home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

जानें इन 10 एंटीवायरल हर्ब्स के बारे में, जो आपको वायरस से रखें दूर

जानें इन 10 एंटीवायरल हर्ब्स के बारे में, जो आपको वायरस से रखें दूर

सर्दी-जुकाम, खांसी, पेट में इंफेक्शन और कोरोना वायरस जैसी कई बीमारियों का कारण, हमारे शरीर में वायरस के अटैक से होता है। इन वायरस के राेकथाम में अभी तक आयुर्वेद की बहुत महत्वपूर्ण भूमिका और सकारात्मक परिणाम देखने को मिले हैं। आयुर्वेद में कई ऐसे हर्ब्स हैं, जिनमें एंटीवायरल गुण पाए जाते हैं। यह एंटी वॉयरल हर्ब वायरस के अलावा शरीर को और कई बीमारियों के खतरे से बचाते हैं। एंटीवायरल हर्ब वायरस के विकास को रोकते हैं। इसी के साथ यह हमारी इम्यूनिटी को भी स्ट्रॉन्ग बनाते हैं। इन एंटीवायल हर्ब्स को लेने के लिए कुछ खास मेहनत नहीं करनी पड़ती है। आप इसे हर्बल टी के रूप में भी ले सकते हैं। जानें, एंटीवायरल गुणों से भरपूर कुछ हर्ब्स के बारे में:

और पढ़ें: Herpes Simplex: हार्पीस सिम्पलेक्स वायरस से किसको रहता है ज्यादा खतरा?

एंटीवायरल हर्ब्स ( Antiviral Herbs)

तुलसी (Basil)

तुलसी के अपने कई हेल्थ बेनेफिट्स होते हैं। इसमें एंटीवायरल और एंटी इंफ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं। जो वायरल के अलावा और अन्य संक्रमणों से भी लड़ने में मद्दगार है। तुलसी में एपिगेनिन नामक यौगिक पाए जाते हैं। इसके अलावा, इसमें ओर्सोलिक नाकम एसिड भी होता है। यह दोनों तत्व शरीर मे हर्पीस सहित अन्य कई बीमारियों से लड़ने में मद्दगार हैं, जैसे कि हेपेटाइटिस बी, बैक्टीरियल इंफेक्शन, बुखार और कफ आदि।

सौंफ के बीज (Fennel seeds)

सौंफ का सेवन शरीर के लिए हर प्रकार से फायदेमंद है। इसमें वायरस से लड़ने वाले कई गुण पाए जाते हैं। एक अध्ययन में पता चला है कि सौंफ के अर्क में हर्पीस वायरस और पैराइन्फ्लुएंजा टाइप -3 (पीआई -3) से लड़ने के लिए मजबूत एंटीवायरल प्रभाव देखा गया है, जो श्वसन रोग का कारण का कारण भी बनता है। इसमें पाया जाने वाला मुख्य यौगिक ट्रांस-एनेथोल है, जो रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के साथ हर्पीस के संक्रमण को भी दूर करता है।

और पढ़ें: यूके में मिला कोरोना वायरस का नया वेरिएंट, जो है और भी खतरनाक!

अदरक (Ginger)

अगर एंटी वायरल हर्ब की बात करें, तो अदरक एक अच्छा एंटी वायरल हर्ब है। आयुर्वेद में भी अदरक का एक अलग ही स्थान है। इसका इस्तेमाल चाय से लेकर कई उपचार तक में किया जाता है। इसमें कई शक्तिशाल एंटीवायरल यौगिक पाए जाते हैं। अदरक का अर्क आरएसवी, एवियन इन्फ्लूएंजा और फेलिन कैलीवायरस (एफसीवी) को रोकने के लिए एक प्रभावी एंटीवायरल है।

अजवायन (Ajwain)

अजवायन एक शक्तिशाली एंटीवायरल है। इसके औषधीय गुण हर्पी की समस्या को रोकने के लिए काफी प्रभावकारी है। इसमें मौजूद कार्वैक्रो, एंटीवायरल गुण प्रदान करते हैं। यह पेट के फ्लू के लिए प्रभावकारी है। इसके प्रभावशाली गुण नोरावायस को भी रोकते हैं। अजवायन की पत्तियां हर्पीस के अलावा रोटावायरस के लिए भी प्रभावकारी है। शिशुओं और बच्चों में दस्त को रोकने में मद्दगार है।

और पढ़ें: क्या मौसम में बदलाव के कारण नपुंसकता(Erectile Dysfunction) हो सकती है? इससे आप कैसे बच सकते हैं?

लहसुन ( Garlic)

लहसुन भी एक प्रभावकारी एंटीवायरल है और हर्पीस के इलाज के अलावा और भी कई बीमारियों के लिए प्रभावकारी है। इसमें वायरल निमोनिया ,इन्फ्लूएंजा ए और बी, एचएसवी -1, एचआईवी और राइनोवायरस के खिलाफ एंटीवायरल गुण मौजूद हैं, जो सामान्य सर्दी का कारण बनती है। इसका सेवन रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी मजबूत बनाता है।

सेज (Sage)

सेज वायरल संक्रमण के इलाज के लिए एक प्रभावकारी जड़ी बुटी है। इसके पत्तों में मौजूद सेफिनोलाइड नामक यौगिक वायरस से शरीर की रक्षा करने में मद्द करते हैं। इसके अलावा यह और भी कई बीमारियों के इलाज के लिए प्रभावकारी है। इसमें मौजूद एंटीवायरल और एंटीऑक्सिडेंट वायरल संक्रमण से लड़ने में मदद करते हैं। सेज की चाय पीना सेहत के लिए कई प्रकार से फायदेमंद है।

नींबू (Lemon)

लेमन बाम एक लाइम प्लांट है और इसका इस्तेमाल कई प्रकार की हर्बल टी बनाने में भी किया जाता है। यह अपने कई औषधीय गुणों के लिए भी बहुत ही प्रभावकारी माना जाता है। नींबू के अर्क शक्तिशाली यौगिकों पाए जाते हैं, जोकि एंटीवायरल है। यह एवियन इंफ्लूएंजा (बर्ड फ्लू), दाद का वायरस और एचआईवी -1 के खिलाफ एंटीवायरल की भूमिका निभाती है। यह शिशु की कई गंभीर बीमारियों के लिए भी प्रभावकारी है।

और पढ़ें:Chlamydia In Throat: कैसे गले तक पहुंच सकता है सेक्शुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन?

पुदीना (Mint)

पुदीने में कई एंटीवायरल गुण मौजूद होते हैं। यह वायसर सहित पेट के कई इंफेक्शन को भी दूर करता है। यह वायरल इंफेक्शन का इलाज करता है। इसकी पत्तियों में कई आवश्यक सक्रिय घटक होते हैं, जैसे कि मेन्थॉल और रोजमरीन एसिड। इनमें मौजूद एंटीवायरल और एंटी-इंफलेमेटरी गुण वायरस को शरीर की रक्षा का काम करती है।

रोजमेरी (Rosemary)

वैसे रोजमैरी का अधिकतर इस्तेमाल खाने और विभिन्न प्रकार की चाय बनाने में किया जाता है। इसमें माैजूद ओलीनोलिक एसिड एक अच्छा एंटी वायरल है। ओलीनोलिक एसिड हर्पीस वायरस, एचआईवी, इंफ्लूएंजा में हेपेटाइटिस के खिलाफ प्रभावी एंटीवायरल है।

और पढ़ें:कोरोना वायरस (कोविड 19) का टीका: क्या वैक्सीन के साइड इफेक्ट की होगी चिंता?

लाइकोरिस

लाइकोरिस का उपयोग पहले से समय से आयुर्वेदिक चिकित्सा के रूप में किया जा रहा है। इसमें मौजूद ग्लाइसीरिजिन, लिक्विरिगेनजेन और ग्लोब्रिडिन प्रभावकारी एंटी वायल है। यह एचआईवी, आरएसवी, हर्पीज वायरस और गंभीर श्वसन संबंधी सिंड्रोम (SARS-CoV) के लिए प्रभावकारी एंटीवायरल हर्ब है।

और पढ़ें : कोविड-19 सर्वाइवर आश्विन ने शेयर किया अपना अनुभव कि उन्होंने कोरोना से कैसे जीता ये जंग

जिनसेंग

जिनसेंग, जो कि कोरियाई में पाया जा सकता है। यह एंटीवायरल के रूप में वायरस से लड़ने में विशेष रूप से प्रभावी दिखाया गया है। जिनसेंग के अर्क में आरएसवी, हर्पीस वायरस और हेपेटाइटिस ए के इलाज के लिए प्रभावकारी माना गया है। जिनसेंग में मौजूद यौगिक हेपेटाइटिस बी, नोरोवायरस एवम कॉक्ससैकेविर्यूज के खिलाफ प्रभावकारी एंटीवायरल माने जाते हैं। जो कई बीमारियों को भी दूर करते हैं।

एंटीवायरल हर्बल को ऐसे लें

हर्बल टी

रोजान हर्ब्स के एंटीवायरल लाभ प्राप्त करने के लिए विभिन्न प्रकार की हर्बल टी सबसे अच्छा ऑप्शन है। इसके लिए आप गर्मपानी में हर्बल टी बैग काे डिप कर के आयुर्वेदिक चाय बनाकर पी सकते हैं। इसमें मौजूद एंटी ऑक्सीडेंट शरीर को कैंसर जैसी और भी कई खतरनाक बीमारियों से लड़ने में मदद करता है। इसी के साथ ही ये हर्बल टी इम्यूनिटी को भी स्ट्रॉन्ग बनाती हैं।

हर्बल इनफ्यूजन

हर्बल इनफ्यूजन, हर्बल टी के मुकाबले ज्यादा पोषकयुक्त होता है। इसमें मौजूद विटामिन बी शरीर के विकास के लिए महत्वपूर्ण है। इस इनफ्यूजन को बनाने के लिंए हर्ब्स को लगभग 7 घंटे के लिए पानी में भिगोकर रखना पड़ता है। इस इनफ्यूजन को बनाने में जिन जड़ी-बूटियों का उपयोग किया जाता है: उनमें शामिल हैं, मोरिंगा के पत्ते, व्हीटग्रास, लेमनग्रास, तुलसी के पत्ते, अल्फाल्फा आदि।

और पढ़ें:हर मर्ज की दवा है आयुर्वेद और आयुर्वेदिक रेमेडीज, जानिए इनके बारे में विस्तार से

हर्बल संक्रमण चाय की तुलना में अधिक मजबूत होते हैं क्योंकि उन्हें बड़ी मात्रा में जड़ी-बूटियों की आवश्यकता होती है। इसे बनाने के लिए 7 घंटे के लिए पानी में एक कप एंटीवायरल जड़ी-बूटियों को डुबोएं। जलसेक को एक हवा-तंग जार में रखें, और इसे ठंडा या गर्म पिएं। क्योंकि इंफ़ेक्शन मज़बूत हैं, एक दिन में एक कप से ज्यादा नहीं पीना चाहिए।

हर्बल इसेंशियल ऑयल

इनमें से कई जड़ी बूटियों को आवश्यक तेलों के रूप में बेचा जाता है; एक प्रतिष्ठित कंपनी से जैविक और शुद्ध आवश्यक तेल खरीदना सुनिश्चित करें। आवश्यक तेलों का उपयोग करने के लिए उनके एंटीवायरल गुणों की तरह लाभ मिलता है, अपने घर में 3–5 बूंदों को फैलाने के लिए, गर्म स्नान के पानी में 2-3 बूंदें डालें या वाहक तेल के साथ 2-2 बूंदें मिलाएं और मिश्रण को सीधे त्वचा पर लागू करें। बुखार या फ्लू के लक्षणों से लड़ने पर, अपने पैरों, पेट और छाती में आवश्यक तेलों की मालिश करना उपयोगी होता है। यदि आप इस प्राकृतिक उपचार के लिए नए हैं, तो आरंभ करने के लिए मेरे आवश्यक तेल गाइड का उपयोग करें।

कुछ साइड इफेक्ट्स

  • यदि आप इन हर्ब्स से बने इसेंशियल ऑयल का इस्तेमाल कर रहे हैं, तो याद रखें कि इसका इस्तेमाल बहुत लंबे समय तक न करें। यानि 3 से 4 सप्ताह इसका इस्तेमाल करने के बाद थोड़ा ब्रेक लें।
  • यदि आप गर्भवती हैं, तो इन तेलों का उपयोग करने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह लें
  • इन एंटीवायरल जड़ी-बूटियों का असर आपकी वर्तमान में चल रही किसी दवा पर इसका असर,तो नहीं पड़ने वाला, इस बात को लेकर के भी सावधान रहें।

हर्ब्स से बने एंटीवायरल खाद्य पदार्थों और तेलों का सेवन सहित एंटीवायरल, प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने और वायरल संक्रमणों से लड़ने में मदद करते हैं, जिसमें इन्फ्लूएंजा, दाद, एचआईवी और शायद एचपीवी भी शामिल हैं, हालांकि शोधकर्ता संभावनाएं तलाश रहे हैं।
एक स्वस्थ प्रतिरक्षा प्रणाली को बनाए रखने के लिए ताकि आपका शरीर रोगजनकों से लड़ सके कि यह अनिवार्य रूप से मुठभेड़ करेगा, एंटीवायरल चाय, टिंचर, पूरक और आवश्यक तेलों को आपके स्वास्थ्य शासन का हिस्सा बना देगा।

 

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Niharika Jaiswal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 11/05/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x