आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

null

प्रोटीन सप्लिमेंट (Protein Supplement) क्या है? क्या यह सुरक्षित है?

    प्रोटीन सप्लिमेंट (Protein Supplement) क्या है? क्या यह सुरक्षित है?

    अगर आप जिम जाते हैं या फिटनेस में रुचि रखतें हैं, तो प्रोटीन सप्लिमेंट्स के बारे में तो आपने सुना ही होगा। यदि आपने अब तक प्रोटीन सप्लिमेंट्स के बारे में नहीं सुना है, तो हम बता देते हैं कि प्रोटीन सप्लिमेंट्स आपकी मांसपेशियों के निर्माण में मदद करते हैं। इससे आपका शरीर सुदृढ़ दिखता है। इसके अलावा यह आपके मेटाबॉलिज्म को भी बढ़ाता है जिससे आपको वजन घटाने में भी हेल्प मिलती है। प्रोटीन सप्लिमेंट्स बॉडी की प्रॉपर फंक्शनिंग के लिए बहुत जरूरी होते हैं। अगर डॉक्टर की बिना सलाह के प्रोटीन सप्लिमेंट्स के साथ स्टेरॉइड लिया जाता है, तो ये आपके शरीर को नुकसान भी पहुंचा सकता है। आज इस आर्टिकल के माध्यम से प्रोटीन सप्लिमेंट और उसके प्रकार के बारे में जानिए।

    क्या है प्रोटीन सप्लिमेंट (Protein Supplement)?

    मुंबई के एमबीबीएस डॉक्टर मयंक खंडेलवाल ने बताया कि प्रोटीन सप्लिमेंट्स लेना शरीर के लिए फायदेमंद होता है लेकिन बिना डॉक्टर की सलाह से इसे लेने से शरीर को नुकसान पहुंच सकता है। प्रोटीन सप्लीमेंट्स कुछ और नहीं बल्कि प्रोटीन ही है। शरीर के सही विकास के लिए प्रोटीन की उचित मात्रा आवश्यक होती है लेकिन, आज कल के खानपान और आहार से हमें उतना प्रोटीन नहीं मिल पाता है। इसलिए प्रोटीन की उस कमी को पूरा करने के लिए बहुत से लोग प्रोटीन सप्लीमेंट्स लेते हैं। यही कारण है कि इन सप्लीमेंट्स को लेने के बाद आपका शरीर तेजी से विकास करने लगता है।

    और पढ़ें : Chronic Obstructive Pulmonary Disease (COPD): क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिसऑर्डर

    कितने प्रकार के होते हैं प्रोटीन सप्लिमेंट्स (Types of protein supplements)?

    बाजार में तरह-तरह के प्रोटीन सप्लीमेंट्स मौजूद हैं। सबका काम आपके शरीर को प्रोटीन पहुंचाना ही है लेकिन, इनका मुख्य स्रोत अलग हो सकता है जैसे की कुछ सप्लीमेंट्स दूध से बनाए जाते हैं तो कुछ मटर के दानों से। कुछ को बनाने में अंडे का इस्तेमाल किया जाता है तो कुछ के लिए सोयाबीन का। इसलिए प्रोटीन सप्लीमेंट्स की एक बड़ी वैरायटी के कारण ही ये सप्लीमेंट्स सभी के लिए एक अच्छा विकल्प हैं। वैसे बाजारों में पांच मुख्य तरह के प्रोटीन सप्लीमेंट्स पाए जाते हैं जो इस प्रकार हैं :

    व्हे प्रोटीन: दुनियाभर में यह सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाने वाला प्रोटीन पाउडर है। यह शरीर में आसानी से पच जाता है। एक्सरसाइज करने के बाद इसे तुरंत लिया जा सकता है।

    केसीन प्रोटीन (Casein Protein): इसमें ग्लुटामिन (Glutamine) भरपूर मात्रा में होता है। इसमें पाया जाने वाला अमीनो एसिड मसल्स बनने की प्रक्रिया में तेजी लाने का काम करता है। यह पचने में थोड़ा समय लेता है इसलिए विशेषज्ञ इसे सोते समय लेने की सलाह देते हैं।

    सोया प्रोटीन: यह सोयाबीन से बनाया जाता है। आपके शरीर के लिए आवश्यक लगभग सारे अमीनो एसिड्स इसमें होते हैं। यह शाकाहारी लोगों के लिए बेस्ट है।

    एग प्रोटीन: यह प्रोटीन सप्लीमेंट, अंडो से प्रोटीन तत्व निकालकर बनाया जाता है। इसमें भी अमीनो उच्च मात्रा में होते हैं। जो लोग डेरी उत्पादों से परहेज करते हैं उनके लिए यह बेहतर विकल्प है।

    पी प्रोटीन: अगर आप वेगान हैं यानी कि अगर आप मांसाहार और एनिमल उत्पादों जैसे-दूध, घी, मक्खन आदि से दूर रहते हैं तो यह प्रोटीन सप्लीमेंट आपके लिए है। यह मटर के प्रोटीन सत्व द्वारा बनाया जाता है और इसके फायदे एग या व्हे प्रोटीन से कम नहीं हैं।

    और पढ़ें : MRI Test : एमआरआई टेस्ट क्या है?

