home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Plastic Surgery: प्लास्टिक सर्जरी क्या है?

Plastic Surgery: प्लास्टिक सर्जरी क्या है?
प्लास्टिक सर्जरी (Plastic Surgery) क्या है?|प्लास्टिक सर्जरी से पहले की तैयारी|प्लास्टिक सर्जरी की प्रक्रिया|रिकवरी

प्लास्टिक सर्जरी (Plastic Surgery) क्या है?

प्लास्टिक सर्जरी को ऐसे समझें

प्लास्टिक सर्जरी एक ऐसा मेडिकल प्रोसीजर है, जो आपको खूबसूरत दिखने या फिर आपकी काया पलट करने में मदद कर सकता है। इसके द्वारा बॉडी टिश्यूज में बीमारी, जलने के स्कार्स या फिर जन्म से ही मिले बर्थ मार्क को भी ठीक किया जा सकता है। आमतौर पर ये सर्जरी किसी भी उम्र के लोग करवा सकते है, बशर्ते डॉक्टर की सहमति जरूरी है।

अक्सर युवा आकर्षक दिखने के लिए ये सर्जरी करवाते है। लेकिन, ऐसा करना गलत है। इससे सेहत और स्किन के टिश्यूज पर प्रभाव पड़ सकता है, इसलिए डॉक्टर से सलाह बहुत जरूरी हो सकत है।

प्लास्टिक सर्जरी (Plastic Surgery) दो टाइप की होती है। पहली रेकंसट्रक्टिव और दूसरी प्रोस्थेटिक। अगर सर्जरी किसी भी इंजरी के निशान जैसे जलना, स्काररिंग को हटाने के लिए की जा रही है, तो ऐसी सर्जरी को रेकंसट्रक्टिव सर्जरी कहते हैं। वहीं, ऐसी सर्जरी जैसे ब्रैस्ट एनहांसमेंट या रिडक्शन, बर्थ मार्क रिमूवल, जिससे एस्थटिक इम्प्रूवमेंट हो ऐसी सर्जरी कॉस्मेटिक सर्जरी कहलाएगी।

और पढ़ें : Cosmetic surgery : जानिए क्या है कॉस्मेटिक सर्जरी

प्लास्टिक सर्जरी की जरूरत कब पड़ती है ?

कॉस्मेटिक सर्जरी और रेकरेक्शन सर्जरी लोग तब चुनते हैं, जब वे अपने शरीर के किसी पार्ट से खुश नहीं होते हैं।

अगर किसी वजह से आप कांफीडेंट नहीं है या फिर असहज महसूस करते है, तो आप सर्जरी से इम्प्रूवमेंट करके उसे सही कर सकते है। ऐसी सर्जरी एस्थेटिक सर्जरी कहलाती है। कुछ आम एस्थेटिक सर्जरी ये हैं:

  1. ब्रैस्ट ऑग्मेंटेशन एंड ब्रैस्ट रिडक्शन
  2. राइनोप्लास्टी
  3. एब्डोमिनोप्लास्टी
  4. लाइपोसक्शन
  5. वैजिनल रेजुवेनशन

हर ऑर्गन से जुडी हुई प्लास्टिक सर्जरी (Plastic Surgery) को एक अलग नाम से पुकारा जाता है। जैसे कान में होने वाली पिन्ना को सही शेप देने के लिए जो प्लास्टिक सर्जरी की जाती है, उसे पिणाप्लास्टी कहते है। आंखों की सर्जरी, जिसमें आंखों के नीचे से बैग्स को हटाया जाता है। साथ ही जिस सर्जरी में गिरी हुई पलकों का भी इलाज किया जा सकता है, उसे ब्लेफेरोप्लास्टी कहते हैं। अगर आपको लगता है की आपके गले के पास की स्किन बहुत ढीली है और आपको लिफ्ट की जरुरत है, तो आप नैक लिफ्ट प्लास्टिक सर्जरी करवा सकते हैं।

अगर आप नाक की सर्जरी करवाते हैं, तो इसे हम राइनोप्लास्टी कहते है। एल्बो और अंडरआर्म्स के बीच फैट या बहुत सारी स्किन को निकालने की सर्जरी को ब्राशिओप्लास्टी कहते है।

एब्डोमेन में फैट को कम करने के लिए की जानी वाली सर्जरी को एब्डोमिनोप्लास्टी (Abdiminoplasty) कहते हैं।

सर्जरी से पहले क्या जानना जरूरी है?

