दिल की बीमारी पर ब्रेक लगा सकता है सरसों का तेल

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जुलाई 16, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

‘सरसों दी साग और मक्के दी रोटी’ तो जग जाहिर है लेकिन, क्या आपने कभी सरसों के तेल की खासियत जानी है ? सरसों के कई फायदे हैं। एक तो आप इससे सब्जियों का जायका बढ़ा सकते हैं, तो वहीं दूसरी तरफ शरीर की मालिश कर दर्द को ठीक भी कर सकते हैं। सरसों के तेल को आयुर्वेद में औषधियों की श्रेणी में रखा जात है। इस तेल का इस्तेमाल करने का तरीका जानने से पहले ये जानना जरूरी है कि आखिर सरसों के तेल में ऐसे कौन-कौन से तत्व हैं, जिससे ये सेहत के लिए लाभदायक होता है। 

दरअसल, सरसों के तेल में विटामिन, मिनरल, कैल्शियम और आयरन जैसे तत्व भरपूर मात्रा में मौजूद होते हैं, जो इसकी गुणवत्ता को बढ़ाने के साथ ही आपको सेहतमंद रखने में मदद करते हैं।

और पढ़ें: जानिए किडनी के रोगी का डाइट प्लान,क्या खाएं क्या नहीं

सरसों के तेल के फायदे

खुलकर लगेगी भूख

अगर भूख नहीं लगती है, तो मस्टर्ड ऑयल आपकी इस परेशानी को धीरे-धीरे  ठीक करने में मदद कर सकता है। सरसों के तेल में बनी सब्जी खाने की आदत डालें। ये आपके खाने को जल्दी डायजेस्ट कर और फिर से खाने की इच्छा को बढ़ाएगा। 

 वजन कम करना होगा आसान

 सरसों के तेल में मौजूद नियासिन, थियामाइन और फोलेट बॉडी के मेटाबॉलिज्म को बढ़ाता है जो वजन कम करने में सहायक होता है। 

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

 इम्युनिटी होती है स्ट्रॉन्ग

इसमें मौजूद विटामिन और खनिज तत्व शरीर को मजबूत बनाते हैं। जिससे रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। इसके लिए आपको सरसों का तेल को खाने में नियमित रूप से इस्तेमाल करना होगा।

दिल से जुड़ी बीमारी पर लगेगा ब्रेक

सरसों तेल को खाने में नियमित और सही मात्रा में इस्तेमाल करने से कोरोनरी हार्ट डिजीज का खतरा कम हो जाता है। 

मांसपेशियां होती है मजबूत

सरसों तेल के नियमित मालिश से हड्डी और मांसपेशियां मजबूत होती हैं। बच्चे के जन्म के  बाद और सरसों तेल में हींग और कच्चा लहसुन पका कर मालिश करने से शरीर मजबूत होता है। अगर सर्दी- खांसी की समस्या ज्यादा होती है तो रात को सोने से पहले सिर्फ सीने (छाती) पर भी इस तेल की मालिश करने से फायदा होता है।  

दांत होंगे मजबूत

 सरसों तेल में नमक मिलकर दांत और मसूड़ों पर मसाज करने से दांत मजबूत होते हैं ।कम से कम सप्ताह में ऐसा 2 बार करना फायदेमंद रहेगा। 

 ठण्ड के मौसम में जरूर इस्तेमाल करें

ठण्ड के मौसम में बॉडी पर सरसों के तेल से मसाज जरूर करना चाहिए। इससे शरीर में  गर्माहट बनी रहती है और सर्दी खांसी की समस्या भी नहीं होती है। सर्दियों में अक्सर बॉडी ड्राई हो जाती है इस समस्या को भी सरसों के तेल की मालिश दूर कर देती है।

त्वचा होती है चमकदार

सरसों तेल और नारियल तेल को बराबर मात्रा में एक साथ मिलाकर चेहरे पर मसाज करने से त्वचा में निखार आता है। 

 बालों को मिलेगी नई जिंदगी 

सरसों तेल का बालों में नियमित इस्तेमाल से बाल काले, घने, लम्बे होते हैं। बालों से जुड़ी किसी भी समस्या के लिए सरसों तेल का इस्तेमाल सबसे ज्यादा लाभकारी होता है। कुछ लोगों का तो ये भी मानना है कि सरसों तेल के इस्तेमाल करने से बाल काले होते हैं और जल्दी सफेद भी नहीं होते हैं।

और पढ़ें: थायराइड डाइट प्लान अपनाकर पाएं हेल्दी लाइफस्टाइल, बीमारी से रहे दूर

कैंसर में फायदेमंद हैं सरसों का तेल

सरसों के तेल के फायदों की बात हो, तो यह भी जान लें कि जोड़ों के दर्द से लेकर कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों में सरसों के तेल के फायदे देखे जाते हैं। कई अध्ययनों में यह बात सामने आई है कि सरसों के तेल में कैंसर में भी मदद मिलती है। साउथ डकोटा यूनिवर्सिटी में किए गए एक अध्ययन में कैंसर से जूझ रहे चूहों पर इसका प्रयोग किया गया। इस अध्ययन के दौरान कोलन कैंसर से प्रभावित चूहों सरसों के तेल के इस्तेमाल का प्रभाव देखा गया। इस अध्ययन में निष्कर्ष सामने आया कि चूहों पर सरसों के तेल का प्रभाव अन्य किसी भी तेल से कहीं ज्यादा है। इस अध्ययन में चूहों पर सरसों के तेल के अलावा मकई और मछली के तेल का भी परीक्षण किया गया था। ऐसे में सामने आया कि इस तरह मस्टर्ड ऑयल सबसे अधिक प्रभावी था।

सर्दी-खांसी में फायदेमंद है सरसों का तेल

हमारे देश में लंबे समय से लोग सर्दी-खांसी में सरसों के तेल का इस्तेमाल करते आ रहे हैं। ऐसा माना जाता है कि सरसों के तेल की तासीर गर्म होती है और यह लोगों की नाक बंद होने की समस्या में मदद कर सकता है। सर्दी खांसी की समस्या के लिए आप कुछ चम्मच सरसों के तेल में लहसुन की कलियों को डाल कर गर्म कर लें। इसके बाद इसे कुछ ठंडा होने के बाद छाती पर मालिश करें। साथ ही सर्दी खांसी की समस्या में सोने से पहले इसे थोड़ा गुनगुना करके इसे नाक में भी डाला जा सकता है। इससे भी आराम मिलता है।

यह भी पढ़ें : विटिलिगो: सफेद दाग के रोगियों के लिए डाइट प्लान

सरसों के तेल को माना जाता है नैचुरल सनस्क्रीम

तेज धूप के संपर्क में आने से आपकी त्वचा को नुकसान पहुंचता है। सूरज की तेज किरणें स्किन की बाहरी सतह को नुकसान पहुंचाती हैं। अक्सर ऐसा देखा जाता है कि लोग धूप में बाहर निकलते समय स्किन के लिए काफी चिंतित रहते हैं। ऐसे में सरसों का तेल आपकी मदद कर सकता है। हमारे देश में सालों से सरसों के तेल को एक मॉइस्चराइजर की तरह इस्तेमाल किया जाता है और लोग इसे अपने शरीर के अंगों पर लगाते हैं। वहीं इसका उपयोग भारत में लंबे समय से सूरज की किरणों से भी बचने के लिए करते हैं। सरसों के तेल में विटामिन ई काफी मात्रा में पाया जाता है। इसे स्किन पर लगाने से यह सूरज की अल्ट्रा वॉयलेट किरणों से लोगों का बचाव कर सकता है। साथ ही विटामिन ई स्किन को हाइड्रेट बनाए रखने में भी मदद करता है।

और पढ़ें: अल्सरेटिव कोलाइटिस रोगी के डाइट प्लान में क्या बदलाव करने चाहिए?

एंटी-एजिंग के गुणों से भरपूर है सरसों का तेल

सरसों का तेल स्किन के लिए एंटी एजिंग का भी काम कर सकता है। सरसों के तेल में पाया जाने वाला विटामिन ई झुर्रियों से छुटकारा दिलाने में मदद कर सकता है और साथ ही आपको इनसे दूर रखने में भी सहायक है।  अगर स्थिति गंभीर हो तो दवा प्रिस्क्राइब की जा सकती है।

वैसे सरसों तेल की गंध थोड़ी कड़वी होती है। इसलिए इसे कई जगह कड़वा तेल भी कहा जाता है। सरसों का तेल  शरीर को सॉफ्ट और रोगों से दूर रखने में कारगर है। अगर इसके इस्तेमाल से आपको कोई भी समस्या होती है तो इसका प्रयोग रोक दें और अपने डॉक्टर से सम्पर्क करें।  

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

fish oil: फिश ऑयल क्या है? जाने इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

फिश ऑयल के फायदें,fish oil in hind,फिश ऑयल के उपयोग,नुकसान,फिश ऑयल का उपयोग कैसे करें,ओमेगा 3, फिश ऑयल कैसे उपयोग में लाएं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया shalu
स्वास्थ्य ज्ञान A-Z, ड्रग्स और हर्बल मार्च 27, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

रिफ्लेक्सोलॉजी क्या है? जानें इसके फायदे और करने का तरीके

रिफ्लेक्सोलॉजी क्या है, रिफ्लेक्सोलॉजी के फायदे, पैरों की मसाज कैसे करें, पैरों की मसाज करने के फायदे क्या है, reflexology in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन मार्च 16, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

बथुए का तेल के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Chenopodium Oil

जानिए बथुए का तेल की जानकारी, फायदे, लाभ, बथुए का तेल उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Chenopodium Oil डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Mona narang
जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल दिसम्बर 15, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

सफेद हल्दी के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Zedoary

जानिए सफेद हल्दी की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, सफेद हल्दी उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, zedoary safed haldi डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Mona narang
जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल नवम्बर 27, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

वेजीटेरियन डाइट

वर्ल्ड वेजीटेरियन डे : ये 10 शाकाहारी खाद्य पदार्थ मीट से कहीं ज्यादा ताकतवर

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ सितम्बर 4, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
कुकिंग ऑयल क्विज-Quiz cooking oil

खाना पकाने के लिए आपको किन तेलों से बचना चाहिए?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
प्रकाशित हुआ अगस्त 24, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
नवजात शिशु की मालिश के लाभ/new born baby massage benefits

नवजात शिशु की मालिश के लाभ,जानें क्या है मालिश करने का सही तरीका

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया shalu
प्रकाशित हुआ जुलाई 27, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
बार-बार तेल गर्म करना

बार-बार तेल गर्म करना पड़ सकता है सेहत पर भारी, जानें कैसे?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ जुलाई 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें