आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

बच्चों की मजबूत हड्डियों के लिए बचपन से ही दें उनकी डायट पर ध्यान

बच्चों की मजबूत हड्डियों के लिए बचपन से ही दें उनकी डायट पर ध्यान

बच्चों की मजबूत हड्डियां भी उनके स्वस्थ्य और खुशहाल जीवन के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। आज की इस भागदौड़ भरी जिंदगी में कई बार लोगों को खाने का समय भी नहीं मिलता, तो कई बार लोगों को भागते-दौड़ते खाना खाना पड़ जाता है। साथ ही लोग पैक्ड फूड्स पर निर्भर हो गए हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि आपके बच्चों की कमजोर हड्डियां आगे चलकर उनके लिए परेशानी का कारण बन सकती है। बच्चों की मजबूत हड्डियों (For babies strong bone) के लिए आपको बचपन में ही उनकी डायट पर ध्यान देना होगा। कमजोर हड्डियों की बीमारी ऑस्टियोपोरोसिस आज के मिलेनियल्स को काफी प्रभावित करती है। लेकिन 18 साल की उम्र में (लड़कियों के लिए) और 20 साल (लड़कों के लिए) के लिए हड्डी में परेशानी होना खतरे की घंटी है।

और पढ़ें : प्रेग्नेंसी के दौरान डांस करने से होते हैं ये 11 फायदे

हड्डियों के स्वास्थ्य को आप अपने बचत खाते की तरह समझें, जो आगे चलकर आपके काम आएगा। बचपन और टीनएज के दौरान हड्डियों को इस तरह से मजबूत किया जा सकता है कि इसका उपयोग जीवन भर किया जा सके। तो चलिए आर्टिकल की शुरुआत करते हैं और बच्चों की मजबूत हड्डियों के लिए पेरेंट्स कौन-कौन से पोषक तत्वों को बच्चों की डायट में शामिल कर सकते हैं इस बारे में समझेंगे।

बच्चों की मजबूत हड्डियों (For babies strong bone) का निर्माण

बच्चों की मजबूत हड्डियों के लिए अलग-अलग पोषक तत्व एक साथ काम करते हैं। जिसमें कैल्शियम सबसे जरूरी है, लेकिन विटामिन डी, मैग्नीशियम, विटामिन के और नियमित शारीरिक एक्टिविटी भी जरूरी हैं। बच्चों की डायट में अलग-अलग तरह का खाना जैसे लो कैलोरी डायट, आमेगा-3 फैटी एसिड, कोलैजन सप्लीमेंट, हाई कैल्शियम फूड, प्रोटीन और सही वजन पर ध्यान देना जरूरी है।

बच्चों की मजबूत हड्डियों के लिए कैल्शियम (Calcium) है कितना जरूरी

हर मील में सही मात्रा में कैल्शियम का स्रोत होना जरूरी है। दूध, पनीर और दही (Curd) कैल्शियम के सबसे अच्छे सोर्स हैं। उदाहरण के लिए दूध में सबसे ज्यादा कैल्शियम होता है, इसी कारण बच्चों को नाश्ते और रात के भोजन में दूध देने की बात कही जाती है। जिन बच्चों को डेयरी प्रोडक्ट्स के अलावा अन्य सोर्सेज से कैल्शियम लेना है, वे लोग बादाम, ब्रोकली, केला, शलजम साग, अंजीर और टोफू भी खा सकते हैं। अलग-अलग खाने और पीने की चीजों में कैल्शियम ज्यादा मात्रा में होता है। बच्चों की मजबूत हड्डियों के लिए कैल्शियम इनटेक जरूरी है लेकिन इसके लिए आपको बहुत ज्यादा पैसे खर्च करने की जरूरत नहीं है। घर में मौजूद दाल, दूध और दूसरे फूड प्रोडक्ट बच्चों में कैल्शियम को बढ़ा सकते हैं।

और पढ़ें : क्यों होता है रीढ़ की हड्डी में दर्द, सोते समय किन बातों का रखें ख्याल

विटामिन डी (Vitamin D) भी करता है हड्डियों को मजबूत

सबसे ज्यादा विटामिन डी (Vitamin D) सूरज की रोशनी से मिलता है। लेकिन, यह विटामिन जगह और समय पर भी निर्भर करता है। ज्यादा देर तक सूरज की रोशनी में रहने से अलग-अलग परेशानियां भी हो सकती हैं। धूप में ज्यादा देर रहने से स्कीन कैंसर हो सकता है। वहीं, खाने के कुछ आइट्म आपको पर्याप्त मात्रा में विटामिन डी (Vitamin D) दे सकते हैं। अंडे का पीला भाग और फैट फ्री मछली (Fat free fish) जैसे साल्मन और ट्यूना में विटामिन डी प्रचुर मात्रा में होता है। आप संतरे के रस, दूध और कुछ नॉन डेयरी प्रोडक्ट में भी विटामिन डी पा सकते हैं। बच्चों में विटामिन डी की खुराक पूरी करने को लेकर अपने बाल रोग विशेषज्ञ से बात करें और हर रोज बच्चे की डायट में विटामिन डी शामिल करें। विटामिन डी सप्लीमेंट के साथ-साथ विटामिन डी रिच फूड भी आपके लिए मददगार साबित हो सकते हैं।

और पढ़ें : Legg-Calve-Perthes: लेग काल्व पेर्थेस क्या है?

बच्चों की मजबूत हड्डियों के लिए मैग्नीशियम (Magnesium for bone)

बादाम, पालक, काले बींस, ओट्स, पीनट बटर, एवोकैडो और आलू जैसे फूड आइटम में विटामिन डी (Vitamin D) की मात्रा प्रचुर मात्रा में होती हैं। अक्सर ये चीजें ज्यादातर बच्चों को पसंद भी होती हैं। मैग्नीशियम का इनटेक भी बच्चो के लिए जरूरी है।

विटामिन K (Vitamin K) को खानें में करें शामिल

पत्तेदार हरी सब्जियां, केला, शलजम का साग, गोभी, पालक और ब्रोकोली, विटामिन के से भरपूर होते हैं। कोलोन में बैक्टीरिया से विटामिन के की थोड़ी मात्रा बनती है लेकिन, यह पता नहीं है कि हमारा शरीर में इसका कितना उत्पादन और उपयोग करने में सक्षम हैं। इस कारण बाहर से अलग-अलग खाने के जरिए विटामिन के लेना जरूरी है।

और पढ़ें : शिशु के लिए विटामिन डी ड्रॉप क्यों हो सकता है लाभकारी?

ओमेगा -3 (Omega 3) बच्चों की मजबूत हड्डियों के लिए जरूरी

ओमेगा -3 फैटी एसिड (Omega 3 Fatty acid) अपने एंटी-इन्फ्लेमेट्री इफेक्ट के लिए अच्छी तरह से जाना जाता है। ओमेगा-3 उम्र बढ़ने की प्रक्रिया के दौरान हड्डियों के नुकसान से बचाने में मदद करने के लिए भी फायदेमंद है। बच्चों की मजबूत हड्डियों के लिए आप अपने बच्चों के आहार में ओमेगा -3 फैट को शामिल करने के अलावा, यह सुनिश्चित करना भी जरूरी है कि ओमेगा -6 (Omega 6) से ओमेगा -3 वसा का आपका संतुलन बहुत अधिक नहीं है। 45-90 आयु वर्ग के 1,500 से अधिक वयस्कों के एक बड़े अध्ययन में, जिन लोगों ने ओमेगा -6 से लेकर ओमेगा -3 फैटी एसिड के उच्च अनुपात का सेवन किया, उनमें दो वसा के कम अनुपात वाले लोगों की तुलना में बोन डेंसिटी कम होता है।

इसके अलावा हालांकि अधिकांश अध्ययनों में फैटी फिश में पाए जाने वाले लंबी श्रृंखला वाले ओमेगा -3 (Omega 3) फैट के लाभों पर ध्यान दिया गया है, एक नियंत्रित अध्ययन में पाया गया है कि ओमेगा -3 के फूड सोर्स से बोन ब्रेकडाउन कम होता है और हड्डी के गठन को बढ़ाने में मदद करता है। इसके अलावा बच्चों की मजबूत हड्डियों के लिए ओमेगा -3 फैट के पौधों के स्रोतों में चिया बीज, फ्लैक्ससीड्स और अखरोट शामिल हैं।

और पढ़ें : Thrive Failure: थ्राइव फेलियर क्या है? बच्चों की सेहत से जुड़ी इस परेशानी को इग्नोर ना करें!

बच्चों की डायट (Babies diet) पर बचपन से ही ध्यान देकर उनकी हड्डियों को मजबूह बनाया जा सकता है जो आगे चलकर उनका साथ दे सकते हैं। बचपन से ही बच्चों में कैल्शियम और विटामिन डी की मात्रा ठीक से दें जिससे उसे हड्डी से जुड़ी कोई परेशानी ना हों। डॉक्टर भी बचपन से ही बच्चों की मजबूत हड्डियों के लिए पेरेंट्स को सलाह देते हैं। बच्चों की मजबूत हड्डियों के लिए ज्यादातर माता-पिता ध्यान देते हैं। लेकिन अगर किसी कारण से माता-पिता बच्चों के कैल्शियम (Calcium) इनटेक पर ध्यान नहीं देते तो ऐसे बच्चों को आगे चलकर काफी परेशानी होती है।

बच्चों के लिए मां का दूध सर्वोत्तम माना जाता है। नीचे दिए वीडियो लिंक पर क्लिक करें और हेल्थ एक्सपर्ट से जानिए ब्रेस्टमिल्क एवं फॉर्मूला मिल्क (Breast milk and formula milk) से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Lucky Singh द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 23/09/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड