home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Calcium Pantothenate: कैल्शियम पैंटोथेनेट क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

Calcium Pantothenate: कैल्शियम पैंटोथेनेट क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

परिचय

कैल्शियम पैंटोथेनेट (Calcium pantothenate) क्या है?

कैल्शियम पैंटोथेनेट पानी में घुलने वाला विटामिन B5 का एक कैल्शियम सॉल्ट है। यह पौधों और जानवरों के ऊत्तकों में पाया जाता है। यह एंटीऑक्सीडेंट के तौर पर कार्य करता है। पैंटोथेनेट कोन्जायम ए (CoA) और विटामिन बी2 कॉम्पलैक्स का हिस्सा है।

कई मेटाबॉलिक कार्यों के लिए विटामिन बी5 विकास का एक जरूरी कारक होता है। इसमें कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन और फैटी एसिड का ऊर्जा के रूप में इस्तेमाल शामिल है। यह विटामिन कोलेस्ट्रॉल, लिपिड्स (एक प्रकार का फैट), न्यूरोट्रांसमीटर्स, स्टेरॉयड्स हार्मोन और हीमोग्लोबिन के संश्लेषण में भी शामिल होता है। इसे पैंटोफेनेट एसिड के नाम से भी जाना जाता है। पैंटोथेनेट

उपयोग

कैल्शियम पैंटोथेनेट (Calcium pantothenate) का इस्तेमाल किस लिए होता है?

कैल्शियम पैंटोथेनेट या पैंटोथेनेट एसिड का इस्तेमाल विटामिन-बी की कमी में होता है। अधूरा खान पान या आंत में पोषक तत्वों का ठीक ढंग से न सोख पाने की वजह से विटामिन-बी की कमी होती है। यह कमी हेल्दी डायट ले रहे लोगों में नहीं होती है।

किसी व्यक्ति में सिर्फ विटामिन-बी की कमी होना एक दुर्लभ मामला होता है, क्योंकि डायट की कमी से कई पोषक तत्वों की बॉडी में कमी हो जाती है। कैल्शियम पैंटोथेनेट या पैंटोथेनेट एसिड शरीर के ऊत्तकों में विशेषकर कोन्जायम ए में डिस्ट्रिब्यूट होता है। इसकी सबसे अधिक मात्रा लिवर, एड्रेनेल ग्रंथि, हार्ट और गुर्दों में पाई जाती है। इस बात का खासतौर से ध्यान रहे कि आप किसी भी दवा का इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट से सलाह अवश्य लें।

और पढ़ें : क्या है हड्डियों की बीमारी ऑस्टियोपोरोसिस? जानें इसके लक्षण

मैं कैल्शियम पैंटोथेनेट (Calcium pantothenate) को कैसे स्टोर करूं?

इसे 40 डिग्री से कम तापमान, जब तक कि मैन्युफैक्चर्स के द्वारा कहा ना जए इसे 15-30 डिग्री के बीच रखना बेहतर होगा। इसे एयर टाइट कंटेनर में स्टोर करें। कैल्शियम पैंटोथेनेट के अलग-अलग ब्रांड्स को अलग तरीकों से स्टोर किया जाता है। इसे रखने से पहले सबसे बेहतर होगा कि आप दवा के पैकेज पर छपे निर्देशों को पढ़ लें या फार्मासिस्ट से पूछें। सुरक्षा की दृष्टि से सभी दवाइयों को अपने बच्चों और पेट्स से दूर रखें। जब तक कहा ना जाए तब तक सुरक्षा की दृष्टि से आपको कैल्शियम पैंटोथेनेट को टॉयलेट या नाली में नहीं बहाना है। आवश्यकता न रहने या एक्सपायरी की स्थिति में दवा का समुचित तरीके से निस्तारण जरूरी है। सुरक्षित तरीके से इसका निस्तारण करने के लिए अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट से सलाह जरूर लेनी चाहिए।

और पढ़ें : Vitamin O: विटामिन-ओ क्या है?

विशेष सावधानियां और चेतावनी

  • प्रेग्नेंसी: सामान्य मात्रा में रोजाना इसका सेवन करने पर साइड इफेक्ट्स के सुबूत नहीं मिले हैं।
  • ब्रेस्टफीडिंग: सुझाई गई सामान्य मात्रा में ब्रेस्टफीडिंग के दौरान इसका सेवन करना संभवतः सुरक्षित हो सकता है। ब्रेस्टफीडिंग या प्रेग्नेंसी दोनों ही विशेष परिस्थितियां हैं, जिनमें बिना डॉक्टर की मंजूरी के किसी भी प्रकार की दवा, सप्लिमेंट या हर्बल प्रोडक्ट का सेवन नहीं करना चाहिए। जरूरत पड़ने पर डॉक्टर की सलाह के मुताबिक इनका सेवन किया जा सकता है। ब्रेस्टफीडिंग और प्रेग्नेंसी के दौरान इस दवा का सेवन करने से मां और शिशु दोनों को ही नुकसान पहुंच सकता है। ब्रेस्टफीडिंग के दौरान जो भी फूड मां लेती है, उसका कुछ हिस्सा ब्रेस्टमिल्क के जरिए शिशु की बॉडी में पहुंचता है। इसके अतिरिक्त, प्रेग्नेंसी के दौरान भी प्लेसेंटा के जरिए शिशु की बॉडी में इसका कुछ हिस्सा पहुंच सकता है। किसी भी दवा का शिशु की बॉडी तक पहुंचना घातक हो सकता है।
  • बच्चों: सामान्य मात्रा में बच्चों में इसके उपयोग को लेकर साइड इफेक्ट्स के मामले सामने नहीं आये हैं।
  • बुजुर्गों: बुजुर्गों में इसकी सामान्य मात्रा के इस्तेमाल पर किसी भी तरह के गलत परिणाम के मामलों का पता नहीं चला है।

साइड इफेक्ट्स

कैल्शियम पैंटोथेनेट (Calcium pantothenate) से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

इस संबंध में अभी पर्याप्त शोध उपलब्ध नही हैं, जिससे इसके साइड इफेक्ट्स का आंकलन किया जाए। किसी भी दवा या औषधि के हर व्यक्ति के मामले में अलग-अलग साइड इफेक्ट्स नजर आ सकते हैं। जरूरी नहीं जो साइड इफेक्ट्स आपकी बॉडी में नजर आएं, वही लक्षण किसी अन्य की बॉडी में नजर आएं। हर व्यक्ति की बॉडी प्रत्येक दवा के प्रति अलग-अलग ढंग से रिएक्ट करती है। किसी भी दवा के साइड इफेक्ट्स के पीछे हमारी मौजूदा हेल्थ काफी हद तक एक बड़ा कारण होती है।

कुछ अध्ययनों में कैल्शियम पैंटोथेनेट के निम्नलिखित साइड इफेक्ट्स सामने निकलकर आए हैं:

कम सामान्य साइड इफेक्ट्स

  • त्वचा और आंखों का पीला पड़ना (पीलिया)
  • मांसपेशियों को नुकसान
  • मांसपेशियों की बीमारी

हालांकि, उपरोक्त साइड इफेक्ट्स की सूची संपूर्ण नहीं है। इन साइड इफेक्ट्स के अलावा भी इस दवा के कुछ अन्य साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं, जिन्हें ऊपर सूचीबद्ध नहीं किया गया है।

और पढ़ें : अपर बॉडी में कसाव के लिए महिलाएं अपनाएं ये व्यायाम

डोसेज

कैल्शियम पैंटोथेनेट (Calcium pantothenate) का सामान्य डोज क्या है?

