home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

कब्ज की शिकायत दूर करने के कुछ घरेलू उपाय, दिलाएंगे राहत

कब्ज की शिकायत दूर करने के कुछ घरेलू उपाय, दिलाएंगे राहत

कहते हैं सुबह की शुरुआत अगर अच्छी हो तो पूरा दिन अच्छा जाता है। कुछ यही फार्मूला मनुष्य की बॉडी पर भी लागू होता है। सुबह-सुबह अगर पेट ठीक से साफ हो जाए तो पूरा दिन अच्छा जाता है और ताजगी बनी रहती है। कब्ज (कॉन्स्टिपेशन) की परेशानी होने पर सेहत से जुड़ी और भी समस्याएं शुरू हो जाती हैं। कई बार तो खाने-पीने में लापरवाही की वजह से कब्ज की समस्या होती है लेकिन, अगर रोजाना ऐसा हो तो इसका इलाज करवाना जरूरी है। एक्सपर्ट्स की मानें तो तीन दिनों तक लगातार कब्ज की समस्या होने पर उपचार शुरू करना चाहिए। इस लेख में हम बात करेंगे कब्ज के कारण और कब्ज के घरेलू उपाय के बारे में…

और पढ़ें: Quiz : कब्ज में क्या खाएं और क्या नहीं, जानें क्विज से

कब्ज होने के कारण (Causes of Constipation)

  1. शारीरिक गतिविधियों में शामिल नहीं होना।
  2. खान-पान ठीक न होना।
  3. समय पर खाना न खाना।
  4. खाना खाने के तुरंत बाद सो जाना।
  5. कम पानी पीना।
  6. शरीर में फाइबर की कमी होना
  7. फ्राइड फूड का ज्यादा सेवन करना।
  8. तनाव में रहना
  9. रात को ठीक से नहीं सोना।
  10. डाइजेशन (पाचन) ठीक न होना
  11. भोजन करने के बाद एक ही जगह पर बैठे रहना।
  12. दर्द निवारक गोलियों का सेवन करना।
  13. बदलता लाइफस्टाइल भी कब्ज को दस्तक देने के लिए काफी है।

और पढ़ें : बच्चों को भी हो जाता है कब्ज, जानिए इसके कारण और इलाज

कब्ज के घरेलू उपाय (Home remedies of Constipation)

खानपान की आदतों और जीवनशैली में कुछ बदलाव करके कब्ज का इलाज किया जा सकता है। आइए जानते हैं कब्ज के घरेलू उपाय के बारे में…:

[mc4wp_form id=”183492″]

न होने दें पानी की कमी

दिनभर ज्यादा पानी पिएं। खुद को हाइड्रेट रखें। लिक्विड डायट के लिए आप नारियल पानी, जूस, डिटॉक्स वॉटर को डायट में शामिल कर सकते हैं। इससे आपका शरीर तो हाइड्रेट रहेगा साथ ही कब्ज की समस्या से राहत मिलेगी।

कब्ज से राहत पाने के लिए करें शहद का सेवन

कब्ज के घरेलू उपाय में शहद को भी बेहद फायदेमंद माना जाता है। जिन लोगों को कब्ज की शिकायत रहती है वो रात को सोने से पहले एक ग्लास पानी में एक चम्मच शहद को मिलाकर लें। इस नुस्खे को नियमित रूप से करने से कब्ज की समस्या से हमेशा के लिए छुटकारा मिल जाएगा।

और पढ़ें : रेड वाइन पीना क्या बना सकता है हेल्दी, जानिए इसके हेल्थ बेनीफिट्स

कब्ज के इलाज के लिए करें सब्जियों का सेवन

दिन और रात के खाने में हरी सब्जियों को शामिल करें। सब्जियों में फाइबर उचित मात्रा में पाया जाता है, जिसके कारण ये कॉन्स्टिपेशन की समस्या को रोकने का काम करता है। आप चाहे तो हरी पत्तेदार सब्जियों को सूप के रूप में भी शामिल कर सकते हैं। कब्ज से ग्रसित लोगों को रोजाना पालक का रस पीने से भी फायदा मिलता है।

ताजा खाना है पाचन के लिए अच्छा

गर्म खाना खाएं। ठंडा खाना और पानी नुकसानदायक होगा। गर्म खाने से मतलब अधिक गर्म खाने से बिल्कुल नहीं है। अगर आप ताजे खाना का सेवन करते हैं तो पाचन दुरस्त रहता है।

और पढ़ें : कॉन्स्टिपेशन से हैं परेशान तो ‘स्लीप लाइक अ बेबी’ पॉलिसी को अपनाना हो सकता है आपके लिए पॉजिटिव

हरड़ चूर्ण देगा कब्ज से राहत

तीन ग्राम हरड़ चूर्ण का सेवन गर्म पानी के साथ करने से कब्ज से राहत मिलती है।

फलों को कहें ‘हां’

