backup og meta
खोज
स्वास्थ्य उपकरण
बचाना
Table of Content

Capsule Endoscopy: कैप्सूल एंडोस्कोपी क्या है?

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड Dr Sharayu Maknikar


Suniti Tripathy द्वारा लिखित · अपडेटेड 24/07/2020

Capsule Endoscopy: कैप्सूल एंडोस्कोपी क्या है?

परिभाषा

कैप्सूल एंडोस्कोपी (Capsule Endoscopy) क्या है?

कैप्सूल एंडोस्कोपी एक आधुनिक तकनीक है। इस तकनीक में मरीज को एक कैप्सूल खानी होती है जो शरीर के अंदर जाकर तस्वीरें ले सकती है। इस प्रक्रिया में कैप्सूल किसी कैमरा की तरह काम करता है। 

यह कैप्सूल डायजेस्टिव ट्रैक्ट में जाता है, जिससे कैमरा कमर पर पहनी बैल्ट के माध्यम से हजारों तस्वीरें रिकॉर्ड करता है। शरीर के अंदर इसोफैगस, पेट और स्मॉल इंटेस्टाइन की सटीक स्थिति देखने के लिए ये बहुत ही कारगर तरीका है।

इस तकनीक को करने से पहले आपका इंटेस्टाइन साफ होना चाहिए ताकि शरीर के अंदर का हिस्सा साफ देखा जा सके। ऐसा करने के लिए लैक्सेटिव का उपयोग किया जाता है। इसका इस्तेमाल कोलोनोस्कोपी में भी होता है।

और पढ़ेंः Ketones Test: कीटोन टेस्ट कैसे और क्यों किया जाता है?

ये कैप्स किसी मामूली कैप्सूल से अधिक बड़ी होती है और इसमें वीडियो चिप्स, बल्ब, बैटरी और एक रेडियोट्रांसमीटर लगा होता है। इसे खाने के बाद ये कैप्सूल शरीर के अंदर इसोफैगस, पेट और स्मॉल इंटेस्टाइन की तस्वीरें लेती है इसे मरीज के शरीर से जुड़े हुए रिसीवर पर पहुंचाता है। इस प्रक्रिया के लगभग आठ घंटे बाद रिसीवर से तस्वीरें कम्प्यूटर पर डाउनलोड की जाती हैं और डॉक्टर इन तस्वीरों की जांच करते हैं। कुछ समय बाद ये कैप्सूल टॉयलेट से बाहर निकल जाती है।

 कैप्सूल एंडोस्कोपी (Capsule Endoscopy) क्यों की जाती है?

  • गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ब्लीडिंग: आमतौर पर कैप्सूल एंडोस्कोपी को स्मॉल इंटेस्टाइन में होने वाली ब्लीडिंग का कारण जानने के लिए किया जाता है।
  • इन्फ्लेमेटरी बाउल सिंड्रोम जैसे क्रोहन डिजीज: कैप्सूल एंडोस्कोपी स्मॉल इंटेस्टाइन में सूजन वाली जगहों का पता लगाने के लिए।
  •  कैंसर: कैप्सूल एंडोस्कोपी स्मॉल इंटेस्टाइन में ट्यूमर का पता लगाने के लिए।
  •  सीलिएक रोग (celiac disease): इसका कई बार इम्यून सिस्टम पर ग्लूटन को खिलाने का असर डायग्नोस और मोनिटर करने के लिए भी किया जाता है।
  •  पॉलिप्स: जिन लोगों को अनुवांशिक सिंड्रोम होते हैं, वो छोटी आंत में पॉलीप्स पैदा कर सकते हैं। कभी-कभी इसके लिए भी कैप्सूल एंडोस्कोपी की जाती है।
  • अगर एक्सरे से परिणाम साफ नहीं हो रहे हैं तो भी इसका सहारा लिया जा सकता है।
  • और पढ़ेंः Pap Smear Test: पैप स्मीयर टेस्ट क्या है?

    जानें ये जरूरी बातें

    कैप्सूल एंडोस्कोपी (Capsule Endoscopy) टेस्ट के दौरान क्या होता है ?

    इस तकनीक के दौरान आमतौर पर कोई खतरा नहीं होता, लेकिन अगर आपका डाइजेस्टिव ट्रैक्ट सकरा हो गया है तब ये कैप्सूल शरीर के अंदर फंस सकती है। क्रोहन रोग या किसी ऑपरेशन की वजह से डाइजेस्टिव ट्रैक्ट सकरा हो सकता है। ऐसी स्थिति में डॉक्टर आखरी ली गई तस्वीर की मदद से ये पता लगा सकते हैं कि कैप्सूल कहां फसी हुई है।

    यदि आपको पेट में दर्द होता है या आपकी आंत का संकीर्णता का खतरा है, तो आपके डॉक्टर को कैप्सूल एंडोस्कोपी का उपयोग करने से पहले आपको एक संकरा देखने के लिए सीटी स्कैन कराने की आवश्यकता होगी। यहां तक ​​कि अगर सीटी स्कैन कोई संकीर्णता नहीं दिखाता है, तब भी कैप्सूल के अटकने की बहुत कम संभावना है।

    यदि कैप्सूल बाउल मूवमेंट में पारित नहीं हुआ है लेकिन किसी तरह का लक्षण भी नहीं पैदा करता है तो डॉक्टर आपके शरीर से कैप्सूल को बाहर आने के लिए थोड़ा समय दे सकते हैं। हालांकि एक कैप्सूल जो आंत में रुकावट के संकेत और लक्षण देता है इसके लिए सर्जरी या पारंपरिक एंडोस्कोपी की प्रक्रिया के जरिए इसे हटा दिया जाता है। लेकिन यह इस बात पर भी निर्भर करता है कि यह कहां अटका है। ऐसी स्थिति में अगर कैप्सूल अपने आप बाहर नहीं आती है तो एंडोस्कोपीया ऑपरेशन की मदद से कैप्सूल को निकाला जा सकता है। कौन सा तरीका अधिक कारगर है ये इसपर निर्भर करेगा कि कैप्सूल कहां पर फंसी हुई है।

    और पढ़ें: Amino Acid Profile : अमीनो एसिड प्रोफाइल क्या है?

    [mc4wp_form id=’183492″]

    प्रक्रिया

    कैप्सूल एंडोस्कोपी (Capsule Endoscopy) टेस्ट की तैयारी कैसे करें?

    कैप्सूल एंडोस्कोपी करने से पहले डॉक्टर आपको ये तैयारियां करने को कहेंगें :

    • कैमरे में साफ तस्वीरें आए इसके लिए प्रोसीजर से 12 घंटे पहले खाना बंद कर दें। इससे आपका सिस्टम साफ रहेगा। कुछ मामलों में आपका डॉक्टर आपको अपनी छोटी आंत को साफ करने के लिए प्रक्रिया से पहले रेचक लेने के लिए कह सकते हैं।
    •  प्रक्रिया से पहले कोई भी दवा बिना डॉक्टर की जानकारी के न खाएं।
    • कैप्सूल खाने के बाद आप दैनिक कार्य कर सकते हैं लेकिन किसी भी अधिक तनावपूर्ण काम से बचें।
    •  कई बार डॉक्टर आपको लैक्सेटिव लेने के लिए भी कह सकते हैं जिससे कि आपका सिस्टम साफ हो जाए और तस्वीरें साफ आएं।
    • ज्यादातर मामलों में, इस कैप्सूल को निगलने के बाद आप अपने दिनभर सक्षम होंगे। लेकिन आपसे व्यायाम या भारी वजन उठाने के लिए मना किया जाएगा। यदि आप नौकरी करते हैं, तो अपने डॉक्टर से पूछें कि क्या आप अपने कैप्सूल एंडोस्कोपी के दिन काम पर वापस जा सकते हैं।

    कैप्सूल एंडोस्कोपी के दौरान क्या किया जा सकता है?

    • डॉक्टर आपके सीने से पैच लगाएंगें जिसमें एंटीना होगा जो कि रिसीवर तक तस्वीरें पहुंचाएगा। रिकॉर्डर कमर में बेल्ट से जोड़कर लगाया जाएगा। इस रिकॉर्डर में तस्वीरें इक्कठा होंगी।
    • इसके बाद आप कैप्सूल लेंगे। कैप्सूल की कोटिंग फिसलने वाली होगी इसलिए निगलने में कोई भी परेशानी नहीं आएगी। एक बार शरीर के अंदर जाने के बाद आप इस कैप्सूल महसूस नहीं कर पाएंगें।
    • एक बार ये सब हो जाने के बाद आप रोजमर्रा के काम कर सकते हैं लेकिन एक निर्धारित समय तक कोई भी तनावपूर्ण काम न करें।
    • एक बार कैप्सूल खाने के बाद आप दो घंटे के अंतराल पर पानी पी सकते हैं। अगर डॉक्टर इजाजत देते हैं।
    • तो चार घंटे पर हल्का नाश्ता भी कर सकते हैं। ये प्रक्रिया आठ घंटों में समाप्त होती

      है। समाप्ति के लिए डॉक्टर पैच को निकालेंगें और रिकॉर्डर को भी हटाया जाएगा। आठ घंटे बाद कैप्सूल अपने आप शरीर से स्टूल के साथ बाहर आ जाएगी।

    • अगर ऐसा नहीं होता है तो इंतजार करें हो सकता है एक से दो दिनों में भी कैप्सूल बाहर आ सकती है।
    • ये डाइजेस्टिव सिस्टम की प्रक्रिया पर निर्भर करेगा। अगर बहुत समय तक कैप्सूल बाहर

      नहीं आ रही तो डॉक्टर से मिलकर आगे की सलाह लें। हो सकता है आपको सर्जरी करवानी पड़ जाए।

    और पढ़ेंः Serum glutamic pyruvic transaminase (SGPT): एसजीपीटी टेस्ट क्या है?

    परिणाम

    मेरे रिजल्ट का क्या मतलब है?

    •  बहुत सी रंगीन तस्वीरों को रिकॉर्डर से कम्प्यूटर पर भेजा जाता है और एक वीडियो तैयार किया जाता है।
    • इस वीडियो की मदद से डॉक्टर शारीरिक स्थिति के बारें में बताएंगें। इस प्रक्रिया का परिणाम बताने में थोड़ा समय लगता है।
    •  आपकी तस्वीरों के आधार पर आगे का इलाज किया जाएगा।

    इस जांच से जुड़ी अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

    डिस्क्लेमर

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।



    के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

    Dr Sharayu Maknikar


    Suniti Tripathy द्वारा लिखित · अपडेटेड 24/07/2020

    ad iconadvertisement

    Was this article helpful?

    ad iconadvertisement
    ad iconadvertisement