home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

बाजरा (Bajra) खाने से हो सकते हैं ये 10 फायदे

बाजरा (Bajra) खाने से हो सकते हैं ये 10 फायदे

बाजरे (Bajra) में भरपूर मात्रा में फाइबर होता है इसलिए यह पेट के लिए अच्छा है। इसके सेवन से हार्ट हेल्दी रहता है क्योंकि यह गुड कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाने और बैड कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करता है।

बाजरा एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर है जो कि हमें कई गंभीर बीमारियों से बचाता है जैसे कि अस्थमा और कैंसर। यह मुख्य रूप से स्तन कैंसर की रोकथाम के लिए बहुत अच्छा माना जाता है। बाजरा मुख्य रूप से एशिया और अफ्रीका के विकासशील देशों में सबसे अधिक उत्पादित किया जाता है। आज इस आर्टिकल में हम आपको बाजरे के फायदे और इसमें मौजूद बेहतरीन न्यूट्रिएंट्स के बारे में बताएंगे। तो आइए जानते हैं बाजरा हमारी सेहत के लिए कितना फायदेमंद है।

और पढ़ें – पालक से शिमला मिर्च तक 8 हरी सब्जियों के फायदों के साथ जानें किन-किन बीमारियों से बचाती हैं ये

बाजरा के गुण और प्रकार

बाजरे को अंग्रेजी में मिलेट के नाम से जाना जाता है। यह मुख्य रूप से भारत, नाइजीरिया और अन्य अफ्रीकी व एशियाई देशों में उगाया जाता है। इसका इस्तेमाल भारत में प्राचनी काल से लोगों के खाने व जानवरों को चराने के लिए किया जाता रहा है।

इसके अन्य फसलों के मुकाबले कई गुना अधिक फायदे होते हैं। इसे खराब मौसम व कम उपजाऊ जमीन में भी आसानी से उगाया जा सकता है।

हालांकि, मिलेट के सभी प्रकार पोएसी परिवार से संबंध रखते हैं लेकिन इनके रंग, बनावट और जाति विभिन्न होती है। इन फसलों को दो श्रेणियों में विभाजित किया गया है। पहले प्रमुख मिलेट और दूसरा छोटे मिलेट। प्रमुख मिलेट सबसे अधिक लोकप्रिय है और इसका उत्पादन भी सबसे अधिक होता है।

और पढ़ें – बेस्ट एनीमिया डाइट चार्ट को अपनाकर बीमारी से करें बचाव

प्रमुख बाजरे के प्रकार में निम्न शामिल हैं –

  • पर्ल बाजरा (मुक्ताफल)
  • फॉक्सटेल
  • सफेद बाजरा
  • रागी

आखिर क्यों है बाजरा इतना लोकप्रिय

अन्य अनाजों की ही तरह बाजरा भी स्टार्ची (कलफदार) अनाज होता है। यानी की यह भी कार्ब्स से भरपूर होता है। इसके अलावा इसमें हाई फाइबर, प्रोटीन, गुड फैट, आयरन और मैग्नीशियम जैसे पोषक आहार भी पाए जाते हैं।

इनके अलावा बाजरे में अत्यधिक मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट भी मौजूद होता है जो हमें न केवल पोषण प्रदान करता है बल्कि कई प्रकार की बीमारियों से भी बचाता है। चूहों पर किए गए अध्ययनों के अनुसार बाजरे में मौजूद फेरुलिक एसिड घाव को भरने, त्वचा को बचाने और एंटीइंफ्लामेट्री गुणों में तेजी लाता है।

और पढ़ें – रूमेटाइड अर्थराइटिस के लिए डाइट प्लान: इसमें क्या खाएं और क्या न खाएं?

बाजरे खाने के फायदे

बाजरा खाने के कई फायदे होते हैं। जिनमें निम्न मुख्य रूप से शामिल है –

1.हार्ट के लिए बाजरा

बाजरा दिल के लिए काफी अच्छा होता है क्योंकि इसमें मैग्नीशियम होता है जो ब्लड प्रेशर को कंट्रोल में रखता है। इससे दिल का दौरा या हार्ट स्ट्रोक की संभावना बहुत कम हो जाती है। बाजरे में काफी मात्रा में पोटेशियम होता है जो ब्लड सर्क्युलेशन के लिए अच्छा है।

2.डायबिटीज रोगियों के लिए बाजरा

डायबिटीज एक ऐसी बीमारी है जो अगर हो जाए तो खानपान में सतर्कता बरतने से ही कंट्रोल होती है। बाजरे में मैग्नीशियम पाया जाता है जो शरीर में ग्लूकोज रिसेप्टर को नियंत्रित करता है। जो लोग अपने आहार में बाजरे का इस्तेमाल करते हैं उनमे डायबिटीज की संभावना 30 % तक कम हो जाती है।

और पढ़ें – डायबिटिक फूड लिस्ट के तहत डायबिटीज से ग्रसित मरीज कौन सी डाइट करें फॉलो तो किसे कहे ना, जानें

3.कोलेस्ट्रॉल को मेंटेन करता है बाजरा

बाजरे में बहुत अधिक मात्रा में फाइबर मौजूद होता है जो बॉडी में गुड कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाता है और बैड कोलेस्ट्रॉल को घटाता है जो हृदय संबंधी परेशानियां होने से रोकता है। साथ ही यह ब्लड वेसल्स को जमने नहीं देता जिससे हार्ट स्ट्रोक की संभावना काफी कम हो जाती है।

4.पाचनतंत्र के लिए के लिए बाजरा (Bajra)

बाजरा काफी आसानी से पच जाता है क्योंकि इसमें भरपूर मात्रा में फाइबर होता है। फाइबर युक्त भोजन पाचन के लिए अच्छा रहता है। जो लोग अपनी डाइट में बाजरे का सेवन करते हैं उन्हें पाचन संबंधी समस्या जैसे पेट में दर्द, मरोड़,कब्ज ,एसिडिटी और गैस की परेशानी नहीं होती।

और पढ़ें – घर पर कैसे बनाएं हेल्दी मल्टीग्रेन ब्रेड? जानिए इसकी विधि

5.अस्थमा की रोकथाम के लिए बाजरा (Bajra)

आप चाहे छोटे शहर में रहे या बड़े शहर में पॉल्यूशन का शिकार हर किसी को होना पड़ता है। जिससे सांस संबंधी रोग हो जाते हैं। बच्चा हो या बड़ा बढ़ते पॉल्यूशन से सांस की तकलीफ आज कॉमन हो गयी है और कई बार यह समस्या अस्थमा तक में बदल हो जाती है। बाजरा सांस संबंधी रोगों की रोकथाम के लिए अच्छा है। इसलिए इसको अपनी डाइट में शामिल करना काफी फायदेमंद हो सकता है।

6.बॉडी डीटॉक्सीफाई के लिए बाजरा

यह खाने का एक बहुत बड़ा फायदा है कि यह आपके शरीर को डीटॉक्स करता है यानी की टॉक्सिक एलिमेंट्स को बाहर निकालता है। बाजरे में एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं जो आपको फ्री रेडिक्लस से छुटकारा दिलाते है। खासकर किडनी और लिवर में मौजूद विषाक्त पदार्थों को शरीर से बाहर निकालने में मदद करते हैं।

7.मिलेट कम करता है कोलन कैंसर का खतरा

मिलेट (बाजरे) में फाइबर और फाइटोन्यूट्रिएंट्स दोनों ही मौजूद होते हैं, जिनका मिश्रण कोलन कैंसर के खतरे को कम करने में फायदेमंद माना जाता है। इसके साथ ही इसमें मौजूद लिगनेन (Lignan) फाइटोन्यूट्रीएंट में ब्रेस्ट कैंसर से बचाने में भी मदद करता है। यहां तक की मिलेट ब्रेस्ट कैंसर के खतरे को 50 प्रतिशत तक कम कर सकता है।

और पढ़ें – आपको जरूर पता होना चाहिए, प्रोस्टेट कैंसर के ये प्रभावकारी घरेलू इलाज

8.हाई ब्लड प्रेशर को करता है नियंत्रित

बाजरे में मैग्नीशियम मौजूद होता है जो हृदय की अंदरूनी मांसपेशियों को आराम पहुंचाने में मदद करता है। इससे रक्त प्रवाह में कमी आती है जिससे वह नियंत्रित हो पाता है।

9.मिलेट त्वचा को बनाता है सुंदर

बाजरे में एमिनो एसिड होते हैं जो शरीर में कोलेजन (श्लेषजन) बनाने में मदद करते हैं। कोलेजन त्वचा के ऊतकों की संरचना करता है, इसलिए बाजरा खाने से त्वचा का स्वास्थ्य बरकरार रहता है और व्यक्ति के चेहरे पर झुर्रिया नहीं आती हैं।

10.पीरियड्स के दर्द से राहत दिलाता है बाजरा

मैग्नीशियम की अधिक मात्रा के कारण मिलेट महिलाओं के लिए एक बेहतरीन आहार होता है। यह पीरियड्स में होने वाले दर्द को सहने व उसकी ऐंठन को कम करने में मदद करता है। इसके अलावा यह गर्भवती महिलाओं में दूध के उत्पादन को भी बढ़ाता है।

और पढ़ें – थायराइड डाइट प्लान अपनाकर पाएं हेल्दी लाइफस्टाइल, बीमारी से रहे दूर

बाजरे की रेसेपी

बाजरे की खिचड़ी बेहद लोकप्रिय और स्वादिष्ट होती है। यह पोषक तत्वों से भरपूर होती है जिसके कारण आपको स्वाद के साथ-साथ स्वास्थ्य लाभ भी प्राप्त होते हैं। तो चलिए जानते हैं बाजरे के खिचड़ी की रेसिपी के बारे में –

बनाने का समय – 30 मिनट से 1 घंटा

बाजरे को अच्छे से धोकर उसे 5-6 घंटे भीगने के लिए छोड़ दें। इसके साथ ही चने की दाल को भी आधे घंटे भिगो लें। अब बाजरे, दल और चावल तीनों को एक साथ कुकर में डालें। 4 सीटियों के बाद इसे बहार निकाल लें।

अब एक पैन पर घी गर्म करें और उसमें जीरे या प्याज का तड़का लगाएं। इसके बाद स्वाद अनुसार हरी मिर्च, हल्दी और हींग को इसमें मिलाएं और कुछ देर के लिए छोड़ दें।

इसके बाद खिचड़ी को पैन में डालें और उसे मध्यम आंच पर कुछ समय के लिए पका लें। जरूरत अनुसार खिचड़ी में पानी समय- समय पर मिलाते रहें। बस 5 मिनट में आपकी खिचड़ी तैयार।

बाजरा हमारी सेहत पर कितना सकारात्मक प्रभाव डालता है यह तो अब तक आप समझ ही गए होंगे। बाजरे के गुणों को जानने के बाद यह तो तय है कि बाजरा हमें हेल्दी रखने के साथ -साथ कई खतरनाक बीमारियों से भी बचाता है। इसलिए आज ही अपने आहार में इसे शामिल करें और अगर कोई दुविधा हो तो अपने न्यूट्रिशन एक्सपर्ट से भी सलाह ले सकते हैं।

health-tool-icon

बीएमआर कैलक्युलेटर

अपनी ऊंचाई, वजन, आयु और गतिविधि स्तर के आधार पर अपनी दैनिक कैलोरी आवश्यकताओं को निर्धारित करने के लिए हमारे कैलोरी-सेवन कैलक्युलेटर का उपयोग करें।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Health benefits of finger millet (Eleusine coracana L.) polyphenols and dietary fiber: a review/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4033754/Accessed on 06/08/2020

Dietary Interventions for Type 2 Diabetes: How Millet Comes to Help/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5037128/Accessed on 06/08/2020
लेखक की तस्वीर
Priyanka Srivastava द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 06/08/2020 को
Dr. Pooja Bhardwaj के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड
x