  • आपकी सेहत प्लास्टिक सर्जरी करवाने के लिए तैयार हो। जैसा की सभी सर्जरी में होता है इस सर्जरी में भी कुछ रिस्क्स हैं। इसलिए सर्जरी को करवाने से पहले ध्यान रखें कि आपकी सेहत अच्छी हो। इस सर्जरी में रिस्क के चान्सेस बहुत कम है। लेकिन, कुछ लोगो में बुरी सेहत की वजह से इसके चान्सेज ज्यादा भी हो सकते हैं।
  • अपने प्लास्टिक सर्जन की सभी सलाह मानें और अपनी सर्जरी से जुड़े हर सवाल का बिना किसी हिचक के जवाब दें। कुछ भी छुपाने से आपको परेशानी हो सकती है।
  • जो प्रोसीजर आप करवा रहे है उसके बारे में रिसर्च करें। हर प्लास्टिक सर्जरी (Plastic Surgery) के रिजल्ट्स हर इंसान में अलग हो सकते हैं। इसलिए ध्यान रखें की आप इस सर्जरी से क्या पाना चाहते हैं। सर्जरी करवाने से पहले उन लोगो से जरूर मिलें, जो सर्जरी पहले से ही करवा चुके हों, साथ ही सही सर्जन चुनना भी जरूरी है।
  • अक्सर सर्जरी करवाने के बाद आपको अलग-अलग तरह की परेशांनियां हो सकती हैं। इसलिए क्या खतरे है और उनसे निकलने के क्या तरीके हो सकते हैं। इन्हे जानने के बाद ही सर्जरी करवाएंं।
  • एक्सपेक्टेशंस न रखें क्योकि अक्सर रिजल्ट्स मैच नहीं करते, जिसकी वजह से परेशानी हो सकती है। रिजल्ट्स अच्छे होने पर भी आप संतुष्ट न हो इसकी भी आशंका है।

और पढ़ेंः ऑस्टॉमी सर्जरी के बाद सेक्स कर सकते हैं या नहीं?

इस सर्जरी की समस्याएं और साइड इफेक्ट्स क्या हो सकते हैं?

फाइनेंशियल बर्डन

प्लास्टिक सर्जरी करवाने के लिए आपका बजट सही होना चाहिए। जितनी माइन्यूट और जितने बड़े डॉक्टर से आप प्लास्टिक सर्जरी करवाएंगे। आपको उतने ही ज्यादा पैसे खर्च करने पड़ सकते हैं।

सर्जिकल रिस्क

स्काररिंग, ब्लड क्लॉट्स, नेक्रोसिस, नर्व डैमेज और पिगमेंटेशन इस सर्जरी से जुड़े कुछ रिस्क हैं। स्मोकिंग करने वाले लोगों के लिए सर्जरी के बाद हीलिंग टाइम बढ़ जाता है। शौक, हार्ट अटैक रेस्पिरेटरी फेलियर इस सर्जरी से जुड़े कुछ बड़े खतरे हैं। कई बार अगर सर्जन केयरफुल नहीं हैं, तो टूल्स सर्जरी साईट में रह जाते हैं, जिन्हे निकालने के लिए दूसरी सर्जरी करवानी पड़ सकती है। इससे इन्फेक्शन का खतरा भी हो सकता है।

इमोशनल डैमेज

कई बार सर्जरी के बाद फिर से पहले जैसे होना चाहते है। क्योकि उन्हें अपने नए लुक से खुशी या सैटिस्फैक्शन नहीं मिलता।

दर्द और इन्फ्लामेशन

सर्जरी के बाद आपको बहुत दर्द होगा और सर्जरी साईट में इंफ्लमैशन भी हो सकता है। इसके साथ वोमिटिंग , सर दर्द या फिर नौसिया वाली फीलिंग भी आ सकती है।

खून की कमी

ऑपरेटिंग टेबल पर बहुत खून बहने की वजह से अक्सर ऑर्गन फेलियर और डेथ भी हो सकता है।

एलर्जिक रिएक्शन

सर्जरी के बाद मेडिसिन्स की वजह से या फिर किसी और सेंसिटिविटी के बढ़ने से एलेर्दिक रिएक्शन हो सकता है।

और पढ़ेंः Parathyroidectomy surgery: पैराथायरायडक्टमी सर्जरी क्या है?

प्लास्टिक सर्जरी से पहले की तैयारी

प्लास्टिक सर्जरी (Plastic Surgery) के पहले क्या तैयारियां करें ?

  • सर्जरी से पहले अपना फिजिकल एग्जामिनेशन करवा लें
  • ड्रिंकिंग और स्मोकिंग छोड़ें
  • डॉक्टर से पूछकर अपनी दवाइयां लें
  • अपने किचन में फ्रूट्स, वेजिटेबल्स और प्रोटीन बेस्ड फूड्स रखें
  • विटामिन A और C युक्त फ्रूट्स और वेजिटेबल्स खायें
  • सर्जरी के बाद सूजन और जलन के लिए आइस पैक्स तैयार कर लें
  • एंटीकोएगुलांट्स लेना कम कर दें या फिर डॉक्टर से पूछकर ही कोई दवा लें

सर्जरी से एक रात पहले :

  1. खाना-पीना छोड़ दें
  2. रिलैक्स रहें
  3. अच्छी नींद लें

और पढ़ें : चमकदार त्वचा चाहते हैं तो जरूर करें ये योग

प्लास्टिक सर्जरी की प्रक्रिया

प्लास्टिक सर्जरी (Plastic Surgery) के दौरान क्या किया जाता है ?

प्लास्टिक सर्जरी बहुत तरह की हो सकती है। इनमें दो आम तरह की सर्जरी है कॉस्मेटिक सर्जरी और रेकंसट्रक्टिव सर्जरी। कॉस्मेटिक सर्जरी नोज, नेक या फेस लिफ्ट सर्जरी है और रेकंसट्रक्टिव सर्जरी आमतौर पर उन पेशेंट्स की जाती है, जिन्हें किसी तरह की इंजरी हो जाए। यह बर्न, एक्सीडेंट या फिर कोई और इंजरी हो सकती है।

कॉस्मेटिक सर्जरी

ब्रैस्ट रिकंस्ट्रक्शन

  1. इंट्रावेनस सिडेशन या फिर एनेस्थेसिया की मदद से डॉक्टर आपकी सर्जरी के समय आपको रिलैक्स करते हैं, जिससे दर्द कम होता है। एनेस्थेसिया की च्वॉइस आपकी हेल्थ और सेंसिटिविटी पर निर्भर है।
  2. फ्लैप तकनीक की मदद से पेशेंट के टिश्यूज से ब्रैस्ट माउंड बनाया जाता है। ये रिकंस्ट्रक्शन के लिए ढांचा प्रोवाइड करता है।
  3. टिश्यूज एक्सपेंशन की मदद से ब्रैस्ट इम्प्लांट को अच्छी या स्वस्थ स्किन से कवर किया जाता है।
  4. सर्जिकल प्लेसमेंट से ब्रैस्ट इम्प्लांट लगाया जाता है। ये फ्लैप तकनीक का ऑल्टरनेटिव है। ये इम्प्लांट्स सेलाइन और सिलिकन के बने हुए होते हैं।
  5. फ्लैप या इम्प्लांट में से आपके लिए बेस्ट क्या रहेगा ये डॉक्टर आपकी सेहत के हिसाब से डिसाइड करेंगे।
  6. डायरेक्ट इम्प्लांट तकनीक उन महिलाओ में कारगर है, जिन्होंने मस्टेक्टोमी कराई हो।

और पढ़ेंः Umbilical Hernia Surgery: अम्बिलिकल हर्निया सर्जरी क्या है?

निप्पल और आरिओला का रिकंस्ट्रक्शन

स्किन को फोल्ड करके निप्पल का आकार दिया जाता है। इसके बाद टैटूइंग की मदद से प्रोजेक्शन और असली निप्पल जैसा उभार बनाया जाता है। ब्रैस्ट रिकंस्ट्रक्शन के रिजल्ट्स को लाइपोसक्शन और फैट ग्राफ्टिंग से और भी इफेक्टिव बनाया जा सकता है।

इसके आलावा नाक, गले, फेस की सर्जरी भी कॉस्मेटिक सर्जरी के अंदर ही आती है। इनके बारे में जानकारी या प्रोसेस को समझने के लिए डॉक्टर से मिलें।

  • रिकंस्ट्रक्टिव प्लास्टिक सर्जरी
  • बर्न सर्जरी

स्किन ग्राफ्ट्स :

पेशेंट के एक एरिया से निकाल कर दूसरे एरिया में लगाया जाता है।

स्प्लिट थिकनेस ग्राफ्ट जिसमे परमानेंट स्काररिंग हो जाती है। स्पेशल स्किन ट्रीटमेंट में डर्माटोम से बुट्टोक और इनर थाइस की स्किन डोनर साईट से लेकर रेसिपिएंट साईट में लगाई जाती है और स्टिच की जाती है। इसके बाद डोनर और रेसिपिएंट साईट को कवर कर देते हैं, ताकि इन्फेक्शन न हो। फुल थिकनेस स्किन ग्राफ्ट में रिकवरी टाइम ज्यादा हो सकता है।

माइक्रोसर्जरी :

इस सर्जरी में माइक्रोस्कोप की मदद से सर्जरी की जाती है। डैमेज्ड नर्व और आर्टरीज को इस तकनीक से ठीक किया जाता है। सर्जन माइक्रोस्कोप में देख कर इंजर्ड नर्व्स और वेसल्स को रिपेयर करते है। फेसिअल पैरालिसिस और ब्रैस्ट रिकंस्ट्रक्शन में भी हम ये तकनीक उपयोग कर सकते हैं।

फ्री फ्लैप सर्जरी :

प्रोसीजर के दौरान मसल, स्किन और बोन को ब्लड के साथ बॉडी के एक एरिया से दूसरे एरिया में ट्रांसफर किया जाता है। इस प्रोसेस में माइक्रोसर्जरी भी होती है। इसलिए हीलिंग में ज्यादा समय लगता है।

टिशूज एक्सपेंशन :

इस प्रोसेस में बलून एक्सपैंडर यूज किया जाता है, जिस एरिया में रिपेयर की जरुरत है। उस एरिया में बलून को सेलाइन भरकर अटैच कर दिया जाता है। धीरे-धीरे इसके अराउंड स्किन ग्रो करती है, जिससे हीलिंग होती है। ये प्रोसेस प्रेगनेंसी में स्किन के स्ट्रेच होने जैसा ही है।

प्लास्टिक सर्जरी (Plastic Surgery) के बाद क्या होता है ?

प्लास्टिक सर्जरी के बाद आपको कुछ दिनों तक अस्पताल में ही देख-रेख के लिए रखा जाता है और रेगुलर चेक अप और दवाए दी जाती है। डॉक्टर आपके ठीक होने पर ही आपको रिलीव करेंगे।

और पढ़ेंः laparoscopy scarless surgery: लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी क्या है?

रिकवरी

सर्जरी के बाद रिकवर होने में कितना समय लगेगा ये आपके सर्जरी टाइप और आपकी सर्जरी से पहले हेल्थ पर निर्भर करेगा। जल्दी रिकवरी के लिए इन बातो का ध्यान रखें :

  1. मेडिकेशन को डॉक्टर से पूछ कर ही बदलें। अपने दर्द और इंफ्लमैशन की दवाएं डॉक्टर से पूछ कर ही खाएं।
  2. बर्फ से सेकने का प्रयास करें
  3. ब्रैस्ट सर्जरी में ड्रेन ट्यूब्स लगाई जाएंगी, जिससे फ्लूइड इक्कठा किया जा सके। डॉक्टर से समझकर ही इस ट्यूब से छेड़छाड़ करें। बिना सलाह के कोई स्टेप न उठाये।
  4. आराम करें।
  5. अपनी सर्जरी के लिए पहले छुट्टी की एप्लीकेशन डाल दें। इससे सर्जरी के बाद आपको आराम करने का वक्त मिल जाएगा।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Dr. Sarthi Manchanda के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Suniti Tripathy द्वारा लिखित
अपडेटेड 03/07/2019
x