home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

लॉकडाउन की वजह से वायु प्रदूषण चमत्कारिक रूप से हुआ कम, पूरी दुनिया में हुआ ये बदलाव

लॉकडाउन की वजह से वायु प्रदूषण चमत्कारिक रूप से हुआ कम, पूरी दुनिया में हुआ ये बदलाव

कोरोना वायरस (Coronavirus) से जहां दुनिया में तबाही मची हुई है और मृत लोगों की संख्या बढ़ती ही जा रही है। वहीं, इस महामारी की वजह से भारत के लिए एक अच्छी बात भी सामने आ रही है कि कोरोना वायरस से वायु प्रदूषण यानि एयर पॉल्यूशन (Air Pollution) को भी झटका लग गया है। जी हां, कोरोना वायरस की बीमारी को रोकने के लिए लॉकडाउन का फैसला देश की हवा के लिए भी फायदेमंद साबित हो रहा है। आपको बता दें कि, भारत समेत दुनिया के अधिकतर देशों में लॉकडाउन (Coronavirus Lockdown) हो चुका है और इससे सभी देशों की अर्थव्यवस्था को काफी नुकसान पहुंचा है। इस बुरे असर से भारत भी अछूता नहीं रहा है, लेकिन भारत में लॉकडाउन की वजह से एयर पॉल्यूशन कम होने के कारण नागरिकों की सेहत पर दूरगामी फायदे मिल सकते हैं।

और पढ़ें: कोरोना वायरस वैक्सीन को विकसित होने में इतना समय क्यों लग रहा है? कैसे बनती है कोई वैक्सीन

कोरोना वायरस से वायु प्रदूषण में कमी (Air Pollution decrease due to coronavirus)

कोरोना वायरस की वजह से हुए लॉकडाउन में लोगों का घर से बाहर निकलना बंद हो गया है। इसके अलावा, महामारी के फैलने से डर से अधिकतर देश की सभी फैक्ट्रियां, इंडस्ट्री, कंपनियां सभी बंद है। जिससे सड़कों पर लोगों का आना-जाना और गाड़ियों का चलना भी बंद हो गया है। इन सभी कारणों से देश में होने वाला वायु प्रदूषण का स्तर नाटकीय ढंग से कम हो गया है। सेंट्रल पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड (Central Pollution Control Board) की तरफ से रोजाना देश के सभी राज्यों और बड़े शहरों का एयर क्वालिटी इंडेक्स (Air Quality Index) जारी किया जाता है। जिसमें देश के सभी राज्यों और शहरों की वायु गुणवत्ता का स्तर काफी अच्छा है।

और पढ़ें: शरीर की इम्यूनिटी बढ़ाकर कोरोना वायरस से करनी होगी लड़ाई, लेकिन नींद का रखना होगा खास ध्यान

कोरोना वायरस से वायु प्रदूषण कम कैसे हुआ? जानें एयर क्वालिटी इंडेक्स (Air Quality Index)

सेंट्रल पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड के मुताबिक 0-50 का एयर क्वालिटी इंडेक्स सबसे अच्छा होता है, इसके बाद 51-100 सेटिस्फेक्ट्री, 101-200 मध्यम और इसके बाद 201-300 तक खराब, 301-400 तक बेहद खराब और 401-500 तक गंभीर स्तर आता है। अगर लॉकडाउन से पहले यानी 16 मार्च से 24 मार्च का एयर क्वालिटी इंडेक्स देखा जाए, तो दिल्ली का 162, मुंबई का 108, चेन्नई का 67, हैदराबाद का 75, बेंग्लुरु का 85 और कोलकाता का 131 था। लेकिन, लॉकडाउन के बाद यानी 25 से 27 मार्च के बीच देखा जाए तो, तो दिल्ली का 79, मुंबई का 74, चेन्नई का 50, हैदराबाद का 62, बेंग्लुरु का 56 और कोलकाता का 100 रहा। जिससे साफ पता चलता है कि कोरोना वायरस से वायु प्रदूषण को भी करारा नुकसान हुआ है, जो कि देश और प्रकृति के लिए अच्छा है।

इसके अलावा, अगर बोर्ड के मुताबिक 29 मार्च की वायु गुणवत्ता का स्तर भी काफी अच्छा रहा। इस दिन शाम को 4 बजे एयर क्वालिटी इंडेक्स, दिल्ली का 62, मुंबई का 71, चेन्नई का 46, हैदराबाद का 79, बेंग्लुरु का 57 और कोलकाता का 102 रहा। इन सभी शहरों से इतर अगर हम औद्योगिक क्षेत्रों की बात करें, तो यहां होने वाले परिवर्तन का प्रतिशत काफी बड़ा रहा है। जिसमें गाजियाबाद, नोएडा, बल्लभगढ़, भिवाड़ी आदि का नाम आता है।

और पढ़ें: अगर आपके आसपास मिला है कोरोना वायरस का संक्रमित मरीज, तो तुरंत करें ये काम

कोरोना वायरस से वायु प्रदूषण की वजह से स्वास्थ्य को होने वाले नुकसान

कोरोना वायरस से वायु प्रदूषण कितना भी कम हो रहा हो, लेकिन इस महामारी को खत्म करना हमारे लिए बहुत जरूरी है। ठीक इसी तरह हमें वायु प्रदूषण को भी मिटाना होगा, क्योंकि यह भी लोगों के स्वास्थ्य पर बहुत बुरा असर करता है। आइए, जानते हैं वायु प्रदूषण से हेल्थ को क्या-क्या नुकसान पहुंचता है।

  • एयर पॉल्यूशन से कार्डियोवैस्कुलर और रेस्पिरेटरी बीमारियां होती हैं।
  • रेस्पिरेटरी सिस्टम की सेल्स क्षतिग्रस्त होती हैं।
  • फेफड़ों की कार्यक्षमता कम होती है।
  • अस्थमा, ब्रोंकाइटिस जैसी बीमारियां होती हैं।
  • डिप्रेशन होता है।
  • हेयर लॉस, स्किन एजिंग होता है।
  • जीवनकाल छोटा होता है।

कोरोना वायरस से वायु प्रदूषण के साथ-साथ उपरोक्त शारीरिक परेशानी हो सकती है। इसलिए परेशानी महसूस होने पर डॉक्टर से संपर्क करें।

और पढ़ें: अगर जल्दी नहीं रुका कोरोना वायरस, तो ये होगा दुनिया का हाल

कोरोना वायरस अपडेट (latest news on corona)

कोरोना वायरस से वायु प्रदूषण में कमी के अलावा जानते हैं कि कोरोना वायरस से जुड़े आंकड़े कहां तक पहुंच गए हैं। वर्ल्ड ओ मीटर के मुताबिक 30 मार्च 2020 को दोपहर 2.25 बजे तक दुनियाभर में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 7,24,565 हो गई है और इस खतरनाक बीमारी से जान गंवाने वालों की तादाद 34,017 हो गई है। दुनियाभर में कोरोना वायरस से ठीक होने वाले लोगों की संख्या 1,52,076 पहुंच गई है। इसके अलावा, अमेरिका 1,42,735 मरीजों के साथ सबसे ज्यादा संक्रमित मरीज वाला देश बन गया है।

कोरोना वायरस के भारत में मरीज (How many cases of coronavirus in India?)

भारत के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के मुताबिक 30 मार्च 2020 को सुबह 10.30 तक देश में 942 कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की पहचान कर ली गई है। जिसमें से 99 का इलाज करने के बाद छुट्टी दे दी गई है, वहीं 29 लोगों की जान जा चुकी है। मंत्रालय की वेबसाइट के मुताबिक भारत में संक्रमित मरीजों की सबसे ज्यादा संख्या केरल में हो गई है, जहां 194 मामले दर्ज किए जा चुके हैं। इसके बाद महाराष्ट्र 193 मामले और कर्नाटक 80 केस का नंबर आता है।

और पढ़ें: कोरोना वायरस के 80 प्रतिशत मरीजों को पता भी नहीं चलता, वो कब संक्रमित हुए और कब ठीक हो गए

कोरोना वायरस से सावधानी

भारत सरकार ने लोगों के लिए कुछ सलाह दी है। इन एहतियात रूपी सलाह को फॉलो करने से आप कोरोना वायरस संक्रमण से काफी हद तक बच सकते हैं।

  1. हाथों की साफ सफाई का ध्यान रखें। कोरोना से बचाव के लिए पानी और साबुन का इस्तेमाल करें।
  2. घर से बाहर जरूरी पड़ने पर ही निकलें। कही भी जाकर भीड़ न लगाएं।
  3. आंखों, नाक और मुंह को छूने से बचें।
  4. छींकते या खांसते समय अपने मुंह और नाक को किसी टिश्यू पेपर या फिर कोहनी को मोड़कर ढकें।
  5. अगर आपको बुखार, खांसी या सांस लेने में दिक्कत हो रही है, तो जितनी जल्दी हो सके डॉक्टर से मिलें।
  6. अपने हेल्थ केयर प्रोवाइडर की हर सलाह मानें और पूरी जानकारी प्राप्त करते रहें।
  7. भारत सरकार का कहना है कि अगर आप मास्क लगा रहे हैं तो उससे पहले अपने हाथों को एल्कोहॉल बेस्ड हैंड रब या फिर साबुन और पानी से अच्छी तरह धोएं।
  8. अपने मुंह और नाक को मास्क से अच्छी तरह कवर करें कि उसमें किसी भी तरह का गैप न रहे।
  9. एक बार इस्तेमाल किए गए मास्क को दोबारा इस्तेमाल न करें।
  10. मास्क को पीछे से हटाएं और उसे इस्तेमाल करने के बाद आगे से न छूएं।
  11. इस्तेमाल के बाद मास्क को तुरंत एक बंद डस्टबिन में फेंक दें।

कोरोना वायरस से वायु प्रदूषण से जुड़ी अहम जानकारी ऊपर दी गई है। लेकिन, इस बीमारी से जुड़े किसी भी जानकारी के लिए हेल्थ एक्सपर्ट से संपर्क करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Coronavirus (COVID-19) – https://www.cdc.gov/coronavirus/2019-ncov/index.html – Accessed on 30/3/2020

Coronavirus (COVID-19) – https://www.nhs.uk/conditions/coronavirus-covid-19/ – Accessed on 30/3/2020

Coronavirus disease 2019 (COVID-19) – Situation Report – 69 – https://www.who.int/docs/default-source/coronaviruse/situation-reports/20200329-sitrep-69-covid-19.pdf?sfvrsn=8d6620fa_2 – Accessed on 30/3/2020

Novel Corona Virus – https://www.mohfw.gov.in/ – Accessed on 30/3/2020

Coronavirus: In India’s metros, lockdown turns air purifier – https://www.indiatoday.in/india/story/coronavirus-india-lockdown-metros-aqi-air-quality-1660209-2020-03-27 – Accessed on 30/3/2020

Air Quality Index on Mar 29, 2020 @ 4 PM – https://cpcb.nic.in//upload/Downloads/AQI_Bulletin_20200329.pdf – Accessed on 30/3/2020

लेखक की तस्वीर
30/03/2020 पर Surender aggarwal के द्वारा लिखा
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
x