home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

Chest Pain: सीने में दर्द क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

परिचय|लक्षण|कारण|निदान|रोकथाम व नियंत्रण|उपचार
Chest Pain: सीने में दर्द क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

परिचय

चेस्ट पेन (Chest pain) क्या है?

छाती में दर्द (Chest pain) उठना काफी आम है और यह जितना आम है, उतना ही खतरनाक और गंभीर हो सकता है। इसलिए, इसे नजरअंदाज करने की गलती कभी न करें। चेस्ट पेन के प्रकार उसकी तीव्रता, गंभीरता, अवधि, लोकेशन पर निर्भर करता है। यह आपको हल्के से दर्द से लेकर तेज दर्द तक महसूस हो सकता है, जिसमें आपको अपने सीने में किसी चाकू के घोंपने जैसा एहसास हो सकता है।

सीने में दर्द (Chest pain) किसी गंभीर बीमारी का लक्षण भी हो सकता है, जैसे कि, दिल की बीमारी, रेस्पिरेटरी ट्रैक्ट की बीमारी आदि। जब किसी को चेस्ट पेन होता है, तो उसे सबसे पहला ख्याल हार्ट अटैक का आता है, लेकिन यह थोड़ा भ्रमित एहसास हो सकता है। क्योंकि, सीने में दर्द के काफी कारण हो सकते हैं। चेस्ट पेन में आपको दर्द (Pain) के साथ प्रेशर, कसाव और अन्य असहजता का सामना करना पड़ सकता है। लेकिन, ध्यान रखें कि इसमें आपको एमरजेंसी मेडिकल हेल्प की जरूरत होती है, क्योंकि इसको हल्के में लेना आपके जिंदगी के लिए काफी जानलेवा हो सकता है।

और पढ़ें: Hydrocephalus : हाइड्रोसेफलस क्या है?

लक्षण

चेस्ट पेन के लक्षण क्या हैं? (Symptoms of Chest pain)

सीने में दर्द के लक्षण उसके कारण के ऊपर निर्भर करते हैं। सीने में दर्द को अधिकतर बार दिल की बीमारी के संकेत के रूप में देखा जाता है। दिल की बीमारी (Heart disease) से ग्रसित मरीजों का कहना है कि, उन्हें छाती में अस्पष्ट दर्द (Pain) महसूस होता है और यह तेज होता है। इसमें इस तरह के लक्षण या एहसास हो सकता है। जैसे-

और पढ़ें : Tourette Syndrome : टूरेट सिंड्रोम क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

अन्य कारणों की वजह से चेस्ट पेन होने पर लक्षण (Other cause of chest pain)

यह लक्षण हर व्यक्ति में अलग-अलग हो सकते हैं। हो सकता है कि, किसी एक व्यक्ति को इनमें से कई लक्षण महसूस हो रहे हों और दूसरे व्यक्ति को कोई एक लक्षण महसूस हो रहा हो। इसके अलावा, यह लक्षण किसी अन्य बीमारी के कारण भी हो सकते हैं। इसलिए, अगर आपके मन में चेस्ट पेन के लक्षणों से संबंधित कोई सवाल या शंका है, तो अपने डॉक्टर से चर्चा करें। वह आपको उचित सलाह देगें।

और पढ़ें : Phlebitis : फिलीबाइटिस क्या है?

कारण

चेस्ट पेन का कारण क्या है? (Cause of chest pain)

