ब्लड थिनिंग फूड्स : हार्ट की समस्या में प्राकृतिक उपाय हैं ये फूड!

    ब्लड थिनिंग फूड्स : हार्ट की समस्या में प्राकृतिक उपाय हैं ये फूड!

    किसी भी व्यक्ति के लिए हार्ट से जुड़ी समस्या का सामना करना मुश्किल साबित होता है। हार्ट से जुड़ी समस्याएं गंभीर स्थितियों में से एक मानी जाती हैं, यही वजह है कि हार्ट से जुड़ी समस्याओं के इलाज के अक्सर ब्लड थिनर (Blood Thinner) मेडिसिन का इस्तेमाल किया जाता है। ब्लड थिनिंग फूड्स (Blood thinning foods) आपको फायदा पहुंचाने का काम करता है। ज्यादातर हार्ट समस्याओं का कारण आर्टरी में हुआ ब्लड क्लॉट होता है, जिसके कारण हार्ट से जुड़ी आर्टिरीज में ब्लड फ्लो ठीक ढंग से नहीं हो पाता। यही वजह है कि इसमें ब्लड थिनर मेडिसिन का इस्तेमाल किया जाता है। ब्लड थिनर मेडिसिन को एंटीकोआगुलेंट्स (Anticoagulants) का नाम भी दिया गया है। खास तौर पर यह ब्लड थिनर मेडिसिन हार्ट अटैक और स्ट्रोक (Heart attack and stroke) की समस्याओं में दिए जाते हैं। ऐसे में हमारे खानपान से जुड़े ब्लड थिनिंग फूड्स (Blood thinning foods) भी मौजूद हैं, जो प्राकृतिक ब्लड थिनर का काम करते हैं। आइए जानते हैं इन ब्लड थिनिंग फूड्स (Blood thinning foods) के बारे में। लेकिन इससे पहले जानते हैं ब्लड थिनर का काम आखिर क्या होता है।

    और पढ़ें : हार्ट वॉल्व डिजीज के लिए बेहद उपयोगी हैं डाइयुरेटिक्स, हार्ट अटैक का खतरा कर सकती हैं कम!

    क्या है ब्लड थिनर (Blood Thinner) का काम?

    प्राकृतिक ब्लड थिनिंग फूड्स (Blood thinning foods) के अलावा कुछ दवाएं ब्लड थिनर (Blood Thinner) के रूप में दी जाती हैं। ब्लड थिनर के दो प्रकार होते हैं, एंटीकोआगुलेंट्स (Anticoagulants), जो खून को ब्लॉक होने से रोकता है। इससे सेल फ़ूलते नहीं और आपस में चिपकते नहीं। वही ब्लड थिनर का दूसरा प्रकार है एंटीप्लेटलेट (Antiplatelet), जिससे खून में मौजूद प्लेटलेट पर टारगेट किया जाता है। यह दोनों ही दवाओं के रूप में उपलब्ध है। लेकिन जो लोग हार्ट की समस्या से ग्रसित हैं, वो डॉक्टर की सलाह के बाद सीमित मात्रा में ब्लड थिनिंग फूड्स (Blood thinning foods) का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। आइए जानते हैं ब्लड थिनिंग फूड्स (Blood thinning foods) कौन-कौन से होते हैं।

    ब्लड थिनिंग फूड्स : नैचुरल भी, हेल्दी भी! (Blood thinning foods)

    ब्लड थिनिंग फूड्स (Blood thinning foods)

    प्राकृतिक ब्लड थिनिंग फूड्स (Blood thinning foods) आसानी से उपलब्ध हो जाते हैं और इनके इस्तेमाल से आपको किसी खास तरह की समस्या का सामना भी नहीं करना पड़ता। लेकिन प्राकृतिक ब्लड थिनिंग फूड्स (Blood thinning foods) के इस्तेमाल से पहले आपको डॉक्टर से सलाह जरूर लेनी चाहिए, जिससे इसका गलत प्रभाव आपकी सेहत पर ना पड़े। आइए जानते हैं उन प्राकृतिक ब्लड थिनिंग फूड्स के बारे में, जिनका इस्तेमाल आप हार्ट से जुड़ी तकलीफ़ों में कर सकते हैं।

    और पढ़ें: कंजेस्टिव हार्ट फेलियर ट्रीटमेंट के लिए अपनाए जाते हैं यह तरीके

    प्राकृतिक ब्लड थिनिंग फूड्स (Blood thinning foods) : हल्दी है बड़े काम की चीज

    हल्दी (Turmeric) का सेवन भारतीय किचन में रोजाना किया जाता है। यह अपने खूबसूरत रंग और बेहतरीन स्वाद के लिए जानी जाती है। साथ ही साथ इसमें कई मेडिसिनल प्रॉपर्टीज भी होती हैं। इसमें मौजूद एक्टिव इनग्रेडिएंट, जिसे करक्यूमिन (Curcumin) कहा जाता है, यह एक एंटीकोआगुलेंट्स (Anticoagulants) होता है। यह शरीर में खून के थक्के होने से बचाता है और क्लॉट होने से रोकता है। इस तरह ब्लड थिनिंग फूड्स के तौर पर इसका इस्तेमाल किया जा सकता है।

    और पढ़ें : Anti-arrhythmics: हार्ट एरिथमिया की हो जाए समस्या, तो इन दवाओं का किया जाता है इस्तेमाल

    प्राकृतिक ब्लड थिनिंग फूड्स : अदरक के सेवन से हो सकता है हार्ट हेल्दी

    अदरक, यानी कि जिंजर (Ginger) भी भारतीय किचन का एक मसाला माना जाता है, जिसमें कई नैचुरल केमिकल पाए जाते हैं। सैलिसिलेट (Salicylate) इसका एक ऐसा तत्व है, जो सैलिसाईलिक एसिड (Salicylic acid) के लिए जिम्मेदार माना जाता है। यह सैलिसाईलिक एसिड आमतौर पर स्ट्रोक ओर हार्ट अटैक की समस्या में मददगार साबित होता है। इसके अलावा ब्लड थिनिंग फूड्स (Blood thinning foods) में उन सभी खाद्य पदार्थों का सामवेश होता है, जिनमें सैलिसाईलिक एसिड का इस्तेमाल होता है। इसमें एवॉकाडो, बैरी, मिर्च और चेरीज इत्यादि का समावेश होता है। यह सभी खाद्य पदार्थ ब्लड थिनिंग फूड्स (Blood thinning foods) के तौर पर इस्तेमाल किए जा सकते हैं।

    और पढ़ें : एट्रियल सेप्टल डिफेक्ट्स : ऐसे पहचानें इस हार्ट डिजीज के लक्षणों को

    प्राकृतिक ब्लड थिनिंग फूड्स : दालचीनी का इस्तेमाल कर सकते हैं हार्ट पेशेंट

    दालचीनी (Cinnamon) में भरपूर मात्रा में कुमेरिन (Coumarin) नामक तत्व होता है। यह एक प्रकार का केमिकल होता है, जो कई दवाइयों में इस्तेमाल किया जाता है। साथ ही साथ यह बेहद प्रभावशाली एंटीकोआगुलेंट्स (Anticoagulants) माना जाता है। यह आपके ब्लड प्रेशर (Blood pressure) को सामान्य बनाए रखने में मदद करता है और अर्थराइटिस में होने वाली सूजन में भी फायदेमंद माना जाता है। हालांकि दालचीनी का इस्तेमाल दवाई के रूप में नहीं किया जा सकता, लेकिन फिर भी यह ब्लड थिनिंग फूड्स (Blood thinning foods) के तौर पर इस्तेमाल होता है। साथ ही साथ इसका इस्तेमाल कई तरह की चाय बनाने में भी किया जा सकता है, जो लिवर डैमेज की समस्या में मददगार साबित होता है।

    प्राकृतिक ब्लड थिनिंग फूड्स : केएन पेपर का स्वाद, दिलाएगा हार्ट की समस्या में राहत

    केएन पेपर (Cayenne peppers), जिसे लाल मिर्च के नाम से भी माना जाता है, ये अपने ब्लड थिनिंग इफेक्ट के लिए जानी जाती है। इसमें बड़ी मात्रा में सैलिसिलेट (Salicylates) पाया जाता है, जो प्राकृतिक ब्लड थिनर (Blood Thinner) के रूप में जाना जाता है। यह न सिर्फ आपके ब्लड को क्लॉट होने से बचाता है, बल्कि आपके ब्लड प्रेशर को सामान्य बनाए रखता है। इसके अलावा यह ब्लड सर्कुलेशन भी बेहतर बनाता है।

    और पढ़ें : जान लीजिए इस गंभीर हार्ट इंफेक्शन के कारण, ताकि समय रहते कर सकें बचाव

    प्राकृतिक ब्लड थिनिंग फूड्स : विटामिन ई के इस्तेमाल से मिलेगी हार्ट की समस्या में मदद

    विटामिन ई (Vitamin E) अपने आप में एक जरूरी विटामिन माना जाता है। लेकिन यह माइल्ड एंटीकोआगुलेंट्स (Anticoagulants) के तौर पर भी जाना जाता है। इसलिए यह शरीर में ब्लड क्लॉटिंग की समस्या से निजात दिला सकता है। विटामिन ई की सही मात्रा की मदद से हार्ट संबंधी समस्याओं में आराम मिलता है। इसलिए ब्लड थिनिंग फूड्स (Blood thinning foods) के तौर पर विटामिन ई का सेवन किया जा सकता है। इसके अलावा और भी कई ब्लड थिनिंग फूड्स मौजूद हैं, जो एंटीकोआगुलेंट्स (Anticoagulants) के तौर पर इस्तेमाल किए जा सकते हैं। आइए अब जानते हैं कुछ बातें हार्ट हेल्दी डायट के बारे में।

    और पढ़ें: वायरल मायोकार्डिटिस : इस तरह से किया जाता है इस हार्ट कंडीशन का ट्रीटमेंट!

    हार्ट हेल्दी डायट (Heart healthy diet) : अपनाकर तो देखिए!

    यदि आप कार्डियोवैस्कुलर डिजीज (Cardiovascular disease) , ब्लड वेसल और हार्ट से जुड़ी समस्याओं से जूझ रहे हैं, तो आपको हार्ट हेल्दी डायट की जरूरत पड़ सकती हैं। हार्ट हेल्दी डाइट में ताजे फल और सब्जियों के अलावा 100% होल ग्रेन, हेल्दी ऑयल, लो फैट मिल्क प्रोडक्ट और हेल्दी प्रोटीन का समावेश होता है।

    हार्ट हेल्दी डाइट में हाय फ़ैट, हाय कोलेस्ट्रॉल, हाय शुगर (High Fat, High Cholesterol, High Sugar) से भरपूर फूड आइटम्स को न खाने की सलाह दी जाती है, जो आपकी हार्ट संबंधित समस्याओं को और भी बिगाड़ सकती है।

    इसके अलावा आप विटामिन के का सेवन भी कर सकते हैं। विटामिन के (Vitamin K) आपकी हार्ट संबंधी समस्याओं में मदद कर सकता है। विटामिन के से संबंधित फूड्स में आप हरी सब्जियां, लेटस, पालक, ब्रॉक्ली और स्प्राउट्स का इस्तेमाल कर सकते हैं। यह सभी ब्लड थिनिंग फूड्स (Blood thinning foods) के तौर पर इस्तेमाल किए जा सकते हैं।

    और पढ़ें: सिस्टोलिक हार्ट फेलियर : लाइफस्टाइल में हेल्दी बदलाव से सुधर सकती है दिल की यह कंडिशन!

    हार्ट संबंधित समस्याओं में आपको डॉक्टर की सलाह के बाद लगातार दवाइयां लेने की जरूरत पड़ती है, जिसमें कई बार डॉक्टर ब्लड थिनर (Blood Thinner) मेडिसिन का इस्तेमाल भी करते हैं। लेकिन यदि आप प्राकृतिक तौर पर दवाइयों के साथ-साथ ब्लड थिनिंग फूड्स (Blood thinning foods) लेना चाहते हैं, तो ऊपर दिए गए सभी खाद्य पदार्थों का इस्तेमाल कर सकते हैं। लेकिन ध्यान रहे कि हार्ट संबंधित समस्याएं अपने आप में गंभीर समस्याएं मानी जाती है, इसलिए अपनी डायट में किसी भी तरह के बदलाव से पहले आपको डॉक्टर से सलाह लेने की जरूरत पड़ती है। डॉक्टर की सलाह के बाद ही इन खाद्य पदार्थों को अपनी डायट में शामिल करना चाहिए, जिससे हार्ट संबंधी समस्याओं में यह ब्लड थिनिंग फूड्स (Blood thinning foods) आपकी मदद कर सकें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    लेखक की तस्वीर badge
    Toshini Rathod द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 24/11/2021 को
    Sayali Chaudhari के द्वारा मेडिकली रिव्यूड