home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Jiaogulan: जागुलन क्या है?

परिचय|उपयोग|सावधानियां और चेतावनी|साइड इफेक्ट्स|डोसेज
Jiaogulan: जागुलन क्या है?

परिचय

जागुलन क्या है?

जियागुलान एक ऐसा पौधा है, जो एशिया के जंगलों के कुछ हिस्से में पाया जाता है। इसके पत्ते का प्रयोग दवाई बनाने में किया जाता है। इसे “साउथर्न जिनसेंग’ के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि यह पौधा साउथ सेंट्रल चीन में उगता है और जिनसेंग की तरह ही इसका प्रयोग किया जाता है। चीनी जियागुलान को “अमरता” जड़ी बूटी कहते हैं और दावा करते हैं कि इसमें कायाकल्प गुण हैं। कई लोग कहते हैं कि यह शरीर को तनाव से छुटकारा दिलाने के साथ-साथ हृदय स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में मदद कर सकती है।

इसका सेवन ओरल तरीके से किया जाता है। यह हमारे लिए कई तरह से फायदेमंद है, आमतौर पर इसका उपयोग कोलेस्ट्रॉल, डायबिटीज, लीवर के रोग, मोटापे, उच्च रक्तचाप और हृदय की कार्यक्षमता में सुधार के लिए किया जाता है। इसका उपयोग प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने, स्ट्रेस को कम करने (एडेपोजेन) के रूप में, याददाश्त में सुधार और बालों के झड़ने और कई अन्य बीमारियों को दूर करने के लिए किया जाता है। लेकिन, इसके इन उपयोगों के पक्ष में कोई वैज्ञानिक सबूत उपलब्ध नहीं हैं। कुछ लोग जियागुलान को एंटी-एजिंग एजेंट, एंटीऑक्सिडेंट और डिटॉक्सिफाइंग एजेंट के रूप में उपयोग करते हैं।

यह कैसे काम करता है?

यह हर्बल सप्लीमेंट कैसे काम करता है, इसके बारे में पर्याप्त अध्ययन नहीं किया गया है। अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर या औषधि विशेषज्ञ से बात करें। हालांकि, अध्ययन यह बताते हैं कि जागुलन में कुछ ऐसे पदार्थ पाए जाते हैं जो कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करने में सहायक हैं।

और पढ़ें : इम्प्लांटेशन ब्लीडिंग (Implantation Bleeding) क्या होती है?

उपयोग

जागुलन का उपयोग किसलिए किया जाता है?

जागुलन का प्रयोग इन समस्याओं में किया जाता है:

  • डायबिटीज: इस पौधे से बनी चाय का सेवन करने से ब्लड शुगर लेवल बहुत जल्दी से कम होता है।
  • उच्च कोलेस्ट्रॉल: जियागुलान के सेवन से कोलेस्ट्रॉल कम होता है।
  • लिवर के रोग: मुंह के माध्यम से यानि ओरल तरीके से जियागुलान को लेने से कई रोगों में सुधार होता है जैसे लिवर के रोग, कोलेस्ट्रॉल लेवल सुधारने में, किडनी फंक्शन या ब्लड शुगर आदि।
  • मोटापा: इस पौधे को लेने से जो लोग पहले से ही मोटापे से ग्रस्त हैं। उनका वजन कुछ कम होने में मदद मिलती है।
  • माइग्रेन: इसका उपयोग माइग्रेन के दर्द से छुटकारा पाने के लिए भी किया जाता है।
  • पीठ दर्द: जियागुलान का उपयोग पीठ दर्द को कम करने के लिए भी किया जाता है।
  • ब्रोंकाइटिस: यह ब्रोंकाइटिस का दर्द भी कम करने में मददगार होता है।
  • कैंसर: भले ही इस पर कोई वैज्ञानिक शोध नहीं किया गया है। लेकिन कैंसर के उपचार के लिए जियागुलान मददगार माना जाता है।
  • कब्ज: जियागुलान के सेवन से कब्ज की समस्या कम होती है।
  • दिल के कार्यों को सुधारने में: इसके उपयोग से हृदय की कार्य प्रणाली में सुधार किया जा सकता है।
  • याददाश्त को सुधारने में: जिन लोगों को भूलने की समस्या है,उनके लिए यह फायदेमंद हो सकता है। क्योंकि इसके सेवन से स्मृति में सुधार किया जा सकता है।
  • ब्लड प्रेशर: ब्लड प्रेशर को नार्मल करने में भी यह जड़ी-बूटी मददगार मानी जाती है।
  • पेट के विकार: जिन लोगों को पेट में समस्या है, उनके लिए भी यह लाभदायक हो सकता है।
  • अनिद्रा: जिन लोगों को नींद न आने की समस्या होती है, उनके लिए यह उपयोगी हो सकता है।
  • अल्सर: अल्सर की समस्या एक आम समस्या है। जिसमें यह बहुत लाभदायक होता है।

