laparoscopy scarless surgery: लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी क्या है?

Written by

Update Date फ़रवरी 13, 2020
Share now

लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी क्या है?

लैप्रोस्कोपी एक ऐसा टर्म है, जिसमें एक छोटे चीरे के जरिये पेरीटोनियल कैविटी की जांच की जाती है। यह विषेश सर्जरी नाभि पर एक छोटे छेद या चीरे के जरिये की जाती है, जो लगभग 1/4वें हिस्से से लेकर 1 इंच लंबा होता है। इसे लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी के नाम से जाना जाता है। पूरे ऑपरेशन को टेलीस्कोपिक वीडियो कैमरे के जरिये देखा जाता है। यह कैमरा एक चीरे के जरिये अंदर रखा जाता है और पूरे ऑपरेशन का रिकॉर्ड टीवी मॉनीटर पर देखा जा सकता है। ऑपरेशन को पूरा करने की प्रक्रिया में अन्य चीरे के जरिये सर्जिकल इंस्ट्रूमेंट मरीज की बॉडी में अंदर डाले जाते हैं। इस प्रक्रिया को लैप्रोस्कोपी मिनिमल इनवेसिव सर्जरी (एमआईएस) के नाम से भी जाना जाता है।

कम से कम चीरे के साथ यह सर्जरी कई हानि रहित स्त्री रोग समस्याओं के उपचार के लिए इस्तेमाल की जाती है। भले ही पारंपरिक सर्जरी हो या रोबोटिक मदद वाली सर्जरी, दोनों ही स्त्री रोग में सर्जरी की पूरी प्रक्रिया से संबंधित होती हैं। चिकित्सा जगत में तकनीकी सफलता और सर्जरी में अनुभवी चिकित्सकों के सराहनीय प्रयासों से इन उन्नत प्रक्रियाओं में कम से कम निषान पड़ने या चीरे की जरूरत रह गई है।

लैप्रोस्कोपिक स्कारलेस सर्जरी कैसे की जाती है?

यह सर्जरी आपके पेट पर एक चीरे के जरिये की जाती है, यह खास प्रक्रिया में पेरीटोनियल कैविटी या पेट में मेडिकल इक्विपमेंट लगाया जाता है। मरीज की नाभि के आसपास निशान या चीरा लगाया जाता है। स्कारलेस सर्जरी की वजह से जो आसानी से नहीं दिखता है या छिप सकता है।

लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी के लाभ

लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी मरीजों के लिए पारंपरिक सर्जरी की तुलना में कई तरह से फायदेमंद है। ऐसा माना जाता है कि लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी किसी अन्य सर्जरी की पारंपरिक विधि के मुकाबले ज्यादा प्रभावी होती है। लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी या मिनिमल इनवेसिव सर्जरी के लाभ निम्नलिखित हैंः

छोटा चीरा

लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी का एक बेहद महत्वपूर्ण लाभ चीरे का छोटा आकार है। यदि हम किसी पारंपरिक सर्जरी (जिसमें ऑपरेशन करने के लिए लंबा चीरा लगाया जाता है) से इसकी तुलना करें, तो लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी में ऑपरेशन के लिए बेहद छोटे चीरे की जरूरत होती है। इस प्रक्रिया में ट्यूब, कैमरा, फाइबर-ऑप्टिक लाइट आदि जैसे मेडिकल उपकरण का इस्तेमाल किया जाता है।

कम दर्द

लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी के दौरान, यह प्रक्रिया पूरी हो जाने के बाद आपके शरीर में कम दर्द होता है। जबकि, पारंपरिक रूप से की जाने वाली अन्य किसी सर्जरी में यह दर्द बना रहता है। इसके अलावा, लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी के मरीजों की तुलना में अन्य सर्जरी में उन्हें दर्द निवारक दवाएं लेने की जरूरत होती है।

अस्पताल में कम समय तक भर्ती रहने की जरूरत

लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी वाले मरीजों को कुछ ही दिन में घर जाने की अनुमति दे दी जाती है । वह अपने दैनिक कार्य पुनः शुरू कर सकते हैं। जबकि, पारंपरिक सर्जरी में ज्यादा आराम के लिए मरीज को लंबे समय तक अस्पताल में रखने की आवश्यकता होती है।

यह भी पढ़ें: Cholesteatoma surgery : कोलेस्टेटोमा सर्जरी क्या है?

हेल्थ की रिकवरी होती है तेज

जब आपके शरीर में छोटे या कम चीरे लगाए जाते हैं तो आप जल्दी स्वस्थ हो जाते हैं, क्योंकि इसमें कम टांके लगाए जाते हैं। वहीं, पारंपरिक रूप से की जाने वाली सर्जरी में आपके शरीर को चीरों या निषान से रिकवर होने में कई दिन लग जाते हैं।

पड़ते हैं कम निशान

लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी में आपके शरीर पर कम संख्या में चीरे लगाए जाते हैं और इससे निशान भी कम पड़ते हैं। इससे ऑपरेशन पूरा होने के बाद कम टांके लगाए जाते हैं, जिससे आपके शरीर में कम निशान दिखते हैं। जबकि, पुरानी सर्जरी प्रक्रिया में बड़े आकार के और कई चीरे लगाए जाते हैं, जिससे आपके शरीर पर ज्यादा टांके लगते हैं।

कारगर परिणाम

लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी का परिणाम पुराने जमाने की सर्जरी की तुलना में अधिक कारगर होता है। इसमें टेलीस्कोपिक कैमरे का इस्तेमाल होता है, जिससे शरीर के आंतरिक अंगों की जानकारी बेहतर तरीके से देखी जा सकती है।

मांसपेशियों और अंगों को कम नुकसान

कम चीरे और निशान के साथ आपकी मांसपेशियों और अंगों को पूरी तरह काम करने में कम तकलीफ होती है, जबकि बड़े आकार की सर्जरी में आपके शरीर को पूरी तरह स्वस्थ होने के लिए मांसपेशियों और अंगों पर ज्यादा दबाव पड़ता है।

यह भी पढ़ें: HELLP syndrome: हेल्प सिंड्रोम क्या है?

ब्लीडिंग होती है कम

यह स्पष्ट है कि यदि चीरा छोटा हो तो ब्लीडिंग कम होगी और दूसरी तरफ यदि चीरा बड़ा लगाया गया हो या कई चीरे लगाए गए हों तो लैप्रोस्कोपिक स्कारलेस सर्जरी की तुलना में रक्तस्राव ज्यादा होगा।

लैप्रोस्कोपिक स्कारलेस सर्जरी आमतौर पर निम्नलिखित के संदर्भ में की जाती हैः

  • आपकी नाभि या पेडू के आसपास ट्यूमर जैसी असामान्य गांठ की जांच के लिए
  • एंडोमेट्रियोसिस, पेल्विक इन्फ्लेमेटरी डिजीज (पीआईडी) और एक्टोपिक प्रेग्नेंसी की जांच और उपचार के लिए
  • महिला को गर्भवती होने में समस्या की पहचान के लिए। ये कारण आपके शरीर में सिस्ट, फाइब्रॉएड्स या अन्य संक्रमण हो सकते हैं।
    बायोप्सी के लिए।
  • यह पता लगाने के लिए कि क्या कैंसर पेट तक फैल गया है या नहीं।

लैप्रोस्कोपिक स्कारलेस सर्जरी तेजी से लोकप्रिय हो रही ऐसी तकनीक है, जिसका इस्तेमाल चिकित्सकों द्वारा सफलतापूर्वक किया जाता है। इसका इस्तेमाल अपेंडिक्स, गाल ब्लैडर, गर्भाशय निकालने और बेरिएट्रिक सर्जरी से संबंधित समस्याओं का उपचार तलाशने वाले मरीजों में किया जा सकता है। पेट से संबंधित कई और बड़ी सर्जरी कराने वाले मरीजों को लैप्रोस्कोपिक स्कारलेस सर्जरी कराने की सलाह नहीं दी जाती है, या गंभीर रूप से सूजन की समस्या से ग्रसित लोगों को इस तरह की सर्जरी नहीं करानी चाहिए। इसका कारण यह है कि कई सर्जरी या सूजन की समस्या मरीज के पेट में अंदर की पिक्चर या दृष्यता को सीमित कर सकती हैं।

यह भी पढ़ें: Gaucher Diesease : गौशर रोग क्या है? जानें इसके लक्षण, कारण और निवारण

इनमें भी की जाती है लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी

ऐसी सर्जरी निम्नलिखित समस्याओं से जूझ रहे लोगों में भी की जा सकती हैः

  • एशरमैन सिंड्रोम के लिए डेसियोलाइसिस
  • यूटराइन पॉलिप्स में पोलीपेक्टोमी
  • यूटराइन फाइब्रॉएड्स में मायोमेक्टोमी
  • सेप्टेट अटेरस में सेप्टम हटाना
  • आईयूसीडी हटाना
  • कन्सेप्शन के रिटेन्ड प्रोडक्ट्स को हिस्टेरोस्कोपिक के जरिये हटाना
  • गर्भाशय से रक्तस्राव में हिस्टेरोस्कोपिक डी और सी
  • एक्टोपिक प्रेग्नेंसी में सेल्पिनगेक्टेमी/ सेल्पिनगोस्टोमी
  • एंडोमेट्रियोसिस में एंडोमेट्रियोमा अैर एडेसियोलाइसिस को हटाना
  • यूटराइन फाइब्रॉएड्स में लैप मायोमेक्टोमी
  • ओवेरियन सिस्ट में लैप ओवरियन सिस्टेक्टोमी
  • पेल्विक ऑर्गन प्रोलैप्स में लैप सैक्रोकोलपोपेक्सी
  • टोटल लैप हिस्टेरेक्टोमी
  • पेल्विक एडेसंस में लैप एडेसियोलाइसिस
  • एंडोमेट्रियोटिक स्पॉट्स पेल्विक पेन में लैप कोटराइजेशन

मौजूदा समय में लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी प्रक्रिया में इतनी तेजी से बदलाव आ रहा है कि एक दिन हमें मरीजों को सर्जरी के दौरान छोटा चीरा भी नहीं लगाने की जरूरत होगी। एक समय ऐसा आएगा जब चिकित्सक पेट और रेक्टम का ऑपरेशन किए बगैर चीरा लगाने में सक्षम होंगे। चिकित्सा क्षेत्र में बढ़ते तकनीकी विकास और तकनीकों की वजह से हर कोई मिनिमम इनवेसिव और दर्द रहित प्रक्रियाओं पर ध्यान केंद्रित करेगा।

इस संबंध में आप अपने डॉक्टर से संपर्क करें। क्योंकि आपके स्वास्थ्य की स्थिति देख कर ही डॉक्टर आपको उपचार बता सकते हैं।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

और पढ़ें:-

International Epilepsy Day : इन सर्जरीज से किया जा सकता है मिर्गी का इलाज

De Quervain Surgery : डीक्वेवेंस सर्जरी क्या है?

Breast Reduction Surgery : ब्रेस्ट रिडक्शन सर्जरी क्या है?

Crohn’s disease surgery : क्रॉन्स डिसीज सर्जरी क्या है?

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"

    डाॅ अरुणा कालरा मम्स क्लीनिक की गायनोकॉलोजिस्ट एंड ऑब्स्टेट्रिक्स ...

    FROM EXPERT डॉ अरुणा कालरा

    laparoscopy scarless surgery: लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी क्या है?

    जानिए लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी की जानकारी in Hindi, laparoscopy scarless surgery क्या है , कैसे और कब की जाती है, लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी की प्रक्रिया, क्या है जोखिम, जानें इसके खतरे, कैसे करें रिकवरी, कैसे करें बचाव।

    Written by Sunil Kumar
    लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी

    प्रसव-पूर्व योग से दूर भगाएं प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाली समस्याओं को

    प्रसव-पूर्व योग का क्या अर्थ है? प्रसव-पूर्व योग में हर तिमाही के अनुसार अलग-अलग प्रकार के योग होते हैं। Prenatal Exercises के क्या फायदे होते हैं?

    Written by Niharika Jaiswal
    प्रसव-पूर्व योग
    यहाँ से आगे पढ़ें डॉ अरुणा कालरा
    डाॅ अरुणा कालरा मम्स क्लीनिक की गायनोकॉलोजिस्ट एंड ऑब्स्टेट्रिक्स ...

    Recommended for you

    स्प्लेनेक्टोमी Splenectomy

    Splenectomy : स्प्लेनेक्टोमी क्या है?

    Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
    Written by Ankita Mishra
    Published on नवम्बर 4, 2019
    एब्डोमिनोप्लास्टी सर्जरी - Abdominoplasty

    Abdominoplasty : एब्डोमिनोप्लास्टी सर्जरी क्या है?

    Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
    Written by Ankita Mishra
    Published on अक्टूबर 25, 2019
    हर्निया की सर्जरी के बाद

    हर्निया की सर्जरी के बाद इन बातों का ध्यान रखना है बहुत जरूरी

    Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
    Written by Suniti Tripathy
    Published on अक्टूबर 24, 2019
    गेस्ट्रोक्टॉमी

    Gastrectomy : गैस्ट्रेक्टमी क्या है?

    Medically reviewed by Dr. Shruthi Shridhar
    Written by Ankita Mishra
    Published on अक्टूबर 20, 2019