आपको निम्नलिखित बीमारियों या स्थितियों की वजह से चेस्ट पेन हो सकता है। जैसे-

  1. दिल तक होने वाला ब्लड फ्लो खराब हो जाने की वजह से होने वाली एंजाइना (Angina) की समस्या के कारण।
  2. ब्लड फ्लो बाधित हो जाने पर होने वाले हार्ट अटैक (Heart attack) की वजह से।
  3. दिल के आसपास की सैक के सूज जाने पर पेरिकार्डिटिस की समस्या के कारण।
  4. आपके दिल से जाने वाली मुख्य ब्लड वेसल एरोटा (AORTA) की आंतरिक परत अलग हो जाने पर होने वाली एओर्टिक डिस्सेक्शन की समस्या के कारण।
  5. स्टमक एसिड के इसोफेगस में आ जाने की वजह से होने वाले हार्टबर्न के कारण।
  6. गॉलस्टोन या पैंक्रियाज व गॉलब्लैडर में सूजन होने की वजह से एब्डोमिनल पेन (Abdominal pain) के कारण, जो कि सीने तक महसूस होता है।
  7. इसोफेगस डिसऑर्डर के कारण निगलने में दिक्कत होने की वजह से सीने में दर्द महसूस हो सकता है।
  8. निमोनिया (Pneumonia) के कारण
  9. वायरस ब्रोंकाइटिस के कारण।
  10. कॉलेप्स्ड लंग्स के कारण आपके सीने में अचानक दर्द उठ सकता है, जो कि कई घंटों तक रह सकता है और इसके साथ सांस लेने में तकलीफ भी होती है।
  11. लंग्स (Lungs) की आर्टरी में ब्लड क्लॉट बन जाने के कारण होने वाली पल्मोनरी एंबोलिज्म की समस्या के कारण।
  12. लंग्स की आर्टरी में हाय ब्लड प्रेशर (High Blood Pressure) होने के कारण होने वाली पल्मोनरी हाइपरटेंशन की समस्या के कारण।
  13. आपके लंग्स के बाहरी मेंब्रेन (Membrain) के सूज जाने पर छाती में दर्द हो सकता है, जिसके दौरान सांस लेने में भी दिक्कत होती है।
  14. पैनिक या स्ट्रेस अटैक के कारण भी सीने में दर्द हो सकता है।
  15. चिकनपॉक्स वायरस के रिएक्टिवेट होने पर शिंगल्स की समस्या के कारण।
  16. फाइब्रोमायल्जिया जैसे क्रॉनिक पेन सिंड्रोम के कारण।
  17. ब्रेस्टबोन (Breast bone) और रिब्स को जोड़ने वाली कार्टिलेज के सूज जाने पर होने वाले दर्द के कारण।
  18. टूटी हुए रिब्स की वजह से सीने में दर्द होना।

[mc4wp_form id=”183492″]

और पढ़ें : Milia : मिलीया क्या है?

निदान

चेस्ट पेन का पता कैसे लगाया जा सकता है? (Diagnosis for Chest pain)

जब भी आपको चेस्प पेन होता है, तो एमरजेंसी में डॉक्टर सबसे पहले हार्ट अटैक की आशंका आदि को खत्म करने के लिए उससे संबंधित टेस्ट के साथ कुछ अन्य जरूरी टेस्ट कराता है। अगर, वह टेस्ट सही आते हैं, तो फिर उसके बाद अन्य बीमारियों से जुड़े टेस्ट किए जाते हैं, जिससे चेस्ट पेन (Chest pain) के पीछे का कारण स्पष्ट हो सके। जैसे-

  1. आपके दिल की इलेक्ट्रिकल एक्टिविटी को रिकॉर्ड करने के लिए इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम (ECG)। जो कि, यह बताता है कि, कहीं आपको हार्ट अटैक की वजह से चेस्ट पेन तो नहीं हो रहा।
  2. लंग्स और सीने की आंतरिक स्थिति जैसे, फेफड़ों (Lungs) और दिल (Heart) का आकार, मुख्य ब्लड वेसल्स आदि, को जानने के लिए चेस्ट एक्स-रे (Chest X-Ray)।
  3. हार्ट मसल्स में मौजूद कुछ खास प्रोटीन और एंजाइम का स्तर जांचने के लिए ब्लड टेस्ट।
  4. लंग्स के अंदर किसी तरह के ब्लड क्लॉट की जांच करने के लिए कंप्यूटराइज्ड टोमोग्राफी (सीटी स्कैन)
  5. दिल या एरोटा की डैमेज को जांचने के लिए एमआरआई।
  6. दिल की वीडियो इमेज प्राप्त करने के लिए साउंड वेव्स द्वारा इकोकार्डियोग्राम (Echocardiogram)।
  7. दिल की आर्टरी के अंदर ब्लॉकेज के बारे में जानने के लिए विभिन्न तरह के सीटी स्कैन।
  8. एक्सर्शन के बाद आपके हार्ट फंक्शन को जानने के लिए स्ट्रेस टेस्ट (Stress test)।
  9. किसी निश्चित ब्लॉक्ड या संकरी हो चुकी हार्ट आर्टरी को पहचानने के लिए एंजियोग्राम।

और पढ़ें : G6PD Deficiency : जी6पीडी डिफिसिएंसी या ग्लूकोस-6-फॉस्फेट डीहाड्रोजिनेस क्या है?

कार्डियोवैस्कुलर सिस्टम के बारे में जानने के लिए देखें ये 3डी मॉडल:

रोकथाम व नियंत्रण

चेस्ट पेन को नियंत्रित कैसे किया जा सकता है? (Tips to control chest pain)

चेस्ट पेन अन्य समस्याओं के कारण होता है, जैसे कि दिल से संबंधित समस्याएं, फेफड़ों से संबंधित समस्याएं और पेट से संबंधित समस्याएं। इनमें से अधिकतर समस्याओं से बचाव और सुरक्षा जीवनशैली में बदलाव करके की जा सकती है। जैसे-

  • पर्याप्त नींद (Sleep) लेना।
  • स्वस्थ आहार (Healthy diet) का सेवन करना।
  • धूम्रपान या शराब का सेवन न करना।
  • नियमित रूप से रोजाना 30 मिनट एक्सरसाइज करना।
  • योग (Yoga) व ध्यान (Meditation) लगाना।

परेशानी ज्यादा होने पर दवा प्रिस्क्राइब की जा सकती है

और पढ़ें : Enlarged Prostate : प्रोस्टेट का बढ़ना क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

उपचार

चेस्ट पेन का उपचार कैसे किया जाता है? (Treatment for chest pain)

चेस्ट पेन का उपचार उसके पीछे के कारणों पर निर्भर करता है। जैसे-

  • नाइट्रोग्लाइस्रीन या अन्य खून पतला करने वाली, क्लॉट हटाने वाली, रक्त धमनियों को खोलने वाली दवाओं का सेवन।
  • ब्लॉक आर्टरी (Block artery) को खोलने के लिए स्टेंट या बैलून इंस्टॉल करना।
  • आर्टरी रिपेयर करने के लिए कोरोनरी आर्टरी बायपास ग्राफ्टिंग या बायपास सर्जरी।
  • कॉलेप्स्ड लंग के लिए चेस्ट ट्यूब या अन्य संबंधित डिवाइस इंसर्ट करके लंग री-इंफ्लेशन।
  • हार्ट बर्न (Heartburn) या एसिड रिफ्लक्स के लिए एंटासिड या कुछ अन्य उपचार के तरीके।
  • पैनिक अटैक की वजह से होने वाले चेस्ट पेन के इलाज के लिए एंटी-एंजायटी मेडिकेशन।

अगर आपको सीने में दर्द की समस्या है तो आप इसे हल्के में न लें। डॉक्टर के पास जाएं और जांच कराएं। डॉक्टर आपको जो भी सुझाव दे उसका पालन करें। उपरोक्त दी गई जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से परामर्श करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Chest Pain – https://medlineplus.gov/chestpain.html – Accessed on 3/6/2020

Chest Pain or Discomfort – https://www.ncbi.nlm.nih.gov/books/NBK416/ – Accessed on 3/6/2020

Chest pain – https://www.betterhealth.vic.gov.au/health/conditionsandtreatments/chest-pain – Accessed on 3/6/2020

Angina – https://www.nhlbi.nih.gov/health-topics/angina – Accessed on 3/6/2020

Chest pain – https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/chest-pain/symptoms-causes/syc-20370838 – Accessed on 3/6/2020

लेखक की तस्वीर badge
Surender aggarwal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 18/08/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड