home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Gemifloxacin: जेमिफ्लोक्सासिन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

उपयोग|सावधानियां और चेतावनी|साइड इफेक्ट्स|इंटरैक्शन|डोसेज
Gemifloxacin: जेमिफ्लोक्सासिन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

उपयोग

जेमिफ्लोक्सासिन का इस्तेमाल किसलिए होता है? (Uses of Gemifloxacin)

जेमिफ्लोक्सासिन को कई प्रकार के बैक्टीरियल इंफेक्शन के इलाज में इस्तेमाल किया जाता है। यह दवा क्यूनोलोन एंटिबायोटिक ड्रग क्लास की है। यह बैक्टीरिया को विकसित होने से रोकती है। यह सिर्फ बैक्टीरिया की ग्रोथ को रोकती है, वायरल इंफेक्शन (सामान्य खांसी जुकाम) में कार्य नहीं करती है। किसी भी एंटीबायोटिक का बिना आवश्यकता के सेवन करने से भविष्य में यह इंफेक्शन से लड़ने में कारगर नहीं होती हैं।

जेमीफ्लोक्सीसिन

मुझे जेमिफ्लोक्सासिन कैसे लेनी चाहिए? (How to take Gemifloxacin)

डॉक्टर की सलाह पर जेमिफ्लोक्सासिन को खाली पेट या खाने के साथ लिया जा सकता है। इसकी डोज आपकी मेडिकल कंडिशन और इलाज में आपकी बॉडी की प्रतिक्रिया पर निर्भर करेगी। जब तक आपका डॉक्टर मना न करे, तब तक आपको इस दवा के सेवन के दौरान आपको पर्याप्त मात्रा में पानी पीना है।

अन्य दवाइयों के सेवन से दो घंटा पहले या बाद में ही जेमिफ्लोक्सासिन का सेवन करें, इससे यह दवा बेहतर तरीके से कार्य करती है। उदाहरण के तौर पर क्विनाप्रिल, सुक्रालफेट (sucralfate) विटामिन/मिनरल्स (जिंक और आयरन को मिलाकर) और उन प्रोडक्ट्स, जिनमें मैग्नीशियम या एल्युमीनियम (एंटासिड, डाडानोसाइन सॉल्युशन) और अन्य दवाइयां। दवा की ज्यादा जानकारी के लिए अपने फार्मासिस्ट से संपर्क करें। इसके बेहतर प्रभाव के लिए अंतराल के बाद इस दवा का सेवन करें। अपने आप को याद दिलाने के लिए रोजाना एक ही समय पर इस दवा का सेवन करें।

और पढ़ें: Carbidopa : कार्बिडोपा क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

इस दवा का सेवन तब तक करें जब तक कि सुझाया गया डोज खत्म न हो जाए। यहां तक कि कुछ दिनों बाद बीमारी के लक्षणों के गायब होने के बाद भी इसका सेवन बंद न करें। यदि आपकी हालत अत्यधिक बुरी है, तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

मैं जेमिफ्लोक्सासिन को कैसे स्टोर करूं? (How to store Gemifloxacin)

जेमिफ्लोक्सासिन को स्टोर करने का सबसे बेहतर तरीका है, इसे कमरे के तापमान पर रखना। इसे सूर्य की सीधी किरणों और नमी से दूर रखें। दवा को खराब होने से बचाने के लिए आपको जेमिफ्लोक्सीसिन को बाथरूम या फ्रिज में नहीं रखना है। जेमिफ्लोक्सासिन के अलग-अलग ब्रांड्स को अलग तरीकों से स्टोर किया जाता है। इसे रखने से पहले सबसे बेहतर होगा कि आप दवा के पैकेज पर छपे निर्देशों को पढ़ लें या फार्मासिस्ट से पूछें। सुरक्षा की दृष्टि से सभी दवाइयों को अपने बच्चों और पेट्स से दूर रखें। जब तक कहा न जाए तब तक सुरक्षा की दृष्टि से आपको जेमिफ्लोक्सासिन को टॉयलेट या नाली में नहीं बहाना है। आवश्यकता न रहने या एक्सपायरी की स्थिति में दवा का समुचित तरीके से निस्तारण जरूरी है। सुरक्षित तरीके से इसका निस्तारण करने के लिए अपने फार्मासिस्ट से सलाह लें।

सावधानियां और चेतावनी

जेमिफ्लोक्सासिन (Gemifloxacin) का इस्तेमाल करने से पहले क्या जानना चाहिए?

यदि आपको एलर्जी या क्युनोलोन एंटिबायोटिक (quinolone antibiotics) (सिप्रोफ्लोक्सिन (ciprofloxacin), लिवोफ्लोक्सीसिन या अन्य प्रकार की एलर्जी है, तो अपने जेमिफ्लोक्सासिन का इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट को इसकी जानकारी दें। इस दवा में इनएक्टिव इनग्रीडिएंट्स हो सकते हैं, जिससे आपको एलर्जी रिएक्शंस या अन्य दिक्कते हों सकती हैं। इसकी अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

यदि आपको पहले कभी डायबिटीज, जॉइंट/टेंडेन, किडनी की समस्या, मेंटल/ मूड डिसऑर्डर (डिप्रेशन), कुछ मसल्स की समस्या, नर्व की दिक्कत (पेरिफेरल न्यूरोपैथी) सीजर (दौरा पड़ना) डिसऑर्डर हुआ है, तो अपने डॉक्टर को इसकी जानकारी जरूर दें।

जेमिफ्लोक्सासिन से दिल की रिद्म क्यूटी प्रोलोनगेशन (QT prolongation) प्रभावित हो सकती है। क्यूटी प्रोलोनोगेशन से दिल की धड़कन में अनियमितता और अन्य लक्षण (गंभीर चक्कर आना, बेहोशी), जिनमें तुरंत चिकित्सा की जरूरत पड़े, उनके गंभीर दुष्परिणाम हो सकते हैं।

दिल की रिद्म में गड़बड़ी के खतरे से आपको कुछ मेडिकल कंडिशन या आप अन्य दवाइयां ले रहे हैं, जिनसे आपको दिल की रिद्म में समस्या आने का खतरा बढ़ सकता है। जेमिफ्लोक्सासिन का इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट को उन सभी दवाइयों की जानकारी दें, जिनका सेवन आप कर रहे हैं। यदि आप निम्नलिखित दिक्कतों का समाना कर रहे हैं, तो इसकी जानकारी भी उन्हें दें।

दिल की कुछ समस्याएं (हार्ट फेलियर, दिल की धड़कन का धीमा होना, ईकेजी में क्यूटी प्रोलोनगेशन), परिवार में किसी को हार्ट से संबंधित कुछ समस्याएं रही हों (ईकेजी में क्यूटी प्रोलनगेशन, अचानक कार्डिएक अरेस्ट से मृत्यु होना)।

ब्लड में पोटैशियम या मैग्नीशियम की कम मात्रा क्यूटी प्रोलोनगेशन के खतरे को बढ़ा सकती है। कुछ दवाइयों (ड्यूरेटिक्स या वॉटर पिल्स) के इस्तेमाल से यह खतरा बढ़ सकता है। यदि आपको ज्यादा पसीना आता है या डायरिया, उल्टी होती है तब भी इसका खतरा बढ़ सकता है। जेमिफ्लोक्सासिन का सुरक्षापूर्ण तरीके से इस्तेमाल करने के लिए अपने डॉक्टर से बात करें।

यदि आपको डायबिटीज है, तो यह दवा आपके ब्लड शुगर लेवल में गंभीर बदलाव कर सकती है। इसके लिए नियमित रूप से ब्लड शुगर लेवल को चेक करें और इसकी रिपोर्ट को डॉक्टर के साथ साझा करें। ब्लड शुगर के लक्षण जैसे प्यास/ यूरिनेशन के बढ़ने पर नजर रखें।

ब्लड शुगर के कम होने के लक्षण जैसे ज्यादा पसीना आना, कंपकपी, धड़कना का तेज होना, भूख, धुंधला दिखाई देना, चक्कर आना या हाथ पैर में झुनझुनी होने पर नजर रखें। ब्लड शुगर का इलाज करने में यह बेहतर होगा कि आप ग्लूकोज की गोलियां या जेल को साथ रखें।

यदि आपके पास ग्लूकोज इन विश्वसनीय फॉर्म में उपलब्ध नहीं है, तो लगातार शुगर के स्रोत वाले प्रोडक्ट जैसे चीनी, शहद या टॉफी या फ्रूट जूस पीते रहें।

इस दवा का रिएक्शन होने पर अपने डॉक्टर को तुरंत इसकी जानकारी दें। ब्लड शुगर को कम होने से रोकने के लिए नियमित तौर पर भोजन करें। भोजन करना न भूलें। रिएक्शन होने पर डॉक्टर आपकी डायबिटीज को एडजस्ट या अन्य एंटिबायोटिक दवाइयां दे सकता है।

इस दवा से आपको चक्कर आ सकते हैं। जब तक आपको यह न लगे कि आप सुरक्षित तरीके से ड्राइव या अन्य प्रकार की एक्टिविटी कर सकतें हैं तब तक इन्हें न करें। एल्कोहॉल वाले बेवरेज को सीमित करें।

यह दवा सूर्य के प्रति आपको अधिक संवेदनशील बना सकती है। ऐसे में सीमित समय तक ही सूर्य के सामने रहें। बाहर निकलते वक्त सनस्क्रीन और धूप से बचाने वाले कपड़ों को कैरी करें। यदि सूर्य के संपर्क में आने से आपकी त्वचा झुलस जाती है, तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

जेमिफ्लोक्सासिन से लिवर बैक्टीरियल वैक्सीन सही ढंग से कार्य नहीं कर पाते हैं। इस दवा का इस्तेमाल करते वक्त किसी भी प्रकार का वैक्सिनेशन न लें। ऐसा आपको तब तक करना है, जब तक आपका डॉक्टर इसकी सलाह नहीं देता।

सर्जरी से पहले अपने डॉक्टर या डेंटिस्ट को उन सभी दवाइयों की जानकारी दें, जिनका आप इस्तेमाल कर रहे हैं। इस सूची में डॉक्टर की लिखी हुई और गैर लिखी हुई हर्बल दवाइयां शामिल हैं।

वहीं, बच्चों में इस दवा का इस्तेमाल करने से उन्हें जॉइंट्स/ टेंडन की समस्या होने का सबसे ज्यादा खतरा होता है। इसके फायदे और नुकसान के बारे में डॉक्टर से चर्चा करें।

वहीं, व्यस्कों में भी इस दवा इस्तेमाल करने पर टेंडन और क्यूटी प्रोलोनगेशन की समस्या का खतरा सबसे ज्यादा खतरा रहता है। यदि वह कोर्टिकोस्टेरॉयड (प्रेडेनसोन, हाइड्रोकोरटिसोन) तो उन्हें टेंडन की समस्या का खतरा सबसे ज्यादा रहता है।

और पढ़ें: Aceclofenac : एसिक्लोफेनाक क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

क्या प्रेग्नेंसी या ब्रेस्टफीडिंग के दौरान इसे लेना सुरक्षित है? Is it safe to take Gemifloxacin during pregnancy or breast feeding?

प्रेग्नेंसी या ब्रेस्टफीडिंग के दौरान जेमिफ्लोक्सासिन लेना कितना सुरक्षित है, इसको लेकर अभी तक पर्याप्त अध्ययन नहीं किए गए हैं। जेमफ्लोक्सिन को लेने से पहले इसके संभावित फायदों और नुकसान का आंकलन करने से पहले हमेशा अपने डॉक्टर से संपर्क करें। अमेरिकी फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (FDA) के मुताबिक, जेमिफ्लोक्सासिन प्रेग्नेंसी रिस्क कैटेगरी में c में है। प्रेग्नेंसी के दौरान इस दवा का इस्तेमाल तभी होना चाहिए, जब इसकी स्पष्ट जरूरत हो। इसके फायदों और नुकसान के बारे में अपने डॉक्टर से सलाह लें। यह ब्रेस्ट मिल्क के जरिए हल्की मात्रा में शिशु तक पहुंच सकती है। स्तनपान कराने से पहले डॉक्टर से सलाह लें।

FDA प्रेग्नेंसी रिस्क कैटेगरी की लिस्ट नीचे दी गई है:

  • A=No risk (कोई खतरा नहीं)
  • B=No risk in some studies (कुछ अध्ययनों में खतरा पाया गया)
  • C=There may be some risk, (कुछ खतरे हो सकते हैं)
  • D=Positive evidence of risk, (खतरे के पॉजिटिव एविडेंस मौजूद हैं)
  • X=Contraindicated, (कॉन्ट्रेनडिकेटेड)
  • N=Unknown (पता नहीं)

और पढ़ें: Acetaminophen : एसिटामिनोफेन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

साइड इफेक्ट्स

जेमिफ्लोक्सासिन के क्या साइड इफेक्ट्स हैं? (side effects of Gemifloxacin)

उबकाई, डायरिया, चक्कर आना, सिर दर्द या सोने में दिक्त आना। यदि इनमें से कोई भी साइड इफेक्ट्स गंभीर होते हैं तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

इस बात को याद रखें कि यह दवा डॉक्टर आपको तभी लिखता है जब वह यह आंकलन करता है कि आपको इसके साइड इफेक्ट्स से ज्यादा इसके फायदे मिलेंगे। इस दवा का इस्तेमाल करने वाले कई लोगों को गंभीर साइड इफेक्ट्स नहीं होते हैं।

ब्लीडिंग, ब्रुशिंग, गुर्दे की समस्या के लक्षण (यूरीन की मात्रा में बदलाव आना), लिवर की समस्या के लक्षण (उबकाई या लगातार उल्टी आना, एपेटाइट का कम होना, पेट दर्द, आंखों और त्वचा का पीला पड़ना, यूरिन का गाढ़ा होना) के लक्षण सामने आने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

सीने में दर्द, गंभीर रूप से चक्कर आना, बेहोशी, दिल की धड़कन का तेज भागना या उसमें अनियमित्ता जैसे बेहद ही गंभीर साइड इफेक्ट्स होने पर तत्काल डॉक्टर से संपर्क करें।

इस दवा से आंत की गंभीर समस्या (क्लोसट्रिडियम डिफिसाइल, जो डायरिया से जुड़ी होती है) हो सकती है क्योंकि यह बैक्टीरिया रेसिस्टेंट होती है। यह स्थिति इलाज के दौरान या इलाज बंद होने के एक महीने के बाद सामने आ सकती है।

यदि आपको डायरिया, पेट दर्द/ ऐंठन, स्टूल में म्युकस या ब्लड आना जैसे साइड इफेक्ट्स होने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

यदि आपको ऐसे लक्षणों को अहसास होता है तो एंटी डायरिया प्रोडक्ट्स या नारकोटिक पेन मेडिसिन का इस्तेमाल ना करें क्योंकि, इससे आपकी हालत और गंभीर हो सकती है।

इस दवा का लंबे समय तक इस्तेमाल या दोबारा इस्तेमाल करने से आपके मुंह में एक प्रकार का यीस्ट इंफेक्शन हो सकता है। यदि आपको अपने मुंह पर पैचेस, वजायनल डिस्चार्ज में बदलाव या अन्य लक्षण नजर आते हैं तो डॉक्टर से बात करें।

हालांकि, इस दवा का सबसे गंभीर दुष्परिणा दुर्लभ ही सामनेआता है। रैश, खुजली/ सूजन (विशेषकर चेहरे /जुबान/ गले), गंभीर रूप से चक्कर आना, सांस लेने में दिक्कत आने जैसे गंभीर साइड इफेक्ट्स के लक्षण नजर आते हैं तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

जेमिफ्लोक्सासिन से आमतौर पर हल्के रैश आते हैं, जो गंभीर नहीं होते हैं। हालांकि, आपके लिए यह बताना मुश्किल होगा कि वह रैश गंभीर एलर्जिक रिएक्शन के लक्षण हैं।

40 साल से अधिक उम्र की महिलाओं में रैश होने की संभावना सबसे ज्यादा रहती हैं, जिन्होंने हार्मोन रिप्लेसमेंट ट्रीटमेंट लिया होता है। इसके अलावा सात दिन से अधिक समय तक इसका सेवन करने से रैश हो सकते हैं। ऐसे में जेमिफ्लोक्सासिन का सेवन बंद कर दें और किसी भी प्रकार के रैश होने पर तुरंत डॉक्टर से बात करें।

हालांकि, ऊपर बताए गए साइड इफेक्ट्स हर व्यक्ति को नहीं होते। उपरोक्त साइड इफेक्ट्स के अलावा भी कुछ दुष्प्रभाव हो सकते हैं, जिनके बारे में इस आर्टिकल में बताया नहीं गया है। यदि आप साइड इफेक्ट्स को लेकर चिंतित हैं तो अपने डॉक्टर से बात करें।

और पढ़ें: पेट में जलन कम करने वाली दवाईयों को लगाना होगा वॉर्निंग लेबल

इंटरैक्शन

किन दवाइयों के साथ जेमिफ्लोक्सासिन (Gemifloxacin) रिएक्शन कर सकती है?

स्ट्रोनटियम (strontium) नामक दवा जेमिफ्लोक्सासिन के साथ रिएक्शन कर सकती है। हालांकि, ज्यादातर एंटिबायोटिक्स हार्मोनल बर्थ कंट्रोल जैसे गोलियां, पैच, रिंग, कुछ एंटिबायोटिक्स (जैसे रिफामपिन, रिफाब्युटिन) प्रभाविकता को कम कर देती हैं। इससे प्रेग्नेंसी का खतरा रहता है। यदि आपने हार्मोनल बर्थ कंट्रोल का इस्तेमाल किया है तो अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट से सलाह लें।

जेमिफ्लोक्सासिन अन्य दवाइयों के साथ रिएक्शन कर सकती है, जिनका सेवन आप मौजूदा समय में कर रहे हैं। इससे दवा के कार्य करने के तरीके में बदलाव या गंभीर साइड इफेक्ट्स बढ़ने का खतरा रहता है। इसके संभावित रिएक्शन से बचने के लिए उन सभी दवाइयों की एक सूची बनाएं, जिनका इस्तेमाल आप वर्तमान समय में कर रहे हैं। इस लिस्ट में डॉक्टर की लिखी हुई और गैर लिखी हुए हर्बल प्रोडक्ट जो मार्केट में खरीद के लिए आसनी से उपलब्ध हैं, उन्हें शामिल करें। इस सूची को अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट के साथ साझा करें। अपनी सुरक्षा के लिए किसी भी दवा का सेवन, बंद या डोज में बदलाव बिना डॉक्टर की सलाह के ना करें।

और पढ़ें: Ampicillin and salbactam : एम्पीसिलिन और सलबैक्टम क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

क्या जेमिफ्लोक्सासिन (Gemifloxacin) फूड या अल्कोहोल के साथ रिएक्शन कर सकती है?

