दिल की बीमारी पर ब्रेक लगा सकता है सरसों का तेल

Medically reviewed by | By

Update Date मई 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

‘सरसों दी साग और मक्के दी रोटी’ तो जग जाहिर है लेकिन, क्या आपने कभी सरसों के तेल की खासियत जानी है ? सरसों के कई फायदे हैं। एक तो आप इससे सब्जियों का जायका बढ़ा सकते हैं, तो वहीं दूसरी तरफ शरीर की मालिश कर दर्द को ठीक भी कर सकते हैं। सरसों के तेल को आयुर्वेद में औषधियों की श्रेणी में रखा जात है। इस तेल का इस्तेमाल करने का तरीका जानने से पहले ये जानना जरूरी है कि आखिर सरसों के तेल में ऐसे कौन-कौन से तत्व हैं, जिससे ये सेहत के लिए लाभदायक होता है। 

दरअसल, सरसों के तेल में विटामिन, मिनरल, कैल्शियम और आयरन जैसे तत्व भरपूर मात्रा में मौजूद होते हैं, जो इसकी गुणवत्ता को बढ़ाने के साथ ही आपको सेहतमंद रखने में मदद करते हैं।

सरसों के तेल के फायदे

खुलकर लगेगी भूख

अगर भूख नहीं लगती है, तो सरसों का तेल आपकी इस परेशानी को धीरे-धीरे  ठीक करने में मदद कर सकता है। सरसों के तेल में बनी सब्जी खाने की आदत डालें। ये आपके खाने को जल्दी डायजेस्ट कर और फिर से खाने की इच्छा को बढ़ाएगा। 

 वजन कम करना होगा आसान

 सरसों के तेल में मौजूद नियासिन, थियामाइन और फोलेट बॉडी के मेटाबॉलिज्म को बढ़ाता है जो वजन कम करने में सहायक होता है। 

 इम्युनिटी होती है स्ट्रॉन्ग

इसमें मौजूद विटामिन और खनिज तत्व शरीर को मजबूत बनाते हैं। जिससे रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। इसके लिए आपको सरसों का तेल को खाने में नियमित रूप से इस्तेमाल करना होगा।

यह भी पढ़ें : Peanut Oil: मूंगफली का तेल क्या है?

दिल से जुड़ी बीमारी पर लगेगा ब्रेक

सरसों तेल को खाने में नियमित और सही मात्रा में इस्तेमाल करने से कोरोनरी हार्ट डिजीज का खतरा कम हो जाता है। 

मांसपेशियां होती है मजबूत

सरसों तेल के नियमित मालिश से हड्डी और मांसपेशियां मजबूत होती हैं। बच्चे के जन्म के  बाद और सरसों तेल में हींग और कच्चा लहसुन पका कर मालिश करने से शरीर मजबूत होता है। अगर सर्दी- खांसी की समस्या ज्यादा होती है तो रात को सोने से पहले सिर्फ सीने (छाती) पर भी इस तेल की मालिश करने से फायदा होता है।  

दांत होंगे मजबूत

 सरसों तेल में नमक मिलकर दांत और मसूड़ों पर मसाज करने से दांत मजबूत होते हैं ।कम से कम सप्ताह में ऐसा 2 बार करना फायदेमंद रहेगा। 

 ठण्ड के मौसम में जरूर इस्तेमाल करें

ठण्ड के मौसम में बॉडी पर सरसों के तेल से मसाज जरूर करना चाहिए। इससे शरीर में  गर्माहट बनी रहती है और सर्दी खांसी की समस्या भी नहीं होती है। सर्दियों में अक्सर बॉडी ड्राई हो जाती है इस समस्या को भी सरसों के तेल की मालिश दूर कर देती है।

यह भी पढ़ें : Safflower Oil: कुसुम का तेल क्या है?

त्वचा होती है चमकदार

सरसों तेल और नारियल तेल को बराबर मात्रा में एक साथ मिलाकर चेहरे पर मसाज करने से त्वचा में निखार आता है। 

 बालों को मिलेगी नई जिंदगी 

सरसों तेल का बालों में नियमित इस्तेमाल से बाल काले, घने, लम्बे होते हैं। बालों से जुड़ी किसी भी समस्या के लिए सरसों तेल का इस्तेमाल सबसे ज्यादा लाभकारी होता है। कुछ लोगों का तो ये भी मानना है कि सरसों तेल के इस्तेमाल करने से बाल काले होते हैं और जल्दी सफेद भी नहीं होते हैं।

कैंसर में फायदेमंद हैं सरसों का तेल

सरसों के तेल के फायदों की बात हो, तो यह भी जान लें कि जोड़ों के दर्द से लेकर कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों में सरसों के तेल के फायदे देखे जाते हैं। कई अध्ययनों में यह बात सामने आई है कि सरसों के तेल में कैंसर में भी मदद मिलती है। साउथ डकोटा यूनिवर्सिटी में किए गए एक अध्ययन में कैंसर से जूझ रहे चूहों पर इसका प्रयोग किया गया। इस अध्ययन के दौरान कोलन कैंसर से प्रभावित चूहों सरसों के तेल के इस्तेमाल का प्रभाव देखा गया। इस अध्ययन में निष्कर्ष सामने आया कि चूहों पर सरसों के तेल का प्रभाव अन्य किसी भी तेल से कहीं ज्यादा है। इस अध्ययन में चूहों पर सरसों के तेल के अलावा मकई और मछली के तेल का भी परीक्षण किया गया था। ऐसे में सामने आया कि इस तरह सरसों का तेल सबसे अधिक प्रभावी था।

सर्दी-खांसी में फायदेमंद है सरसों का तेल

हमारे देश में लंबे समय से लोग सर्दी-खांसी में सरसों के तेल का इस्तेमाल करते आ रहे हैं। ऐसा माना जाता है कि सरसों के तेल की तासीर गर्म होती है और यह लोगों की नाक बंद होने की समस्या में मदद कर सकता है। सर्दी खांसी की समस्या के लिए आप कुछ चम्मच सरसों के तेल में लहसुन की कलियों को डाल कर गर्म कर लें। इसके बाद इसे कुछ ठंडा होने के बाद छाती पर मालिश करें। साथ ही सर्दी खांसी की समस्या में सोने से पहले इसे थोड़ा गुनगुना करके इसे नाक में भी डाला जा सकता है। इससे भी आराम मिलता है।

यह भी पढ़ें : Peppermint Oil: पुदीना का तेल क्या है?

सरसों के तेल को माना जाता है नैचुरल सनस्क्रीम

तेज धूप के संपर्क में आने से आपकी त्वचा को नुकसान पहुंचता है। सूरज की तेज किरणें स्किन की बाहरी सतह को नुकसान पहुंचाती हैं। अक्सर ऐसा देखा जाता है कि लोग धूप में बाहर निकलते समय स्किन के लिए काफी चिंतित रहते हैं। ऐसे में सरसों का तेल आपकी मदद कर सकता है। हमारे देश में सालों से सरसों के तेल को एक मॉइस्चराइजर की तरह इस्तेमाल किया जाता है और लोग इसे अपने शरीर के अंगों पर लगाते हैं। वहीं इसका उपयोग भारत में लंबे समय से सूरज की किरणों से भी बचने के लिए करते हैं। सरसों के तेल में विटामिन ई काफी मात्रा में पाया जाता है। इसे स्किन पर लगाने से यह सूरज की अल्ट्रा वॉयलेट किरणों से लोगों का बचाव कर सकता है। साथ ही विटामिन ई स्किन को हाइड्रेट बनाए रखने में भी मदद करता है।

एंटी-एजिंग के गुणों से भरपूर है सरसों का तेल

सरसों का तेल स्किन के लिए एंटी एजिंग का भी काम कर सकता है। सरसों के तेल में पाया जाने वाला विटामिन ई झुर्रियों से छुटकारा दिलाने में मदद कर सकता है और साथ ही आपको इनसे दूर रखने में भी सहायक है।  अगर स्थिति गंभीर हो तो दवा प्रिस्क्राइब की जा सकती है

वैसे सरसों तेल की गंध थोड़ी कड़वी होती है। इसलिए इसे कई जगह कड़वा तेल भी कहा जाता है। सरसों का तेल  शरीर को सॉफ्ट और रोगों से दूर रखने में कारगर है। अगर इसके इस्तेमाल से आपको कोई भी समस्या होती है तो इसका प्रयोग रोक दें और अपने डॉक्टर से सम्पर्क करें।  

और पढ़ें :

किडनी की बीमारी कैसे होती है? जानें इसे स्वस्थ रखने का तरीका

Coconut Oil: नारियल तेल क्या है?

नाभि में तेल लगाने के अलग-अलग फायदें जिसके बारे में जानना है जरुरी

Peanut Oil: मूंगफली का तेल क्या है?

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

क्यों है बेबी ऑयल बच्चों के लिए जरूरी?

बच्चों के कोमल त्वचा के लिए सुरक्षित। शिशु को बेबी ऑयल के साथ हल्के हाथों से किया गया मालिश उनकी कोमल। बेबी ऑयल का इस्तेमाल से

Medically reviewed by Dr. Abhishek Kanade
Written by Nikhil Kumar
बच्चों का स्वास्थ्य (0-1 साल), पेरेंटिंग नवम्बर 18, 2019 . 2 मिनट में पढ़ें

नाभि में तेल लगाने के अलग-अलग फायदे जिनके बारे में जानना है जरूरी

नाभि में तेल लगाने के फायदे, नाभि में तेल क्यों लगाते हैं, Oiling your navel, नाभि कें अंदर तेल कैसे लगाएं, नाभी के लिए कितना फायदेमंद है तेल, जानें और

Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
Written by Lucky Singh
फन फैक्ट्स, हेल्थ सेंटर्स नवम्बर 14, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

Fish Oil : फिश ऑयल क्या है?

जानिए फिश ऑयल की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, फिश ऑयल उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Fish oil डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
Written by Sunil Kumar
जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल अक्टूबर 23, 2019 . 1 मिनट में पढ़ें

Rice Bran Oil : राइस ब्रैन ऑयल क्या है?

जानिए राइस ब्रैन ऑयल की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, राइस ब्रैन ऑयल उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, rice-bran-oil डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

Written by Mona Narang
जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल अक्टूबर 9, 2019 . 1 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

Fish OIl

fish oil: फिश ऑयल क्या है? जाने इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by shalu
Published on मार्च 27, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
रिफ्लेक्सोलॉजी

रिफ्लेक्सोलॉजी क्या है? जानें इसके फायदे और करने का तरीके

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shayali Rekha
Published on मार्च 16, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
Chenopodium Oil-बथुए का तेल

बथुए का तेल के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Chenopodium Oil

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Mona Narang
Published on दिसम्बर 15, 2019 . 1 मिनट में पढ़ें
सफेद हल्दी

Zedoary: सफेद हल्दी क्या है?

Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
Written by Mona Narang
Published on नवम्बर 27, 2019 . 1 मिनट में पढ़ें