Peppermint : पेपरमिंट क्या है?

By Medically reviewed by Dr. Pooja Bhardwaj

उपयोग

पेपरमिंट किसलिए इस्तेमाल किया जाता है?

पुदीना का उपयोग सर्दी, खांसी, मुंह और गले की सूजन, साइनस इंफैक्शन, सांस लेने में दिक्कत और पाचन की समस्याओं के इलाज के लिए किया जाता है।

ऐसी स्वास्थ्य समस्याओं के इलाज में पुदीने का उपयोग किया जाता है

  • मासिक धर्म या पीरियड्स की समस्याएं
  • लिवर और गॉलब्लेडर की समस्या
  • एंडोस्कोपी प्रक्रियाओं के दौरान ऐंठन मरोड़
  • प्रेरक या उतेजित करने में

इसके अलावा, पेपरमिंट का तेल सिरदर्द, मांसपेशियों में दर्द, नर्व दर्द, दांत दर्द, मुंह की सूजन, खुजली, एलर्जी, दाने, और बैलरियल और वायरल संक्रमण,के उपचार में कारगर है । इसके साथ ही मच्छरों को भगाने में उपयोगी होता है ।

पुदीना कफ और कोल्ड के उपचार के साथ एक लाभदायक पेनकिलर दवा भी है।

यह कैसे काम करता है?

पुदीना तेल पाचन तंत्र में ऐंठन और मरोड़ को कम करने के लिए लगाया जाता है । शरीर पे लगाने के दौरान ये स्किन को गर्म रखता है और शरीर के अंदर हो रहे दर्द से राहत देता है ।

ज्यादा जानकारी के लिए अपने हर्बलिस्ट या वैद से संपर्क करे ।

सावधानियां और चेतावनियाँ

पेपरमिंट का उपयोग करने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

अपने चिकित्सक या फार्मासिस्ट या हर्बल एक्सपर्ट से परामर्श करे, यदि:

  • अगर आप प्रेगनेंट है या उसके बारे में सोच रही है, या फिर बच्चे को दूध पिला रही है, तो इस दौरान आपको डॉक्टर से बात करनी चाहिए क्योंकि इस अवस्था मे आपको डॉक्टर की बताई दवाओं का ही सेवन करना चाहिए।
  • आपको सभी दवाओं के बारे में बताना चाहिए जो आप डॉक्टरी सलाह या बिना किसी सलाह के सेवन कर रही है ।
  • आपको पुदीने या उसमें पाई जाने वाली किसी दूसरे तत्व से कोई एलर्जी तो नहीं
  • आपको किसी दूसरी चीजों से एलर्जी तो नहीं जैसे, खाने,रंग, खाने को सुरक्षित रखने वाले पदार्थ या जानवरों से।

किसी भी हर्बल सप्पलीमेंट के सेवन करने के नियम उतने ही सख्त होते है जितने कि अंग्रेजी दावा के । सुरक्षा के लिहाज से अभी इसमें और अध्ययन की जरूरत है । पुदीने के इस्तेमाल से होने वाले फायदे से पहले आपको इसके खतरों को समझ लेना चाहिए। ज्यादा जानकारी के लिए अपने हर्बल एक्सपर्ट से बात कीजिये।

पेपरमिंट कितना सुरक्षित है?

बच्चे: छोटे बच्चे और शिशुओं को पुदीना देना खतरनाक हो सकता है । शिशुओं के चेहरे या माथे पे पुदीने के तेल का इस्तेमाल उनके जीवन को खतरे में ला सकता है । इसके सेवन से मुह में भयंकर जलन का भी खतरा है ।

गर्भावस्था और स्तनपान

अभी इस बात की पूरी जानकारी उपलब्ध नहीं है कि,

प्रेग्नेंसी या ब्रेस्ट फीडिंग के दौरान पुदीने का इस्तेमाल कितना सुरक्षित है । इसलिये ऐसी स्थिति में पुदीने के ज्यादा इस्तेमाल से परहेज करें ।

दुष्प्रभाव/ साइड इफेक्ट

पेपरमिंट से मुझे किस तरह के दुष्प्रभाव हो सकते हैं?

  • आपको पुदीने से सीने में जलन और एलर्जी हो सकती है जैसे, सिरदर्द, और मुंह के घाव
  • पेपरमिंट आयल की स्पेशल कोडिंग वाली पिल्स या गोली पेट में नुकसान नहीं पहुचाती । ये गोली 8 या 8 साल से अधिक के उम्र के बच्चों के लिए सेफ हो सकती है ।

ये जरूरी नहीं कि जो साइड इफ़ेक्ट बताए गए है, आपको उनका ही सामना करने पड़े । साइड इफेक्ट दूसरे प्रकार के भी हो सकते है जो लिस्ट में ना हो । अगर आपको साइड इफ़ेक्ट को लेकर कोई शंका या चिंता है तो अपने डॉक्टर या हर्बलिस्ट से बात करे।

इंटरेक्शन

पेपरमिंट आपकी दवाओं के साथ इंटरैक्ट कर उन्हें प्रभावित कर सकती है। हर्बल लेने से पहले एक बार अपने डॉक्टर या वैद से सलाह करे ।

इन स्वास्थ्य समस्याओं या दवाओं में शामिल हो सकते हैं:

साइक्लोस्पोरिन

साइक्लोस्पोरिन लेने पर पेपरमिंट ऑयल न लें। साइक्लोस्पोरिन, एक दवा है, जिसे आमतौर पर ट्रांसप्लांट अंगों की अस्वीकृति को रोकने के लिए लिया जाता है, ये इम्यून सिस्टम पे असर डालती है। पुदीना ऑयल उस दर को धीमा कर सकता है जिस रेट पे शरीर साइक्लोस्पोरिन को तोड़ता है, जिसका अर्थ है कि यह आपके रक्तप्रवाह में अधिक देर तक रहता है।

दवाएं जो पेट के एसिड को कम करती हैं

यदि आप एक ही समय मे पुदीना और पेट का ऐसिड कम करने वाली दवा ले रहे है, तो ऐसे में पेपरमिंट कैप्सूल के असर कम हो सकते है । क्योंकि दूसरी दवाओं की वजह से पेपरमिंट आंतों की बजाय आपके पेट मे ही घुल जाता है । पुदीना और दवाओं के सेवन के बीच कुछ घंटो का अंतर होना चाहिए

एंटासिड्स में शामिल हैं:

  • फैमोटिडाइन (पेप्सिड)
  • सिमेटिडाइन (टैगामेट)
  • रेंटीडाईन (जंटाक)
  • एसोमप्राज़ोल (नेक्सियम)
  • लैंसोप्राजोल
  • ओमेप्राज़ोल (प्रिलोसेक)
  • मधुमेह की दवाएं

टेस्ट ट्यूब अध्ययन बताते हैं कि पेपरमिंट ब्लड शुगर के लेवल को कम कर सकता है, जिससे हाइपोग्लाइसीमिया का खतरा बढ़ जाता है।

लिवर के लिए

पेपरमिंट लिवर में काम करता है, इसलिए यह उन दवाओं को प्रभावित कर सकता है जो शरीर के मेटाबोलिज्म पे असर डालती है। ज्यादा जानकारी के लिए अपने स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से बात करें।

रक्तचाप की दवाएं

कुछ जानवरों के अध्ययन से पता चलता है कि पुदीना रक्तचाप को कम कर सकता है। यदि आप रक्तचाप को कम करने के लिए दवाएं लेते हैं, तो पुदीना लेने से भी उनका प्रभाव और बढ़ सकता है ।

एक पेट की स्थिति जिसमें पेट हाइड्रोक्लोरिक एसिड (एक्लोरहाइड्रिया) नहीं बना पाता है ।

यदि आपको ऐसी कोई समस्या है, एंटर-कोटेड पेपरमिंट तेल का उपयोग न करें। पाचन प्रक्रिया के दौरान एंटरिक कोटिंग कैप्सूल बहुत जल्दी घुल सकती है।

दस्त

यदि आपको दस्त है, तो पेपरमिंट कैप्सूल्स से आपके एनल या गुदा में जलन हो सकती है ।

मात्रा/ डोज़

दी गई जानकारी को आप किसी प्रकार की मेडिकल सलाह या जानकारी के रूप में ना देखे ।

पेपरमिंट के लिए सामान्य खुराक क्या है?

बाल चिकित्सा

पाचन और पेट की समस्या से परेशान बच्चों के लिए सामान्य खुराक प्रति दिन 1 से 2 मिलीलीटर पेपरमिंट ग्लिसरिट है।

वयस्क

चाय: 10 मिनट के लिए 1 कप उबलते पानी में 1 चम्मच सूखे पेपरमिंट के पत्तों को डुबोएं; तनाव और ठंड की समस्या के लिए – खाने के बीच प्रति दिन 4 से 5 बार पिएं। पेपरमिंट की चाय का ज्यादा इस्तेमाल भी सुरक्षित हो सकता है ।

एंटरिक-कोटेड कैप्सूल: 1 से 2 कैप्सूल (पेपरमिंट ऑयल का 0.2 मिली), आईबीएस / प्रति दिन 2 से 3 बार।

तनाव सिरदर्द: 90% इथेनॉल के साथ 10% पुदीने का तेल की के साथ एक टिंचर भर माथे पे हल्के से लगाए जब तक कि वो माथे में समा न जाए।

खुजली और त्वचा की जलन: मेन्थॉल , एक्टिव पेपरमिंट में , क्रीम या मलहम रूप में प्रति दिन 3 से 4 बार लगाए। इससे ज्यादा बार न लगाए।

बेरियम एनीमा के दौरान शुक्राणु कम करने के लिए:

पेपरमिंट ऑयल के साथ 8 मिलीलीटर एक्टिवएजेंट टिवेन 80 को 100 मिलीलीटर पानी में मिलाये। इसके बाद, अघुलनशील अंश हटा दिया जाता है,। फिर शेष 30 मिलीलीटर पेपरमिंट सलूशन के साथ 300 मिलीलीटर मे बेरियम सलूशन में मिलाया जाए ।

पेट खराब : 90 एमजी पेपरमिंट ऑयल और कैरवे तेल जो कि कई विशिष्ट उत्पाद जैसे, पेपरमिंट पत्ती और कई अन्य जड़ी-बूटियां (इबेरोगैस्ट, फ्यूचर्स, इंक) से मिलकर बना होता है। इन दोनो के कॉम्बिनेशन से बनी 1 एमएलन की खुराक का इस्तेमाल जाता है।

इस हर्बल सप्लीमेंट की खुराक हर मरीज के लिए अलग अलग हो सकती है। आपके द्वारा ली जाने वाली खुराक आपकी उम्र, स्वास्थ्य और कई अन्य स्थितियों पर निर्भर करती है। हर्बल सप्लीमेंट हमेशा सुरक्षित नहीं होते हैं। कृपया अपने उचित खुराक के लिए अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से बात करें।

पेपरमिंट किस रूप में आता है?

  • पेपरमिंट का तेल
  • पेपरमिंट कैप्सूल
  • पेपरमिंट मरहम
  • पेपरमिंट क्रीम
  • पेपरमिंट चाय

हेलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है।

सूत्र

रिव्यू की तारीख जुलाई 9, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया सितम्बर 21, 2019