फलों में सेब और केले का सेवन लाभकारी होगा क्योंकि इनमें भरपूर मात्रा में फाइबर होता है। जो मोशन को क्लियर करने में सहायक होगा। पका केला खाएं कच्चे केले से कॉन्स्टिपेशन होता है। कब्ज के घरेलू उपाय के रूप में आप अपनी डायट में पपीता को शामिल करें। प्रतिदिन किसी भी समय एक बार पपीते का सेवन जरूर करें। फलों में अमरूद को भी कब्ज के लिए अच्छा माना जाता है। एक बात का ध्यान रखें पका हुआ अमरूद का सेवन करें। ये पेट की समस्याओं को दूर करने के साथ, त्वचा को खूबसूरत बनाता है।

अंजीर भी कब्ज की समस्या से राहत प्रदान करती है। अंजीर को लेने के लिए एक रात पहले पानी में भीगो दें। सुबह उठकर खाली पेट इसका सेवन करें। एक हफ्ते में इसका रिजल्ट आपको नजर आने लगेगा।डायट में फाइबर युक्त चीजों को अधिक से अधिक शामिल करें। आप जितना अधिक फाइबर युक्त चीजों का सेवन करेंगे उतना ही मल नरम होता है और उसे आंत से बाहर आने में आसानी होती है।

और पढ़ें : प्रोटीन का पाचन और अवशोषण शरीर में कैसे होता है? जानें प्रोटीन की कमी को दूर करना क्यों है जरूरी

कब्ज की समस्या है तो पिएं गुनगुना दूध

कब्ज के घरेलू उपाय के रूप में आप रात को सोने से पहले नियमित रूप से गर्म दूध पिएं। इससे सुबह मोशन में परेशानी नहीं होगी। दूध न सिर्फ शरीर को कैल्शियम देने का काम करता है बल्कि पेट की समस्या को भी दूर करने का काम करता है। आप रात में सोने से पहले गाय का दूध ले सकते हैं।

कब्ज से राहत के लिए अलसी का सेवन

अलसी (Flaxseed) को गर्म पानी में उबालकर रोज रात को सोने से पहले पीने से लाभ होता है।

आयुर्वेदिक औषधि त्रिफला का करें इस्तेमाल

कब्ज के घरेलू उपाय: ‘त्रिफला’ यह एक आयुर्वेदिक औषधि है। इसके सेवन से भी कब्ज की परेशानी दूर होती है। आयुर्वेद में कब्ज के लिए त्रिफला को बेहद उपकारी बताया है। इसको सुबह सोकर उठने के तुरंत बाद लेना सबसे सही रहता है। इसके तीन से पांच ग्राम चूर्ण को एक कप गर्म पानी से लें।

करें आवंला का सेवन

कब्ज की समस्या से निजात पाने के लिए आंवला का उपयोग भी कर सकते हैं। 3-5 ग्राम आंवला चूर्ण या 10-20 मिली आंवला जूस को दिन में दो बार लेने से पेट संबंधित कई परेशानियों से निजात पाया जा सकता है।

और पढ़ें : गर्म पानी के साथ शहद और नींबू लेने से बढ़ती है इम्युनिटी, जानें इसके फायदे

ईसबगोल का करें सेवन

कब्ज की शिकायत को दूर करने के लिए ईसबगोल भूसी को भी फायदेमंद माना जाता है। यह कोलन की सफाई करने में मदद करता है। कब्ज की परेशानी होने पर इसे रोजाना गर्म पानी में एक से दो चम्मच लेने की सलाह दी जाती है।

कब्ज के घरेलू उपाय : करे किशमिश का सेवन

कब्ज की समस्या को दूर करने के लिए आप किशमिश का सेवन कर सकते हैं। अगर आपको चाहे तो किशमिश के स्थान में अंगूर का भी सेवन कर सकते हैं। किशमिश और अंगूर में फाइबर पाए जाते हैं जो कब्ज की समस्या में राहत दिलाने का काम करते हैं। आप चाहे तो अंगूर का सेवन जूस के रूप में भी कर सकते हैं। किशमिश को खाने से एक दिन पहले रात भर पानी में भिगो लें।

खाने के बाद सौंफ का सेवन

कब्ज के घरेलू उपाय: खाने के बाद सौंफ और मिश्री के सेवन से जो आहार लिया गया है, उसे पचाने में आसानी होती है। आप सौंफ को भूनने के बाद उसका पाउडर बना लें। इस पाउडर को आप गुनगुने पानी के साथ लें। ऐसा करने से कब्ज की समस्या में राहत मिल सकती है।

नींबू का सेवन देगा कब्ज से राहत

नींबू का सेवन भी कब्ज की समस्या से छुटकारा दिलाने का काम कर सकता है। नींबू को रोजाना गुनगुने पानी में मिलाकर पीने से कब्ज की समस्या से राहत मिल सकती है। आप गुनगुने पानी में नींबू के साथ ही काला नमक भी कुछ मात्रा में मिला सकते हैं। काला नमक भी पाचन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। आप चाहे तो नींबू और काले नमक को फलों के साथ मिलाकर भी खाया जा सकता है। फलों में उचित मात्रा में फाइबर पाया जाता है।

कब्ज से राहत के लिए किवी का उपयोग

अगर आपने कीवी का सेवन किया होगा तो आपको पता होगा कि ये फल बहुत रसीला और स्वादिष्ट होता है। हरे रंग का ये फल कब्ज की समस्या से राहत दिलाने का भी काम करता है। कीवी का स्वाद हल्का खट्टा और मीठा होता है। एक मीडियम कीवी में 2.5 ग्राम तक फाइबर के साथ ही पर्याप्त मात्रा में विटामिन और न्यूट्रीएंट्स पाए जाते हैं। कीवी एक तरह का बेरी है, इसके अंदर काले रंग के छोटे बीज होते हैं। स्टडी में ये बात सामने आई है कि कीवी का सेवन करने से बाउल मूवमेंट प्रमोट होता है। ताइपे के रिसर्चर की स्टडी में ये बात सामने आई है कि दिन में दो कीवी का सेवन करने से वयस्कों में कब्ज की समस्या से राहत मिलती है।

खाने में करें बींस शामिल

जैसा कि आप पढ़ चुके हैं कि खाने में फाइबर की मात्रा बढ़ाने पर कब्ज की समस्या से राहत पाई जा सकती है। फाइबर खाने में बींस के माध्यम से भी लिया जा सकता है। एक कप बींस में करीब 10 ग्राम तक फाइबर होता है। बींस में सॉल्युबल और इनसॉल्युबल दोनों ही तरह के फाइबर होते हैं। आप खाने में बेक्ड बींस, ब्लैक आईड बींस, गरबेन्जो बीन्स, राजमा, लाइमा बींस आदि को शामिल कर सकते हैं।

फाइबर से भरपूर स्वीट पटैटो का करें सेवन

स्वीट पटैटो में अधिक मात्रा में फाइबर पाया जाता है। एक मीडियम बेक्ड स्वीट पटैटो में 3.8 ग्राम तक फाइबर होता है। आप स्वीट पटैटो की स्किन को न हटाएं और इसे साफ करके और फिर बेक करके इसका सेवन करें। स्वीट पटैटो की स्किन में अधिक फाइबर होता है। आप बेक्ड पटैटो को स्वादिष्ट बनाने के उसमे बटर या फिर क्रीम का इस्तेमाल कर सकते हैं।

कार्न का करें इस्तेमाल

अगर आप खाने में मैदा, प्रोसेस्ड फूड ऑयल आदि का सेवन अधिक करते हैं तो आपको अपनी डायट में बदलाव जरूर करना चाहिए। आपको खाने में फाइबर युक्त आहार को शामिल करने के लिए उसकी जानकारी होना भी बहुत जरूरी है। आप खाने में कॉर्न को शामिल कर सकते हैं। आप पॉपकार्न को हाई फाइबर स्नैक के रूप में शामिल करें। ऐसा करने से आपको कब्ज की समस्या से राहत मिलेगी। 3 कप पॉपकॉर्न में करीब 3.5 ग्राम फाइबर होता है। साथ ही 100 से कम कैलोरी होती है। आपको पॉपकॉन के साथ हाई फैट लेने से बचना चाहिए। हाई फैट भी कॉन्स्टिपेशन का कारण बन सकता है।

ब्रोकली का उपयोग कॉन्स्टिपेशन से राहत के लिए

ब्रोकली विटामिन सी के साथ ही फाइबर का भी अच्छा सोर्स है। आधी कप पकी हुई ब्रोकली में 2.8 ग्राम फाइबर होता है। ब्रोकली का सेवन कब्ज की समस्या से राहत दिलाने का काम कर सकता है। आप चाहे तो ब्रोकली की सब्जी बनाकर या फिर अपने पसंदीदा फूड में ब्रोकली को एड कर सकते हैं।

ड्राई फ्रूट भी है फाइबर का अच्छा सोर्स

अगर आपको लगता है कि फ्रेश फ्रूट्स में ही फाइबर पाए जाते हैं, ड्राई फ्रूट में नहीं तो आप गलत हैं। आप ड्राई फ्रूट में फिग, एप्रीकॉट, आलमंड, रेजिंस आदि को शामिल कर सकते हैं। अगर आप ड्राई फ्रूट को आसानी से नहीं खा पाते हैं तो रात भर पानी में भिगो कर भी रख सकते हैं।

और पढ़ें : इन फूड्स की वजह से बच्चों को हो सकता है कब्ज, ऐसे करें दूर

कब्ज के घरेलू उपाय के बाद जानते हैं किन-किन चीजों से करें परहेज (What to avoid during constipation?)

  1. रात को सोने से पहले चाय या कॉफी नहीं पीना चाहिए। देर रात तक चाय या कॉफी के सेवन से डाइजेशन बिगड़ता है।
  2. रात के खाने में जंक फूड, पैक्ड फूड और मैदा से बनी चीजें खाने से परहेज करें। सो़डा से दूरी बनाकर रखें।
  3. अगर आयरन या कैल्शियम सप्लीमेंट्स का सेवन करते हैं तो डॉक्टर से सलाह लेकर इसे दिन में ही खाएं।
  4. देर रात तक सिगरेट और शराब के सेवन से सेहत को तो धीरे-धीरे नुकसान होता ही है लेकिन, कब्ज की समस्या अगले दिन से ही शुरू हो सकती है।
  5. मिर्च-मसाले वाले खाने से परहेज करें।
  6. कभी-कभी ज्यादा डेयरी प्रोडक्ट के प्रयोग से भी कब्ज की परेशानी होती है। अगर कब्ज की समस्या है तो इन्हें अवॉइड करना चाहिए।
  7. नियमित रूप से एक्सरसाइज करने की आदत डालें। आप खुद को जितना एक्टिव रखेंगे उतनी ही यह परेशानी आपसे कोसों दूर रहेगी।
  8. इस बात का ध्यान रखें कि खानपान की अच्छी आदत न सिर्फ कब्ज की समस्या से बचाने का काम करती है, बल्कि अन्य प्रकार की समस्याओं से भी बचाने का काम करती है।
  9. अगर आपको कब्ज की समस्या कई दिनों से है और घरेलू उपचार करने के बावजूद भी कोई फर्क नहीं पड़ रहा है तो बेहतर होगा कि आप डॉक्टर से जांच कराएं। कब्ज की पुरानी समस्या पाइल्स का कारण भी बन सकती है। आपको ऐसे में लापरवाही नहीं बरतनी चाहिए।

और पढ़ें: कब्ज और ह्रदय रोग वालों के लिए वरदान है ज्वार (Jowar), जानें फायदे

कब्ज की समस्या बड़ी समस्या नहीं है लेकिन, दो से तीन दिनों के इंतजार के बाद डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए। क्योंकि कई बार मोशन के साथ-साथ ब्लड भी आने लगता है। ऐसे में स्थिति चिंताजनक हो जाती है। लंबे समय तक कब्ज की समस्या का रहना कई बीमारियों का कारण भी बन सकता है। इस लेख में आप जान गए होंगे कि कब्ज की समस्या से छुटकारा पाने के लिए आपको क्या-क्या उपाय करना चाहिए। साथ ही किन बातों से परहेज करना चाहिए। उम्मीद करते हैं कि आप इन सभी उपायों का पालन करेंगे। आशा करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। हैलो हेल्थ के इस आर्टिकल में कब्ज के घरेलू उपाय बताए गए हैं। यदि आपका इस लेख से जुड़ा कोई भी सवाल है तो आप उसे कमेंट सेक्शन में कर पूछ सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Natural ways to relieve constipation: https://www.health.harvard.edu/bladder-and-bowel/natural-ways-to-relieve-constipation Accessed August 07, 2020

Relieving constipation the natural way: https://www.artofliving.org/in-en/ayurveda/ayurvedic-remedies/relieving-the-constipation-in-natural-way Accessed August 07, 2020

6 Home Remedies for Constipation: https://jamaicahospital.org/newsletter/6-home-remedies-for-constipation/ Accessed August 07, 2020

Treatment for Constipation: https://www.niddk.nih.gov/health-information/digestive-diseases/constipation/treatment Accessed August 07, 2020

Constipation: Causes and Prevention Tips – https://www.hopkinsmedicine.org/health/conditions-and-diseases/constipation-causes-and-prevention-tips Accessed August 07, 2020

Concerned About Constipation? – https://www.nia.nih.gov/health/concerned-about-constipation Accessed August 07, 2020

Constipation: https://www.nhp.gov.in/constipation-vibandha_mtl. Accessed August 07, 2020

Herbal Remedies for Management of Constipation and its Ayurvedic Perspectives. http://medind.nic.in/jav/t12/i1/javt12i1p27.pdf. Accessed August 07, 2020

An open-label, prospective clinical study to evaluate the efficacy and safety of TLPL/AY/01/2008 in the management of functional constipation. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3193686/. Accessed August 07, 2020

Chronic constipation. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5976340/. Accessed August 07, 2020

लेखक की तस्वीर badge
Mubasshera Usmani द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 22/04/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड