेरॉन, स्ट्रेस या डिप्रेशन की परेशानी से जूझ रहें हैं तो आप अपने डॉक्टर की सलाह से इसका का सेवन शुरू कर सकते हैं। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

health-tool-icon

बीएमआर कैलक्युलेटर

अपनी ऊंचाई, वजन, आयु और गतिविधि स्तर के आधार पर अपनी दैनिक कैलोरी आवश्यकताओं को निर्धारित करने के लिए हमारे कैलोरी-सेवन कैलक्युलेटर का उपयोग करें।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Pawan Upadhyaya द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 30/08/2021 को
और Hello Swasthya Medical Panel द्वारा फैक्ट चेक्ड