कुछ लोग जागुलन का प्रयोग एंटी-एजिंग एजेंट, एंटीऑक्सीडेंट और डीटॉक्सिफाइंग एजेंट के रूप में करते हैं।

सावधानियां और चेतावनी

जागुलन के प्रयोग से पहले मुझे क्या जानकारी होनी चाहिए?

अपने डॉक्टर, फार्मासिस्ट या औषधि विशेषज्ञ से संपर्क करें, अगर:

  • डायबिटीज: जो लोग डायबिटीज से पीड़ित है और इसे नियंत्रित करने के लिए इन्सुलिन या अन्य दवाई का प्रयोग कर रहे हैं अगर वो इस हर्ब का सेवन करते हैं तो उनके खून में शुगर की मात्रा अधिक कम हो सकती है इसलिए इस दौरान भी रोगी को इस जड़ी-बूटी का सेवन करते हुए ध्यान रखना चाहिए।
  • सर्जरी: जियागुलान के प्रयोग से खून के थक्के जमने की प्रक्रिया धीमी हो जाती है। अगर आपकी कोई सर्जरी हुई है तो सर्जरी के बाद या उस दौरान ब्लीडिंग के बढ़ने का खतरा रहता है। ऐसे में सर्जरी से पहले कम से कम दो हफ्ते तक जियागुलान का सेवन न करें।
  • एलर्जी: जिन लोगों को किसी प्रकार से एलर्जी की समस्या है, उन लोगों को इसका उपयोग करने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य लेनी चाहिए।

हर्बल सप्लीमेंट के नियम दवाई के नियमों से कम सख्त होते हैं। इसकी सुरक्षा को लेकर अधिक अध्ययन किए जाने की जरूरत है। इस हर्ब को लेने के फायदे इसके जोखिमों से अधिक होने चाहिए। अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर या हर्बलिस्ट से संपर्क करें।

और पढ़ें : जानिए क्या है पाचन संबंधी विकार (Digestive Disorder) और लक्षण?

जागुलन का उपयोग करना कितना सुरक्षित है?

अगर जागुलन को कम समय तक (चार महीनों तक) मुंह के माध्यम से लिया जाता है तो यह सुरक्षित हो सकता है

खास सावधानियां और चेतावनियां

प्रेग्नेंसी और ब्रेस्ट-फीडिंग: जागुलन को अगर गर्भावस्था के दौरान लिया जाए तो यह हानिकारक हो सकता है। इसमें मौजूद केमिकल जन्म संबंधी विकारों का कारण बन सकते हैं। स्तनपान के दौरान जागुलन का सेवन सुरक्षित है या नहीं इस बारे में सही जानकारी उपलब्ध नहीं है, लेकिन सुरक्षित रहने के लिए इस स्थिति में इस का सेवन न करें।

“ऑटो-इम्यून रोग” जैसे मल्टीप्ल स्क्लेरोसिस (MS), लुपस (सिस्टमिक लुपस एरीथेमैटोसुस, SLE), रहूमटॉइड अर्थराइटिस (RA) या अन्य स्थितियां : जागुलन के प्रयोग से हमारा इम्यून सिस्टम अधिक एक्टिव हो सकता है। यह “ऑटो-इम्यून रोगों” के लक्षणों को बढ़ा सकता है। अगर आप ऑटो-इम्यून स्थिति के शिकार हैं तो आपको इस जड़ी-बूटी का प्रयोग नहीं करना चाहिए।

रक्तस्राव विकार: जागुलन खून के जमने की प्रक्रिया को धीमा कर सकता है जिससे रक्तस्त्राव विकार बढ़ सकता है।

सर्जरी: जागुलन के प्रयोग से खून के थक्के जमने की प्रक्रिया धीमी हो जाती है। अगर आपकी कोई सर्जरी हुई है तो सर्जरी के बाद या उस दौरान ब्लीडिंग के बढ़ने का खतरा रहता है। ऐसे में सर्जरी से पहले कम से कम दो हफ्ते तक जागुलन का सेवन न करें।

और पढ़ें : Japanese Persimmon: जापानी परसीमन क्या है?

साइड इफेक्ट्स

जागुलन से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

जागुलन के प्रयोग से गंभीर जी मिचलाना और दस्त जैसे कुछ साइड इफेक्ट हो सकते हैं। हर कोई व्यक्ति इन दुष्प्रभावों का अनुभव नहीं करता है। इससे ऐसे कुछ दुष्प्रभाव भी हो सकते हैं जिनके बारे में यहां नहीं बताया गया है। यदि आपको साइड इफेक्ट के बारे में कोई भी चिंता है, तो कृपया अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से परामर्श करें

जागुलन के प्रयोग से क्या प्रभाव पड़ सकता है?

जागुलन को अपनी मौजूदा दवाइयों या मेडिकल स्थितियों के साथ लेने से प्रभाव पड़ सकता है। इसके प्रयोग से पहले हर्बलिस्ट या डॉक्टर से पूछें।

जो उत्पाद इस हर्बल के साथ मिलकर प्रभाव डाल सकते हैं वो इस प्रकार हैं:

दवाइयां जो इम्यून सिस्टम को कमजोर करें: जागुलन इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने में मददगार है। अगर आप जागुलन को उन दवाओं के साथ लेते हैं जो इम्यून सिस्टम को कमजोर करती हैं तो ऐसे में यह इसके प्रभाव को कम कर सकती है। ऐसी कुछ दवाइयां हैं बसिलिसिमब (basiliximab) ,सीक्लोस्पोरिन (cyclosporine) ,मुरोमोनाब-CD3 (muromonab -CD3) , मैकोफेनोलेट(mycophenolet), कॉर्टिकोस्टेरॉइडस (corticosteroids) आदि।

दवाइयां जो खून के थक्के जमने की गति को धीमा करें ( (Anticoagulant / Antiplatelet drugs)

जागुलन खून के जमने की गति को धीमी कर देता है। अगर जागुलन को ऐसी दवाओं के साथ लेते हैं जो खून के थक्के जमने की गति को धीमी कर दे तो ऐसे में नील पड़ने या ब्लीडिंग की संभावना बढ़ जाती है। यह दवाइयां हैं एस्पिरिन, आइबूप्रोफेन (Advil, Motrin, others), नेप्रोक्सेन (Anaprox, Naprosyn, others), क्लोपिडोग्रेल, हेपरिन, वैफरीन आदि।

और पढ़ें : इम्प्लांटेशन ब्लीडिंग (Implantation Bleeding) क्या होती है?

डोसेज

ऊपर दी गई जानकारी मेडिकल सलाह का विकल्प नहीं है। हमेशा, इस दवा का उपयोग करने से पहले अपने हर्बलिस्ट या चिकित्सक से सलाह लें।

जागुलन लेने की सही खुराक क्या है?

जागुलन को कितनी मात्रा में लेना है, यह डोज हर रोगी के लिए अलग हो सकती है। आपको इसकी कितनी डोज लेनी है, यह बात आपकी उम्र, स्वास्थ्य या अन्य कई स्थितियों पर निर्भर करती है। हर्बल सप्लीमेंट हमेशा सुरक्षित नहीं होती। कृपया सही डोज जानने के लिए अपने औषधि विशेषज्ञ या डॉक्टर से बात करें।

  • डायबिटीज के लिए -60 मिलीलीटर पानी में तीन ग्राम जागुलन चाय को ड़ाल कर 12 हफ़्तों के लिए दिन में दो बार लें।
  • उच्च कोलेस्ट्रॉल- 10 मिलीलीटर एक्सट्रेक्ट को दिन में तीन बार लें।

जागुलन किस रूप में उपलब्ध है?

जागुलन इन रूपों में उपलब्ध हो सकता है:

  • तरल रस;
  • पाउडर;
  • मेल (टिंक्चर)

हमें उम्मीद है कि जागुलन पर आधारित यह आर्टिकल आपके लिए उपयोगी साबित होगा। इस लेख में हमने इस हर्ब से जुड़ी सभी प्रकार की जानकारी देने की कोशिश की है। यहां बताए गई स्वास्थ्य स्थितियों में आप इसका उपयोग कर सकते हैं, लेकिन डॉक्टर की सलाह से। अधिक जानकारी के लिए हर्बलिस्ट या डॉक्टर से संपर्क करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Anu sharma द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 15/09/2020 को
डॉ. हेमाक्षी जत्तानी के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x