home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

भारत में ओमिक्रॉन के केस, जानिए क्या कहना है एक्सपर्ट का!

भारत में ओमिक्रॉन के केस, जानिए क्या कहना है एक्सपर्ट का!

जब पूरी दुनिया महामारी के निरंतर तनाव के बावजूद सामान्य स्थिति वापस लाने की उम्मीद कर रही थी, तो कोविड COVID ने हमें एक नए आतंक यानि कि वायरस की लपेट में ले लिया है। दक्षिण अफ्रीका में एक नया वैरियंट बी.1.1529 पाया गया है, जिसे अब तक का कोरोना से गंभीर वैरियंट कहा जा रहा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा इस वैरियंट को ओमिक्रॉन नाम दिया गया है। धीरे-धीरे कर के भारत में भारत में ओमिक्रॉन के केस बढ़ रहे हैं। SARS-CoV-2 वायरस इवोल्यूशन (TAG-VE) पर तकनीकी सलाहकार समूह लगातार SARS-CoV-2 के विकास की निगरानी कर रहे है और यह आकलन कर रहें हैं कि क्या विशिष्ट म्यूटेशन और म्यूटेशन के संयोजन वायरस के व्यवहार को बदलते हैं। TAG-VE के आधार पर WHO ने सलाह दी है कि WHO ने ओमिकॉर्न वायरस को VOC के रूप में नामित किया है और आवश्यकतानुसार सदस्य राज्यों और जनता के साथ नए निष्कर्षों का संचार करेगा।

डब्ल्यूएचओ ने सभी काउंटियों को निगरानी और अनुक्रमण बढ़ाने, पूर्ण जीनोम अनुक्रम और संबंधित मेटाडेटा जमा करने, आईएचआर तंत्र के माध्यम से वीओसी संक्रमण से जुड़े प्रारंभिक मामलों / समूहों की रिपोर्ट करने के लिए भी कहा है। उसी के मद्देनजर भारत के नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल ने स्वास्थ्य मंत्रालय को बताया है कि बोत्सवाना (4 मामले), दक्षिण अफ्रीका (22 मामले), और हांगकांग (2 मामले) में कोविड -19 संस्करण बी.1.1529 के कई मामले सामने आए हैं। भारत में ओमिक्रॉन के केस (Omicron cases in India) के आकड़े बढ़ते हुए नजर आ रहे हैं। आइए जानते हैं कि भारत मेंओमिक्रॉन के केस (Omicron cases in India) क्या है और क्या कहते हैं एक्सपर्ट :

और पढ़ें: फिर बढ़ रहा है कोरोना का संक्रमण, सोशल गेदरिंग के दौरान इन बातों का रखें ध्यान!

ओमिक्रॉन खतरनाक क्यों है (why Omicron is dangerous)?

कहा जाता है कि ओमिक्रॉन । दक्षिण अफ्रीका में सेंटर फॉर एपिडेमिक रिस्पांस एंड इनोवेशन के विशेषज्ञों के अनुसार, रिसेप्टर बाइंडिंग डोमेन (वायरस का वह हिस्सा जो हमारे शरीर की कोशिकाओं के साथ पहला संपर्क बनाता है) में और भी अधिक तेजी से फैल रहा है। इसमें दुनिया भर में बहने वाले डेल्टा वैरियंट के लिए सिर्फ दो की तुलना में 10 म्यूटेशन हैं।शोधकर्ताओं के अनुसार, उत्परिवर्तन का यह स्तर सबसे अधिक संभावना एक एकल रोगी से आया है, जो वायरस को मात देने में असमर्थ था। शोधकर्ताओं की सबसे बड़ी चिंता यह है कि यह वायरस अब चीन के वुहान में उभरे मूल वायरस से बिल्कुल अलग है।

और पढ़ें: कोरोना वायरस के ट्रांसमिशन फैक्टर: मास्क पहनने के साथ, इन छोटी-छाेटी बातों की तरफ भी गौर करें!

यद्यपि वर्तमान SARS-CoV-2 RT-PCR डायग्नोस्टिक्स नए वैरियंट का पता लगाना जारी है। हमें अभी तक इस बारे में डेटा एकत्र करना है कि क्या यह संस्करण वैक्सीन या प्राकृतिक प्रतिरक्षा से बच सकता है या उच्च संचरण क्षमता रखता है। हालांकि, यह जानना महत्वपूर्ण है कि वे वैरियंट क्या कर रहे हैं। हमें यह जानना होगा कि ये खतरनाक वायरस की अंतर्निहित क्षमताओं के लिए क्या करते हैं। लेकिन यह परिकल्पना है और इसके लिए और सबूत चाहिए। कई उत्परिवर्तन होने का मतलब यह नहीं है कि वायरस घातक या अधिक खतरनाक होगा। फिर भी, हर प्रकार में महामारी को प्रभावित करने की क्षमता होगी। हालांकि, इस समय यहां डेटा बहुत सीमित है। देखा जाए तो भारत में ओमिक्रॉन के केस दिन प्रतिदिन बढ़ते जा रहे हैं।

और पढ़ें: कोरोना में सेल्फ मेडिकेशन हो सकता है खतरनाक, सलाह के बाद ही करें इनका इस्तेमाल!

भारत में ओमिक्रॉन के केस (Omicron cases in India)

भारत में ओमिक्रॉन के केस (Omicorn cases in India) राेजाना बढ़ते जा रहे हैं। तो ऐसे में बचाव का एक ही उपाय है सोशल डिस्टेसिंग और मास्क का इस्तेमाल। जो लोग ट्रैवलिंग कर रहे हैं, उनमें इसका रिस्क् ज्यादा देखने को मिल रहा है, खासतौर पर फ्लाइट पैसेंजर्स में। ऐसा इसलिए क्योंकि, इससे पहले कि आप विमान में भी चढ़ें, आपको चेक-इन टर्मिनलों और सुरक्षा लाइनों से जूझना होगा। इसका मतलब है कि बार-बार छुआ जाने वाली सतहों के संपर्क में आना और बहुत से लोगों के आसपास होना। जबकि आपकी चिंता विमान में सुरक्षित रहने पर केंद्रित हो सकती है, आपको भी ध्यान देना चाहिए।

भारत में ओमिक्रॉन के केस की बात करें, तो पिछले कुछ दिनों में इसके 410 नए मामले दर्ज किए, जिससे कुल केसलोएड 4,033 हो गया। भारत में ओमिक्रॉन के केस के कुल मामलों में से 1,552 मरीजों को छुट्टी दे दी गई है। देश में सबसे ज्यादा ओमिक्रॉन मामले महाराष्ट्र में हैं (1,216)। 10 जनवरी, 2022 को ही ओमिक्रॉन वैरियंट के 207 नए मामले दर्ज किए। अगले पांच सबसे अधिक प्रभावित राज्य / केंद्र शासित प्रदेश क्रमशः राजस्थान (529), दिल्ली (513), कर्नाटक (441), केरल (333), और गुजरात (236) हैं।

और पढ़ें: कैसे पता लगाया जाए कि डेंगू का बुखार है या कोरोना इंफेक्शन?

भारत में ओमिक्रॉन के केस (Omicron cases in India) की बात करें तो केंद्र के आंकड़ों के अनुसार सिक्किम को छोड़कर देश में कुल 27 राज्य रेत केंद्र शासित प्रदेशों में ओमिक्रॉन के मामले सामने आए हैं। इस बीच, भारत पिछले 24 घंटों में 1,79,723 नए कोविड -19 मामले, 46,569 ठीक होने और 146 मौतों की सूचना दी। देश की दैनिक सकारात्मकता दर बढ़कर xx% हो गई है। भारत के सक्रिय कोविड -19 मामले बढ़कर 7,23,619—कुल केसलोएड का 2.03% हो गए हैं।

  • महाराष्ट्र- 1,216
  • राजस्थान- 529
  • दिल्ली- 513
  • कर्नाटक- 441
  • केरल- 333
  • गुजरात- 236
  • तमिलनाडु- 185
  • हरियाणा- 123
  • तेलंगाना- 123
  • उत्तर प्रदेश- 113
  • ओडिशा- 74
  • आंध्र प्रदेश- 28
  • पंजाब- 27
  • पश्चिम बंगाल- 27
  • गोवा- 19
  • मध्य प्रदेश- 10
  • असम- 9
  • उत्तराखंड- 8
  • मेघालय- 4
  • अंडमान और निकोबार द्वीप समूह- 3
  • चंडीगढ़- 3
  • जम्मू और कश्मीर- 3
  • पुडुचेरी- 2
  • छत्तीसगढ़- 1
  • हिमाचल प्रदेश- 1
  • लद्दाख- 1
  • मणिपुर- 1

और पढ़ें: क्यों कोरोना वायरस वैक्सीनेशन हर एक व्यक्ति के लिए है जरूरी और कैसे करें रजिस्ट्रेशन?

भारत में ओमिक्रॉन के केस : एक्सपर्ट की राय (Omicorn cases in India: Expert opinion)

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि कोरोना वायरस जैसे ही फैलता और विकसित होता है और कई नए रूप, जिनमें चिंताजनक उत्परिवर्तन भी शामिल हैं, कई नए अलग रूपों में नजर आता है। वैज्ञानिक वर्तमान में संभावित परिवर्तनों की निगरानी कर रहे हैं, जो अधिक संचरित या घातक हो सकते हैं। हालांकि, यह पता लगाने में कि क्या नए वेरिएंट का सार्वजनिक स्वास्थ्य पर प्रभाव पड़ेगा, इसमें समय लग सकता है। फिलहाल घबराने की जरूरत नहीं है। यद्यपि हमारे पास एक ऐसा संस्करण है, जो हमारे ज्ञान में भारी अंतराल के बावजूद महत्वपूर्ण चिंताओं को उठाता है, हमें सतर्क रहने की जरूरत है और लोगों को निराश नहीं होने देना चाहिए। इसके लिए, सरकार ने वर्तमान में अधिसूचित किया है कि सुरक्षा उपाय बने रहने चाहिए और जारी रहेंगे। यहां तक ​​​​कि कई तरह से प्रतिबंधों में ढील के साथ, एक चीज जो नहीं बदली है और नहीं बदलेगी वह है COVID-19 सुरक्षा जनादेश – मास्क पहनना, सामाजिक दूरी, यात्रा से पहले और बाद में परीक्षण करना आदि।

स्कूलों के लिए, सुरक्षा उपायों में शामिल होंगे:

  • मास्क पहन कर रखें
  • दूरी में बैठें
  • तापमान की जांच करें
  • बार-बार सैनिटाइज करना
  • पीयर-टू-पीयर इंटरैक्शन की कम संभावना
  • दोपहर का भोजन या एक साथ खाना साझा नहीं करना

और पढ़ें: कोरोना वायरस के ट्रांसमिशन फैक्टर: मास्क पहनने के साथ, इन छोटी-छाेटी बातों की तरफ भी गौर करें!

भारत में ओमिक्रॉन के केस दिन प्रतिदिन बढ़ते जा रहे हैं। जिससे बचाव बहुत जरूरी है, नहीं तो छोटी से लापरवाही लोगों में और आपके घर वालों पर भारी पड़ सकती है। बचाव बहुत जरूरी है। भारत में ओमिक्रॉन के केस के बारे में अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से बात संपर्क करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Niharika Jaiswal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट कुछ हफ्ते पहले को
Sayali Chaudhari के द्वारा मेडिकली रिव्यूड