home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

कोरोना महामारी में मुंबई का हो रहा है बुरा हाल, जानिए आखिर क्यों न्यूयार्क से ज्यादा गंभीर हो रहे हैं हालात

कोरोना महामारी में मुंबई का हो रहा है बुरा हाल, जानिए आखिर क्यों न्यूयार्क से ज्यादा गंभीर हो रहे हैं हालात

मुंबई में कोरोना के मामलें लगातार बढ़ते जा रहे हैं। मुंबई में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों ने न्यूयार्क शहर को भी पीछे छोड़ दिया है। देश में कोविड-19 के पेशेंट सबसे ज्यादा महाराष्ट्र में है। मंगलवार को देश में कोरोना के एक लाख से ज्यादा मामलें पहुंच चुके हैं। 24 घंटे में चार हजार से ज्यादा केस सामने आए हैं। वहीं तीन हजार से ज्यादा लोगों की मौंत हो चुकी है। मुंबई में संक्रमित मरीजों की संख्या 21 हजार से ज्यादा पहुंच चुकी है। मुंबई में ही 754 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं महाराष्ट्र में अबतक 1249 लोगों की मौत कोरोना वायरस के कारण हो चुकी है।

यह भी पढ़ें :लॉकडाउन 4.0 : बंदी के चौथे चरण में दी गई है कुछ छूट,पाबंदियां नहीं हटा सकते हैं राज्य

मुंबई में कोरोना के केस : न्यूयार्क से भी ज्यादा खराब है हालत

मुंबई में जिस गति से कोरोना के केस बढ़ रहे हैं, उससे कई समस्याएं सामने आ रही हैं। फिलहाल मुंबई के हॉस्पिटल्स अधिकतम क्षमता के लिए काम कर रहे हैं। साथ ही क्वारंटीन की सुविधा को बढ़ाने के लिए काम किए जा रहे हैं। महालक्ष्मी रेस कोर्स, महिम नेचर पार्क रिचर्डसन क्रूड्स आदि में बेड की सुविधा को बढ़ाया जा रहा है। ये सोचने वाली बात है अगर वहां पर मरीज आएंगे तो वेंटिलेटर का इंतजाम करना पड़ेगा।

मीडिया रिपोर्ट्स व सरकारी आंकडों की मुताबिक फिललहाल मुंबई की तुलना अगर न्यूयार्क से की जाए तो स्थिति बहुत खराब है। ऐसा सिर्फ इसलिए है क्योंकि न्यूयार्क में जितने भी लोग कोरोना महामारी के कारण संक्रमित हुए थे, उन्हें हॉस्पिटल की जरूरत नहीं पड़ी थी।आपको बताते चले कि न्यूयॉर्क शहर में कोरोना के 3,50,951 मामलें और 27,555 मौतों हो चुकी हैं। न्यूयार्क दुनिया में कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ है। जबकि मुंबई के साथ ऐसा नहीं है, मुंबई में कोरोना से संक्रमित अधिकतर लोगों को हॉस्पिटल की जरूरत पड़ रही है। अगर एक्सपर्ट की बात मानें तो मुंबई में कोरोना महामारी चरम स्थिति पर है। मुंबई में कोरोना महामारी तेजी से फैल रही है।

यह भी पढ़ें :रेड लाइट एरिया को बंद करने से इतने प्रतिशत तक कम हो सकते हैं कोरोना के मामले, स्टडी में बात आई सामने

कोरोना के बढ़ते मामलें: स्लम एरिया में बढ़ रहे हैं मामलें

न्यूयार्क में मृत्युदर अब कुछ कम हो गई है, जबकि मुंबई में मृत्युदर बढ़ रही है। ऐसे हालात में बहुत जरूरी है कि लोग सावधानी रखें और दूसरों को भी कोरोना के बारे में अवेयर करें। मुंबई के साथ ही गुजरात और तमिलनाडू में भी कोरोना के मामलों में बढ़ोत्तरी हो रही है। स्लम एरिया में बढ़ रहे हैं मामलें मुंबई की धारावी को एशिया का सबसे बड़ा स्लम माना जाता है। जब धारावी में पहला केस आया तो लोग डर गए थे। वजह साफ थी कि धारावी में अधिक संख्या में लोग रहते हैं और ऐसे स्थान में सोशल डिस्टेंसिंग मेंटेन करना मुश्किल काम है। धारावी में फिलहाल 24 घंटे में कोरोना के 85 नए केस सामने आएं हैं। अब धारावी में संक्रमित लोगों की संख्या बढ़ कर 1327 हो चुकी है। स्लम एरिया में मरने वालों का आंकड़ा बढ़कर 56 हो गया है। कोरोना की रफ्तार को कम करने के लिए कुछ दिनों पहले केंद्र सरकार की ओर से एक टीम निरिक्षण करने आई थी। मीडिया रिपोर्ट्स की मुताबिक हाल मुंबई में लॉकडाउन में छूट को लेकर सरकार तैयार नहीं है। ग्रीन जोन में लोगों को कुछ छूट दी गई हैं।

यह भी पढ़ें :रेड लाइट एरिया को बंद करने से इतने प्रतिशत तक कम हो सकते हैं कोरोना के मामले, स्टडी में बात आई सामने

कोरोना महामारी से सावधानी के लिए अवेयरनेस

कोरोना के केस लगातार बढ़ते जा रहे हैं। कोरोना से अवेयरनेस के लिए सरकार की ओर से जारी किए गए निर्देशों को ध्यान से पढ़ें। कोरोना की वैक्सीन को लेकर कई देशों में ट्रायल चल रहा है। अभी तक कोरोनी की वैक्सीन नहीं तैयार हुई है। जब तक कोरोना की वैक्सीन नहीं तैयार हो जाती है, तब तक लोगों को घर के अंदर सुरक्षित रहना होगा। अगर महामारी के दौरान आपको घर के बाहर जाने की जरूरत पड़ी है तो मास्क का यूज जरूर करें। साथ ही घर में आने के बाद सफाई का ध्यान रखें। कोविड-19 की बीमारी बुजुर्ग और क्रॉनिक डिसीज से जूझ रहे लोगों के लिए अधिक खतरनाक है। ऐसे लोगों को अधिक ख्याल रखने की आवश्यकता है। फिलहाल देश में लॉकडाउन को 31 मई तक बढ़ा दिया गया है। राज्यों के ग्रीन जोन में लोगों को राहत भी दी गई है। अभी मुंबई में लोकल को पूरी तरह से बंद रखा गया है।

यह भी पढ़ें : पेपर टॉवेल (टिश्यू पेपर) या हैंड ड्रायर्स: कोरोना महामारी के समय हाथों को साफ करने का सबसे अच्छा तरीका क्या है?

मुंबई में कोरोना के केस: महामारी में न करें लापरवाही

मुंबई में जिस तरह से कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़ रही है, यकीनन वो चिंता का विषय है। कोरोना महामारी से बचने के लिए कोरोना के लक्षणों पर ध्यान देना बहुत जरूरी है। घर से बाहर जा रहे हैं तो सुरक्षा का विशेष ध्यान दें। मास्क का यूज जरूर करें और अगर आपके पास ग्लव्स हैं तो उसे भी पहनें। मार्केट से जो भी सामान लाएं, उसे घर लाने के बाद साफ जरूर करें। अगर आप डिस्पोजल मास्क को यूज कर रहे हैं तो उसे बार-बार यूज न करें, बल्कि एक बार यूज करके फेंक दें। अगर आपको सिरदर्द की समस्या, बुखार, थकान, छींक और खांसी की समस्या हो रही है तो तुरंत डॉक्टर से मिलें। अगर आपके जानकार को कोरोना के लक्षण दिख रहे हैं तो बेहतर होगा कि उसे भी डॉक्टर से संपर्क करने की सलाह दें। कोरोना महामारी के दौरान जरा-सी लापरवाही आपको और आपके परिवार को खतरे में डाल सकती है।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र
लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 25/05/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x