  • सिर्फ एक विटामिन-बी की कमी के कारण, इसे अन्य विटामिन्स के साथ दिया जाता है। मार्केट में विटामिन-बी के कई प्रोडक्ट्स उपलब्ध हैं।
  • प्रत्येक 10 mg कैल्शियम पैंटोफेन 9.2 पैंटोफेनेट एसिड के बराबर है।

कैल्शियम पैंटोथेनेटटैबलेट्स

नोट: नीचे कैल्शियम सॉल्ट के डोज के संबंध में जानकारी नहीं दी गई है, बल्कि यह पैंटोथेनेट एसिड के डोज और स्ट्रेंथ के संबंध में दी गई है।

किशोरों और अडल्ट्स के लिए समान्य डोज:

प्रोफायलेक्सिस की कमी

मौखिक रूप से 4-7 mg प्रतिदिन लेने की सलाह दी जाती है।

बच्चों के लिए

प्रोफायलेक्सिस की कमी

  • मौखिक रूप से जन्म से तीन वर्ष तक के बच्चों को 2-3 mg देने की सलाह दी गई है।
  • चार से छह वर्ष के बच्चों को 3-4 mg देने की सलाह दी गई है।
  • सात से 10 वर्ष के बच्चों को 4-5 mg देने की सलाह दी गई है।

और पढ़ें : एचआईवी (HIV) से पीड़ित महिलाओं के लिए गर्भधारण सही या नहीं? जानिए यहां

कैल्शियम पैंटोथेनेट (Calcium pantothenate) किन रूपों में उपलब्ध है?

कैल्शियम पैंटोथेनेट निम्नलिखित रूपों में उपलब्ध है:

  • टैबलेट्स
  • कैप्सूल
  • ओटीसी (ओवर-दि-काउंटर मेडिसिन)

ओवरडोज या आपात स्थिति में मुझे क्या करना चाहिए?

आपात या ओवरडोज की स्थिति में तुरंत अपने नजदीकी डॉक्टर या आपातकालीन सेवा से संपर्क करें। कई बार कुछ ऐसे लक्षण होते हैं, जो सीधे ही दवा के ओवरडोज होने का संकेत देते हैं। इन लक्षणों का घर पर इलाज करने के बजाय सीधे अपने डॉक्टर या नजदीकी वॉर्ड से संपर्क करें तो बेहतर होगा। बिना डॉक्टर की सलाह के किसी भी दवा का सेवन शुरू या बंद न करें। जब तक डॉक्टर से मंजूरी न मिल जाए तब तक दवा के डोज में इजाफा या कटौती नहीं करनी चाहिए। डॉक्टर की निर्देशित अवधि से पहले दवा का सेवन बंद न करें। सुझाए गए डोज के कोर्स को पूरा करें। यदि आप बिना डॉक्टर की अनुमति के इनमें से किसी भी प्रकार का कदम उठाते हैं तो इससे साइड इफेक्ट्स का खतरा बढ़ जाता है। इसके अतिरिक्त, कुछ ही दिनों में बीमारी के लक्षण दोबारा नजर आ सकते हैं। ऐसा होने पर आपकी बॉ़डी इस दवा के प्रति एक रेसिस्टेंट बना लेती है, जिससे दवा की प्रभाविकता कम हो जाती है। बेहतर होगा कि आप इसकी विस्तृत जानकारी के लिए एक बार अपने डॉक्टर से सलाह अवश्य लें।

कैल्शियम पैंटोथेनेट (Calcium pantothenate) का डोज मिस हो जाए तो क्या करूं?

कैल्शियम पैंटोथेनेट का डोज मिस हो जाता है तो जल्द से जल्द इसे लें। हालांकि, यदि आपका अगली खुराक का समय नजदीक आ गया है तो भूले हुए डोज को ना खाएं। पहले से तय नियमित डोज को लें। एक बार में दो खुराक ना खाएं।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान या इलाज मुहैया नहीं कराता है।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Dr. Hemakshi J के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Sunil Kumar द्वारा लिखित
अपडेटेड 25/12/2019
x