backup og meta
खोज
स्वास्थ्य उपकरण
बचाना

National Milk Day: वेट लॉस के लिए दूध को करें डायट में शामिल

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड डॉ. प्रणाली पाटील · फार्मेसी · Hello Swasthya


Govind Kumar द्वारा लिखित · अपडेटेड 20/08/2020

National Milk Day: वेट लॉस के लिए दूध को करें डायट में शामिल

भारत दुनिया में दूध का सबसे बड़ा उत्पादक है। इसके अलावा भारत दुनिया के ऐसे देशों में भी शामिल है, जो सबसे ज्यादा डेयरी प्रोडक्ट्स का सेवन करते हैं। भारत में दूध और इससे बनी चीजें लोगों की डेली डायट का अभिन्न हिस्सा है। दूध को एक संपूर्ण आहार माना जाता है। दूध में काफी मात्रा में कैलोरीज और प्रोटीन होते हैं, जो कि शरीर के लिए काफी फायदेमंद होते हैं। इस लेख में हम जानेंगे वेट लॉस के लिए दूध का कैसे इस्तेमाल करें…

वेट लॉस के लिए दूध का इस्तेमाल करने से पहले विश्व दूध दिवस के बारे में जानते हैं

भारत में 26 नवंबर राष्ट्रीय दूध दिवस (National Milk Day) के रूप में मनाया जाता है। यह विश्व दूध दिवस (World Milk Day) से अलग है, जो एक जून को मनाया जाता है। भारतीय डेयरी संघ (IDDB), नेशनल डेयरी डेवलपमेंट बोर्ड (NDDB), भारतीय स्टेट एसोसिएशन (IDA) के साथ 22 राज्य स्तरीय दूध संघ 26 नवंबर को नेशनल मिल्क डे मनाने पर सहमत हुए। इस दिन भारत के वाइट रिवॉल्यूशन के फादर डॉ वर्घीज कुरियन का जन्मदिन होता है। यह देश में दूध की आपूर्ति पर इनके द्वारा किए गए प्रयासों का नतीजा था, जिसकी वजह से इस दिन को मनाया जाता है।

और पढ़ें: जानें गाय के दूध से क्यों बेहतर है ब्रेस्टफीडिंग

कुछ समय से विश्व भर में एक बड़ा तबका वीगन डायट को अपनाने लगा है। इस डायट में दूध या किसी भी अन्य डेयरी प्रोडक्ट का सेवन नहीं किया जाता है। वीगन डायट को फॉलो करने वाले मानते हैं कि इस डायट को फॉलो करने वालों का जल्दी वेट लॉस होता है। ऐसा माना जाता है कि दूध में काफी मात्रा में लैक्टोज होता है, जो कि शुगर का ही एक रूप है। इस कारण दूध को लो कार्ब डायट में शामिल नहीं किया जा सकता है। वहीं यह भी समझना जरूरी है कि दुनिया भर में दूध सदियों से लोगों की ट्रैडिशनल डायट का हिस्सा रहा है, जिसका अक्सर लोग दिन की शुरुआत करने और दिन को खत्म करते समय सेवन करते हैं।

वहीं न्यूट्रीनिस्ट और संतुलित (Santulitt) की फाउंडर डॉ. अंशुल जयभारत कहती हैं कि, ‘कई शोधों में पाया गया है कि जो लोग डेयरी डायट फॉलो करते हैं उनकी तुलना में ऐसे लोग जो डेयरी प्रोडक्ट्स का सेवन नहीं करते के स्टूल सैंपल्स को चेक करने से पता चलता है कि डेयरी प्रोडक्डट्स का सेवन करने वाले लोगों के स्टूल में ज्यादा मात्रा में फैट पाया जाता है। दूध में पाया जाने वाला कैल्शियम बॉडी से फैट को बाहर निकालने में मदद करता है। लेकिन साथ ही अंशुल यह भी कहती हैं कि अपनी बॉडी के लिहाज से ही दूध की मात्रा को डायट में शामिल करें। इस बात का भी ख्याल रखें कि बाजार में आज मिलावटी दूध भी बड़े पैमाने पर बेचा जा रहा है। ऐसे में विश्वनीय जगह से सही क्वालिटी का ही दूध लें।’

और पढ़ें: दूध के बारे में कुछ ऐसी बातें जो हैरान कर देंगी हैरान

वेट लॉस के लिए दूध कैसे मदद करता है, जानें :-

  • मिल्क प्रोटीन का अच्छा स्त्रोत है। प्रोटीन हमारे हॉर्मोन्स को नियंत्रित करने में मदद करता है। दूध भूख को पैदा करने वाले हॉर्मोर्न घ्रेलनि (ghrelin) के स्तर को कम करता है, जिससे आपको पेट भरा महसूस होता है।
  • दूध में कैल्शियम और विटामिन-डी होता है, जो शरीर के मेटाबॉलिज्म को बढ़ाकर कैलोरी बर्न करने में मदद करते हैं।
  • दूध में विटामिन बी 3 होता है, जो वजन को बढ़ने से कम करने और एनर्जी मिलती है।
  • हाल ही में किए गए कुछ अध्ययनों के अनुसार, दूध में संयुग्मित लिनोलेनिक एसिड (conjugated linolenic acid) पाया जाता है, जो फेट को बर्न करने में मददगार होता है।
  • दूध आपको संतुष्ट रखकर वेट लॉस में करता है मदद (Helps in weight loss)

    सुबह ब्रेकफास्ट के लिए एक गिलास दूध, टोस्ट और एग व्हाइट्स आपके लिए सबसे बेहतर ऑप्शन हो सकता है। यह मील कार्ब्स, मिनरल्स और प्रोटीन का परफेक्ट कॉम्बीनेशन है। इसके अलावा दूध को कॉर्न फ्लैक्स या ओट्स के साथ भी ले सकते हैं। इस तरह से दूध के साथ किए गए ब्रेकफास्ट न सिर्फ आपको दिन भर के लिए एनर्जी देंगे बल्कि आपको संतुष्ट भी रखेंगे, जिससे आपको जल्दी भूख भी नहीं लगेगी और यह घर के बाहर होने पर जंक फूड की क्रेविंग कंट्रोल रखेगा।

    और पढें: इंडिया में मिलने वाला इतने प्रतिशत दूध पीने लायक नहीं

    वेट लॉस के लिए दूध: आपको हाइड्रेटेड रखता है दूध (Keeps you hydrated)

    एक गिलास दूध पीने से आपको जरूरी पोषण तो मिलता ही है। साथ ही यह आपको हाइड्रेटेड रखता है। साथ ही यह रेगूलर सोडा, एनर्जी ड्रिंक्स और फ्लेवर्ड ड्रिंक्स से कई ज्यादा हेल्दी ऑप्शन है। साथ ही दूध में सोडियम और पौटेशियम की जरूरी मात्रा होती है और यह आपके शरीर में इलेक्ट्रॉलाइट को बैलेंस करने का काम करता है। हालांकि, आप खुद को हाइड्रेट रखने के लिए पानी की जगह दूध का इस्तेमाल नहीं कर सकते। लेकिन, दिन में एक या दो गिलास दूध पीने से आप प्रोटीन और अन्य जरूरी पोषण लेने के साथ ही खुद को हाइड्रेट रखते हैं और साथ ही दूध पीने से आपकी भूख भी मिटती है और आप कुछ भी अनहेल्दी नहीं खाते हैं।

    वेट लॉस के लिए दूध: मेटाबॉलिज्म को बढ़ाता है दूध (Boost Metabolism)

    दूध फैट, कैल्शियम और अन्य पोषण तत्वों का सही ब्लैंड है, जो आपको पूरे दिन एक्टिव रखने में मदद कर सकता है। यह आपको एनर्जी तो देता ही है साथ ही मेटाबॉलिज्म को भी बेहतर बनाता है। मोटाबॉलिज्म बेहतर होने से आप जल्दी और सेहतमंद तरीके से वजन कम करते हैं।

    और पढ़ें: दूध या अन्य डेयरी प्रोडक्ट डाइजेस्ट नहीं होने के ये कारण भी हो सकते हैं

    वेट लॉस के लिए दूध: दूध हड्डियों को करता है मजबूत (Makes bones stronger)

    दूध से कैल्शियम की भरपूर मात्रा होने के कारण यह आपकी हड्डियों और मसल्स को मजबूत बनाता है। हड्डियां मजबूत होने के साथ ही आप जिम में देर तक एक्सरसाइज कर सकते हैं। इसके अलावा वर्क आउट करने के बाद एक गिलास दूध पीने से यह आपको एनर्जी तो देता ही है साथ ही डेमेज टिश्यूज को भी रिपेयर होने में मदद करता है।

    और पढ़ें : क्या आप जानते हैं दूध से एलर्जी (Milk intolerance) का कारण सिर्फ लैक्टोज नहीं है?

    वेट लॉस के लिए दूध: मिल्क फैट नहीं बढ़ाता आपका वजन (Milk fat does not increase your weight)

    दूध में ‘गुड फैट’ होता है। यह गुड फैट हड्डियों को ल्यूब्रिकेट करके और गुड मसल मास मेंटेन कर आपके शरीर को मजबूत बनाता है। दूध में मिलने वाला विटामिन डी और कैल्शियम आपकी हड्डियों और दांतों के लिए भी जरूरी है। इसके अलावा भारत में दूध सालों से सर्दी, एलर्जी और ब्लड प्रेशर के लिए होम रेमिडी के तौर इस्तेमाल किया जाता रहा है।

    [mc4wp_form id=’183492″]

    वेट लॉस के लिए दूध: ज्यादा भूख लगने से बचाता है दूध (Milk prevents excessive hunger)

    एक्सपर्ट्स की मानें तो लो फैट मिल्क भूख को शांत करने में मदद करता है। इसमें मौजूद प्रोटीन और कैल्शियम भूख को शांत करते हैं। दूध को पीने के बाद आप काफी लंबे समय तक पेट भरा हुआ महसूस करते हैं।

    वेट लॉस के लिए दूध को डायट में शामिल करने से पहले जान ले ये जरूरी बातें

    अपने लिए एक वर्क आउट रूटीन तैयार करें और इसी के लिहाज से अपनी डायट लें। डायट चुनते समय ध्यान रखें कि आप कैलोरीज का ध्यान रखें। एक गिलास दूध में औसतन 150 कैलोरीज होती हैं। वहीं लो फैट मिल्क के एक गिलास में 83 कैलोरीज होती हैं। वहीं पैक्ड फ्लेवर्ड मिल्क में रेगुलर मिल्क से अधिक कैलोरीज होती हैं। ऐसे में बिना चीनी के साथ रेगुलर दूध पीना ही एक बेहतर ऑप्शन है और खासकर जब आप दूध को वजन कम करने के लिए इस्तेमाल कर रहे हों।

    दूध से वजन बढ़ना

    कुछ लोगों की शिकायत होती है कि दूध पीने से उनका वजन कम होने की बजाय बढ़ जाता है। तो आपको बता दें ऐसा इसलिए होता है क्योंकि मौजूदा डायट में अतिरिक्त कैलोरी ले रहे हैं। आपका वजन बढ़ने के पीछे का कारण आपके द्वारा ली जा रही अत्यधिक कैलोरी है न कि दूध तो अपने दिमाग से यह भ्रम निकाल दीजिए और आज से स्किमड मिल्क को अपने आहार का हिस्सा बनाएं।

    और पढ़ें: बच्चे को कैसे और कब करें दूध से सॉलिड फूड पर शिफ्ट

    उम्मीद करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। हैलो हेल्थ के इस आर्टिकल में वेट लॉस के लिए दूध किस तरह फायदेमंद है, इससे जुड़ी हर मुमकिन जानकारी देने का प्रयास किया है। यदि आप इससे जुड़ी अन्य कोई जानकारी पाना चाहते हैं तो इसके लिए किसी विशेषज्ञ से कंसल्ट करें।

    डिस्क्लेमर

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

    डॉ. प्रणाली पाटील

    फार्मेसी · Hello Swasthya


    Govind Kumar द्वारा लिखित · अपडेटेड 20/08/2020

    ad iconadvertisement

    Was this article helpful?

    ad iconadvertisement
    ad iconadvertisement