जेमिफ्लोक्सासिन फूड या अल्कोहोल के साथ परस्पर क्रिया करके दवा के कार्य करने के तरीके में बदलाव कर सकती है या इससे गंभीर दुष्परिणाम होने का खतरा बढ़ सकता है। फूड या दवा के साथ इसके रिएक्शन के संबंध में इसका इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट से सलाह लें।

जेमिफ्लोक्सासिन(Gemifloxacin) से हेल्थ पर क्या प्रभाव पड़ता है?

जेमिफ्लोक्सासिन आपकी सेहत पर असर डाल सकती है। यह आपकी हेल्थ को बदतर या दवा के कार्य करने के तरीके को बदल सकती है। इसका इस्तेमाल करने से पहले जरूरी है कि आप अपने मौजूदा स्वास्थ्य की जानकारी डॉक्टर या फार्मासिस्ट को दें।

डोसेज

जेमिफ्लोक्सासिन का अडल्ट्स और बच्चों के लिए क्या डोज है?

पीडियाट्रिक मरीजों के लिए जेमिफ्लोक्सासिन के डोज को स्थापित नहीं किया गया है। यह बच्चों के लिए असुरक्षित हो सकती है। इसका इस्तेमाल करने से पहले पूरी तरह से इस दवा की सेफ्टी के बारे में समझा बेहद ही जरूरी है। अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट से संपर्क करें। शुरुआती पांच दिनों तक अडल्ट्स को 320mg की टेबलेट दी जा सकती है। बच्चों के मामले में जेमिफ्लोक्सासिन की सुरक्षा और प्रभावकारिता स्थापित नहीं की गई है।

ब्रोंकाइटिस में अडल्ट्स के लिए सामान्य डोज:

  • 320mg पांच दिनों तक मौखिक रूप से।

निमोनिया में अडल्ट्स के लिए सामान्य डोज:

  • 320mg दिन में एक बार मौखिक रूप से।

थेरिपी की अवधि

  • एस निमोनिया, एच इनफ्लूएंजा, मायकोप्लास्मा निमोनिया या क्लेमायडोफिला निमोनिया इंफेक्शन में पांच दिन तक।
  • मल्टी ड्रग रेसिस्टेंट एस निमोनिया (MDRSP), क्लेबसिएला निमोनिया या एम केटारहालिस इंफेक्शन में सात दिन तक।

जेमिफ्लोक्सासिन किस रूप में आती है?

जेमिफ्लोक्सासिन ओरल टेबलेट के रूप में आती है।

ओवरडोज (overdose) या आपातकालीन स्थिति में क्या करना चाहिए?

ओवरडोज या आपातकालीन स्थिति के लिए अपने स्थानीय डॉक्टर या हॉस्पिटल से संपर्क करें।

यदि जेमिफ्लोक्सासिन का डोज मिस हो जाए तो मुझे क्या करना चाहिए? What should I do if a dose of gemifloxacin is missed?

डोज मिस हो जाने पर जल्द से जल्द इसे लें, यदि आपके अगले डोज का समय करीब है तो पिछले डोज को छोड़कर अगला डोज लें। एक बार में डबल डोज न लें।

उम्मीद करते हैं कि आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा और जेमिफ्लोक्सासिन से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Gemifloxacin Tablet. https://www.webmd.com/drugs/2/drug-91405/gemifloxacin-oral/details. Accessed February 8, 2018.

Gemifloxacin Dosage. https://www.drugs.com/dosage/gemifloxacin.html. Accessed February 8, 2018.

Gemifloxacin/ https://go.drugbank.com/drugs/DB01155/ Accessed on March 15, 2021

Gemifloxacin/ https://www.ncbi.nlm.nih.gov/books/NBK548790/Accessed on March 15, 2021

लेखक की तस्वीर badge
Sunil Kumar द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 15/03/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x