home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

कॉफी (coffee) अगर है पहली पसंद : जानें इसके फायदे और नुकसान

कॉफी (coffee) अगर है पहली पसंद : जानें इसके फायदे और नुकसान

कॉफी (coffee) और चाय, ऐसे पेय पदार्थ हैं जो, भारत में सबसे ज्यादा पीए जाते हैं, या यूं कहें कि सबसे ज्यादा जीए जाते हैं। बदलते समय के साथ कॉफी (coffee) यहां के लोगों में ज्यादा लोकप्रिय हो चुकी है। दिन की शुरुआत हो, ऑफिस में ताजगी का डोज हो या फिर स्वास्थ्य से जुड़े कारण हों, हर जगह कॉफी (coffee) का जलवा है। कॉफी (coffee) एक हद तक अब लाइफ स्टाइल का हिस्सा बन चुकी है। हर साल 1 अक्टूबर को इंटरनेशनल कॉफी डे (International Coffee Day) यानी विश्व कॉफी दिवस के रूप में मनाया जाता है। आइए जानते हैं कि कॉफी का हमारी सेहत पर क्या असर पड़ता है।

कॉफी (coffee) के फायदे

कॉफी (coffee) में विटामिन-बी2 (VitaminB2), विटामिन-बी5(Vitamin B5), फोलेट (Folate), मैंगनीज (Manganese), मैग्निशियम (Magnesium), पोटेशियम (Potassium) व फॉस्फोरस (Phosphorus) जैसे कई पोषक तत्व (nutrients) मौजूद होते हैं। इसमें एंटीऑक्सीडेंट (Antioxidants) की मात्रा भी काफी होती है। ये सभी चीजें दिमाग, शरीर व स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद साबित होती हैं। हालांकि इसका सीमित सेवन ही करना चाहिए। आइए जानते हैं इससे होने वाले फायदों के बारे में।

  • अल्जाइमर (Alzheimer) में उपयोगी : अल्जाइमर (Alzheimer) से पीड़ित लोग बातें भूलने लगते हैं, उनकी सोचने की क्षमता भी कॉफी हद तक खत्म हो जाती है। डॉक्टरों के अनुसार अल्जाइमर (Alzheimer) वाला शख्स अगर नियमित रूप से कॉफी का सेवन करे तो, काफी हद तक उसकी समस्या दूर हो सकती है।
  • एनर्जी (ऊर्जा) व स्टेमिना (Energy and Stamina) बढ़ाता है : कॉफी में कैफीन (Caffeine) की मात्रा ज्यादा होती है। ऐसे में इसके सेवन से शरीर में तंत्रिका तंत्र (Nervous system) उत्तेजित होता है और शरीर में वसा (fat) कोशिकाओं को घटाता है। इससे शरीर का स्टेमिना (Stamina) बढ़ता है और थकान कम होती है। इसके अलावा कॉफी (coffee) शरीर में ऊर्जा का भी संचार करती है। कॉफी (coffee) पीने पर उसमें मौजूद कैफीन को खून अवशोषित कर लेता है और आपके मस्तिष्क में पहुंचकर न्यूरोट्रांसमीटर एडेनोसाइन (Neurotransmitter adenosine) को रोकता है, जिससे शरीर में ऊर्जा का स्तर बढ़ता है।
  • लीवर (liver) होता है मजबूत : शरीर को स्वस्थ रखने के लिए लीवर का सही रहना बहुत जरूरी है। दिन में 2-3 बार कॉफी पीने से कमजोर लीवर स्वस्थ व मजबूत बनता है।

और पढ़ें : हैरान करने वाले हेल्थ से जुड़े Fun Facts`

  • चर्बी/फैट (वसा) जलाने में कारगर : कॉफी में मौजूद कैफीन आपके शरीर में मौजूद वसा (Fat) को जलाता है। कैफीन आपकी चयापचय (metabolism) दर को 4-11 प्रतिशत तक बढ़ा सकता है। ऐसे में कॉफी का नियमित सेवन मोटापा कम करने में कारगर साबित होता है।
  • अवसाद/तनाव या डिप्रेशन (Depression) दूर करने में करता है मदद : कैफीन रक्त प्रवाह (Blood flow) में डोपामाइन (Dopamine) के स्तर को बढ़ाता है। डोपामाइन स्मृति (Memory) और संज्ञान के लिए जिम्मेदार माना जाता है। इसके अलावा यह खुशी को भी बढ़ाता है। एक रिसर्च के अनुसार, जो लोग कॉफी का नियमित सेवन करते हैं, उनमें अवसाद की संभावना 20 प्रतिशत तक कम हो जाती है।
  • डायबिटीज (Diabetes) में लाभदायक : डायबिटीज से पीड़ित लोगों के लिए भी कॉफी फायदेमंद होती है। खासकर इसका फायदा डायबिटीज टाइप-2 के मरीजों को ज्यादा होता है। कॉफी एसएचबीजी के प्लाज्मा स्तर को बढ़ाती है और इससे मधुमेह रुक जाता है।
  • हृदय/दिल (Heart) के रोग में : कई शोधों व डॉक्टरों की मानें तो कॉफी हृदय रोगी के लिए भी काफी फायदेमंद है। डॉक्टरों के अनुसार कॉफी में मौजूद क्लोरोजेनिक एसिड (Chlorogenic acid) एंटीऑक्सीडेंट (antioxidant) की तरह काम करता है और इससे ब्लड सर्कूलेशन पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। हालांकि हृदय रोगियों को ज्यादा कॉफी नहीं पीनी चाहिए।
  • कैंसर (Cancer) में उपयोगी : कॉफी में फेनोलिक (Phenolic) की मात्रा होती है, जो यौगिक ट्यूमर (Compound tumor) को पनपने से रोकता है। इसके साथ ही यह कैंसर को कंट्रोल करते हुए उसे बढ़ने से रोकने में भी कारगर होता है।
  • रक्तचाप/ब्लड प्रेशर (Blood Pressure) : ब्लड प्रेशर शरीर में कई बीमारियों को जन्म दे सकता है। डॉक्टरों का कहना है कि कॉफी का सेवन रक्तचाप को काफी हद तक कंट्रोल करता है। कुछ रिसर्च में आया है कि कॉफी के बीजों में एस्प्रिन (Aspirin) नाम का तत्व होता है और यह रक्त नलिकाओं पर सकारात्मक प्रभाव डालते हुए ब्लड में प्लेटलेट्स (Platelets) का लेवल भी सुधारता है। इससे रक्त संचार ठीक से होता है और ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहता है।
  • सिरदर्द (Headache) ठीक करता है : कॉफी के सेवन से सिरदर्द की समस्या भी ठीक हो जाती है। दरअसल कॉफी में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट तत्व मानसिक तनाव व दर्द को खत्म कर देतें हैं।

कॉफी से होने वाले नुकसान

किसी भी चीज की अति ठीक नहीं होती, फिर चाहे वह फायदा पहुंचाने वाली ही क्यों न हो। किसी भी पदार्थ का ज्यादा सेवन आपको नुकसान पहुंचाता है। यह बात कॉफी पर भी लागू होती है। अगर आप इसका सेवन तय मात्रा से अधिक करेंगे तो, कॉफी (coffee) कई नुकसान भी पहुंचाती है। अधिक मात्रा में कॉफी सेवन से होने वाले नुकसान इस प्रकार हैं।

  • किडनी (Kidney) के लिए हो सकता है खतरनाक : कुछ रिसर्च के अनुसार, कॉफी में मूत्रवर्धक (Diuretic) गुण होते हैं। ऐसे में कॉफी का अधिक सेवन करने पर आपको बार-बार पेशाब जाने की समस्या हो सकती है। यही नहीं कैफीन की मौजूदगी की वजह से ज्यादा मात्रा में कॉफी का सेवन आपकी किडनी को खराब कर सकता है।
  • कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) बढ़ना: अगर आप अधिक मात्रा में कॉफी पीते हैं तो, इससे कोलेस्ट्रॉल बढ़ सकता है। खासतौर पर बैड केलेस्ट्रॉल, जिसे लो डेनसिटी लिपोप्रोटिन (Low Density Lipoprotein (LDL)) के नाम से भी जाना जाता है। केलेस्ट्रॉल बढ़ने से मोटापा और हृदय रोग का भी खतरा रहता है।

और पढ़ें : इन 8 तरह के दर्द को दूर कर सकते हैं ये नैचुरल पेनकिलर, आप भी करें ट्राई

  • नींद न आना : आप अगर एक दिन में जरूरत से ज्यादा कॉफी पीते हैं तो, आपको अनिद्रा की समस्या भी हो सकती है। दरअसल कॉफी में मौजूद कैफीन अधिक मात्रा में होने पर दिमाग को उत्तेजित करता है, इससे नींद नहीं आती।
  • हड्डियां कमजोर करता है : कॉफी अधिक मात्रा में लेने से हड्डियों पर काफी खराब असर पड़ सकता है। इसके अलावा इससे ऑस्टियोपेरोसिस (osteoporosis) होने का भी खतरा रहता है। आपकी हड्डियां भी पतली व कमजोर होने लगती हैं।
  • अकारण चिंता या घबराहट : एक तरफ जहां नियमित और सीमित मात्रा में कॉफी का सेवन ध्यान केंद्रित करने व सतर्क रहने में मदद करता है, वहीं इसका अधिक सेवन करने से आपको अकारण चिंता व घबराहट जैसी समस्या हो सकती है।
  • शूगर (Diabetes) के मरीजों को भी दिक्कत : कॉफी के अधिक सेवन से खून में शर्करा (Sucrose) की मात्रा कम होने लगती है, जो शूगर के मरीजों के लिए हानिकारक हो सकती है।

और पढ़ें : क्या नींद में कमी कर सकती है आपकी इम्यूनिटी को कमजोर?

  • दस्त (loose motion) : तय मात्रा में कॉफी लेने से चयापचय (metabolism) ठीक रहता है, लेकिन मात्रा अधिक की जाए तो, दस्त के अलावा पेट से जुड़ी बीमारी भी हो सकती है।
  • अपच व प्लेटलेट्स की समस्या : कॉफी अधिक मात्रा में पीने से अपच व प्लेटलेट्स की समस्या से जूझना पड़ सकता है

लखनऊ डाइटिशियन कविता जोशी का कहना है ‘कॉफी दोनों तरह से काम कर सकती है। अच्छा और बुरा दोनों। ध्यान देने की जरूरत यह है कि आप इसका सेवन कैसे कर रहे हैं। कहते हैं न कि किसी भी चीज की अति नुकसानदायक होती है।’ कॉफी (Coffee) के साथ भी ऐसा ही है। सीमित मात्रा में लेने से जो कॉफी आपको कई फायदे पहुंचाती है। उसी का अधिक सेवन आपको कई तरह के नुकसान भी पहुंचा सकता है।। यह नुकसान किडनी से लेकर हृदय रोग भी हो सकता है।

इसलिए यदि आप कॉफी (Coffee) के शौकीन हैं तो, ज्यादा कॉफी भी न पीएं। किसी भी प्रकार की बीमारी से जूझ रहे हैं तो अपने डॉक्टर की राय जरूर लें।

health-tool-icon

बीएमआर कैलक्युलेटर

अपनी ऊंचाई, वजन, आयु और गतिविधि स्तर के आधार पर अपनी दैनिक कैलोरी आवश्यकताओं को निर्धारित करने के लिए हमारे कैलोरी-सेवन कैलक्युलेटर का उपयोग करें।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Hema Dhoulakhandi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 19/05/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x