    क्या आप पर्याप्त प्रोटीन (Protein) ले रहे हैं?

    एक वयस्क को औसतन प्रतिदिन शरीर के वजन के हिसाब से प्रति किलोग्राम 0.8 ग्राम प्रोटीन की आवश्यकता होती है। अगर आप वयस्क हैं और आपका वजन लगभग 75 किलोग्राम है, आप कोई फिटनेस गतिविधियां नहीं करते हैं तो आपको प्रतिदिन 60 ग्राम प्रोटीन की आवश्यकता होती है। प्रोटीन की इस मात्रा को प्रतिदिन लिए जाने वाले आहार द्वारा आसानी से प्राप्त किया जा सकता है, इसलिए शरीर के लिए आवश्यक प्रोटीन की मात्रा प्राप्त करने के लिए प्रोटीन सप्लिमेंट्स लेना जरूरी नहीं है।
    प्रोटीन की कमी से कमजोरी का एहसास, चक्कर, शरीर में स्वैलिंग की समस्या आदि समस्याएं हो सकती हैं। अगर आपको इन समस्याओं से गुजरना पड़ रहा है, तो आपको डॉक्टर से प्रोटीन सप्लिमेंट्स (Protein supplements) के बारे में जरूर राय लेनी चाहिए। डॉक्टर आपको प्रोटीन सप्लिमेंट्स लेने के साथ ही डायट में परिवर्तन की सलाह भी दे सकते हैं।

    और पढ़ें: बच्चों के लिए प्रोटीन पाउडर: बच्चों को प्रोटीन पाउडर देने से पहले जानिए ये बातें

    प्रोटीन से जुड़ी अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए खेलिए ये क्विज:

    प्रोटीन पाउडर (Protein powder) का उपयोग कब करना चाहिए?

    यदि आपके (अगर आप एक एथलीट हैं) शरीर को अधिक प्रोटीन की आवश्यकता है और आपको अपने आहार से प्रोटीन की उचित मात्रा नहीं मिल पा रही है, तो आप प्रोटीन पाउडर का उपयोग कर सकते हैं। वर्कआउट के आसपास के समय में इसे न लें। प्रोटीन सप्लिमेंट्स लेने का ये मतलब बिल्कुल नहीं है कि आपको अपनी डायट कम कर देनी चाहिए। आपको एक्सपर्ट से ये बात जरूर करनी चाहिए आपको खाने में क्या लेना चाहिए और क्या नहीं लेना चाहिए। खिलाड़ियों द्वारा ली जाने वाले प्रोटीन सप्लिमेंट की मात्रा अलग हो सकती है, इसलिए आपको इसके संबंध में अधिक जानकारी लेने की जरूरत है।

    प्रोटीन सप्लीमेंट्स से मिलने वाला प्रोटीन, किसी सामान्य आहार से मिलने वाले प्रोटीन की तरह ही कार्य करता है। बाजार में अधिक मुनाफा कमाने के लिए कई कंपनियां मिलावटी सप्लीमेंट्स बेचती हैं, जिससे शरीर को नुकसान पहुंचता है। इसलिए प्रोटीन सप्लीमेंट्स का चुनाव करते समय काफी सावधानी बरतें। अगर मुमकिन हो, तो किसी न्यूट्रिशनिस्ट की सलाह लें। आप स्वास्थ्य संबंधी अधिक जानकारी के लिए हैलो स्वास्थ्य की वेबसाइट विजिट कर सकते हैं। अगर आपके मन में कोई प्रश्न है, तो हैलो स्वास्थ्य के फेसबुक पेज में आप कमेंट बॉक्स में प्रश्न पूछ सकते हैं और अन्य लोगों के साथ साझा कर सकते हैं।

    health-tool-icon

    बीएमआई कैलक्युलेटर

    अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

    पुरुष

    महिला

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    लेखक की तस्वीर badge
    Aamir Khan द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 11/10/2021 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड