home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Growth Hormone Test: ग्रोथ हॉर्मोन टेस्ट क्या है?

परिचय|जानिए जरूरी बातें|प्रक्रिया|परिणाम
Growth Hormone Test: ग्रोथ हॉर्मोन टेस्ट क्या है?

परिचय

ग्रोथ हॉर्मोन टेस्ट क्या है?

ग्रोथ हॉर्मोन टेस्ट एक तरह का ब्लड टेस्ट है। इस टेस्ट का मुख्य उद्देश्य यह पता लगाना है कि खून में ग्रोथ हॉर्मोन की कितनी मात्रा है। ग्रोथ हॉर्मोन शरीर की वृद्धि के लिए जिम्मेदार होता है। इसके साथ ही शरीर के मेटाबॉलिजम को भी ठीक तरह से रखने के लिए जिम्मेदार होता है। खून में ग्रोथ हॉर्मोन की मात्रा भावनात्मक तनाव, नींद, एक्सरसाइज और डायट के आधार पर बदलती रहती है।

कुछ लोगों में ग्रोथ हॉर्मोन की ज्यादा मात्रा होने से वह सामान्य से कुछ ज्यादा ही लंबे होते हैं। वहीं, जिनमें ग्रोथ हॉर्मोन की मात्रा कम होती है तो ऐसे लोग बौनेपन का शिकार हो जाते हैं।

वहीं, दूसरी तरफ ग्रोथ हॉर्मोन की ज्यादा मात्रा पिट्यूट्री ग्लैंड में नॉनकैंसरस ट्यूमर बनाता है। वहीं, ज्यादा ग्रोथ हॉर्मोन खून में होने से चेहरा, जबड़े, हाथ और पैर सामान्य से ज्यादा लंबे होने लगते हैं।

और पढ़ें : बच्चों में ग्रोथ हार्मोन की कमी के लक्षण और कारण

ग्रोथ हॉर्मोन टेस्ट क्यों किया जाता है?

ग्रोथ हॉर्मोन स्टीम्यूलेशन टेस्ट तब किया जाता है, जब बच्चे में ग्रोथ हॉर्मोन की कमी के लक्षण सामने आने लगते हैं। जैसे :

बड़ों का ग्रोथ हॉर्मोन स्टीम्यूलेशन टेस्ट तब किया जाता है, जब उनमें निम्न लक्षण दिखाई देते हैं। इसे हाइपोपिट्यूटेरिजम कहते हैं। जैसे :

और पढ़ें : बच्चे की उम्र के अनुसार उसकी लंबाई और वजन कितना होना चाहिए?

जानिए जरूरी बातें

ग्रोथ हॉर्मोन टेस्ट करवाने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

ग्रोथ हॉर्मोन पिट्यूट्री ग्लैंड से स्रावित होता है। इसलिए समय के साथ-साथ खून में उसके मात्रा में बदलाव आते रहते हैं। यही कारण है कि एक ही सैंपल से बार-बार टेस्ट करना ज्यादा मददगार नहीं होगा। क्योंकि सुबह के समय ग्रोथ हॉर्मोन ज्यादा मात्रा में स्रावित होता है और एक्सरसाइज और तनाव के कारण उसके लेवल में बदलाव होता रहता है। इसलिए एक जैसा रिजल्ट आना संभव नहीं है। कुछ फैक्टर ग्रोथ हॉर्मोन टेस्ट के रिजल्ट को प्रभावित करते हैं :

  • कुछ दवाएं जो ग्रोथ हॉर्मोन के लेवल को बढ़ा देती है (एम्फेटाएमाइन्स, डोपामिन, एस्ट्रोजंस, ग्लूकागॉन, हिस्टामिन, इंसुलिन आदि)
  • कुछ दवाएं ग्रोथ हॉर्मोन के लेवल को घटाते हैं (कॉर्टिकोस्टेरॉइड और फेनोथियाजिन्स)
  • कभी-कभी ग्रोथ हॉर्मोन की कमी किसी के छोटे कद के लिए जिम्मेदार नहीं होता है। बल्कि उसका पारिवारिक इतिहास भी वृद्धि कम होने के लिए जिम्मेदार होता है। किसी तरह के जेनेटिक डिसऑर्डर के कारण भी वृद्धि बाधित होती है।
  • टेस्ट कराने से पहले डॉक्टर आपको कुछ समय के लिए फास्ट रखने के लिए बोलेगा।
  • इस टेस्ट को कराने से 12 घंटे पहले से विटामिन बायोटिन और बी 7 को न लें।
  • यदि आप कोई ऐसी दवा का सेवन कर रहे हैं जिससे आपके टेस्ट के परिणाम प्रभावित हो सकते हैं तो उन्हें न लें।

ग्रोथ हॉर्मोन टेस्ट कितनी तरह से होता है?

  • ग्रोथ हॉर्मोन सीरम टेस्ट
  • इंसुलिन ग्रोथ फैक्टर-1 टेस्ट
  • ग्रोथ हॉर्मोन सप्रेशन टेस्ट
  • ग्रोथ हॉर्मोन स्टिम्युलेशन टेस्ट

और पढ़ें : सिर्फ डायट बढ़ाने से नहीं बनेगी बात, वेट गेन करना है तो ऐसा भी करें

प्रक्रिया

इस टेस्ट के लिए मुझे खुद को कैसे तैयार करना चाहिए?

ग्रोथ हॉर्मोन टेस्ट कराने से पहले आपके डॉक्टर आपको कुछ निर्देश दे सकते हैं :

  • टेस्ट कराने से कुछ घंटे पहले से कुछ भी न खाएं
  • अगर आप किसी भी तरह की दवा ले रहे हैं तो टेस्ट कराने से पहले आप डॉक्टर से बात कर लें
  • टेस्ट कराने से पहले एक्सरसाइज न करें
  • ऐसी दवाएं लेना बंद कर दें जो ग्रोथ हॉर्मोन टेस्ट के रिजल्ट को प्रभावित कर सकता है।

और पढ़ें : बॉडी को फिट रखने के लिए जरूरी है वेट मैनेजमेंट, यहां जानें अपना बीएमआई

ग्रोथ हॉर्मोन टेस्ट में होने वाली प्रक्रिया क्या है?

ग्रोथ हॉर्मोन खून में काफी तेजी से बदलता है। ऐसे में सटीक रिजल्ट आना संभव ही नहीं है। इसलिए आपको लगातार कई बार टेस्ट अलग-अलग दिनों पर टेस्ट कराना पड़ सकता है। इंसुलिन-लाइक ग्रोथ फैक्टर 1 लेवल (IGF-1) धीरे-धीरे बदलता है और पहले इसी का टेस्ट किया जा सकता है।

  • सबसे पहले हेल्थ प्रोफेशनल आपके बाजू (Upper Arm) में एक इलास्टिक बैंड बांधेंगे। जिससे आपके खून का प्रवाह रूक जाएगा।
  • फिर जहां से खून निकालना होगा वहां पर एल्कोहॉल से साफ करते हैं।
  • आपके हाथ की नस में सुई डाल कर खून निकाल लेते है।
  • निकाले हुए खून को एक ट्यूब में भर कर सुरक्षित रख देंगे।
  • जहां से खून निकालते हैं, वहां पर रूई से दबा देते हैं ताकि खून बहना बंद हो जाए।

ग्रोथ हॉर्मोन टेस्ट के बाद क्या होता है?

ब्लड का सैंपल लेने के बाद उसे जांच के लिए लैब में भेज दिया जाएगा। टेस्ट के बाद आप तुरंत सामान्य हो जाएंगे। आप चाहे तो तुरंत घर जा सकते हैं। किसी भी तरह की समस्या होने पर आप हेल्थ प्रोफेशनल से तुरंत बात करें। ब्लड टेस्ट का रिजल्ट आपको जल्द से जल्द मिल जाएगा।

और पढ़ें : महिला ने स्पर्म के लिए 6 फीट लंबे डोनर को चुना, पैदा हु्आ बौना बच्चा

परिणाम

ग्रोथ हॉर्मोन टेस्ट के परिणाम का क्या मतलब है?

नॉर्मल

अगर रिजल्ट में नॉर्मल लिखा है तो इसे रेफ्रेंस रेंज कहते हैं। ग्रोथ हॉर्मोन टेस्ट का रिजल्ट अलग-अलग लैब का अलग-अलग आ सकता है। इसलिए आप रिजल्ट को अपने डॉक्टर से जरूर समझ लें।

ग्रोथ हॉर्मोन (GH)

पुरुष : 5 ng/mL (nanograms per milliliter) से कम होता है

महिला : 10 ng/mL से कम होता है

बच्चे : 20 ng/mL से कम होता है

ग्रोथ हॉर्मोन की ज्यादा मात्रा

ज्यादा मात्रा में ग्रोथ हॉर्मोन स्रावित होने पर एक्रोमेग्ली हो जाता है। ऐसे लोगो का शरीर सामान्य की तुलना में अधिक लंबा होता है। ग्रोथ हॉर्मोन का हाई लेवल होने पर डायबिटीज, किडनी संबंधी रोग या भूखमरी हो सकती है।

ग्रोथ हॉर्मोन की कम मात्रा

ग्रोथ हॉर्मोन की कम मात्रा ग्रोथ हॉर्मोन डिफिसिएंसी को दिखाता है। इस अवस्था को हाइपोपिटिटारिज्म कहा जाता है।

वहीं, बता दें कि ग्रोथ हॉर्मोन की रिपोर्ट हॉस्पिटल और लैबोरेट्री के तरीकों पर निर्भर करती है। इसलिए आप अपने डॉक्टर से टेस्ट रिपोर्ट के बारे में अच्छे से समझ लें।

अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें। हम आशा करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। इस लेख में हमने आपको ग्रोथ हॉर्मोन टेस्ट से जुड़ी सभी जानकारी देनी की कोशिश की है। यदि आपको इससे जुड़ी अन्य कोई जानकारी चाहिए तो आप कमेंट कर हमसे पूछ सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Growth Hormone Stimulation Test (Outpatient) https://www.nationwidechildrens.org/family-resources-education/health-wellness-and-safety-resources/helping-hands/growth-hormone-stimulation-test-outpatient Accessed November 20, 2019

Growth hormone test https://medlineplus.gov/ency/article/003706.htm Accessed November 20, 2019

Growth Hormone Stimulation Tests in Assessing Adult Growth Hormone Deficiency. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/books/NBK395585/. Accessed On 07 October, 2020.

Growth Hormone. https://labtestsonline.org/tests/growth-hormone. Accessed On 07 October, 2020.

Growth hormone. https://www.betterhealth.vic.gov.au/health/conditionsandtreatments/growth-hormone. Accessed On 07 October, 2020.

लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Shayali Rekha द्वारा लिखित
अपडेटेड 20/11/2019
x